शुक्रवार, 5 जून 2020

इक दिन ऐसा आएगा, गांव बोलेंगेः कविता- करणीदान सिंह राजपूत :

इक दिन ऐसा आएगा,

गांव बोलेंगे।

खेत बोलेंगे और खलिहान बोलेंगे।


 रेतीले टीलों पर कटते,

फोग बोलेंगे।

नष्ट होते खींप और सीणिये बोलेंगे ।

एक दिन ऐसा आएगा गांव बोलेंगे, 

खेत बोलेंगे और खलिहान बोलेंगे।

सूखी नदियां बोलेंगी, 

सूखे तलाब बोलेंगे।

शोषण के विरुद्ध, 

अपने मुंह को खोलेंगे।

कुल्हाड़ी से कटते खेजड़, 

कीकर बोलेंगे।

खाली कोठे देखकर, 

किसान बोलेंगे। 

एक दिन ऐसा आएगा, 

गांव बोलेंगे। 

खेत बोलेंगे,खलिहान बोलेंगे।

चारागाहों के घटाव पर,

जंतु बोलेंगे।

उजड़ते जंगलों पर, 

रोते मोर बोलेंगे।

 बंजड़ में मुंह मारती,

 भेड़ें बोलेंगी।

दानवी हरकतों पर रोते,

मौसम बोलेंगे।

एक दिन ऐसा आएगा, 

गांव बोलेंगे 

खेत बोलेंगे,खलिहान बोलेंगे।

***********************

यह रचना क ई साल पहले 2001-2 में लिखी गई थी। शोषण अत्याचार अनेक प्रकार के होते हैं। आसपास वालों को भी मालूम नहीं हो पाता। दमन के विरूद्ध आखिर हर कोई मुंह खोलने को तैयार हो उठता है।

भेड़ कट जाती है,बोलती नहीं,मैने भेड़ को भी अत्याचार के विरूद्ध बोलने का लिखा है कि भेड़ भी अत्याचार के विरुद्ध बोल उठती है।

ऐसे में आदमी कब तक शोषण का शिकार होता रहेगा? आदमी भी बोलेगा।  अत्याचार और शोषण के विकट हालत आज भी मौजूद हैं बल्कि बढ गए हैं।


यह कविता उस समय आकाशवाणी से प्रसारित हुई थी।
*****************


करणीदान सिंह राजपूत, 

सरकार द्वारा अधिस्वीकृत स्वतंत्र पत्रकार,

 सूरतगढ़,

राजस्थान।

संपर्क.  94143 81356.

******************




बुधवार, 3 जून 2020

पैसेंजर ट्रेनों को एक्सेस मेल रूप और किराये पर चलाने की तैयारी.व्यापार एकाधिकार से क्या कहेंगे?

* करणीदानसिंह राजपूत *

रेलवे द्वारा पैसेंजर गाड़ियां को मेल बनाकर चलाने की योजना है करने जान से राज कोरोना ब्लॉक डाउन में सब कुछ बंद हुआ वहीं रेलवे की यात्री गाड़ियां की बंद हो गई थी निश्चित रूप से रेलवे को भारी नुकसान अब रेलवे ने पहले मजदूरों के नाम पर एक्सप्रेस गाड़ियां शुरू की अब बंद पैसेंजर गाड़ियों को एक्सप्रेस और मेल रूप में चलाया जाने की योजना है उनके नंबर भी बदल दिए गए हैं एक-दो दिन में यह स्थिति सामने आने वाली है उनकी समय सारणी जारी होने वाली है रेलवे अपना काटना पैसेंजर गाड़ियों को एक्सप्रेस रूप प्रदान करके पूरा करने में लगी हुई है।

लोगों की मजबूरी होगी कि पैसेंजर गाड़ी में एक्सप्रेस मेल का किराया देना होगा। गाड़ियों के नंबर नये जारी हो गए हैं। रेलवे इनकी स्पीड भी एक्सप्रेस मेल की करेगी इसकी अभी सूचना नहीं है। एक्सप्रेस आदि की स्पीड में भी रेलवे ने अपना बचाव करते हुए घोषणा कर रखी है कि ट्रेक के अनुसार स्पीड रहेगी। यानी ट्रेक कमजोर है तो स्पीड कम रहेगी।

शायद सोशल डिस्टेंस के हिसाब से यात्रियों की संख्या कम होगी इसलिए यह किराया अधिक वसूलने का तरीका है ताकि घाटा नहीं हो।

रेलवे स्पीड और यात्रियों की संख्या बाबत क्या घोषणा करेगा,कि प्रतीक्षा है।

रेलवे का एकाधिकार है इसलिए इस तरह किराया बढाया जाना क्या कहलाएगा?

व्यापारी करे तो लूट कालाबाजारी आदि बता देते हैं। 

फैक्ट्री में धमाके के बाद लगी भीषण आग, 5 लोगों की मौत; 40 लोग झुलसे.


3 जून 2020
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गुजरात के दाहेज में एक कैमिकल फैक्ट्री में धमाके के बाद भीषण आग लग गई। हादसे में 5 लोगों की मौत हो गई और 40 लोग घायल हो गए।
यह कैमिकल फैक्ट्री यहां के इंडस्ट्रियल एरिया में लगी है। 40 लोगों के घायल होने की खबर है। घटना की जानकारी मिलते ही फायर ब्रिगेड की 10 गाड़ियां मौके पर पहुंची।
जिला प्रशासन के अधिकारी ने बताया कि स्थानीय प्रशासन ने लोगों को घटना स्थल के पास से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया है।
भरूच के कलेक्टर एमडी मोदिया ने बताया कि दोपहर में एग्रो कैमिकल फैक्ट्री में आग लग गई। यह विस्फोट कैमिकल उत्पादन करने वाली बड़ी कंपनी यशस्वी रसायन प्राइवेट लिमिटेड में हुआ है। मोदिया ने बताया कि निकटवर्ती लाखी और लुवारा गांवों को एहतियातन खाली कराया जा रहा है क्योंकि फैक्टरी के निकट जहरीले रसायनों के संयंत्र हैं।
इस घटना में करीब 35-40 कर्मचारी झुलस गए हैं। सभी घायलों को भरूच में अस्पताल पहुंचाया गया है। आग पर नियंत्रण करने के प्रयास किए जा रहे हैं। कलेक्टर ने कहा कि विस्फोट के बाद लगी आग ने पूरी फैक्ट्री को अपनी चपेट में ले लिया। उन्होंने बताया कि कैमिकल प्लांट के आसपास के गांव के लोगों को वहां से निकाल लिया गया है।

श्रीगंगानगर विधायक राजकुमार गौड़ ने सुनी कर्फ्यूग्रस्त क्षेत्रों में निवासियों से समस्याओं की जानकारी ली- 3 जून



" जवाहरनगर सेक्टर नं 2, ब्रह्मा कॉलोनी, बस्ती चौक में कफ्र्यूग्रस्त इलाके का दायरा किया कम"

* करणीदानसिंह राजपूत *

श्रीगंगानगर 3 जून 2020.
शहर के बंसती चौक एरिया की ब्रह्मा कॉलोनी तथा जवाहरनगर एरिया के सैक्टर नंबर 2 में गत दिनों कोरोना संक्रमित मिलने के बाद लगाये गये कर्फ्यूग्रस्त इलाकों का आज बुधवार को एक बार फिर से श्रीगंगानगर विधायक श्री राजकुमार गौड़ ने अधिकारियों के साथ जाकर जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने आमजन से बातचीत की ओर बताया कि बुधवार दोपहर से जवाहरनगर सेक्टर नं 2 एवं ब्रह्मा कॉलोनी, बस्ती चौक में कर्फ्यूग्रस्त इलाके का दायरा कम किया गया है। वहीं मौके पर ही विधायक श्री राजकुमार गौड़ ने कर्फ्यूग्रस्त इलाके के निवासियों से बातचीत की और उनकी मूलभूत परेशानियों को सुना ओर संबंधित अधिकारियों से बात करते हुए मौके पर निदान करने के निर्देश दिए। विधायक श्री राजकुमार गौड़ ने ब्रह्मा कॉलोनी तथा जवाहरनगर एरिया के सैक्टर नंबर 2 के निवासियों का सहयोग करने पर आभार व्यक्त किया।
विधायक श्री गौड़ ने कहा कि लॉकडाउन के नियमों में भले ही छूट मिल गई हो, लेकिन अभी कोरोना वायरस गया नही है। इसके लिए हम सभी को जागरूकता का भाव लाकर ओर सक्रिय होकर ध्यान रखना होगा। उन्होंने कहा कि जहां कोरोना मरीज पाया जाता हैं, वहां कर्फ्यू जारी रखना कोविड-19 प्रोटोकॉल का हिस्सा होता है ओर जो मापदंड निर्धारित होता हैं उसी के अनुरूप नियम लगाये जाते है। इसलिये आमजन को भी इसमें सहयोग करना चाहिए।


वहीं बुधवार को कर्फ्यूग्रस्त इलाके का जायजा लेने गये श्रीगंगानगर विधायक श्री राजकुमार गौड़ के साथ एसडीएम श्री उम्मेदसिंह रत्नू, सीओ सिटी इस्माइल खां, कोतवाली थाना प्रभारी सीआई श्री गजेंद्र सिंह जोधा, जवाहरनगर थाना प्रभारी सीआई राजेश सिहाग, तहसीलदार श्री संजय अग्रवाल उपस्थित थे।*


मंगलवार, 2 जून 2020

राजस्थान में होमगार्ड भर्ती- 10 जून से 8 जुलाई. आन लाईन।


* करणीदानसिंह राजपूत *
श्रीगंगानगर, 2 जून 2020.
राजस्थान गृह अधिनियम 1963 एवं उसके अध्यधीन पारित नियमों के निहित प्रावधानों  के अन्तर्गत राजस्थान गृह रक्षा (होमगार्ड) के विभिन्न जिला प्रशिक्षण केन्द्रों व उप केन्द्रों एवं सीमा गृह रक्षा दल की बटालियनों की विभिन्न कम्पनियों में होमगार्ड स्वयंसेवकों के 2500 रिक्त पदों पर नामांकन के लिए योग्य अभ्यर्थियों से आॅनलाईन आवेदन पत्र आमंत्रित किये गये है। राजस्थान सरकार की वैबसाईट http:home.rajasthan.gov.in/homeguards पर उपलब्ध है।
राजस्थान होमगार्ड के महानिदेशक श्री राजीव दासोत ने बताया कि वर्तमान में लाॅकडाउन में केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा शिथिलता प्रदान किये जाने के परिपेक्ष्य में नामांकन के लिए आवेदन पत्र 10 जून 2010 से 8 जुलाई-2020 की रात्रि 12 बजे तक आॅनलाईन भरे जा सकेंगे। आवेदकों को सलाह दी जाती है कि अन्तिम तारीख का इंतजार किये बिना समय सीमा में आॅनलाईन आवेदन करे। नामांकन हेतु न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता मान्यता प्राप्त स्कूल से 8 वीं कक्षा उत्तीर्ण होना चाहिए। राजस्थान गृह रक्षा नियम 1962 के अनुसार आवेदक की आयु एक अप्रैल 2020 को 18 वर्ष कम एवं 35 वर्ष से अधिक नही होनी चाहिए। आवेदन संबंधित जिले का मूल निवासी होकर भर्ती केन्द्र व उपकेन्द्र से संबंधित नगर निगम, नगर परिषद, नगर पालिका व तहसील में गत 3 वर्षो से लगातार निवास करने वाला होना चाहिए।
राजस्थान होमगार्ड के महानिदेशक श्री राजीव दासोत ने बताया कि नामांकन समस्त चरणों यथा पंजीकरण एवं प्रमाण पत्रों की जांच, शारीरिक माप-तौल परीक्षण, शारीरिक दक्षता परीक्षा विशेष योग्यता का विवरण विभागीय वैबसाईट पर देखा जा सकता है। नामांकन प्रक्रिया में राज्य सरकार के नियमानुसार विभिन्न वर्गो को आरक्षण लागू रहेगा। समस्त अभ्यार्थियों को सलाह दी जाती है है कि वे आवेदन पत्र भरने से पूर्व विभागीय विज्ञप्ति का भली भाॅति अध्ययन कर लेवे।
(पीआरओ)
-----------




विद्युत विभाग अधिकारियों को जिला कलेक्टर का निर्देश-गर्मी में ट्रिपिंग कम से कम हो.


* करणीदानसिंह राजपूत *
श्रीगंगानगर 2 जून 2020.
जिला कलक्टर ने विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि गर्मी के मौसम में विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करने के साथ-साथ इस बात का ध्यान रखा जाये कि विद्युत ट्रिपिंग कम से कम हो। पेयजल की आपूर्ति के समय विशेष ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि तेज हवा या आंधी के कारण विद्युत आपूर्ति में आने वाले व्यवधान को दुरस्त करने का रिस्पोंस टाईम कम से कम होना चाहिए। जिले में जहां भी खम्बे या विद्युत तारों में व्यवधान आने पर विभाग की टीम को जल्द से जल्द मौके पर पहुंचकर विद्युत लाईनों को बहाल करना चाहिए। जिले में विद्युत आपूर्ति से संबंधित किसी प्रकार की समस्या के संबंध में टोल फ्री नम्बर 18001806045 तथा नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नम्बर 0154-2442087 पर समस्या दर्ज करवाई जा सकती है।**
( पीआरओ)


भीषण गर्मी में पेयजल की आपूर्ति सुनिश्चित करे-समस्या पर जिला नियंत्रण कक्ष फोन पर जानकारी दें- श्रीगंगानगर जिला.

* करणीदानसिंह राजपूत *

श्रीगंगानगर 2  जून 2020.

जिला कलक्टर श्री नकाते ने पेयजल विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि भीषण गर्मी में नागरिकों को स्वच्छ व पर्याप्त पेयजल उपलब्ध करवाना सुनिश्चित करें। कही दूर-दराज के क्षेत्र में परियोजना से आपूर्ति नही हो, तो आवश्यकता को देखते हुए टैंकर से भी पानी भिजवाया जा सकता है। 

पेयजल विभाग द्वारा जिला मुख्यालय पर नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है, जिसके दूरभाष नम्बर 0154-2445031 है। किसी उपभोक्ता को पेयजल से संबंधित समस्या की शिकायत नियंत्रण कक्ष पर दी जा सकती है। जिला कलक्टर ने जिले में पेयजल परियोजनाओं में संचालित विकास कार्यों को गुणवत्ता के साथ जल्द पूरे करने के निर्देश दिये।

( पीआरओ)

** 



“सेवा परमो धर्म” निराश्रित गौवंश की पेटभराई में 'यार जिगरी सेवा समिति सूरतगढ़ जुटी.


* करणीदानसिंह राजपूत *
👌सूरतगढ़ में निराश्रित गौ वंश को चारा,सब्जियां,गुड़,सर्दियों में दलिया खिलाने में क ई संस्थाएं जुटी है। संस्थाओं के कार्यकर्ता अपना धन और श्रम लगाते हैं और अन्य लोग भी दान चंदा आदि संस्थाओं को देते रहते हैं।
कोरोना विषाणु से बचाव में लोकडाउन में निराश्रित गौ वंश की सेवा करना बहुत बड़ा पुण्य का कार्य चल रहा है।
ऐसे ही सेवा कार्य में शहर की एक संस्था यार जिगरी सेवा समिति के कार्यकर्ता भी जुट गए। असल में संस्था विभिन्न धार्मिक कार्यों में कुछ सालों से सक्रिय रही है,लेकिन कोरोना संकट में अपनी सेवा में निराश्रित गौ वंश की पेट भराई में भी समय देने लगी हैँ।




संस्था के अध्यक्ष मनीष सेठिया के अनुसार
निराश्रित गौ वंश के लिए हरा चारा, हरी सब्ज़ी तथा गुड़ की सेवा प्रत्येक शनिवार तथा रविवार को की जाती है।
प्राय एक दिन का खर्च मात्र 251 रूपए और अधिक भी आता है। इस छोटी सी धन राशि से निराश्रित गौ वश के लिए बहुत अच्छी मात्रा में  हरी सब्ज़ी तथा चारे के व्यवस्था की जाती है।
इस छोटे से सहयोग से हम कोरोना संकट काल तथा भीषण गर्मी के समय बेजुबान पशुओं  की सहायता कर सकते है।
अध्यक्ष का लोगों से अनुरोध भी है कि अपने जन्मदिन,शादी के दिन,किसी स्मृति में धन का सहयोग कर हमारे साथ मिलकर इस छोटे से प्रयास को सफल बनाएं तथा खुद के लिए भी पुण्य के द्वार खोलें।
* सेवा स्थल *
पशु चिकित्सालय
खेजड़ी मंदिर के पास
गणेश मंदिर के पास
नंदी शाला,किशनपुरा आबादी।
👌सहयोग के लिए संपर्क करे : यार जिगरी सेवा समिति सूरतगढ़ – (YJSS SOG)
+91-9928743431
+91-8104087735
+91-7014126709
💐अध्य्क्ष मनीष सेठिया
सचिव पारस गोलछा
कोषाध्यक्ष दीपक बोथरा
सोशल मीडिया प्रभारी रवि देरासरी
सहसचिव राजीव देरासरी
उपाध्यक्ष राम किशन सोलंकी।
*****
👍 संस्था अध्यक्ष मनीष सेठिया द्वारा दी गई जानकारी पर आधारित लेख👍
*****


रविवार, 31 मई 2020

गृह विभाग राजस्थान सरकार की गाइडलाईन जारी- श्रीगंगानगर जिले में नई गाइडलाईन


* करणीदानसिंह राजपूत *
श्रीगंगानगर, 31 मई 2020.
गृहमंत्रालय भारत सरकार द्वारा सम्पूर्ण भारत में लागू किया गया लाॅकडाउन 30 जून 2020 तक बढा दिया गया है।
इसके सबंध में राजस्थान सरकार द्वारा राज्य में लाॅकडाउन के क्रियान्वयन हेतु गाइडलाईन जारी की गई है।
 जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट श्री शिवप्रसाद एम. नकाते ने जिले के समस्त उपखंड मजिस्ट्रेट को 1से 30 जून 2020 के लिए लाॅकडाउन 5.0 की पालना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए है।
क्रमिक रियायतों के साथ एक लम्बी अवधि के लाॅकडाउन से कोविड-19 के सामुदायिक प्रसार को रोकने और हजारों लोगों का जीवन बचाने में सफलता मिली है, तथापि वायरस से खतरा अभी भी जारी है। उन्होने गाइडलाईन्स, कार्यस्थलों, सामाजिक स्थानों और सार्वजनिक परिवहन में ऐहतियाति और सुरक्षा उपायों के माध्यम से सामान्य स्थिति की सावधानी पूर्वक बहालों के सिद्धांतो पर आधारित है एवं जनता द्वारा जिम्मेदारी स्व-नियमन अपेक्षित है।
* कन्टेन्मेंट जोंस या कफ्र्यू क्षेत्र*
जिला कलक्टर श्री नकाते ने बताया कि कन्टेन्मेंट जोन, कफ्र्यू क्षेत्र में अतिआवश्यक सेवाओं के लिए आवागमन होगा, अन्य किसी भी नागरिक का आवागमन नही होगा।
उन्होंनेे बताया कि इस क्षेत्र की उपयुक्त पहचान की जाएगी एवं कन्टेन्मेंट जोंस में भारत सरकार के गृह मंत्रालय एवं स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की गई गाइडलाईन में प्रोटोकाॅल की सख्ती से अनुपालना सुनिश्चित की जाएगी और केवल आवश्यक गतिविधियों को ही अनुमति प्रदान की जाएगी। चिकित्सा आपात स्थिति और आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति बनाए रखने के अलावा इन जोन के अन्दर या उसके बाहर आबादी का आवागमन नही होने को सुनिश्चित करने हेतु सख्त परिधि नियंत्रण लागू होगा।
गाइडलाईन के तहत किसी प्रकार की छूट, हाॅट-स्पाॅट तथा कलस्टर्स के कन्टेन्मेंट एरिया या कफ्र्यू क्षेत्रों में लागू नही होगा। 
* दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के अन्तर्गत प्रतिबंध*
जिला मजिस्ट्रेट श्री नकाते बताया कि दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के अन्तर्गत जिले में रात्रि 9 बजे से प्रातः 5 बजे तक सभी गैर आवश्यक गतिविधियों के लिए व्यक्तियों के आवागमन पर सख्त निषेध रहेगा तथा पुलिस, जिला प्रशासन, सरकारी अधिकारी जो ड्यूटी पर है, चिकित्सक एवं अन्य चिकित्सा, पैरा मेडिकल स्टाॅफ (राजकीय व निजी) पारी व आपातकालीन ड्यूटी पर, आईटी और आईटीएस कम्पनियों का स्टाॅफ (रात्रि यात्रा पास जिला प्रशासन व पुलिस से प्राप्त करना होगा), चिकित्सा या अन्य आपातकालीन स्थिति के लिए कोई भी व्यक्ति, दवा की दुकानों के मालिक और स्टाॅफ (रात्रि पास के साथ), ट्रक, मालवाहक वाहन जो माल, निर्माण या अन्य किसी सामग्री को लेकर परिवहन कर रहे है का आवागमन या खाली लौट रहे हो पर यह प्रतिबंध लागू नही होगा।
सभी कार्य स्थल (दुकाने, कार्यालय, कारखाने आदि) उपयुक्त समय पर बंद कर दिए जाएंगे ताकि उनका स्टाॅफ रात्रि 9 बजे तक अपने घर पहुंच जाए, जब तक कि खुले रखने के लिए जिला प्रशासन से स्वकृति प्राप्त नही कर ली गई हो तथा निरन्तर उत्पादन के प्रकृति की फैक्ट्रिया, रात की पारी वाली फैक्ट्रियां, निर्माण गतिविधियों  पर लागू नही होगा। इनके द्वारा पारी का प्रबन्ध इस प्रकार किया जाए कि रात्रि 9 बजे से प्रातः 5 बजे तक कोई भी श्रमिक सड़क पर नही आएगा।
*निषिद्ध गतिविधिया*
सम्पूर्ण जिले में सभी अन्तर्राष्ट्रीय हवाई यात्राऐं, मेट्रो रेलसेवा, सभी विद्यालय, महाविद्यालय, शैक्षणिक, प्रशैक्षणिक, कोचिंग संस्थान, सभी सिनेमा हाॅल, शाॅपिंग माॅल, व्यायाम शालाएं  स्वीमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, थियेटर, बार, आॅडिटोरियम, एसेम्बिली हाॅल और समान प्रकृति के स्थान बंद रहेंगे।
सभी सामाजिक, राजनैतिक, खेल, मंनोरंजन, आकदमिक, सांस्कृतिक धार्मिक कार्यक्रम तथा अन्य सभाऐं एवं बडे सामुहिक आयोजन, होटल्स, रेस्टोरेन्टस, क्लब हाउस, (स्पोर्टस सुविधाओं के अरितक्त) तथा अन्य आतिथ्य सेवाए और खाने की जगहें (होम डिलिवरी और टेक-अवे को छोडकर, जो पहले से अनुमत है)। शाॅपिंग माॅल्स, सभी धार्मिक स्थल और पूजा के स्थल जनता के लिए बंद रहेंगे। 
* सामान्य सुरक्षा सावधानिया
सार्वजनिक स्थलों पर*
सभी सार्वजनिक व कार्य स्थलों एवं सार्वजनिक परिवहन में चेहरे पर मास्क, कवर पहनना अनिवार्य हागा, सार्वजनिक और कार्य स्थलों पर थूंकना निषेद्ध, सभी व्यक्तियों द्वारा सार्वजनिक स्थानों में सामाजिक दूरी (6 फीट या दो गज की दूरी) की पालना की जाएगी, सार्वजनिक स्थानों पर शराब, पान, गुटका, तम्बाकू आदि का सेवन पूर्णतः निषिद्ध है। सभी व्यक्तियों को यह सलाह दी जाती है कि वे किसी ऐसी सतह जो सार्वजनिक सम्पर्क में हो, जैसे दरवाजे का हैण्डल को छूने के उपरान्त साबुन और पानी से हाथ धोए, सेनेटाइजर का उपयोग करे। 
^कार्य स्थल^
कार्य स्थलों (कार्यालय, प्रतिष्ठान, कारखानों, दुकान आदि) के लिए जहां तक संभव हो घर से काम करने की विधी की पालना की जाए, कार्य स्थलों के प्रभारी व्यक्तियों द्वारा श्रमिकों के बीच पर्याप्त दूरी, पारियों के बदलने में पर्याप्त अन्तराल तथा लंच ब्रेक में उपयुक्त अन्तराल आदि के माध्यम से सामाजिक दूरी को सुनिश्चित किया जाएगा।
कार्यालयों, कार्य स्थलों, दुकानों बाजारों और औद्योगिकी प्रतिष्ठानों में काम, व्यवसाय के घण्टों में अन्तराल रखा जाए।
सभी प्रवेश और निकास बिन्दुओं और काॅमन स्थानों पर थर्मल स्केनिंग, हैण्डवाॅश और सेनेटाइजर का प्रबन्ध किया जाए।
सम्पूर्ण कार्य स्थलों में शिफ्टो के मध्य सहित आम सुविधाओं और मानव सम्पर्क में आने वाले सभी दरवाजों के हैण्डल आदि का बार-बार सेनेटाइजेशन करना सुनिश्चित किया जाए। सभी नियोजनकर्ता अपने कर्मचारियों को सार्वजनिक एवं स्वयं की सुरक्षा के लिए उनके मोबाईल फोन पर आरोग्य सेतु को इन्स्टाॅल करने एवं उपयोग करने के लिए प्रेरित एंव प्रोत्साहित करेंगे तथा श्रेष्ठ स्वच्छता विधियों पर सघन संचार और प्रशिक्षण दिया जाएगा। 
भेद्य व्यक्तियों के लिए सुरक्षा सलाह
काविड-19 के तहत 65 वर्ष एवं उससे ऊपर की आयु के व्यक्ति, पुराने रोगों एवं सःरूगणता परिस्थितियों से पीडित व्यक्ति, गर्भवती महिलाए, 10 वर्ष से
कम आयु के बच्चे एवं ऐसे व्यक्तियों को यथासंभव घर पर ही रहने की सलाह दी गई हैै।
अनुमत गतिविधिया
सभी दुकाने प्रतिबंधों के साथ अनुमत की गई है, जिसके तहत दुकानदार द्वारा किसी भी ग्राहक को जिसने मास्क नही पहन रखा है, बिक्री नही की जाएगी। दुकानों में यह सुनिश्चित किया जाएगा कि सामाजिक दूरी के साथ एक समय पर छोटी दुकानों में 2 से अधिक तथा बडी दुकानों में 5 से अधिक ग्राहकों को प्रवेश की अनुमति नही हो अन्य व्यक्ति सामाजिक दूरी की अनुपालना करते हुए दुकान के बाहर पंक्ति में अपनी बारी की प्रतिक्षा करेंगे। उल्लंघन करने पर दुकान को सील किया जाएगा तथा जुर्माना या विधिक कार्यवाही की जा सकती है।
प्रत्येक ग्राहक की सेवा के उपरान्त पूर्ण सुरक्षा सावधानियों, कीटणुशोधन एवं सफाई सहित नाई की दुकानें, सैलून एवं ब्यूटर पार्लर इत्यादि, दुकान, स्टाॅल, ठेला, कियोस्क के माध्यम से जूस, चाय, चाट सहित खाद्य पदार्थो की बिक्री आवश्यक मानकों के साथ सुनिश्चित की जाएगी। स्वच्छता, साफ-सफाई एवं कचरा निपटान के आवश्यक मानकों को संधारित किया जाएगा। सामाजिक दूरी एवं अन्य निर्धारित सावधानियांें का संधारण किया जाएगा, व्यक्तियों की भीड़ अनुमत नही होगी। विशेष तौर पर स्थानीय के निकाय अधिकारीगण इन शर्तो की अनुपालना सुनिश्चित करेंगे। पार्क, सामुदायिक पार्क शर्तो के साथ खोले जा सकेंगे। व्यक्तियों के सम्पर्क रहित प्रवेश के लिए मुख्य द्वार खुले रखे जाए, सभी छूने, सम्पर्क संबंधी गतिविधियां बंद रहेगी, इन्हे ढका जा सकता है, ताकि उनका उपयोग नही किया जाए, जैसे जिम, झूले आदि। यदि पार्क के अन्दर पूजा स्थल है तो उनके लिए निर्धारित प्रतिबंद जारी रहेगा। सामाजिक दूरी की सख्ती से पालना की जाएगी। एक-दूसरे से कम से कम 6 फिट की दूरी रखनी होगी। इन सब के लिए पार्क के इंचार्ज प्राधिकारी उपरोक्त शर्तो की पालना कराने के लिए उत्तरदायी होंगे।
विवाह संबंधी आयोजन के लिए
उपखण्ड मजिस्ट्रेट को पूर्व में सूचना देनी होगी, कार्यक्रम के दौरान सामाजिक दूरी सुनिश्चित की जाएगी तथा अधिकतम मेहमानों की संख्या 50 से अधिक नही होगी। अन्त्येष्टी या अन्तिम संस्कार संबंधित कार्यक्रम में सामाजिक दूरी सुनिश्चित की जाएगी तथा अनुमत व्यक्तियों की संख्या 20 से अधिक नही होगी। उल्लंघना अपराध है और भारी जुर्माने के साथ दण्डनीय है। 
सभी अन्य अनुमत गतिविधियां
ऐसी इकाईयां यह सुहिनश्चित करेगी कि उनके द्वारा मूलभूत ऐहतियाती उपायो की अनुपालना की जा रही है। जिला मजिस्ट्रेट, संबंधित विभागों व अभिकरणों के माध्यम से यह सुनिश्चित करेंगे कि इन मापदण्डों व सावधानियों का सभी इकाईयों द्वारा पालना की जा रही है। संबंधित इकाई द्वारा शर्तो की पालना नही की जा रही है, तो उसे बंद कर दिया जाएगा।
व्यक्तियों के आवागमन, परिवहन, पास
गाइडलाईन के अनुसार व्यक्तियों और वस्तुओं के अन्तर्राज्यीय एवं राज्य के अन्दर आवागमन पर कोई प्रतिबंद नही होगा। अन्तर्राज्यीय परिवहन के लिए पडौसी राज्य पंजाब के अधिकारियों से बातचीत कर परिवहन व्यवस्था को सुचारू बनाया जाएगा।
किसी भी वाहन (निजी/वाणिज्यक) से यात्रा कर रही सवारियों की संख्या पंजीकृत वाहन की स्वीकृत बैठक क्षमता से अधिक नही होगी। 
उपखण्ड मजिस्ट्रेट श्री उम्मेद सिंह ने बताया कि नई गाइडलाईन के अनुसार एवं जिला मजिस्ट्रेट श्री शिवप्रसाद एम. नकाते के निर्देशानुसार प्रतिष्ठानों में काम करने वालेे कामदारों को रात्रि 9 बजे तक घर पहुंचना होगा। इसके लिए प्रतिष्ठान रात्रि 8 बजे बंद करने होंगे, जिससे दुकानदरों, कार्मिको व कामगारों को घर पहुंचनें में किसी प्रकार की असुविधा न हो।
-----( पीआरओ)

नेपाल झगड़ा करने पर उतरा.भारतीय सीमा पर सेना तैनात करेगा.भारतीयों के प्रवेश के नाके तय किये।


नई दिल्ली, 31 म ई  2020.
नेपाल ने भारत के तीन क्षेत्रों को अपने नक्शे में दिखाने के लिए संविधान संशोधन बिल को नेपाली संसद में पेश किया है. प्रधानमंत्री केपी ओली ने खुली सीमाओं को बंद कर दिया है अब केवल कुछ सीमाओं से ही भारतीय नेपाल में प्रवेश कर सकेंगे.
*नेपाल-भारत संबंधों में बढ़ा तनाव नए नक्शे के लिए बिल नेपाली संसद में पेश।*
*चयनित बॉर्डर से ही भारतीयों को मिलेगा प्रवेश*
नेपाल सरकार ने नेपाल प्रवेश करने के लिए खुली सीमाओं को बंद करने और सरकार द्वारा निर्धारित सीमा क्षेत्र से ही नेपाल में प्रवेश देने का फैसला किया है. भारत के साथ तनाव को देखते हुए नेपाल ने अपने सीमावर्ती क्षेत्रों में सेना की तैनाती को भी मंजूरी दी है. ऐसा पहली बार हो रहा है.
नेपाल और भारत के बीच करीब 1,700 किलोमीटर की खुली सीमाएं हैं. अभी तक भारतीय नागरिकों को बिना रोक-टोक अपनी सुविधा के मुताबिक इन खुली सीमाओं से प्रवेश मिलता था। नेपाल सरकार के ताजा फैसले से अब सिर्फ निर्धारित सीमा से ही नेपाल में प्रवेश करने की इजाजत मिलेगी.
जिस दिन नेपाल सरकार ने भारतीय क्षेत्रों को मिलाकर अपना नया नक्शा जारी किया था, यह निर्णय उसी दौरान लिया गया है. लेकिन सरकार ने एक हफ्ते तक इस निर्णय को छिपा कर रखा. राजपत्र में प्रकाशित करने के बाद इसे सार्वजनिक किया गया है.
सीमा विवाद को लेकर भारत से टकराव के मूड में रहे नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली की कैबिनेट ने सीमा व्यवस्थापन और सुरक्षा के नाम पर सख्ती दिखाते हुए भारत से लगी 20 सीमाओं को छोड़कर बाकी सभी को बन्द करने का निर्णय किया है.
* सीमा क्षेत्र में सेना की तैनाती *
भारत के साथ तनाव को देखते हुए नेपाल ने अपने सीमावर्ती क्षेत्रों में सेना की तैनाती को भी मंजूरी दे दी है. यह पहली बार है जब नेपाल-भारत सीमा पर सेना की तैनाती होने जा रही है. अब तक भारत के तरफ सीमा की निगरानी एसएसबी करती थी वहीं नेपाल की तरफ से सशस्त्र प्रहरी बल (एपीएफ) के हवाले सुरक्षा की जिम्मेदारी थी. नेपाल के हर सीमावर्ती जिलों में सैन्य बैरक होने के बावजूद सीमा की निगरानी या सुरक्षा के नाम पर सेना को बॉर्डर पर कभी नहीं भेजा गया था.
* नेपाली विदेश मंत्री बोले- नए नक्शे को जल्द मिल जाएगी संसद की मंजूरी।
नेपाल भारत के बीच सीमा को नियंत्रित करना, बन्द करना और सेना की तैनाती करना दोनों देशों के बीच 1950 में हुए मैत्री संधि के विरुद्ध है.
नेपाल की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी हमेशा से इस संधि के खिलाफ रही है. इनके चुनावी घोषणा पत्र से लेकर हर सभा सम्मेलन में आजाद भारत के साथ हुए पहले समझौते का विरोध किया जाता रहा है. कम्युनिस्ट नेताओं का एक बड़ा एजेंडा‌ भारत के साथ रहे सांस्कृतिक, धार्मिक, पारिवारिक और राजनीतिक संबंधों को खत्म करना रहा है।
* नेपाल की संसद में संशोधन बिल पेश, नये नक्शे में भारत के तीन हिस्से*
20 जगहों से ही होगी भारतीयों की एंट्री
इस निर्णय के बारे में जानकारी देते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय के सचिव नारायण बिडारी ने कहा कि कैबिनेट ने यह फैसला लिया है कि ‌भारत से आने वाले लोगों को अब सिर्फ 20 सीमा गेट से ही आने की इजाजत मिलेगी. नेपाल के 22 जिलों की सीमा भारत से जुड़ी है. सरकार ने सिर्फ 20 जिलों के लिए एक-एक प्रवेश स्थान तय किए हैं.
*नेपाल ने पीछे खींचा कदम, पूरे घटनाक्रम पर भारत की नजर*
कोरोना वायरस की वजह से नेपाल ‌और भारत दोनों देशों ने 31 मई तक सीमाओं को सील किया हुआ है. इसलिए 1जून से अगर सीमाओं को खोला भी जाता है तो नेपाल के नए नियम के मुताबिक भारतीय नागरिक अब सिर्फ तय नाका से ही नेपाल में प्रवेश कर सकेंगे.
सीमावर्ती इलाकों में रहने वाले होंगे परेशान
नेपाल सरकार के निर्णय से सबसे अधिक परेशानी सीमा क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को ही होने वाली है. व्यापार, व्यवसाय रोजगार और शादी-विवाह तक दोनों देशों के बीच सामान्य तरीके से होता है. ऐसे में नए नियमों से लोगों को परेशान होना पड़ेगा. लाखों की संख्या में लोग हर रोज सीमा आर-पार करते हैं. अब नेपाल में वैध आईडी कार्ड के साथ ही एंट्री मिलेगी.
*शादी के संबंध में नेपाल ने बदली नीति*
नेपाल के नए संविधान में भारतीय लड़कियों ‌के नेपाल में शादी होने पर उन्हें राजनीतिक अधिकारों से वंचित कर दिया जाता है. यह नियम लगाकर पारिवारिक रिश्तों को खत्म करने योजना बनाई गई है. नेपाल कभी पशुपतिनाथ के पुजारी को हटाने के बहाने तो कभी भारत के चारधामों और कुम्भ को न मानने के बहाने धार्मिक रिश्तों पर चोट पहुंचा रहा है. अब सीमा नियंत्रण करके जन-जन के संबंधों को खत्म करने की साजिश की जा रही है.
*स्वतंत्र भारत के समझौते को नहीं मानती नेपाल की कम्युनिस्ट सरकार*
नेपाल की कम्युनिस्ट सरकार स्वतंत्र भारत के साथ हुए समझौतों को नहीं मानती है. जबकि ब्रिटिश इंडिया के साथ हुए समझौते को ही मानने, उसी हिसाब से अपनी जमीन पर दावा करने की तैयारी नेपाल कर रहा है. साल 1816 में ब्रिटिश हुकूमत और नेपाल के तत्कालीन राजसत्ता के साथ हुए सुगौली संधि के हिसाब से इस‌ समय‌ भारत के हिस्से में रहे कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा को अपना बताते हुए उस हिस्से को समेट कर नया नक्शा जारी कर दिया है.**
(प्रस्तुतकर्ता-करणीदानसिंह राजपूत)

यह ब्लॉग खोजें