मंगलवार, 4 अगस्त 2020

* राम राज के सूर्योदय को नमन करें: काव्य- करणीदानसिंह राजपूत.



रामराज की सोच से ही 

दूर होगा अमावस्या जैसा अंधकार।


अंधकार में देव जैसे लोग पीड़ित 

और पीड़ित हैं देवी जैसी नारियां।

युवा वर्ग भटकता घूम रहा

छाया है चारों और भ्रष्टाचार।


आपाधापी और 

भाई भतीजावाद का 

अंधियारा

देश की उन्नति और विकास की

राह से कोई सरोकार नहीं।


एकदूजे को पछाड़ने में लगे 

सभी को है कुर्सी प्यारी

उसके धोखे में जी रहे हैं।


दीप जलाने की आड़ में भी

काले ही काले कर्म 

करते जा रहे हैं।

दूसरों को नीचा दिखलाते

सब हड़प करते जा रहे हैं।


राम का सा कार्य नहीं

रावण का अभिनय 

सुखद लगता है।

वे ऐसी विचारधारा को

पनपाने लगे हैं।


ऐसे दुष्कर्मों  से समाज और

राष्ट्र को हो रही हानि।

घरों में भी राम जैसे विचार की 

बातें रुक गई।


कहते हैं कलयुग,

घोर कलयुग खत्म 

हो रहा है।


सतयुग आ रहा है

यह कब कैसे आएगा

रामराज की सोच से 

यह परिवर्तन छाएगा।


दूर होगा घनघोर अंधकार

मुक्त होंगे पीड़ित प्राणी

बढे़गा प्रेम चारों ओर

मिटेगी आपाधापी।


समाज चहकेगा 

राष्ट्र महकेगा

राम की सोच से 

मिटेगा अंधियारा।


आओ,

घर घर,डगर डगर 

राम की सोच कायम करें।


रामराज से ही होगा कायापलट। 

आओ,

देश और दुनिया का 

निर्माण करें।


आओ, दूर करें अंधियारा

राम राज के 

सूर्योदय को 

नमन करें।


राम राज के

सूर्योदय को 

नमन करें।

********

करणीदानसिंह राजपूत,

पत्रकार,
सूरतगढ़।

*****


यह कविता 20 जनवरी 2004 को आकाशवाणी के सूरतगढ़ केन्द्र पर  रिकॉर्ड हुई और 29 जनवरी 2004 को प्रसारित की गई थी।००

***





सोमवार, 3 अगस्त 2020

महावीर इंटरनेशनल शाखा सूरतगढ़ का 170 वां रक्तदान शिविर की खासियत.



* करणीदानसिंह राजपूत *


सूरतगढ़ 2 अगस्त 2020.

सामाजिक सेवाओं में अग्रणी संस्था महावीर इंटरनेशनल की स्थानीय शाखा द्वारा मैत्री ब्लड बैंक सूरतगढ़ में संस्था का 170 वां स्वैच्छिक रक्तदान शिविर लगाया गया।

 संस्था अध्यक्ष वीर नथुराम कलवासिया के अनुसार शिविर में मैत्री ब्लड बैंक के सुनील योगी और बृजेंद्र बिश्नोई की टीम ने कुल 59 यूनिट रक्त संग्रह किया। 

संजय वर्मा और मंजु वर्मा दंपति ने रक्तदान किया। सूरजभान सिंगल ने अपने पुत्रों राजेश व मनोज सहित, बृजमोहन प्रजापति ने अपने पुत्र विजय सहित,संजय बैद ने अपने पुत्र निखिल सहित तथा अशोक शर्मा ने अपनी पुत्री सोनाली शर्मा सहित रक्तदान कर दूसरों को भी प्रेरणा दी।


 संस्था सचिव वीर राजेश वर्मा के अनुसार सभी रक्त दाताओं को प्रशस्ति पत्र और मास्क देकर सम्मानित किया गया।शिविर में सोशल डिस्टेंसिंग व सेनेटाइजिंग का पूर्ण ख्याल रखा गया।शिविर में इंजीनियर रमेश चंद्र माथुर सहित महावीर इंटरनेशनल के सदस्यों ने अपनी सेवाएं दी।००




रविवार, 2 अगस्त 2020

रक्तदान महादान मरणोपरांत देहदान सबसे महान* काव्य- करणीदानसिंह राजपूत.


रक्तदान महादान
मरणोपरांत देहदान सबसे महान।

आओ इनकी अलख जगाएं
चेतन सबको करें
अग्रसर करें मानव सेवा को।
जीवन संघर्ष के अनमोल क्षणों में 
आवश्यकता पड़ जाए
जब लाल रक्त की
बीमार घायल प्रसूता और नवजात
सब के सब लाचार।

कहां से आए रक्त
कहां से लाएं रक्त
पीड़ा और बेबसी में
कहां से खोजे रक्तदाता।

जीवन के इन अनमोल क्षणों में
विनती हो जब रक्तदान की
कई बार परिजन भी कर देते बहाना।

ऐसे विकट काल में करें रक्तदान
किसी को करें जीवनदान
कौन अपना है कौन पराया
यह तो होता समय का फेरा।

निस्वार्थी बन करदें सेवा
विकट काल में कर देंं सेवा।
आओ जन,
जीवनदाता बनने को
रक्तदान करने को
घर-घर में अलख जगाएं।
इस धरती पर अनेक लोग हैं
और हैं अनेक संस्थाएं
कामकाज उनका देवदूत सा
अलख जगाती जीवनदान का।
अलख जगाती रक्तदान का,
मरणोपरांत देहदान का।
रक्तदान महादान
मरणोपरांत देहदान सबसे महान।
आओ,
 रक्तदान की अलख जगाएं
 लोगों को प्रेरित करें आगे लाएं।
रविवार हो या कोई अवकाश
कोई त्यौहार हो या जन्मदिन
जयंती हो पुण्यतिथि हो
रक्तदान का शिविर लगाएं
पीड़ितों की जान बचाएं।

मेरा इलाका दानी महादानी
सबसे आगे सबसे महान
आओ,पूजें उन लोगों को
जो करते हैं रक्तदान
जो कर गए देहदान
शरीर संरचना शिक्षा के खातिर
कर गए देहदान।

मैं कैसे उनके नाम गिनाऊं
उनके नाम तो यहां गली गली
कूचे कूचे में भरे पड़े हैं।

मेरा इलाका दानी महादानी
किस-किस के मैं नाम बताऊं।
आओ,
अलख जगाएं रक्तदान की
अलख जगाएं मरणोपरांत देहदान की।*
*****

करणीदानसिंह राजपूत,
पत्रकार,
सूरतगढ़
9414381356.
******

यह कविता आकाशवाणी के सूरतगढ़ केन्द्र से 2007-8 के करीब प्रसारित हुई थी।( मामूली सा संशोधन). 
मैं सूरतगढ़ की संस्थाओं का आभारी हूं जिनकी प्रेरणा से यह कविता उत्पन्न हुई लिखी गई। आकाशवाणी केंद्र और स्टाफ का भी आभारी हूं जिन्होंने इसे रिकॉर्ड किया और प्रसारित किया।
********
आपके आसपास के रक्तबैंक में रक्तदान करें। शिविर लगे उसमें रक्तदान करें। अन्य जन को भी प्रेरित करें।
- करणीदानसिंह राजपूत.

गुरुवार, 30 जुलाई 2020

श्रीगंगानगर जिले में रविवार को आना जाना पूरी तरह से बंद का आदेश


* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़/श्रीगंगानगर 30 जुलाई 2020.


 जिला मजिस्ट्रेट कलेक्टर महावीर प्रसाद वर्मा ने कोरोना वायरस संक्रमण से जनता को बचाने के लिए यह आदेश जारी किया है। 

इसका मतलब यह है कि कोई भी व्यक्ति रविवार को घर से बाहर नहीं निकल पाएगा।

इस आदेश के तहत शनिवार शाम 7:00 बजे बाजार बंद होने के बाद सभी को 8:00 बजे तक हर हालत में अपने घर पहुंचना होगा। इस आदेश के अनुसार शनिवार रात के 8:00 बजे सभी अपने अपने घरों में पैक हो जाएंगे इसके बाद शनिवार की पूरी रात रविवार का पूरा दिन और रविवार की पूरी रात घर में रहना होगा। सोमवार को बाहर निकलना होगा।व्यक्ति अपना कार्य जो निपटा सकते हैं वह शनिवार रात के 7:00 बजे से पहले ही उचित रूप से निपटाना चाहिए। 

यह कर्फ्यू जैसी स्थिति कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए है इसलिए इसका पालन हर व्यक्ति को चाहे वह किसी भी उम्र का हो पालन करना चाहिए। कोरोना महामारी में सरकारी कानूनों का पालन करना चाहिए ताकि व्यक्ति खुद बचे और दूसरों को भी बचा सके।

यह आदेश अगस्त माह पूरे में लागू रहेगा। इसे सख्ती से पालन करवाया जाएगा इसलिए लोगों को स्थिति को समझना चाहिए और रविवार को अपने घरों से बाहर आवागमन नहीं करना चाहिए।००


बृजलाल स्वामी की मौत आत्महत्या- दो पुत्रों सहित 6 ने आत्महत्या को मजबूर किया।

* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 30 जुलाई 2020.

 बृजलाल स्वामी का मौत का खुलासा चौंकाने वाला हुआ है जिसकी अभी विस्तृत जांच बाकी है। 

मृत बृजलाल के पास पुलिस को आत्महत्या पत्र मिला है जिसमें उसने दो पुत्रों राजेंद्र और हेतराम पुत्र मंगतू की पत्नी, पत्नी की बहन और पत्नी के माता पिता को बांधा है। 

 इन लोगों से तंग होकर आत्महत्या करने का लिखा है।

बृजलाल स्वामी ने संपत्ति विवाद में अनेक पंचायतों के बाद तंग आकर यह कदम उठाया है।

श्री गंगानगर से प्रकाशित होने वाले पत्र फाइटर में यह खुलासा हुआ है कि बृजलाल स्वामी रात को अपने घर से देसी कट्टा 

लेकर  निकला और अपने पुत्र राजेंद्र के घर के आगे उसने खुद को गोली मारी। राजेंद्र के घर के पास ही दूसरे पुत्र हेतराम का मकान भी है। बृजलाल स्वामी अपने जिस पुत्र मंतूराम के पास रहता था उसकी पत्नी यानि पुत्रवधू अपनी साली,सास और ससुर को भी आत्महत्या का कारण बताया है। पुलिस के विस्तृत जांच से मालूम होगा कि आत्महत्या के पीछे पूर्ण रूप से यह लोग दोषी हैं या बृजलाल स्वामी ने उत्तेजना में इनके नाम लिखे हैं।


 सूरतगढ़ में पहले भी इस प्रकार के मामले हुए हैं जिनमें आत्महत्या नोट में अनेक लोगों को बांधा गया लेकिन उनका कुछ बिगड़ा नहीं। 

इस केस में भी मृतक ने 6 पर आरोप लगाया है और उनके नाम लिखे हैं, लेकिन पुलिस की जांच के बाद ही पूरी हालात सामने आएगी।०००




सूरतगढ़-बहुचर्चित बृजलाल स्वामी 70 वर्ष की गोली से मौत-बेटे के घर आगे पड़ा था शव.किसने मारा पर चर्चाएं गर्म-



* करणीदानसिंह राजपूत*

सूरतगढ़ 30 जुलाई 2020.


सूरतगढ़ की कच्ची बस्तियों में, अतिक्रमण की राजनीति और राजनीतिक दलों व नेताओं के संपर्कों संबंधों में पिछले करीब 40 सालों से विवादों में चर्चित रहे बृजलाल स्वामी का शव बिश्नोई धर्मशाला के पास पड़ा मिला। एक पुत्र के घर के आगे बृजलाल स्वामी का शव पड़ा था। बृजलाल अपने अन्य बेटे मंगतू के साथ रहता था। वह घर काफी दूर है।


सूरतगढ़ की कच्ची बस्तियों के ज्यादातर व्यक्ति बृजलाल स्वामी से और नाम से परिचित हैं। जिस राजनीतिक दल की प्रदेश में सरकार रही बृजलाल स्वामी उस दल के स्थानीय नेता व विधायक के संपर्क करने में माहिर रहा।


गोली लगने से मौत का मामला है। जांच से ही मालूम होगा कि गोली किसने और कब मारी और क्यों मारी?


मृतक कुछ सालों से घरेलू संपत्ति विवाद व मुकद्मे से भारी परेशान भी रहा था। एक पुत्र से अधिक था संपत्ति विवाद। पुत्र पर चर्चाएं गर्म हैं। मृतक के तीन पुत्र हैं। चर्चाएं गर्म है कि एक पुत्र  से विवाद अधिक था। 

बृजलाल स्वामी की रिश्तेदारियां आसपास ही हैं। बृजलाल का शव मौके पर ही पड़ा है। मृतक के कुछ रिश्तेदार भी सूचना मिलने पर सूरतगढ़ पहुंचे हैं।


श्रीगंगानगर की एफएसएल टीम  घटनास्थल से सुबूत जुटाएगी।सूरतगढ़ सिटी पुलिस के आला अधिकारी मौके पर मौजूद हैं। संभव है की पुलिस कुछ घंटों में मामला ओपन करदे। 

यह बिंदु भी महत्वपूर्ण है कि बृजलाल भोर में यहां क्यों आया था? उसका निवास तो दूर है।

पुलिस के सामने दो पहलु हैं।

1- क्या बृजलाल को गोली मारी गई यदि हां तो किसने मारी?

2- क्या बृजलाल ने आत्महत्या की?

००



गृह मंत्रालय ने अनलॉक-3 के लिए जारी किए दिशा-निर्देश,जिम खुलेंगे:स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे.


अनलॉक-3 के दौरान सामाजिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षणिक, सांस्कृतिक, धार्मिक कार्यों की अनुमति नहीं। इसके अलावा, स्कूल, कॉलेज और कोचिंग संस्थान 31 अगस्त, 2020 तक बंद रहेंगे।


 देश में कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए केंद्र सरकार ने चार चरणों में लॉकडाउन लगाया जिसके बाद अनलॉक की प्रक्रिया शुरू की गई। सरकार ने देशभर में अनलॉक 3 के लिए बुधवार को दिशानिर्देश जारी कर दिये जिनमें निषिद्ध क्षेत्रों के बाहर और अधिक गतिविधियों की अनुमति दी गयी है, लेकिन स्कूल, कॉलेज, मेट्रो रेल सेवाएं, सिनेमाघर और बार 31 अगस्त तक बंद रहेंगे। राजनीतिक और धार्मिक समागमों पर भी रोक जारी रहेगी। कोरोना वायरस के कारण 25 मार्च से लागू लॉकडाउन के बाद से सरकार ने पहली बार योग संस्थानों और जिम को पांच अगस्त से खुलने की अनुमति दी है जिसके लिए स्वास्थ्य मंत्रालय अलग से मानक परिचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी करेगा।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से गहन विचार-विमर्श के बाद निर्णय लिया गया है कि स्कूल, कॉलेज और कोचिंग संस्थान 31 अगस्त तक बंद रहेंगे। हालांकि मंत्रालय के अनुसार, रात में लोगों की आवाजाही पर पाबंदी (रात्रिकालीन कर्फ्यू) को हटा लिया गया है। ‘अनलॉक 3’ के दिशानिर्देश एक अगस्त से प्रभाव में आएंगे और निषिद्ध क्षेत्रों में 31 अगस्त तक लॉकडाउन कड़ाई से लागू रहेगा।

प्रतिबंधित गतिविधियों में मेट्रो रेल सेवाएं, सिनेमाघर, स्वीमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, थियेटर, बार और सभागारों का खुलना शामिल है। सामाजिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, अकादमिक, सांस्कृतिक, धार्मिक समारोह और अन्य समागम भी 31 अगस्त तक प्रतिबंधित रहेंगे।

 



गृह मंत्रालय ने इन लोगों को घर पर रहने की सलाह दी

गृह मंत्रालय की ओर से 65 साल से ज्यादा उम्र, बीमारियों से जूझ रहे लोगों, गर्भवती महिलाओं और 10 साल से कम उम्र के बच्चों को घर में रहने की ही सलाह दी गई है। सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना पहले की तरह अनिवार्य रहेगा। शादी-समारोह में 50 से ज्यादा लोगों की इजाजत नहीं होगी। अंतिम संस्कार में 20 लोगों से ज्यादा के शामिल होने पर रोक जारी रहेगी।


   

एक राज्य से दूसरे राज्य जाने में कोई प्रतिबंध नहीं


किसी राज्य के अंदर और एक राज्य से दूसरे राज्य में लोगों व वस्तुओं के आने-जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा। इसके लिए अलग से अनुमति या ई-परमिट लेने की भी जरूरत नहीं होगी। अनलॉक 3 में कोविड- 19 पर केंद्र सरकार की ओर से जारी सभी प्रोटोकॉल पूरी तरह लागू रहेंगे।


   

कंटेनमेंट जोन की निगरानी केंद्र सरकार करेगी


देश के सभी कंटेनमेंट जोन की निगरानी केंद्र सरकार करेगी। राज्य सरकारों को कंटेनमेंट जोन के बाहर की गतिविधियों पर फैसला लेना है। राज्य सरकार कंटेनमेंट जोन के बाहर की कुछ गतिविधियों को प्रतिबंधित कर सकते हैं।


   

निर्माण गतिविधियां चलेंगी लेकिन सामाजिक दूरी और मास्क का पालन करना होगा


कंटेनमेंट जोन में 31 अगस्त तक लॉकडाउन को सख्ती से लागू किया जाना जारी रहेगा। निर्माण गतिविधियां चलेंगी लेकिन सामाजिक दूरी और मास्क का पालन करना होगा।


   

हालात के आधार पर मेट्रो रेल, सिनेमा हॉल, स्विमिंग पूल आदि खोलने का फैसला लिया जाएगा


मेट्रो रेल, सिनेमा हॉल, स्विमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, थिएटर, बार, ऑडिटोरियम, असेंबली हॉल और इसी तरह के स्थान सामाजिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षणिक, सांस्कृतिक, धार्मिक कार्य और अन्य बड़ी मंडलियां इन सबको खोलने के लिए हालात के आधार पर फैसला लिया जाएगा।

कोविड-19. प्रतिष्ठान सायं 7 बजे तक खुलेंगे, 8 बजे तक व्यापारी, कार्मिकों को घर पहुंचना होगा



* करणीदानसिंह राजपूत*

श्रीगंगानगर, 29 जुलाई 2020.


 जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट महावीर प्रसाद वर्मा ने कहा कि कोरोना संक्रमण एवं बचाव के लिये रात्रि कालीन कर्फ्यू (धारा 144) के समय में परिवर्तन करते हुए, इस अवधि को बढ़ाया जायेगा। रात्रि कालीन कर्फ्यू का समय रात्रि 10 बजे से प्रातः 5 बजे तक है, इस रात्रि कालीन कर्फ्यू की अवधि बढ़ाते हुए अब सायं 7 बजे व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद कर 8 बजे तक उद्यमियों, कार्मिकों को अपने घर पहुंचना होगा। यह व्यवस्था 30 जुलाई 2020 से प्रभावी होगी। 

जिला कलक्टर श्री वर्मा ने बुधवार को शहर के विभिन्न व्यापारिक संगठनों, प्रतिष्ठानों के पदाधिकारियों से संवाद के दौरान यह बात कही। सभी संगठनों के पदाधिकारियों ने सर्वसम्मति से जिला प्रशासन का सहयोग करने का आश्वासन दिया। जिला कलक्टर ने कहा कि कोरोना महामारी के समय में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। आमजन को इस महामारी से बचाने के लिये सभी प्रतिष्ठान सायं 7 बजे अपना प्रतिष्ठान का कार्य पूर्ण कर रात्रि 8 बजे तक अपने-अपने घरों में पहुंचना होगा। 

जिला कलक्टर ने कहा कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार कोरोना प्रोटोकाॅल का उल्लंघन करने पर एक सप्ताह का विशेष अभियान चलाया गया, जिसमें लगभग 5000 चालान किये गये तथा 7 लाख रूपये का जुर्माना लगाया गया। 

मास्क का उपयोग नही करने, सामाजिक दूरी की पालना नही करने, शादी समारोह में 50 से अधिक की संख्या पाये जाने, अंत्येष्टि  में 20 से अधिक की संख्या होने पर, सार्वजनिक स्थलों पर थूकने पर अधिकारियों द्वारा कार्यवाही की जायेगी। 

चालान के साथ-साथ जुर्माना होगा तथा आवश्यकता पड़ने पर पुलिस में प्राथमिकी दर्ज कर आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कार्यवाही की जायेगी। 

उन्होंने कहा कि किसी समारोह में सरकारी कार्मिक उपस्थित है तथा  प्रोटोकाॅल का उल्लंघन पाये जाने पर संबंधित कार्मिक को निलम्बित किया जायेगा। 


जिला मजिस्ट्रेट श्री वर्मा ने कहा कि अंतर्राज्जीय सीमाओं पर आवागमन को लेकर सख्ती की जायेगी। अन्य  राज्यों में आवागमन के लिये जिला मजिस्ट्रेट, अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट, एसडीएम, पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक तथा थानाधिकारी स्तर के अधिकारी पास देने के लिये अधिकृत है।

 किसी भी नागरिक को असुविधा नही हो, इस बात का विशेष ध्यान रखा जायेगा। 

इस अवसर पर एडीएम प्रशासन डाॅ. गुंजन सोनी, एसडीएम श्री उम्मेद सिंह रतनू, प्रर्वतक अधिकारी श्री सुरेश कुमार, विभिन्न प्रतिष्ठानों के पदाधिकारी, गुड चीनी एसोशिएसन के कालीचरण अग्रवाल, कच्चा आहड़तियां संघ के श्री कुलदीप, श्री रमेश कुक्कड़, चेम्बर आॅफ काॅमर्स के श्री रामगोपाल पांडुसरिया, गंगानगर परचून एसोशिएसन के श्री चंदुराम बदरा, संयुक्त व्यापार मंडल के श्री संदीप सेरेवाला, श्री रोशनलाल बंसल, हाॅलसेल किरयाना के श्री राकेश शर्मा, संयुक्त व्यापार मंडल के श्री ललित शर्मा, श्री हरीओम लूथरा, श्री कृष्ण चंद आसोपा, बस यूनियन के अध्यक्ष श्री सोनू अनेजा, श्री गुरूपाल सिंह, श्री जोगेन्दर बजाज, श्री तरसेम गुप्ता, श्री अमित चुघ, श्री लोकेश मनचंदा, दुर्गामंदिर ऐसोशिएसन के श्री नरेन्द्र चोधरी, श्री मुकेश तलुजा, श्री कृष्णलाल, श्री रामप्रकाश मिढ्ढा, श्री नरेश सेतिया, श्री संदीप अनेजा, श्री रणधीर मिढ्ढा व श्री नीटा सुखेजा सहित विभिन्न व्यापारिक प्रतिष्ठानों के पदाधिकारी उपस्थित थे।

----------



बुधवार, 29 जुलाई 2020

कोविड-19 संक्रमण एवं बचाव-जुर्माना लगाने की पावर किनके पास है।


श्रीगंगानगर, 29 जुलाई 2020.
कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव एवं संक्रमण के प्रसार की रोकथाम हेतु संक्रमण की श्रंखला को तोड़ने व आमजन का जीवन बचाने हेतु लोकहित में राज्य सरकार द्वारा निरन्तर सभी संभव प्रयास किये जा रहे है।
इसके अलावा समय-समय पर राज्य सरकार द्वारा इस संबंध में आवश्यक आदेश, एडवाईजरी व दिशा निर्देशों की पालना करवाने के लिये उपखण्ड मजिस्ट्रेट, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, हैड कांस्टेबल एवं उनसे उपर के पुलिस विभाग के अधिकारी, राजस्व निरीक्षक, सफाई निरीक्षक एवं उनसे उपर के नगर निकाय के अधिकारी तथा सचिव मंडी समिति को जुर्मानें से दण्डित करने हेतु अधिकृत किया गया है। 
जिला कलक्टर श्री महावीर प्रसाद वर्मा ने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया है कि अभियान 1 अगस्त 2020 तक बढ़ाया जाता है। गृह विभाग के आदेशानुसार वर्णित अपराधों के संबंध में कार्यवाही करते हुए जुर्माना राशि से दण्डित कर जुर्माना राशि हैड में दण्डाधिकारी न्यायालय में जमा करवाकर प्रतिदिन की निरीक्षण  रिपोर्ट की सूचना संलग्न प्रपत्र में संबंधित उपखण्ड अधिकारी को भिजवायेंगे तथा समस्त उपखण्ड अधिकारी अपने क्षेत्र की संकंलित सूचना अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट सतर्कता श्रीगंगानगर को ईमेल आईडी judcollsgnr@gmail.com  , व्हाॅटस एप नम्बर 9829067097 एवं 9887605684 पर उसी दिवस सायं 6 बजे तक प्रेषित करेंगे।
----------


* सूरतगढ़ कोरोना संक्रमित रेलकर्मी को कोविड सेंटर भेजा गया.

* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 29 जुलाई 2020.

सूरतगढ़ में पुराना लोको स्थान की रेलवे कालोनी में एक रेलकर्मी कोरोना संक्रमित मिला हैँ जिसे 28 जुलाई को देर रात ईलाज के लिए कोविड सेंटर श्रीगंगानगर भिजवाया गया।

यह कर्मचारी 15 जुलाई को बिहार से लौटा था। यहां 25 जुलाई को 23 जनों के सैम्पल लिये गये थे। प्रयोगशाला जांच में 22 जनों कि रिपोर्ट नैगेटिव और उक्त रेल कर्मी की रिपोर्ट पोजिटिव आई। 

इस आधार पर सरकारी कर्मचारियों के दल 28 जुलाई शाम को उक्त रेल कर्मचारी के आवास पर पहुंचा। उसके आवास पर ताला लगा था। सेम्पल लेने के बाद कर्मचारी को अपने आवास पर ही रहने की हिदायत दी गई थी। 

उससे संपर्क किया गया तो वह स्वरूपसर से आगे श्रीबिजयनगर रोड पर स्कूटी दौड़ा रहा था। उसने सरकारी दल को बताया कि यों हि घूमने आ गया था। उसके दो घंटे बाद सूरतगढ़ पहुचने पर रात को पूछताछ कर करीब नौ बजे कोविड सेंटर श्रीगंगानगर भिजवाया गया।


उसका आवास पुराना लोको स्थान की रेलवे कालोनी में रामलीला मंच के पीछे डबलस्टोरी में आवास है। वह अकेला रहता है।


उसके संपर्क में आए रेल कर्मचारियों व अन्य लोगों को अपना चेकअप कराना चाहिए।००




यह ब्लॉग खोजें