गुरुवार, 17 जनवरी 2019

गुरूभरोसा सेवा संस्था:कितने लाचार औरतों पुरुषों को पकड़ ले गए,वेअब कहां है ?

** कितने दिन नशीली दवाएं देकर बंद रखा दुराचार मारपीट  किया **

*** प्रशासन पुलिस आपराधिक मुकदमा करवाकर जांच करवाए तब ही अपराधी आएंगे कानून के शिकंजे में ***

***** करणी दान सिंह राजपूत -

 सूरतगढ़ में गुरु भरोसा सेवा संस्था के क्रियाकलापों को लेकर समाचारों से हड़कंप मचा है और बहुत बड़ा रहस्य छिपा हुआ है कि सेवा भाव के नाम पर कितने लाचार औरतों आदमियों को रेलवे स्टेशन,बस स्टैंड बस स्टैंड के आसपास से और यत्र तत्र पकड़ा गया और संस्था के भवन में ले जाया गया। जिन लोगों को ले जाया गया जबरन पकड़ा गया वे चिल्लाते रहे मगर परवाह नहीं हुई।

लोग मानते रहे की संस्था के लोग सेवा भाव के लिए औरतों और पुरुषों को लाचार लोगों को ले जा रहे हैं जो अपंग हैं बीमार हैं या भटक कर सूरतगढ़ पहुंच गए हैं।

समाचारों से यह लोगों के सामने आया कि जिन लोगों को पकड़ा गया उनका कोई समुचित रिकॉर्ड संस्था में नहीं है। 

कितनी औरतें लड़कियां पकड़ी गई और अब संस्था में कितनी है और बाकी की कहां भेज दी गई? एक -एक महिला और एक -एक पुरुष का रिकॉर्ड पुरुष रिकॉर्ड संस्था की ओर से कभी प्रदर्शित नहीं किया गया।सबसे बड़ा रहस्य यह है कि इस प्रकार के औरतों और पुरुषों को संस्था भवन में नशे की दवाइयां दी जाती रही और मारपीट करके दवाइयां दी जाती जो नहीं लेते उनके भोजन में मिला करके दी जाती रही रही।

 संस्था के संचालक नशीली दवाइयों का डोज भी अपनी मनमर्जी से से देते रहे।किसी डॉक्टर की सलाह नहीं,किसी डॉक्टर की पर्ची नहीं। होना तो यह चाहिए था कि जो भी महिला लड़की पुरूष लाचार हालत में पाया जाता वह पहले पुलिस रिकॉर्ड में आता।पुलिस उसका अता पता मालूम करती और डॉक्टर से जांच करवाकर मानती कि बीमार है या विक्षिप्त है। बाद में किसी संस्था को सेवा के लिए सौंपती। लेकिन यहां पर ऐसा नहीं हो रहा था संस्था के संचालक और उनके कारिंदे  लाचार लोगों को पकड़ते और ले जाते रहे। तत्काल किसी की सूचना कहीं नहीं दी गई गई।पुलिस को भी सूचना अपनी मनमर्जी से अगले दिन या बाद में दी गई। इसका भी कोई रिकॉर्ड नहीं सूचना पुलिस को दी गई। संस्था के पत्र पर कोई क्रमांक नहीं, पत्र पर संस्था के अध्यक्ष या संस्था   संचालन कर्ता के हस्ताक्षर नहीं।


जिन लोगों को पकड़ा गया उनका विधिवत 1-1 का रिकॉर्ड होना चाहिए।वह नहीं। हर व्यक्ति की जांच और हर व्यक्ति की दवा अलग अलग होती है लेकिन ऐसा कोई प्रबंध नहीं। संस्था में जो व्यक्ति सार संभाल के नाम पर लाए गए उनकी संख्या कितनी थी उनमें से कितने लोगों को कहां-कहां भेजा गया? इसकी जांच बहुत जरूरी है। 

जो पकड़े गए उन लोगों को इलाज के लिए तत्काल चिकित्सकों एलोपैथी आयुर्वेदिक होम्योपैथिक आदि से दिखाकर दवाइयां दी जानी चाहिए थी। प्रत्येक की पर्ची प्रत्येक की प्रत्येक की दवा अलग अलग होती और उस हिसाब से ही होती और उस हिसाब से मेडिकल स्टोर से डाक्टर की परची पर ली जाती लेकिन आश्चर्य है कि संस्था के संचालक सभी को जबरन दवाइयां देते रहे और दवाइयों से लाचार लोग अपनी आवाज को समुचित उठा नहीं सकते। उनको मालूम ही नहीं था कि वह सूरतगढ़ की किसी संस्था में बंद हैं।कहां पर बंद है?उनकी एक ही आवाज थी कि यहां से किसी तरह से बाहर निकाला जाए। 

सबसे बड़ा आश्चर्य और घोटाला यह है कि प्रशासन नशे की दवाइयों के विरोध में प्रचार प्रसार कर रहा है। पुलिस भी इसी कार्य में लगी हुई है लेकिन यहां पर इतनी भारी मात्रा में एक साथ नशीली दवाएं बिना डॉक्टर की पर्ची पर कैसे मिलती रही?कौन सा मेडिकल स्टोर यह अपराध शामिल होकर करता रहा ?  ड्रग इंस्पेक्टर किस प्रकार की जांच मेडिकल स्टोरों पर करते रहे हैं?

इन सब की की जांच होना बहुत जरूरी है। किसी भी औरत पुरुष को लाचार मानकर जबरन पकड़ कर ले जाना उसकी मनमर्जी के  विपरीत ले जाना  बंद रखना नशीली दवाइयां देना आदि अपहरण और जबरन बंद रखने के आपराधिक मामले में मुकदमे में नामजद करके और जांच होनी चाहिए।

 आश्चर्य है कि किसी भी औरत और पुरुष को संस्था संचालकों ने कैसे अपनी मर्जी से विक्षिप्त मान लिया, मानसिक बीमार मान लिया, बिना किसी डॉक्टर की जांच के दवाइयां भी देते रहे। प्रतिबंधित दवाइयां कहां से मिली दवाइयों के बिल किस किस रोगी के नाम से बने या बिना बिलों के ही यह सब कुछ होता रहा। 

नशे से संबंधित कोई भी दवा बिना डॉक्टर की पर्ची के दी नहीं जाती। बहुत सख्त नियम है फिर यहां इस संस्था को बहुत सारी दवाएं एक साथ कैसे मिलती रही? 

आश्चर्यजनक यह भी है कि पुरुष और महिला का रखरखाव संरक्षण अलग अलग प्रकार का होता है। महिलाओं की सेवा के लिए कितनी महिलाएं लगाई हुई थी। लाचार महिलाओं को या कथित विक्षिप्त महिलाओं को नहलाने धुलाने का कार्य कौन कर रहा था?

संस्था का संचालन मंडल, कारिंदे और अन्य इसमें जांच के दायरे में लिए जाकर प्रशासन की तरफ से ही आपराधिक मुकदमा होना चाहिए।

देश में आश्रमों आदि का बवाल मचा है, गिरफ्तारियां जांचे और जेलें हुई है वहीं सूरतगढ़ में यह सब कैसे चलता रहा? कुछ पत्रकारों ने गहन जांच के बाद समाचार देने शुरू किए मगर प्रशासन फिर भी नहीं जागा।लेकिन यह मामला बहुत गंभीर है और जांच मुकदमा अविलंब नहीं हुआ तो प्रशासन भी घेरे मेंं आने से बच नहीं पाएगा।



बुधवार, 16 जनवरी 2019

अमित शाह को स्वाईन फ्लू:एम्स मेंं भर्ती, ईलाज जारी


सूत्रों के मुताबिक एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया की देखरेख में शाह का इलाज चल रहा है। उन्हें ओल्ड प्राइवेट वार्ड (301 नंबर) में भर्ती किया गया है।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की तबीयत खराब है। उन्हें बुधवार (16 जनवरी) को एम्स में भर्ती कराया गया है। शाह ने खुद ट्वीट कर जानाकारी दी है कि उन्हें स्वाइन फ्लू हुआ है और इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती हैं। उनके बीमार होने की खबर मिलते ही बीजेपी मंत्रियों ने उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना की है।

अमित शाह रात 8.30 बजे कमजोरी और बुखार के चलते एम्स अस्पताल पहुंचे थे। जहां डाक्टरों ने जांच में पाया कि उन्हें स्वाइन फ्लू हो गया है। इसके बाद डॉक्टरों ने उन्हें एडमिट कर इलाज शुरू कर दिया है। अमित शाह ने ट्विट कर जानकारी दी कि, ‘मुझे स्वाइन फ्लू हुआ है, जिसका उपचार चल रहा है। ईश्वर की कृपा, आप सभी के प्रेम और शुभकामनाओं से शीघ्र ही स्वस्थ हो जाऊंगा।’ सूत्रों के मुताबिक एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया की देखरेख में शाह का इलाज चल रहा है। उन्हें ओल्ड प्राइवेट वार्ड (301 नंबर) में भर्ती किया गया है।

अमित शाह के अस्वस्थ होने की खबर मिलते ही गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना की है। उन्होंने ट्विट करते हुए लिखा कि, ‘अमितभाई, आपके जल्द से जल्द स्वस्थ होने की मैं ईश्वर से कामना करता हूं।

वहीं केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने भी उनके जल्द ठीक होने की कामना की है।

इन दिनों भारतीय जनता पार्टी के कई मंत्री बीमार चल रहे हैं। कुछ दिन पहले गुर्दा संबंधी बीमारी की वजह से वित्त मंत्री अरुण जेटली बीमार हो गए थे। वहीं  गोवा के मुख्यमंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेता मनोहर पर्रिकर कैंसर से जंग लड़ रहे हैं। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी हाल ही में एक कार्यक्रम के दौरान अचानक बेहोश हो गए थे।


 


मंगलवार, 15 जनवरी 2019

गेहूं सरसों खरीद, भुगतान, उठाव व भंडारण तक पुख्ता इंतजाम होः- जिला कलक्टर


श्रीगंगानगर, 15 जनवरी 2019.

जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद मदन नकाते ने कहा कि जिले में सरसों व गेहूं की खरीद सुव्यवस्थित तरीके से हो, इसके लिये संबंधित विभागों, खरीद ऐजेंसियों को समय रहते तैयारियां करनी होगी। उन्होंने कहा कि जीन्स खरीद से लेकर, उठाव व भुगतान तक किसी कार्य में विलम्ब न हो, ऐसी पुख्ता व्यवस्थाएं की जाये। 

    जिला कलक्टर मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभाहॉल में गेहूं, सरसों फसल खरीद के संबंध में आयोजित बैठक मे बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि खरीद ऐजेंसियों को इस बात का ध्यान रखना होगा कि किसान के साथ फसल में नमी व गुणवत्ता को लेकर भेदभाव नही होना चाहिए। प्राप्त बारदाने का वितरण भी समान रूप से हो। बारदाने की कमी न रहे, इसके लिये अभी से ही आवश्यकता अनुरूप बारदाने की मांग व आपूर्ति सुनिश्चित की जाये। क्रय किया गया अनाज बारिश के समय खराब न हो, इसके अच्छे इंतजाम किये जाये। फसल भंडारण में गोदामों के अलावा स्टेंकिंग वैज्ञानिक तरीके से बनाई जाये। 

    जिला कलक्टर ने कहा कि प्राप्त गेहूं, सरसों फसलों का उठाव नियमित हो, इसके लिये वाहनों की पर्याप्त व्यवस्था करनी होगी। छोटे वाहनों से फसल उठाने में अधिक समय लगता है, जबकि बड़े वाहनों से उठाव में तेजी लाई जा सकती है। उठाव जितना जल्दी होगा, उतनी ही फसल अन्य किसान मंडी में ला सकेगें। जिला कलक्टर ने कहा कि खरीद ऑनलाईन हो या ऑफलाईन हो ये सरकार स्तर के निर्णय है। जिला स्तर की सभी व्यवस्थाएं हम सभी को करनी है। जिला स्तर पर कोई समस्या हो, तो उसका निपटारा किया जायेगा। जिला कलक्टर ने कहा कि फसल खरीदने से लेकर भुगतान व उठाव तक किसी तरह की समस्या न हो, इसको लेकर जल्द ही व्यापारियों, खरीद ऐजेंसियों, मजदूरों एवं किसान प्रतिनिधियों की एक संयुक्त बैठक आयोजित की जायेगी। गेहूं, सरसों के उठाव में लगने वाले वाहनों का पंजीयन, नवीनीकरण तथा वाहनों की फिटनेस इत्यादि का भी परिवहन विभाग द्वारा निरीक्षण किया जायेगा। श्रीगंगानगर जिले में लगभग 6.21 लाख मैट्रिक टन गेहूं क्रय की जायेगी तथा सरसों का लगभग 2.25 लाख मेट्रिक टन उत्पादन का अनुमान है। 

बैठक में व्यापारियों ने बताया कि किसान सीधा व्यापारी से जुडा हुआ है तथा फसल निकालने के बाद मंडी में एक साथ अनाज आ जाता है। अगर ऑनलाईन के साथ-साथ ऑफलाईन की व्यवस्था भी हो तो उपयुक्त रहेगा। व्यापारियों का कहना था कि उन्हें 2.25 प्रतिशत आड़त, 25 पैसे सैकड़ा तुलाई तथा 50 पैसे सैकड़ा मजदूरी तथा 1 रूपये 30 पैसे प्रति क्विंटल झराई का भुगतान करना होता है। 

भारतीय खाद्य निगम के प्रबंधक ने बताया कि किसान को ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन करना है, जिसमें आड़तिया भी शामिल है। किसान को उपज बैचने का दिनांक व समय मिल जाता है। अगर किसान उस दिन अपनी फसल नही बेच पाता तो पुनः नई तिथि मिल जाती है। फसल का ऑनलाईन विक्रय नही बल्कि पंजीयन है। 

बैठक में एडीएम प्रशासन श्री नख्तदान बारहठ, जिला रसद अधिकारी श्री पार्थ सारथी, निरीक्षक श्री सुरेश, उप पंजीयक श्री दीपक कुक्कड़, राजफैड के क्षेत्राय अधिकारी श्री रणवीर सिंह, तिलम संघ के महाप्रबन्धक श्री एम.के. पुरोहित, भारतीय खाद्य नियम के प्रबन्धक श्री अभिमन्यू स्वामी, मंडी सचिव श्री शिव सिंह भाटी,  व्यापारी श्री विपिन्न अग्रवाल, श्री रामगोपाल, श्री राजकुमार, श्री विनय जिंदल, श्री प्रदीप गर्ग, श्री विनित जिन्दल, श्री सुरेन्द्र कुमार सहित अन्य विभागों के व्यापारी व अधिकारी उपस्थित थे।

पीजी हास्टलों की निगरानी होगी: जिला कलेक्टर के आदेश:

*औषधि निरीक्षक 10-10 मेडिकल दुकानों का निरीक्षण करेगें:नशा रोक अभियान*

श्री गंगानगर 15-1-2019.

जिले में नशे पर अंकुश लगाने के लिये औषधि निरीक्षक विभाग के निरीक्षक 10-10 ऐसी दुकानों का निरीक्षण करेगें, जहां नशीले पदार्थ बिकने की शिकायत मिल रही हो। उन्होंने पुलिस विभाग को भी निर्देश दिये कि जहां भी नशे की प्रवृति ज्यादा हो, वहां निगरानी रखी जाये। उन्होंने कहा कि पीजी में निवास करने वाले युवाओं को नशे से दूर रखने के लिये उन पर निगरानी जरूरी है। पीजी में अधिक देर से आने वाले विधार्थी या उनके पास देर रात्रि में आने वाले विधार्थी पर नजर रहनी चाहिए तथा इसकी सूचना पुलिस को दी जाये

अतिक्रमण हटाने के तुरंत बाद यह कार्य किया जाए: कलेक्टर का आदेश

नगरपरिषद द्वारा जहां अतिक्रमण हटाया जाता है, वहां पर मलबा हटाने के साथ-साथ नाली निर्माण का कार्य प्रारम्भ करें। उन्होंने इन्दिरा कॉलोनी में आमजन द्वारा अपने आप अतिक्रमण हटाने के कार्य की सराहना की। उन्होंने कहा कि नगरपरिषद ऐसे 10 कार्यों को पेरायटी में लेवे, जहां अतिक्रमण हटाने के बाद मलबा हटाकर नाली का निर्माण करेगें। जो लोग स्वेच्छा से अतिक्रमण नही हटाते, वहां मार्किंग, नोटिस के बाद पुलिस जाब्ते के साथ अतिक्रमण हटाने होगें। उन्होंने कहा कि अतिक्रमण हटाने के बाद नाली निर्माण का कार्य होने से एक अच्छा  संदेश जनता में जाता है। उन्होंने पुरानी आबादी के वार्ड नम्बर 3,4,5 में नालों की स्थिति, उन्हें ढ़कने के संबंध में निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि नगरपरिषद स्वीकृत नालों का कार्य प्रारम्भ करे एवं पूर्व के नालों की सफाई के लिये एक नाला टीम पर्याप्त नही है,इसके लिये कम से कम 10 नाला सफाई टीम का गठन किया जाये। 

श्री गंगानगर:नहरों को क्षति पहुंचाने वाले पेड़ों को हटाया जाएगा


15-1-2019.पहले चिन्हित किया जायेगा। चिन्हिकरण में तीन तरह की लाल, नीला व हरे रंग की श्रेणियां बनाई जाये। सर्वप्रथम रैड श्रेणी में वे पेड जो बिल्कुल नहर के पट्डे के उपर है तथा कभी भी नहर को क्षति पहुंचा सकते है। जिला कलेक्टर ने वन विभाग को भी सर्वें करने के निर्देश दिये। जल संसाधन विभाग आगामी सात दिवस में चिन्हिकरण का कार्य करेगा। ऐसे पेडों को हटाने के लिये नियमानुसार स्वीकृति के बाद हटाये जायेगें।

सिंचाई पानी वितरण में पारदर्शिता आवश्यक -जिला कलेक्टर

श्रीगंगानगर, 15 जनवरी 2019.

जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद मदन नकाते ने कहा कि जल संसाधन विभाग प्राप्त सिंचाई पानी का सही वितरण करवावें। निर्धारित मात्रा के अतिरिक्त पानी का भी शैडयूल बने, जिसमें पारदर्शिता हो तथा किसानों को पारदर्शिता दिखनी भी चाहिए। 

जिला कलक्टर मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभाहॉल में जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक में आवश्यक निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि जल संसाधन विभाग द्वारा किसी तरह की गलत रिपोर्ट करने पर कार्यवाही होगी। उन्होंने कहा कि पानी चोरी रोकने के लिये विभाग सख्त कदम उठाये। अगर कही पानी चोरी का प्रकरण सामने आता है, तो तत्काल प्रभावी कार्यवाही हो, जिससे पानी चोरी की पुनरावृति न हो। पूर्व में गठित कमेटी को भी सक्रिय किया जाये। कमेटी में जल संसाधन विभाग, राजस्व व पुलिस विभाग संयुक्त रूप से गश्त करेगें। 


रविवार, 13 जनवरी 2019

सूरतगढ़ :श्रीअग्रसेन भवन का भव्य लोकार्पण


****विशेष समाचार-  करणीदानसिंह राजपूत *****


^^ महाराजा अग्रसेन के कर्तव्यों का गुण गान ^^


* समाज सेवा में वयोवृद्व गणपत राम अग्रवाल जी का सम्मान *


*** विभिन्न समुदायों के प्रमुखगण,समाजसेवी,राजनीतिक लोग समारोह में शामिल ***

^^ अग्रवाल समाज सूरत गढ की एकता एवं भवन की भव्यता की सराहना ^^

सूरत गढ. दिनांक 13 जनवरी, 2019.राजस्थान के श्री गंगानगर जिले के विश्व विख्यात सूरतगढ़ शहर में नव निर्मित भव्य श्री अग्रसेन भवन का लोकार्पण हुआ।कार्यक्रम के मुख्य अतिथि नोहर के विधायक अमित चाचाण थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता सूरतगढ़ नगर पालिका चेयरमैन श्रीमती काजल छाबड़ा ने की। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अमित चाचाण तथा  हनुमान प्रसाद गुप्ता ने अग्रवाल समाज के सभी सदस्यों व शहर के प्रबुद्व नागरिकों की उपस्थिति में फीता काट कर भवन का शुभारम्भ किया। तत्पश्चात् अनावरण पट्टिका से पर्दा हटाकर लोकार्पण किया गया।मंचीय कार्यक्रम के तहत मुख्य अतिथि अमित चाचाण ने अपने वक्तव्य में सूरतगढ़ शहर में ऐसे भव्य भवन बनाने पर अग्रवाल समाज को बधाई दी व समाज की एकजुटता पर खुशी जताई। अन्य वक्ताओं ने भी अपने-अपने भाषण में अग्रवाल समाज समिति कार्यकारिणी व अध्यक्ष को बधाई दी।विशिष्ट अतिथि के रूप में अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन के राष्ट्रीय संगठन मंत्री राधेश्याम शेरेवाला तथा अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विजय मित्तल उपस्थित थे।सम्मानित अतिथियों के रूप में भारतीय प्रशासनिक सेवा की प्रशिक्षु अधिकारी कीर्ति गोयल, रावतसर के एस.डी.एम. अवि गर्ग, पंचायत समिति प्रधान बिरमा देवी नायक आदि ने भी मंच की शोभा बढ़ाई। अग्रवाल समाज समिति की तरफ से हनुमान प्रसाद गुप्ता, अंजनी चौधरी, रेखा सरावगी भी मंच पर मौजूद थे।कार्यक्रम में बीकानेर, गंगानगर, हनुमानगढ़ जिलों की सभी मण्डियों के अग्रसमाज के प्रतिनिधियों ने भाग लिया तथा सूरतगढ़ शहर के व्यापारिक, राजनैतिक सामाजिक संगठनों तथा सभी विभागों के प्रशासनिक अधिकारियों के प्रतिनिधियों ने शिरकत की। समिति सह-सचिव नरेश धानुका, राकेश मित्तल, अंकुर गोयल की टीम ने बाहर से आये हुये अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम का मंच संचालन पूर्व अध्यक्ष सुभाष गुप्ता व अग्रवाल समाज समिति के सचिव अनिल धानुका ने किया।समिति सचिव अनिल धानुका ने समाज की तरफ से सभी आगन्तुकों  को धन्यवाद ज्ञापित किया। समारोह में संरक्षक प्रयाग चंद अग्रवाल व संरक्षक मण्डल ने शुभकामनाऐं दी।

( समाचार अच्छा लगे तो अपने मित्रों, जानकारों को शेयर करें) 






गुरुवार, 10 जनवरी 2019

वसुंधरा राजे, शिवराज चौहान और रमन सिंह को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया।

विधानसभा चुनाव में हार के बाद  राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के तीनों पूर्व मुख्यमंत्रियों को पार्टी में नई जिम्मेदारी दी गई है।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की टीम में तीनों को शामिल किया गया है।

अब यह साफ हो गया है कि राजस्थान में वसुंधरा राजे नेता प्रतिपक्ष नहीं होगी। पार्टी अब राजे के स्थान पर किसी अन्य नेता को यह जिम्मेदारी सौंपेगी। 

इसके साथ ही प्रतिपक्ष नेता को दौड़ तेज हो गई है। आपको बता दें इससे पहले नेता प्रतिपक्ष की दौड़ में वसुंधरा राजे सबसे आगे थी।


लेकिन अब राजे को नई जिम्मेदारी मिलने के बाद भाजपा के कई नेताओं के नाम सामने आ रहे है जिनमें अध्यक्ष कैलाश मेघवाल, विधायक राजेन्द्रसिंह राठौड़ और विधायक गुलाब चंद कटारिया का नाम है।

 शुक्रवार से दिल्ली में भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू हो रही है। उससे ठीक पहले तीनों पूर्व सीएम को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी देकर पार्टी ने अपना रुख साफ कर दिया है। जहां तक नेता प्रतिपक्ष का नाम है तो दिल्ली में ही यह नाम तय होगा और 13 जनवरी को जयपुर में विधायक दल की बैठक में नेता प्रतिपक्ष के नाम के घोषणा होने की उम्मीद है।


सामान्य वर्ग आर्थिक आरक्षण को सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती


सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने के संविधान संशोधन विधेयक को दि. 10-1-2019 को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई। यूथ फॉर इक्वेलिटी नामक ग्रुप और डॉ कौशल कांत मिश्रा द्वारा दाखिल की गई याचिका में कहा गया है कि  यह संशोधन सुप्रीम कोर्ट के द्वारा तय किए गए 50 फीसदी सीमा का उल्लंघन करता है।

संजय धुआ आत्महत्या एफआईआर में विजेंद्र शास्त्री व सुशील झंवर के नामों से रोष



** मृतक के आत्महत्या नोट में  केवल 2 नाम जितेश व गोल्डी हैं **

 ^^ करणी दान सिंह सिंह राजपूत ^^

 संजय धुआ के आत्महत्या मुकदमे में मृतक के भाई पवन धुआ ने 4 नाम लिखाए हैं ,जिन पर आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरित करने का आरोप लगाया है।
जितेश धींगरा और गोल्डी धींगरा पदमपुर के अलावा सूरतगढ़ के विजेन्द्र शास्त्री व सुशील झंवर के नाम भी लिखाए गए हैं। 
सूरतगढ़ के दो नामों पर ब्राह्मण व माहेश्वरी समाज के लोगों ने रोष प्रगट किया है कि ये नाम रंजिश से लिखवाए गए हैं इसलिए इनको निकाला जाए और जांच सही की जाए।

 संजय धुआ के सुसाइड नोट में केवल 2 नाम दिए गए हैं। लिखा गया है कि जितेश व गोल्डी के कारण वह आत्महत्या कर रहा है और आगे जाकर फिर इन्हीं दो पर कानूनी कार्यवाही करने का लिखा गया है।
संजय धुआ के भाई पवन धुआ ने मुकदमे में सूरतगढ़ के पंडित विजेंद्र शास्त्री और सुशील झंवर का नाम भी लिखा दिया है जिस पर एतराज हो रहा है।
 ब्राह्मण समाज के लोगों ने 9 जनवरी को पुलिस उपाधीक्षक के नाम पत्र दीया और सही जांच की मांग की। मांग पत्र में लिखा गया कि विजेंद्र शास्त्री को झूठा फंसाया जा रहा है।
10 जनवरी को माहेश्वरी समाज के लोगों ने पुलिस उपाधीक्षक के नाम ज्ञापन दिया उसमें भी लिखा गया था कि सुसाइड नोट में विजेंद्र शास्त्री और सुशील झंवर  के नाम नहीं है और इनको झूठा फंसाया जा रहा है इसलिए जांच सही की जाए और और इन नामों को निकाला जाए।









मंगलवार, 8 जनवरी 2019

अधिकारी दौरे पर जाने से पूर्व जानकारी देंगे-कलक्टर श्रीगंगानगर


जिला कलक्टर ने कहा कि जो अधिकारी क्षेत्र में दौरा व निरीक्षण के लिये जाते है, उन्हें साप्ताहिक सूचना दौरे पर जाने से पूर्व देनी होगी। यह भी बताना होगा कि वे इस तिथि को कहां-कहां जायेगें तथा क्या कार्य करेंगें। दौरे के बाद भी किये गये निरीक्षण इत्यादि की रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगें। ब्लॉक स्तर के अधिकारी भी संबंधित एसडीएम को अपना प्लान देंगें। प्रति सप्ताह किये गये निरीक्षण की रिपोर्ट प्रत्येक सोमवार को सायं तक प्रस्तुत करनी होगी। उन्होंने कहा कि रिपोर्ट गुणवत्तापूर्ण व तथ्यों के साथ हो। 

दि 8-1-2019.

नशे पर अंकुश लगाने के लिये एसडीएम भी निरीक्षण करें- जिला कलक्टर श्री गंगानगर

जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद मदन नकाते ने कहा कि जिले में नशे पर अंकुश लगाने के लिय लगातार आकस्मिक निरीक्षण करते रहे। इसके लिये जिला स्तर के साथ-साथ एसडीएम स्तर पर भी निरीक्षण किये जाये। साथ ही चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग अपना दूरभाष नम्बर आमजन के लिये उपलब्ध करवायें। कोई भी नागरिक किसी भी दुकान पर नशे की गोलियां बिकने की सूचना दे सकता है। सूचना देने वाले की जानकारी गुप्त रखी जायेगी। 

जिला कलक्टर मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभा हॉल में जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक में आवश्यक निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि दूरभाष पर सूचना देने वाले नागरिक का नाम नहीं  पूछें। जानकारी मिलते ही कार्यवाही करें। दवा बेचने की जो लाईसेंस शुदा दुकाने हैं, वे अपना लाईसेंस काउंटर के पास चस्पा करेंगें। उन्होंने कहा कि औषधि विभाग द्वारा जिन मेडिकल की दुकानों के अनुज्ञापत्र निलम्बित किये जाते है उस दौरान संबंधित थानाधिकारी भी निगरानी रखें कि संबंधित मेडिकल स्टोर नही खुले तथा निलम्बन अवधि में दुकान खुलने की सूचना आमजन भी दे सकते हैं । 

8-1-2019.

आयुर्वेद विभाग नागरिकों को काढा पिलाये- कलक्टर श्री गंगानगर

जिला कलक्टर ने कहा कि आयुर्वेद विभाग द्वारा वैज्ञानिक तरीके से तैयार किया गया काढा बहुउपयोगी है। विभाग को जगह-जगह कैम्प लगाकर नागरिकों को काढा पिलाना चाहिए। उन्होंने कहा कि बस अड्डा, रेलवे स्टेशन व सार्वजनिक स्थलों पर काढा पिलाने का अभियान शुरू किया जाये। जिला कलक्टर ने कहा कि इसकी शुरूवात 10 जनवरी से कर दी जाये, जिसमें मैं स्वयं काढा पीने पहुंचुगा। आमजन में एक विश्वास की भावना पैदा करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जिले में स्वाईन फ्लू नियंत्राण में है, जो इस क्षेत्र के नागरिकों के लिये अच्छी बात है, फिर भी विभाग को सर्तक रहना है। विभाग नागरिकों को स्वाईन फ्लू बचाव के तरीके व सावधानियां बताए। 

दि...8-1-2019.

सोमवार, 7 जनवरी 2019

संजय धुआ आत्महत्या नोट में क्या लिखा है ?सच क्या है?

*  करणी दान सिंह राजपूत *

अरोड़ वंश कल्याण समिति के पूर्व अध्यक्ष शराब व्यवसायी संजय धुआ ने 6 जनवरी 2019 की रात्रि को स्वयं के गोली मारकर  आत्महत्या करली थी।

 उसके कपड़ों में पुलिस को सुसाइड नोट मिला है। उस सुसाइड नोट में केवल दो व्यक्तियों जितेश और गोल्डी धींगरा के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने का आरोप लगाया गया है तथा उन पर कानूनी कार्यवाही (मुकदमा) चलाने का भी लिखा गया है।

 पूरे नोट में जो लिखा है वह निम्न प्रकार से है।----

मुझे माफ कर देना परिवार व दोस्तों जिंदगी से तंग आ गया हूं जितेश गोल्डी धींगड़ा के कारण मैं आत्महत्या कर रहा हूं।


 गंगाजल जी आप ध्यान रखना परिवार का 17.50 लाख आपसे जो लेना है वह ओबीसी बैंक में जमा करा देना ताकि बच्चों के पास मकान सुरक्षित रह जाए और मेरे पास तो कुछ बचा नहीं है, इसलिए आप ध्यान रखना। आपका आशीर्वाद रखना परिवार पर। जितेश गोल्डी पर कानूनी कार्यवाही जरूर करना।


 रेखा पवन जी रवि जी मनोज मनीषा विक्की विशाल आंचल मुझे माफ कर देना। मैंने पूरा परिवार खत्म कर दिया आपका पिछले जन्म का कोई कर्जा लेना था मैंने।

विनोद जी शर्मा आप भी मुझे माफ कर देना।


विजेंद्र जी शर्मा, हनुमान जी सुथार, हरपाल जी थोरी एएसआई,विनोद जी आप ध्यान रखना परिवार का।


राकेश धुआ ध्यान रखना परिवार का।

 विकी मिढा तू भी ध्यान रखना परिवार का।

संजय

 ( यह पत्र यहां दिया गया है)

परिवार जनों परिचितों के बयान और पुलिस जांच से क्या निकलेगा? उसकी सभी को प्रतीक्षा रहेगी।



संजय धुआ आत्महत्या मुकदमा - आरोप विजेन्द्र शास्त्री,सुशील सूरतगढ़-जितेश व गोल्डी धींगरा पदमपुर पर


सूरतगढ़। शराब व्यवसायी संजय धुआ के रविवार रात 6-1-2019 को आत्महत्या करने के मामले में सोमवार को पुलिस ने चार जनों के खिलाफ आत्महत्या दुष्प्रेरण का मामला दर्ज किया है। 

मृतक के भाई पवन धुआ की रिपोर्ट पर पुलिस ने पदमपुर निवासी जितेश धींगरा और उसके भाई गोल्डी धींगरा पुत्र सोमनाथ तथा सूरतगढ़ के पंडित विजेंद्र शास्त्री और सुशील कुमार के खिलाफ आत्महत्या के लिए दुषप्रेरित करने के आरोप में मामला दर्ज किया है।

7-1-2019  सुबह बड़ी संख्या में समाज के लोग और अन्य नागरिक राजकीय चिकित्सालय में एकत्र हो गये। पुलिस की मौजूदगी में व्यवसायी के शव का पोस्टमार्टम करवाया गया। लेकिन समाज के लोगों ने चारों आरोपितों की गिरफ्तारी होने तक शव उठाने से इंकार कर दिया। 

सूचना मिलने पर प्रशिक्षु आरपीएस आशीष कुमार, सिटी थानाधिकारी निकेत पारीक व सदर थाना प्रभारी सुरेंद्र पचार मौके पर पहुंचे और समाज के लोगों से वार्ता की।

पुलिस अधिकारियों ने कहा कि आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए टीमें मौके पर भेजी गई है, शीघ्र ही सभी नामजद को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। बाद में अरोड़वंश समाज के लोगों और मृतक संजय धुवा के परिजनों ने बीकानेर रोड पर लगाया जाम खत्म किया।


रविवार, 6 जनवरी 2019

सूरतगढ़:संजय धुआ आत्महत्या: गोली से मौत(अरोड़वंश कल्याण समिति के पूर्व अध्यक्ष)

दि.6-1-2019.

बहुचर्चित संजय धुआ की गोली से मौत की खबर से शहर में हलचल मची है। घटना रात की सीलवानी गांव की है। समाचार खुद के गोली मारकर आत्महत्या करने का है और लोग कारण जानना चाहते हैं कि बोल्डनेस में पोपुलर व्यक्ति ने यह कदम क्यों उठाया? 

अरोड़वंश कल्याण समिति अध्यक्ष भी रहे। समाज के लिए 5 लाख रूपये भी दिए थे।

बीकानेर रोड पर अरोड़वंश भवन संजय धुआ के प्रयास से ही बन पाया था। मेडिकल स्टोर भी चलाया जहां काफी समय तक स्वाइन फ्लू बचाव के लिए मास्क भी निशुल्क बांटे थे। वर्तमान में शराब का व्यवसाय करने में था।

कुछ समय पूर्व ईओ राकेश मेंहदीरत्ता के मुकदमे में भी घिरा। कभी दोनों के बीच काफी लगाव था।

पत्नी पार्षद रही और कांग्रेस महिला मोर्चे सूरत गढ की अध्यक्ष भी रही।

अभी कारण सामने नहीं आया है।

पुलिस जांच में जुटी है।


सर्वे: नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता कायम, राहुल गांधी को पहले से अब नुकसान


*49 प्रतिशत लोग मोदी को ही पीएम बनते देखना चाहते हैं* 


जनसत्ता ने हाल के सर्वे के आधार पर समाचार दिया है जो भाजपा ग्रुप को तसल्ली देने वाला है,वहीं  कांग्रेस को निराशा में ढकेलने वाला है। 


 लोकसभा चुनाव को कुछ महीने ही बचे हैं जिसके लिए देश की दो प्रमुख पार्टी सत्ताधारी भाजपा और कांग्रेस तैयारी में जुटी हुई हैं।

साल 2019 के शुरू होते ही एक बार फिर बड़ा और पुराना सवाल उठने लगा है कि देश का अगला प्रधानमंत्री कौन होगा?

 इसे लेकर बहस और सर्वे होते रहे हैं। इस बीच एक और सर्वे सामने आया है। सर्वे में पीएम पद को लेकर आंकड़े सामने आए। जो भाजपा और पीएम मोदी को खुश होने का कारण दे सकते हैं।

2018 का आखिर बीजेपी के लिए मुश्किल रहा। दिसंबर 2018 में  मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान भाजपा से छिन गए। हालांकि बीते चुनाव में हार के बाद भी पीएम मोदी की लोकप्रियता बरकरार है। इंडिया टुडे-माय एक्सिस के पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंज डेटा के मुताबिक, अभी भी दिल्ली के 49 प्रतिशत लोग आगामी लोकसभा चुनाव के बाद मोदी को ही पीएम बनते देखना चाहते हैं। अक्टूबर 2018 में भी सर्वे हुआ था। उस दौरान भी 49 प्रतिशत लोग ही मोदी को इस सर्वे में राहुल गांधी का भी जिक्र है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को लेकर भी सर्वे में आंकड़े सामने आए हैं।

पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंज डेटा के अनुसार, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की लोकप्रियता में गिरावट दर्ज हुई है। राहुल गांधी को प्रधानमंत्री पद पर बीते साल अक्टूबर में 43 फीसदी लोग देखना चाहते थे। ताजा सर्वे में इस आंकड़े में कमी आई है। जनवरी 2019 में राहुल गांधी को दिल्ली के 40 परसेंट लोग ही पीएम पद पर देखना चाहते हैं।

ताजा सर्वे में पीएम मोदी और राहुल गांधी के अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भी अगले प्रधानमंत्री के तौर पर रखा गया है। हालांकि यहां केजरीवाल की पॉपुलैरिटी में उछाल देखने को मिला है। अक्टूबर 2018 में हुए सर्वे में केजरीवाल को दिल्ली के सिर्फ 5 प्रतिशत लोग पीएम की कुर्सी पर बैठाना चाह रहे थे। लेकिन साल बदलने के साथ आंकड़ा भी बदल गया। अब जनवरी 2019 में तीन फीसदी के उछाल के साथ 8 परसेंट लोग केजरीवाल को प्रधानमंत्री बनाना चाहते हैं।

Also Read

आरएसएस जिला प्रचारक ने पुलिस थाने में फेंके बम, सामने आई सीसीटीवी फुटेज

शिक्षा मंत्री पर आरोप: सवाल पूछने पर छात्र को दी पढ़ाई छोड़ने की सलाह, वीडियो बनाने वाले लड़के को पुलिस से पकड़वाया

इसके साथ ही केंद्र के काम से दिल्ली के संतुष्ट लोगों के आंकड़े भी सामने आए हैं। हालांकि यहां बीजेपी के लिए थोड़ी चिंता करने की जरूरत है। अक्टूबर में 42 फीसदी लोग केंद्र के कामकाज से संतुष्ठ थे। लेकिन अब इसमें एक प्रतिशत की गिरावट आई है। जनवरी 2019 में 41 फीसदी लोग ही मोदी सरकार के काम से संतुष्ट हैं। वहीं, मोदी सरकार और भाजपा लिए चिंता के लिए एक और कारण है। असंतुष्ट लोगों की संख्या भी बढ़ गई है। अक्टूबर 2018 में 36 फीसदी लोग मोदी सरकार के काम से नाखुश थे जबकि अब जनवरी 2019 में 37 परसेंट लोग असंतुष्ट हैं। साथ ही पता नहीं कहने वालों की संख्या में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है। अक्टूबर की तुलना में अब जनवरी 2019 में 16 प्रतिशत लोग पता नहीं कह रहे 

शनिवार, 5 जनवरी 2019

राजस्‍थान चुनाव में कांग्रेस को नुकसान पहुचाने वाले नेताओं पर कार्रवाई होगी

*** सचिन पायलट ने कहा, पार्टी विरोधी गतिविधियों के बारे में केंद्रीय नेतृत्व से बात हुई है ***

** एक अन्य कांग्रेस नेता ने कहा कि  पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण  पार्टी को करीब 15 से 20 सीटों का नुकसान हुआ।**

जनसत्ता आन लाइन ने समाचार दिया है जिससे कई नेताओं पर संकट पैदा होने का खतरा होगा।--------

राजस्थान में भाजपा सत्ता की विरोधी लहर के सहारे सरकार बनाने वाली कांग्रेस अब सख्ती के मूड में आती दिख रही है। पार्टी अब अपनों को सुधारने के लिए तैयार है। कांग्रेस ने एक लिस्ट मंगाई है। इस लिस्ट में उन नेताओं के नाम होंगे, जिनके कारण राज्य में चुनाव के दौरान पार्टी को नुकसान पहुंचा।

राजस्थान कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन पायलट ने कहा, ‘पार्टी के उन नेताओं की रिपोर्ट मंगाई गई है, जिन्होंने चुनाव के दौरान कांग्रेस प्रत्याशी का समर्थन न करके दूसरों का साथ दिया, जिसका असर मतदान के दिन दिखा’।

अब पार्टी ऐसे नेताओं के खिलाफ कड़ा कदम उठाएगी, जिन्होंने लाइन से हटकर काम किया है’। कांग्रेस के लोकप्रिय चेहरों में शुमार सचिन पायलट ने कहा, ‘पार्टी विरोधी गतिविधियों के बारे में केंद्रीय नेतृत्व से बात हुई है’।

इस मुद्दे पर एक अन्य कांग्रेस नेता ने कहा कि, पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने के कारण पार्टी को करीब 15 से 20 सीट का नुकसान हुआ और 200 सदस्य वाली विधान सभा के चुनाव परिणाम में कांग्रेस को 99 सीटें मिली, जबकि भारतीय जनता पार्टी को 73 सीट मिलीं। वहीं, एक सीट पर उम्मीदवार की मौत से 199 पर ही चुनाव हुए।

 हालांकि कांग्रेस ने अपने सहयोगियों की बदौलत बहुमत संख्या को पार कर लिया।

5-1-2019.

शुक्रवार, 4 जनवरी 2019

कृषि मेला श्री गंगा नगर के रामलीला मैदान में 28-29 जनवरी 2019.



* किसानों को नवीन तकनीक, मार्केटिंग की जानकारी दी जायेगी*

श्रीगंगानगर, 4 जनवरी। जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद मदन नकाते ने कहा कि किसानों को माईक्रो ईरीगेशन के साथ-साथ विपणन की सुविधाएं देने के प्रयास किये जाये, जिससे किसान अपनी उपज का उचित मूल्य हासिल कर सकें। 

जिला कलक्टर शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभा हॉल में 28 व 29 जनवरी को रामलीला मैदान में लगने वाले कृषि मेला 2019 की पूर्व तैयारियों की बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि किसान फसल उत्पादन के साथ-साथ डेयरी उधोग को भी अपना सकता है। माईक्रो ईरीगेशन से अधिक क्षेत्र में सिंचाई कर अच्छा उत्पादन लिया जा सकता है। जल व जमीन सीमित है। हमें अभी से ही प्रयास करने होगें कि कम पानी से अधिक उत्पादन कैसे लिया जा सकता है। उन्होंने कृषि विभाग के अधिकारियों को लक्ष्य दिया कि प्रत्येक तहसील से 20-20 काश्तकारों का चयन किया जाये जो आधुनिक तकनीक के साथ-साथ भंडार प्रोसेसिंग, डेयरी, विपणन इत्यादि के कार्यों में रूचि रखते हो। 

उन्होंने कहा कि भंडारण की व्यवस्था के लिये नाबार्ड द्वारा अनुदान दिया जा रहा है। कोईकिसान आगे आकर कार्य करना चाहता है तो उसकी हर तरफ से मद्द की जायेगी। मार्केट भी उपलब्ध करवाया जायेगा तथा वितीय संसाधन भी दिये जायेगे। उन्होंने डेयरी उधोग को भी किसानों के लिये लाभकारी बताया। 

आगामी 28 व 29 जनवरी को लगने वाले कृषि मेले में किसानों को नवीनतम बीज की जानकारी देने के लिये वैज्ञानिकों को बुलाया जायेगा। जैविक खेती पर अधिक ध्यान देने, किसानों को जैविक खेती के लिये तैयार करने के प्रयास किये जाये। मेले में कृषि वैज्ञानिक गोष्ठी का आयोजन होगा, वही पर महिला काश्तकारों की भागीदारी सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गये। जिले में संचालित कृषि महाविधालयों के विधार्थियों को भी एक स्टॉल दी जाये, जहां वे कृषि शोध व विस्तार की अपनी सोच को प्रदर्शित कर सकेगें। 

कृषि मेले में लगभग 90 से 100 स्टॉले लगेगी। अच्छी प्रदर्शनी वाले विभाग को पुरस्कृत किया जायेगा। मेले में फल व सब्जी की प्रतियोगिताएं होगी। उन्नत नस्ल के पशुओं की प्रतियोगिताएं होगी। प्रतिभागियों को पुरस्कृत करने के लिये विशेषज्ञों की समिति बनाई जायेगी। 

बैठक में आत्मा के परियोजना अधिकारी डॉ. जीआर मटोरिया, उपनिदेशक कृषि श्री सतीश शर्मा, कृषि अनुसंधान केन्द्र के डॉ. उम्मेद सिंह, सरस डेयरी से आरके शर्मा सहित कृषि, उद्यान, सहकारी व पशुपालन से जुडे विभागों के अधिकारियों व कृषकों ने भाग लिया। 

सूरतगढ में जियो की स्पीड पोइंट से ऊपर नहीं:उपभोक्ता परेशान


* करणीदानसिंह राजपूत *

जियो संचालन प्रबंधन कुछ भी दावा करें लेकिन सूरत गढ में इंटरनेट की स्पीड सरकार द्वारा घोषित स्पीड नहीं मिल रही।

यहां तक हालत खराब है कि पोइंट से भी नीचे .20 k/s जैसी और उतार चढाव की मिल रही है। बाजार में हालत 1  जनवरी 2019 से बहुत ही खराब है। 

मोबाइल पर भी डाटा भेजने के दावे भी फेल हैं।उपभोक्ता फोटोज नहीं भेज पा रहे हैं।

भारी कंपीटिशन में भी क्षेत्रीय प्रबंधन और स्थानीय एजेंसी को कोई परवाह नहीं है।

गुरुवार, 3 जनवरी 2019

कांग्रेस ने सिख दंगे के आरोपी को दिया मुख्यमंत्री पद का उपहार- पीएम मोदी

पंजाब के गुरदासपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार  3-1-2019 को सिख दंगों का जिक्र कर कांग्रेस पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि साढ़े तीन दशक से दंगों के पीड़ित न्याय का इंतजार कर रहे हैं। जिन लोगों का इतिहास हजारों सिख भाई-बहनों की बेरहमी से हत्या का हो और जो लोग आज भी दंगे के आरोपियों को मुख्यमंत्री पद का पुरस्कार दे रहे हों, उन लोगों से पंजाब समेत देशवासियों को सतर्क रहने की जरूरत है। 'प्रधानमंत्री धन्यवाद रैली' में पीएम ने जहां करतारपुर कॉरिडोर बनाने के फैसले पर अपनी सरकार का बखान किया, वहीं 1984 के सिख दंगों के नाम पर कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधा।

पीएम ने कहा कि देश उन लोगों से सतर्क रहे जिनका इतिहास राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालने वाला है। वहीं, सिख दंगे की जांच को लेकर पीएम ने कहा कि पहले देश में एक राजनीतिक पार्टी के इशारे पर आरोपियों को 'सज्जन' बताकर फाइलें दबा दी जाती थीं लेकिन वर्तमान की एनडीए सरकार ने सत्ता में आते ही जांच के लिए एसआईटी का गठन कराया और इसका परिणाम आज सबके सामने है।

कर्जमाफी के नाम पर कांग्रेस की आलोचना

कांग्रेस पर झूठ और धोखाधड़ी की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए पीएम ने कहा कि कांग्रेस की वर्षों से मांग थी कि स्वामीनाथन समिति की सिफारिशें लागू की जाएं, लेकिन कांग्रेस ने इसे लागू नहीं किया। बाद में एनडीए की सरकार ने इसे लागू किया और किसानों को समर्थन मूल्य का डेढ़ गुना धन समर्थन मूल्य के रूप में दिया गया। पीएम ने कहा कि जो लोग दशकों तक न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फैसला टालते रहे, वह अब फिर किसानों से झूठे वादे कर रहे हैं।

कांग्रेस ने गिने-चुने लोगों का कर्ज माफ किया: 

पीएम ने आगे कहा कि कांग्रेस ने 2009 में किसानों से झूठा वादा किया और किसानों ने सब जानकर भी कांग्रेस पार्टी पर भरोसा कर लिया। किसानों ने भरोसे से कांग्रेस को वोट दिया, लेकिन इस भरोसे की सजा आज भी देश का किसान भुगत रहा है। पीएम ने कहा कि 2009 में किसानों पर 6 लाख करोड़ का कर्ज था, लेकिन कर्जमाफी के वादे के साथ सरकार में आई कांग्रेस ने गिने-चुने लोगों का कर्ज माफ किया।

पीएम ने कहा कि कहा गया था कि देश की तरह पंजाब में भी किसानों का कर्ज माफ करेंगे, लेकिन डेढ़ साल बाद भी हकीकत क्या है, सब जानते हैं। कांग्रेस ने पूर्व में ऐसे लोगों का कर्ज माफ किया, जो किसान थे ही नहीं। कांग्रेस ने दशकों तक देश को गरीबी हटाओ के नाम पर ठगा और अब कर्जमाफी के नाम पर भी ऐसा ही कर रही है।

गुरदासपुर रैली में दिखी भारी भीड़

'किसान को ताकतवर बनाने के लिए हो रहा काम'

एनडीए सरकार की तारीफ करते हुए मोदी ने कहा कि वाजपेयी सरकार में गांवों को सड़क से जोड़ने का काम शुरू हुआ था। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार भी एनडीए की सरकार विकास की पंचधारा जन-जन की सुनवाई, बच्चों को पढ़ाई, युवा को कमाई, बुजुर्गों को दवाई, किसान को सिंचाई के लिए काम कर रही है। इसके अलावा 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने पर काम किया जा रहा है। मोदी ने कहा कि हमारा किसान ताकतवर हो, इसी के लिए सरकार काम कर रही है।

एनडीए सरकार ने कराया करतारपुर कॉरिडोर का निर्माण

पीएम मोदी ने गुरदासपुर में भाषण की शुरुआत पंजाबी में लोगों के अभिवादन से की। पीएम ने यहां बन रहे करतारपुर कॉरिडोर के नाम पर केंद्र की तारीफ की। पीएम ने भाषण की शुरुआत में कहा कि बंटवारे के समय उस वक्त की सरकार करतारपुर साहिब के पवित्र तीर्थ को भारत के साथ नहीं रख सकी, जिसके कारण लोग इसे दूरबीन से देखने को मजबूर थे।

पीएम ने कहा कि सिखों की भावना को देखते हुए एनडीए सरकार ने करतारपुर कॉरिडोर का निर्माण शुरू कराया और इसके महत्व को देखते हुए केंद्र के मंत्री भी सीमा पार गए थे। लेकिन पूरा देश इसका गवाह है कि कांग्रेस नेताओं ने कैसे राजनीतिक स्वार्थ के लिए इस मुद्दे पर पाकिस्तान को मौका दे दिया और इस मामले पर खुद अपने सीएम से कोई राय नहीं ली।

भाषण के बीच में पीएम ने पंजाब में चलाई जा रही केंद्र की तमाम योजनाओं का जिक्र किया और बठिंडा में एम्स समेत तमाम विकास योजनाओं को पंजाब को आगे बढ़ाने में सहायक भी बताया। अपने भाषण में पीएम ने गुरदासपुर से बीजेपी के सांसद रहे विनोद खन्ना को श्रद्धांजलि भी दी। इस रैली से पहले पीएम जालंधर में भारतीय विज्ञान कांग्रेस के उद्घाटन समारोह में भी पहुंचे, वहां उन्होंने छात्रों को संबोधित किया।

बुधवार, 2 जनवरी 2019

किसान के खेत में पहुंचे जिला कलक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते-


- करणी दान सिंह राजपूत -

श्रीगंगानगर, 2 जनवरी 2019.

जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद मदन नकाते ने बुधवार को जल संसाधन विभाग के अधिकारियों के साथ नहरी तंत्र को देखा। जिला कलक्टर जल संसाधन विभाग व सीएडी के अधिकारियों के साथ खखा हैड पहुंचे। खखा हैड पर पानी की आवक एवं गेज को देखा तथा विभाग द्वारा संधारित गेज पुस्तिका का निरीक्षण किया। उन्होंने बीकानेर कैनाल, आईजीएनपी व भाखड़ा नहरी तंत्र को नक्शे के द्वारा समझा तथा अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये। खखा हेड पर दोपहर 12.30 बजे तक 2501 क्यूसेक पानी की आवक थी। अधिकारियों ने बताया कि गंगनहर प्रणाली में 3.14 लाख हैक्टर भूमि सिंचित रकबा है। जिला कलक्टर ने खखा हैड मुख्य नहर का अवलोकन करते हुए शिवपुर हैड पहुंचकर निरीक्षण किया तथा शिवपुर हैड से निकलने वाली नहरों का जायजा लिया। 

जिला कलक्टर ने शिवपुर हैड पर भी पानी के गेज का निरीक्षण किया। शिवपुर हैड के पश्चात बाईफ्रकेशन हैड पहुंचे। जहां एफ व एच नहरों को देखा तथा एच नहर के आउटलेट का निरीक्षण करने के पश्चात उस आउटलेट से लगभग 2 किलोमीटर दूर सिंचाई कर रहे किसान के खेत पंहुचे, जहां गेहूं को पानी दिया जा रहा था। जिला कलक्टर ने किसान से बातचीत की। किसान ने बताया कि वर्तमान में पानी की उपलब्धता ठीक है। गैंहू को दूसरा पानी दिया जा रहा है तथा बारी भी लगातार दूसरी बार लग रही है। जिला कलक्टर ने किसान से गेहूं व नरमा के उत्पादन के बारे में पूछा तथा जिला कलक्टर ने किसानों को समझाया कि अत्यधिक पानी की मात्रा भी फसल के लिये नुकसानदायक होती है। कभी भी फसल को जरूरत से ज्यादा पानी नही देना चाहिए। 

पक्के खाले का निरीक्षण

जिला कलक्टर ने चक 4 वाई में निर्मित पक्के खाले का अवलोकन किया तथा सीएडी के अधिकारियों को निर्देशित किया कि पक्के खालों के निर्माण से लगभग 20 प्रतिशत जल की बचत होती है, जिससे अधिक क्षेत्राफल में बुवाई कर ज्यादा उत्पादन लिया जा सकता है। खखा हैड पर भी किसानों ने जिला कलक्टर से मुलाकात की तथा जो खाले कच्चे रह गये है, उन्हें पक्का करने का निवेदन किया। जिला कलक्टर ने किसानों को आश्वस्त किया कि प्रधानमंत्रा सिंचाई योजना, महात्मा गांधी नरेगा में शेष खालों को पक्का करने का कार्य चरणबद्ध तरीके से किया जायेगा। 

पेयजल परियोजना का किया निरीक्षण

जिला कलक्टर श्री नकाते ने चक 1 ए व 2 बी के लिये प्रगतिरत पेयजल परियोजना का निरीक्षण किया तथा अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये। सीमांत क्षेत्रा विकास योजना में 4 लाख 99 हजार 980 रूपये की लागत से पेयजल भंडारण के लिये डिग्गी का निर्माण कार्य प्रगति पर है। 

    इस अवसर पर जल संसाधन विभाग के अधीक्षण अभियंता श्री प्रदीप रूस्तगी, सीएडी के अधीक्षण अभियंता श्री गोपाल किशन भारती, जल संसाधन विभाग के अधीशाषी अभियंता श्री नीरज चावला, सहायक अभियंता श्री राजेश अरोड़ा उपस्थित थे।


यह ब्लॉग खोजें