शनिवार, 5 दिसंबर 2020

बीएसएफ द्वारा मास्क, सेनेटाईजर व अन्य सामग्री का वितरण- कोविड-19 को लेकर ग्रामीणों को किया जागरूक

 

* करणीदानसिंह राजपूत *

श्रीगंगानगर, 4 दिसम्बर 2020.

बीएसएफ द्वारा रायसिंहनगर क्षेत्र के सीमावर्ती विद्यालयों में 156 वीं वाहिनी के कमांडेंट रणवीर सिंह डोगरा के नेतृत्व में सीमाओं की सशक्त सुरक्षा के अलावा सीमावर्ती ग्रामीण और स्कूली बच्चों में सुरक्षा भावना स्थापित करने और अधिक सुदृढ़ करने के उद्देश्य से ग्राम 44 पीएस क्षेत्र में सिविक एक्शन प्रोग्राम के तहत ग्रामीणों, स्कूली बच्चों, बच्चियों में शिक्षा, खेल कूद और कोविड-19 महामारी से बचाव संबंधी सामग्री बांटी।

 इसमे श्री अभीमन्यु झा कमान अधिकारी, बी एस परिहार उप स मादेष्टा, श्री नीरज सिंह सहायक समादेष्टा, कंपनी कमांडर निरीक्षक राजकुमार व स्कूल अध्यापक एवं ग्रामीणों ने भाग लिया। 

  इस कार्यक्रम में विशेष तौर पर सीमावर्ती ग्रामीण नागरिकों और छात्र-छात्राओं को कोविड-19 से बचाव के लिए स्वास्थ्य, शिक्षा में प्रगति एवं वांछनीय गतिविधियों की सूचनाएँ प्रदान करने संबंधी संदेश दिया गया। 

प्रीतम सिंह ने बताया कि सीमा सुरक्षा बल के अधिकारी समय-समय पर जागरूकता अभियान चलाते हैं, जिसमें आज मुख्य कोरोना को लेकर कैसे मास्क उपयोग करना है और कैसे बार-बार हाथ धोने हैं और सेनेटेजर व मास्क भी बांटे गये। अध्ययन सामग्री, बेंच, वाटर कूलर,  ट्रैक सूट बच्चों को बांटे गये। ००




शुक्रवार, 4 दिसंबर 2020

भाजपा नेता प्रयागचंद अग्रवाल ( सूरतगढ़) के छोटे भाई नागर मल गोयल (नोहर) का निधन

 


 - करणी दान सिंह राजपूत -

सूरतगढ़ 4 दिसंबर 2020.

भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रयाग चंद अग्रवाल सूरतगढ़ के छोटे भाई नोहर निवासी नागर मल गोयल  का 75 वर्ष की उम्र में निधन हो गया।


नागरमल गोयल नोहर में बूट आदि का थोक व्यापार करते थे। गोयल परिवार विभिन्न समाज सेवाओं में अग्रणी रहा है।

हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि नागर मल जी गोयल को अपने चरणों में स्थान दे।००

साधुवाली में नशा मुक्ति जन-जागृति कार्यशाला का आयोजन

 



श्रीगंगानगर, 4 दिसम्बर 2020.

 जिला कलक्टर श्री महावीर प्रसाद वर्मा एवं जिला पुलिस अधीक्षक श्री राजन दुष्यन्त के निर्देशानुसार भारत सरकार द्वारा संचालित एवं डीजीपी राजस्थान श्री एम.एल. लाठर द्वारा निर्देशित  आप्रेशन प्रहार के अन्तर्गत  पुलिस थाना जवाहर नगर द्वारा राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय साधुवाली में नशा मुक्ति जन-जागृति कार्यशाला का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि एडीशनल एस.पी.श्री सही राम बिश्नोई ने कहा कि नशा प्रवृति आज एक महामारी का रूप ले चुकी है, नशा करने से युवा पीढी पथ भ्रष्ट होकर अनुचित कार्यो, अपराधों इत्यादि में संलिप्त हो रही है, अपना भविष्य बरबाद कर रही है तथा समाज के लिए विकराल समस्या का रूप ले रही है। नशे को काबू करने के लिए जिला प्रशासन एवं पुलिस द्वारा नशा मुक्ति अभियान चलाया जा रहा है जिसमें जन-जन को जुड़ कर समाज को नशा मुक्त करने के पावन उद्देश्य से अपना हर सम्भव सहयोग प्रदान करना चाहिए जिससे नशे को मिटाया जा सके। 

कार्यक्रम में नशा  मुक्ति विशेषज्ञ डा0 रविकान्त गोयल ने कहा कि नशे की एक लत व्यक्ति से उसका तन-मन-धन, सामाजिक प्रतिष्ठा छीन लेती है तथा बदले में दुख-दर्द, तकलीफे मुसीबते प्रदान करती है। दिहाड़ी मजदूरी करने वाले अनेक लोग नशे में अपनी सारी कमाई बरबाद कर देते है तथा घर जा कर परिवार के साथ मारपीट, गाली-गलौच इत्यादी करते है जिससे उनके घर  में गरीबी, लाचारी, अभाव इत्यादि समस्यायें डेरा डाल लेती है, बच्चे छोटी छोटी वस्तुओ के लिए तरसते है। डा0 गोयल ने बताया कि ऐसे व्यक्ति जब उनसे ईलाज लेकर नशा छोड़ देते हैं तो उनके जीवन में सुखद परिवर्तन स्पष्ट दृष्टिगोचर होने लगते है, बच्चो की आवश्यकताओं की पूर्ति होने लगती है, प्रेम एवं उल्लास का वातावरण बन जाता है तथा सुन्दर भविष्य की आशा के दीप टिम-टिमाने लगते है। डा0 गोयल ने उपस्थित लोगो को नशे के दुुष्प्रभावों से अवगत करवा कर नशे से बचने के उपाय बताये तथा जीवन भर नशा न करने की शपथ दिलवाई।



कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि पुलिस वृताधिकारी श्री ईस्माइल खान ने कहा कि नशा सभ्य समाज पर एक कलंक है जिसे हमें जड़ से उखाड़ना है, जिसके लिए प्रशासन के साथ-साथ समाज की जागरूकता एवं सहभागिता अत्यन्त आवश्यक है। सामूहिक प्रयासो से ही इस दानव रूपी नशे की समस्या पर काबू पाया जा सकता है। उन्होंने समाज को प्रशासन का सहयोग करने का आहवान किया। कार्यक्रम में पैरा-लीगल वालन्टीयर एवं चेस कोच श्री इन्द्रमोहन सिंह जुनेजा ने कहा कि नशे का मार्ग व्यक्ति को पतन की ओर ले जाता है। 

कार्यक्रम में शाला प्रधानाचार्य सुश्री रजनी बब्बर ने कहा कि नशा चाहे ज्यादातर पुरूष ही करें लेकिन उसका प्रकोप न केवल परिवार पर बल्कि पुरे समाज पर पड़ता है विशेष तौर पर महिलाऐं इस से ज्यादा पीड़ित होती है। इस अवसर पर सरपंच श्रीराम ने भी अपने विचार व्यक्त किये। पुलिस थाना जवाहर नगर के थानाधिकारी श्री विश्वजीत द्वारा सभा को नशे से बचने एवं अनुशासित जीवन जीने हेतु संदेश दिया गया। 

----------






गुरुवार, 3 दिसंबर 2020

मतदाताओं के नाम जोड़ने के जागरूकता कार्यक्रम इस तरह से चलेंगे- कोई न छूटे.

 

*  करणीदानसिंह राजपूत *

श्रीगंगानगर, 3 दिसम्बर 2020.

 भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार मतदाता सूचियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के दौरान स्वीप गतिविधियां आयोजित करने को लेकर विभिन्न कार्यक्रमों का निर्धारण किया है। 

जिला कलेक्टर महावीर वर्मा ने बताया कि 5 दिसम्बर से 21 दिसम्बर तक सभी ग्राम पंचायतों में स्थापित धार्मिक स्थलों के माध्यम से ग्रामीणों को जानकारी दी जायेगी। इसी प्रकार शहरी क्षेत्र में भी कचरा संग्रहण वाहनों पर लगे लाउडस्पीकर के माध्यम से संदेश प्रसारित कर आमजन को जागरूक किया जायेगा। 

5 दिसम्बर तक सभी उपखण्ड मुख्यालयों पर होर्डिग्स, फलैक्स तथा बैठक का आयोजन कर आमजन को जागरूक किया जायेगा। 

5 दिसम्बर को ही प्रत्येक ग्राम पंचायत में सरपंच, वार्ड पंच, एएनएम, जीएनएम व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, अध्यापक, पटवारी, ग्राम विकास अधिकारी व आमजन की भागीदारी रहेगी।

 9 दिसम्बर से 13 दिसम्बर तक प्रत्येक ग्राम पंचायत मुख्यालय के सार्वजनिक स्थान पर कृषि पर्यवेक्षकों के माध्यम से प्रातः 11 बजे चौपाल का आयोजन किया जायेगा। 

14 दिसम्बर को दिव्यांग मतदाताओं को अभियान से जोड़ने के लिये उपखण्ड मुख्यालयों पर शिविर का आयोजन किया जायेगा। 

15 दिसम्बर से 19 दिसम्बर तक विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के तहत घर-घर जाकर महिला मतदाताओं को जोड़ने का कार्य प्रातः 11 बजे से तीन बजे तक किया जायेगा। 

19 दिसम्बर से 21 दिसम्बर तक युवाओं को जोड़ने का अभियान चलाया जायेगा। समस्त महाविद्यालय अपने-अपने छात्रों से सम्पर्क कर उन्हें प्रेरित करेंगे। 

15 दिसम्बर से 17 दिसम्बर तक जिले की सभी कृषि उपज मण्डियों में तीन दिवसीय शिविर लगाकर किसानों को अभियान से जोड़ा जायेगा। 

5 दिसम्बर से 21 दिसम्बर तक 18 से 19 वर्ष के युवाओं को अभियान से जोड़ने के लिये नेहरू युवा केन्द्र द्वारा युवा जागरूकता कार्यक्रम, 5 दिसम्बर तक वीडियो प्रसारित कर आमजन को जागरूक किया जाएगा। 

15 दिसम्बर तक सभी राजकीय माध्यमिक, उच्च माध्यमिक, निजी महाविद्यालयों में ईएलसी क्लब का गठन कर इसकी सूचना भारत निर्वाचन आयोग की वेबसाईट पर अपलोड करनी होगी। 

5 से 21 दिसम्बर तक स्थानीय केबल के माध्यम से जागरूकता बढ़ाई जायेगी। 

5 दिसम्बर से 21 दिसम्बर तक स्वयं सहायता समूह अपने-अपने क्षेत्र के समूह कार्यकर्ताओं के माध्यम से अभियान की जानकारी देंगे एवं 5 से 21 दिसम्बर तक समस्त नवीन जुड़ने वाले मतदाताओं, आवेदन के समय की सेल्फी लेकर पोस्ट करेंगे। 

-----------






भारत में कोरोना के टीकों की ट्रायल अंतिम चरण में.लोगों को जल्द मिल सकती है वैक्सीन: एम्स निदेशक दिल्ली




 * करणीदानसिंह राजपूत *


 कोरोना वायरस की वैक्सीन को लेकर दुनिया की नजरें अलग-अलग दवा कंपनियों पर टिकी हैं। इस बीच एम्स दिल्ली के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा- भारत में, अब हमारे पास कोरोना के टीके अंतिम चरण के परीक्षण में हैं। उम्मीद है कि इस महीने के अंत तक या अगले महीने की शुरुआत में हमें इंडियन रेगुलेटरी अथोरिटी से इमरजेंसी यूज ऑथराइजेशन प्राप्त करना चाहिए ताकि जनता को वैक्सीन देना शुरू किया जा सके। डेटा के अनुसार टीके बहुत सुरक्षित हैं। टीके की सुरक्षा और प्रभावकारिता से बिल्कुल भी समझौता नहीं किया गया है।

70,000-80,000 वॉलंटीयर्स को टीका दिया गया है और किसी पर कोई खास गलत प्रभाव नहीं दिखा है। डेटा से पता चलता है कि थोड़े समय के लिए टीका सुरक्षित है। 

उन्होंने कहा कि कोल्ड चेन बनाए रखने, उपयुक्त स्टोर वेयरहाउस उपलब्ध करने, रणनीति विकसित करने, टीकाकरण और सीरिंज की उपलब्धता सहित केंद्र और राज्य स्तर पर टीका वितरण योजना के लिए युद्ध स्तर पर काम चल रहा है।


गुलेरिया ने कहा कि शुरुआत में, सभी को देने के लिए टीका पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं होगा। हमें यह देखने के लिए एक प्राथमिकता सूची की आवश्यकता है कि हम उन लोगों का टीकाकरण पहले करें जिनमें संक्रमण होने की संभावना अधिक है। बुजुर्गों, कॉमरेडिटीज और फ्रंट लाइन वर्कर्स वाले लोगों को पहले टीका लगाया जाना चाहिए।

गुलेरिया ने आगे कहा कि हमने फिलहाल कोरोना की लहर में गिरावट देखी है और  मुझे आशा है कि यदि हम सही से नियमों का पालन करें तो यह जारी रहेगा। यदि हम अगले 3 महीनों के लिए इसका पालन करें, तो हम एक महामारी से संबंधित एक बड़ा बदलाव देख सकते हैं।

उधर, ब्रिटेन में फाइजर और बायोएनटेक की कोरोना वायरस वैक्सीन को मंजूरी मिल गई है। ब्रिटेन कोविड-19 वैक्सीन के टीके को मंजूरी देने वाला पहला पश्चिमी देश बन गया है। यह वैक्सीन संक्रमण को रोकने में 95% से अधिक प्रभावी पाई गई है। ब्रिटेन सरकार ने अपनी दवा और स्वास्थ्य उत्पाद नियामक एजेंसी (एमएचआरए)  को कंपनी द्वारा मुहैया कराए गए आंकड़ों पर गौर कर यह देखने को कहा था कि क्या यह गुणवत्ता, सुरक्षा और असर के मामले में सभी मानकों पर खरा उतरता है। ब्रिटेन को 2021 के अंत तक दवा की चार करोड़ खुराक मिलने की संभावना है। इतनी खुराक से देश की एक तिहाई आबादी का टीकाकरण हो सकता है।


एम्स के निदेशक बोले- कोरोना का डर बना हुआ है,टेस्ट कराने से बच रहे लोग

15 अगस्त को मिलेगी कोरोना से आजादी, देसी वैक्सीन होगी लॉन्च

कोरोना का टीका मुहैया कराने को भारत से डाटा साझा करेगी फाइजर

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- कोरोना का टीका आया तो जनता के लिए होगा फ्री।

(मीडिया.)००

***






मंगलवार, 1 दिसंबर 2020

कोविड-19 गाईडलाईन की अवहेलना- जुर्माना. सूची पढलें. काम आएगी.

 



श्रीगंगानगर, 1 दिसम्बर 2020.

कोविड-19 संक्रमण एवं बचाव के दौरान राजस्थान महामारी अधिनियम 2020 की धारा 4 के अंतर्गत घोषित अपराध एवं धारा 11 के अंतर्गत शास्ति एवं समन की शक्तियां विभाजित की गई है। 

जिला कलक्टर श्री महावीर प्रसाद वर्मा ने बताया कि

 *कोई भी व्यक्ति सार्वजनिक स्थान पर मास्क नही लगाता है, तो उसे 500 रूपये का जुर्माना, कोई दुकानदार बिना मास्क वाले ग्राहक को सामान देने पर 500 रूपये, 

कोई व्यक्ति सार्वजनिक स्थल पर 6 फीट से कम की दूरी रखने पर 100 रूपये जुर्माना।


 इसके लिये समस्त मजिस्ट्रेट, सहायक उप निरीक्षक एवं उससे उच्च स्तर के पुलिस अधिकारी, राजस्व निरीक्षक अधिकृत है।


**किसी व्यक्ति द्वारा सार्वजनिक स्थल पर थूकने पर 200 रूपये, सार्वजनिक स्थान पर शराब, पान, गुटखा, तम्बाकू का उपयोग करने पर 500 रूपये जुर्माना, इसके लिये समस्त मजिस्ट्रेट, सहायक उप निरीक्षक एवं उससे उच्च स्तर के पुलिस अधिकारी, सीईओ जिला परिषद व विकास अधिकारी अधिकृत है।


 ***एसडीएम को बिना सूचना के विवाह समारोह करने पर 5000 रूपये जुर्माना व समारोह में 100 से अधिक नागरिक मिलने पर 25 हजार जुर्माना, इसके लिये समस्त एसडीएम, सीईओ जिला परिषद व बीडीओ अधिकृत है। 


****कोई व्यक्ति लोक परिवहन सेवा आॅटो, कैब, रिक्शा, बस, ट्रेन में फेस मास्क के बिना पाये जाने पर 500 रूपये जुर्माना, इसके लिये क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी और जिला परिवहन अधिकारी अधिकृत है। 

*****सभी कार्यस्थल पर नियमित रूप से सेनेटाईजेशन नही करने व सामाजिक दूरी की पालना नही करने पर 10 हजार रूपये जुर्माना, इसके लिये महाप्रबंधक उद्योग केन्द्र व रिक्को के अधिकारी अधिकृत होंगे। 


******जिला कलक्टर की पूर्व अनुमति के विवाह अथवा अंतेष्टि, अंतिम संस्कार के अलावा सामाजिक, धार्मिक, राजनैतिक एवं अन्य किसी प्रकार का सार्वजनिक कार्यक्रम इत्यादि आयोजित करने पर 10 हजार रूपये का जुर्माना, इसके लिये समस्त कार्यपालक मजिस्ट्रेट, सीईओ जिला परिषद व विकास अधिकारी अधिकृत होंगे। 

---------






कोविड-19 टीकाकरण अभियान की तैयारियों को लेकर बैठक

 



* करणीदानसिंह राजपूत *

भारत सरकार एवं राज्य सरकार के निर्देशानुसार कोविड-19 बचाव के लिये टीकाकरण कार्यक्रम चलाया जायेगा।  इस कार्यक्रम की समय रहते गाईडलाईन के अनुसार तैयारियां सुनिश्चित करने के लिए एक बैठक 1 दिसंबर 2020 को जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में श्री गंगानगर में हुई है।


जिला कलेक्टर ने कोविड-19 बचाव को लेकर टीकाकरण अभियान से संबंधित जिला स्तरीय टाॅस्क फोर्स की बैठक में आवश्यक निर्देश दिए।  

उन्होंने कहा कि सरकार की गाईडलाईन के अनुसार टीकाकरण की समस्त तैयारियां सुनिश्चित की जाये। जितने डीप फ्रिजर की आवश्यकता है या जो मरम्मत योग्य है, उनकी मरम्मत करवाकर तैयार रखे जाये। 

टीकाकरण अभियान के लिये राजकीय व निजी क्षेत्र के डाॅक्टर, पेरामेडिकल स्टाॅफ, नर्सिंग विद्यार्थी तथा बीडीएस के छात्रों को भी प्रशिक्षण दिया जायेगा। इसके लिये चिकित्सा विभाग कार्यक्रम बनाकर टीकाकरण का विधिवत प्रशिक्षण दे। 

 जिला कलक्टर ने कहा कि गाईडलाईन के अनुसार प्रत्येक बूथ पर सात कार्मिकों को लगाया जायेगा, जिनमें दो कार्मिक व्यवस्था बनाने में रहेंगे। प्रशिक्षित स्टाॅफ टीकाकरण का कार्य करेंगे, वहीं पर नागरिकों का डाटा संधारित भी किया जायेगा। कोविड-19 टीकाकरण का डाटा संधारित करने के लिये कम्प्यूटर आॅपरेटरों को भी अलग से प्रशिक्षण दिया जायेगा। 

जिला कलक्टर ने बताया कि कोविड-19 का टीकाकरण अभियान सुव्यवस्थित तरीके से चले, इसको लेकर राज्य सरकार के निर्देशानुसार जिला स्तर पर टाॅस्क फोर्स का जिला कलक्टर की अध्यक्षता में गठन किया गया है, जिसमें मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, पुलिस अधीक्षक, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, पीएमओ, जिला परिवहन अधिकारी, महिला बाल विकास तथा चिकित्सा विभाग के आरसीएचओ शामिल है। 


जिला कलक्टर ने कहा कि भारत सरकार की गाईडलाईन के अनुसार कोविड-19 वैक्सीन के लिये कोल्ड चैन हेतु आवश्यक संसाधन तैयार कर लिये जाये। जिले में कोल्ड चैन के लिये जिले में वर्तमान में 58 केन्द्र है तथा आठ नये केन्द्रों की मांग की गई है। श्री वर्मा ने कहा कि कोविड-19 टीकाकरण के लिये माईक्रो प्लानिंग की जाये। 

गाईडलाईन के अनुसार सर्वप्रथम फ्रंट लाईन वर्कर, स्वास्थ्य विभाग तथा इसके बाद अन्य विभागों, नागरिकों के टीकाकरण सरकार के निर्देशानुसार किया जायेगा। 

कोविड-19 टीकाकरण के लिये जितने चरण होंगे, उसी के अनुरूप व्यवस्थाएं सुनिश्चित करनी होगी। पूर्व में पोलियो अभियान के तहत स्थापित 1228 केन्द्रों को भी आवश्यकता के अनुरूप उपयोग में लिया जायेगा।

 जिला कलक्टर ने कहा कि कोविड-19 टीकाकरण के दौरान अन्य गतिविधियां भी सामान्य रूप से चलती रहे, ऐसी व्यवस्था की जाये। 

बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन डाॅ. गुंजन सोनी, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारीमुकेश बारेठ, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. गिरधारी लाल, आरसीएचओ डाॅ. एच.एस.बराड़, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सहीराम, विद्युत विभाग के अधीक्षण अभियंता जे.एस.पन्नू सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे। ००

-----------






सोमवार, 30 नवंबर 2020

किसान बिल.आरएलपी की चेतावनी- टैक्सी यूनियनों ने भी अल्टीमेटम दिया

 

* करणीदानसिंह राजपूत *

किसानों के लिए बनाए गए तीन कानूनों को वापस लेने के लिए केन्द्र सरकार पर.दबाव बढ रहा है। 

केंद्र में सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की घटक राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (आरएलपी) ने केंद्र सरकार से हाल में लागू कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की है। पार्टी ने कहा है कि अगर इस मामले में त्वरित कार्रवाई नहीं की गयी तो वह एनडीए का सहयोगी दल बने रहने पर पुनर्विचार करेगी।

आरएलपी के संयोजक व नागौर से सांसद हनुमान बेनीवाल ने सोमवार को इस बारे में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को संबोधित कर ट्वीट किया। इसमें उन्होंने लिखा है,‘‘अमित शाह जी, देश में चल रहे किसान आंदोलन की भावना को देखते हुए हाल ही में कृषि से सम्बंधित लाये गए तीन विधेयकों को तत्काल वापिस लिया जाए व स्वामीनाथन आयोग की सम्पूर्ण सिफारिशों को लागू करें व किसानों को दिल्ली में त्वरित वार्ता के लिए उनकी मंशा के अनुरूप उचित स्थान दिया जाए!’’


बेनीवाल ने आगे लिखा, ‘‘चूंकि आरएलपी, एनडीए का घटक दल है परन्तु आरएलपी की ताकत किसान व जवान है, इसलिए अगर इस मामले में त्वरित कार्रवाई नहीं की गई तो मुझे किसान हित में एनडीए का सहयोगी दल बने रहने के विषय पर पुनर्विचार करना पड़ेगा।’’



टैक्सी यूनियनों ने भी केंद्र सरकार को दो दिन का अल्टीमेटम दिया। टैक्सी यूनियनों का कहना है कि अगर किसानों की मांगों को नहीं माना गया तो एनसीआर में निजी टैक्सी, टैक्सी, ऑटो और ट्रक अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। AISOA संयुक्त समिति की तरफ से इस संबंध में एक पत्र जारी किया गया।

इसमें यह घोषणा की गई कि दिल्ली और एनसीआर के सभी ट्रांसपोर्ट, कैब और टैक्सी यूनियनों ने मौजूदा सरकार की तरफ से पारित किए गए तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों का समर्थन करने का फैसला किया है। पत्र में 10 संगठनों का जिक्र किया गया है।

पत्र में किसानों से आग्रह किया गया है कि वह अपनी मांगों पर तब तक अड़े रहें जब तक सरकार संसद का विशेष सत्र बुलाकर तीन बिलों को रद्द नहीं कर देती।००






बीजेपी की विधायक और दिग्गज नेता किरण माहेश्वरी का कोरोना संक्रमण से निधन

 




- करणीदानसिंह राजपूत -
कोरोना संक्रमण के बीच राजस्थान की राजनीतिक क्षेत्र से भी दुखद खबर सामने आई है। करीब 1 महीने तक कोरोना संक्रमण से जूझ रही राजसमंद विधायक किरण माहेश्वरी ने रविवार देर रात अंतिम सांस ली। विधायक किरण का गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में इलाज चल रहा था। पिछले कई दिनों से उनकी हालत अस्थिर बताई जा रही थी। किरण माहेश्वरी 28 अक्टूबर 2020 को कोरोना संक्रमित पाई गई थी, जिसके बाद उन्हें उदयपुर के गीतांजलि अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। बिगड़ती हालत के बाद उन्हें एअरलिफ्ट कर गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में ले जाया गया था, जहां उनकी हालत कई दिनों से अस्थिर बनीं हुई थी।

सोमवार को किरण की पार्थिव देह को उदयपुर लाया जाएगा। जहां कोरोना प्रोटोकॉल के तहत उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। राजसमंद विधायक किरण माहेश्वरी के निधन की सूचना मिलने के बाद उदयपुर में भी शोक की लहर छा गई। आपको बता दें कि वसुंधरा सरकार में किरण माहेश्वरी कैबिनेट मंत्री के रूप में कई अहम मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाल चुकी थी।

पीएम मोदी से लेकर सीएम गहलोत ने जताया शोक
प्रदेश के कद्दावर नेता के कोरोना से निधन होने के बाद बीजेपी में शोक की लहर है। वहीं पीएम मोदी से लेकर सीएम गहलोत ने उनके निधन पर ट्वीट कर संवेदना व्यक्त की है।  लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने इसे व्यक्तिगत क्षति बताया है। ओम बिरला ने ट्वीट में लिखा है कि  बहन किरण जी का निधन बेहद दुखद है। उन्होंने अपना पूरा जीवन समाज की सेवा और हितों को संरक्षित करने के लिए समर्पित किया। मेरे लिए उनका निधन व्यक्तिगत क्षति है। ईश्वर दिवंगत आत्मा को श्रीचरणों में स्थान दें। परिजनों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करता हूं। उल्लेखनीय है कि किरण माहेश्वरी के कोविड पॉजिटिव होने के बाद स्पीकर ओम बिरला ने ही उन्हें अहमदाबाद या गुडग़ांव के बड़े अस्पताल में उपचार लेने की सलाह दी थी। इधर पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की कैबिनेट में रही किरण माहेश्ववरी को लेकर राजे ने संवेदना व्यक्त करते हुए इसे संगठन के लिए बड़ी क्षति बताया है। राजे ने लिखा है कि स्व. किरण से मेरा गहरा लगाव था। उन्होंने सदैव भाजपा को मजबूती प्रदान की और आजीवन भाजपा की सक्रिय कार्यकर्ता के रूप में भूमिका निभाई। उनके निधन से संगठन में हुए खालीपन को भरना आसान नहीं होगा। आज वो हमारे बीच नहीं है लेकिन हमारी स्मृतियों में वे सदैव जिंदा रहेंगी।
परिचय
किरण माहेश्वरी का जन्म 1961 में हुआ था।

1987-90 Durga-Vahini Pramukh
1992-95 Membar, Social Welfare Board ( rajasthan)
1999-2006 Director, Udaipur Mahila Samriddh Bank Ltd.
2001-2003 Member, FCI ( consultant Committee)
2001-2004 Director, National Women Fund
2002-2013 Various Posts of International Vaishya Fedration
1990-92 Gen. Secretary, BJP Mahila Morcha ( Udaipur)
1993-94 Distt. President, Mahila Morcha ( Udaipur-Dehat)
1994-99 Speaker, Udaipur Municipal Corporation
2002-2004 Divisional President, Mahila Morcha ( BJP-Rajasthan)
2002-03 Member, National Executive ( BJP)
2004-2008 Member Of Parliament ( Udaipur)
2004-2007 General Secretary, BJP
2007- National President, BJP Mahila Morcha
2008- MLA ( Rajsamand)
2010- National Secretary, BJP
2011- National General Secretary, BJP
2013-14 National Vice President, BJP
2014 Onwards- Cabinet Minister ( PHED), Government of Rajasthan
*******

रविवार, 29 नवंबर 2020

समारोह में 25 हजार जुर्माना भरना आसान- प्रशासन मौके पर मौजूद होकर अधिक प्रवेश रोके

 



* करणीदानसिंह राजपूत *

शादी ब्याह में समारोह में 100 से ज्यादा उपस्थिति होने पर ₹25000 जुर्माना लगाने के बजाय राजस्थान सरकार ऐसी व्यवस्था करे कि 100 से ज्यादा व्यक्ति समारोह स्थल में प्रवेश ही नहीं कर सके।
सरकार इतना तामझाम खड़ा कर रही है तो ऐसी स्थिति में जब समारोह की सूचना उपखंड अधिकारी के पास आती है तो उस समय ही कुछ स्टाफ और पुलिस की नियुक्ति होनी चाहिए। समारोह स्थल के बाहर ही मुख्य द्वार से या अन्य द्वार से कोई अंदर प्रवेश न कर सके। क्योंकि 25000 का जुर्माना कोई बहुत बड़ी बात नहीं है। जहां ब्याह शादी में लाखों रुपए लग रहे हैं वहां पर आयोजक ₹25000 जुर्माना की रकम भी शादी के खर्चे में शामिल करते हुए सरकार के नियम को तोड़ रहे हैं।

सरकार की सूचना प्रशासन की सूचना आई थी कि 100 से से अधिक उपस्थिति होने पर समारोह स्थल मैरिज हॉल आदि सीज कर दिए जाएंगे लेकिन ऐसी कोई कार्रवाई कहीं भी नहीं हुई है।
आयोजक कोई भी हो उनके हौसले बुलंद है कि उन्होंने 100 से अधिक व्यक्तियों को बुलाया जुर्माना भर दिया। यह बातें बड़ाई में हो रही हैं।  हालांकि यह बड़ाई धूल में मिल जाएगी जब कोई कोरोना पॉजिटिव से आगे अन्य लोग प्रभावित हो जाएंगे।
सरकार को भी जुर्माना वसूल करते ही अपनी जिम्मेदारी खत्म नहीं माननी चाहिए। जुर्माना वसूल करने के साथ ही वहां पर यह व्यवस्था करनी चाहिए कि जुर्माना भरे जाने के बाद भी कोई भी व्यक्ति  समारोह स्थल में प्रवेश न कर सके।
शादी ब्याह में लोग आते रहते हैं खाना आदि लेकर जाते रहते हैं और यह संख्या बहुत अधिक होती है।
केवल प्रशासनिक अधिकारियों की जांच के समय 100 से अधिक होने पर ही जुर्माने की व्यवस्था है। सरकार व्यवस्था में सुधार करें और 100 से अधिक प्रवेश को अपने स्तर पर रोके. आयोजक को निर्णय नहीं करने दे।
जनता को बार-बार कहा जा रहा है। संदेश दिए जा रहे हैं।अपीले की जा रही है कि शादी व अन्य समारोह में जाने से बचें।  जहां भीड़ का संबंध है वहां पर कम से कम वृद्ध लोगों को शामिल होने से बचना चाहिए।
यदि संबंध और संपर्क बहुत जरूरी है तो बाहर से ही हेलो करें शगुन देना है तो दें लेकिन समारोह के भीतर जाकर  खुद को संकट में ना डालें।
सरकार की ओर से प्रशासन की ओर से जितना कहा गया है उससे अधिक व्यक्ति को खुद को करना होगा। कोरोना से व्यक्ति उबर भी रहे हैं ठीक हो रहे हैं लेकिन उनमें कोई ना कोई कमी रह रही है। ऐसा अनेक लोग अनुभव कर रहे हैं।

लोग भयभीत हैं जिन लोग कोरोना वायरस से ईलाज के बाद ठीक हो गए उनसे भी मिलने में परहेज किया जा रहा है। जो दुकानदार कोरोनावायरस से ईलाज बाद ठीक हो गए हैं उनसे भी मिलने में लोग परहेज कर रहे हैं।

अब कोरोना की दस्तक नहीं  हमला है। किसी पर भी यह हमला हो सकता है इसलिए बचाव बहुत जरूरी है।  खुद बचें और अपने परिवार को भी बचाएं क्योंकि एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव होता है तो परिवार पर भी संकट आता है। ऐसे मामले भी हैं कि परिवार का एक व्यक्ति ठीक होता है तब तक दूसरा व्यक्ति कोरोना प्रभावित मिलता है। इन सब हालातों का केवल एक ही तरीका है कि संकट में आने से पहले के सारे बचाव किए जाएं। ००

सामयिक लेख. 29 नवंबर 2020.
करणीदानसिंह राजपूत.
स्वतंत्र पत्रकार ( सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय से अधिस्वीकृत)
सूरतगढ़ ( राजस्थान)
94143 81356.
---------------------






यह ब्लॉग खोजें