शनिवार, 23 मई 2020

ईमानदार पुलिस अधिकारी विष्णु बिश्नोई ने आत्महत्या क्यों की?सुलगते सवालों पर पुलिस के बयान का इंतजार



*सीएम अशोक गहलोत के बयान का इंतजार। गृहमंत्रालय है अशोक गहलौत के पास*
*क्राइम ब्रांच को दी गई मामले की जांच*
*रायसिंहनगर के लूणेवाला गांव के रहने वाले थे। गांव में माता पिता और एक भाई रहते हैं। आत्महत्या नोट मिला है जिसमें पिता से माफी मांगी है। इस बारे में कोई विस्तृत खबर नहीं है।*
SP क्राइम विकास शर्मा जांच के लिए जयपुर से हुए रवाना ADG BL सोनी कर रहे मामले की मॉनिटरिंग
राजगढ़ एसएचओ विष्णुदत्त बिश्नोई का शव उनके सरकारी क्वाटर में पंखे से बंधे फंदे में लटकता हुआ मिला।
पुलिस अधिकारी के निधन पर पूरे राजगढ़ में शोक की लहर, व्यापारी सहित आमलोग सड़कों  पर उतरे।
डीजीपी भूपेन्द्रसिंह ने तत्काल ADG राजीव शर्मा को को चुरू जाने के दिए निर्देश, पूर्व विधायक मनोज न्यांगली के नेतृत्व में धरना शुरू हुआ।
बीकानेर संभाग से पुलिस मुख्यालय तक दुखद घटना पर शोक की लहर, पुलिस विभाग के उच्चधिकारी मौके पर पहुंचे, पूर्व विधायक न्यांगली ने सीबीआई जांच कराने की मांग की है। उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़, हनुमान बेनीवाल ने भी सीबीआई जांच की मांग की है।
सड़को पर उतरे व्यापारियों ने सीआई विष्णुदत्त बिश्नोई को बताया राजगढ़ का भगवान, वाकई ऐसे काबिल अधिकारी द्वारा आत्महत्या करने का कदम उठाना बड़ी साजिश से नहीं कम की चर्चाएं तेज।
वरिष्ठ अधिवक्ता गोरधनसिंह ने सोशल मीडिया पर स्क्रीन शॉट किए सीआई विष्णुदत्त बिश्नोई से चेटिंग के वायरल, आखिर क्या है पूरा रहस्य?
पुलिस विभाग में उनकी योग्य व साफ सुथरी छवि थी।
पुलिस विभाग की कार्यशैली पर उठने लगे सवाल, DGP खुल पूरे  मामले की मॉनिटरिंग कर रहे हैं।
एक दबंग पुलिस अधिकारी का फंदे पर लटक जाना, कई सवाल खड़े कर रहा है।
राजस्थान के चुरू जिले के राजगढ़ थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्रोई का शव शनिवार को उनके सरकारी आवास पर फांसी के फंदे पर लटका मिला है। जिससे पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है। हालांकि यह मामला संदिग्ध दिखता नजर आ रहा हैं, क्योंकि एक दबंग पुलिस अधिकारी का फंदे पर इस तरह लटकना पुलिस विभाग ओर राजस्थान में गृह विभाग संभाले सीएम अशोक गहलौत पर सवाल खड़े करता है।
थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्रोई पिछले कुछ समय से तनाव में चल रहे थे। आत्महत्या के क्या कारण थे इसकी भी जांच का इंतजार है। इस मामले की सूचना मिलते ही बीकानेर संभाग के आईजी जोस मोहन भी राजगढ़ के लिये रवाना हो गये।
*विधायक कृष्णा पूनियां के खिलाफ नारेबाजी*
थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्रोई की आत्महत्या की खबर फैलते ही राजगढ़ के व्यापारी, सामाजिक कार्यकर्ता थाने के बाहर पहुंचे ओर विधायक कृष्णा पूनियां के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। जिससे साफ जाहिर होता कुछ न कुछ राजनीतिक कनेक्शन तो रहा होगा, इस सबके पीछे। तो वहीं दूसरी ओर पूर्व विधायक मनोज न्यांगली भी थाने पहुंचे ओर सीबीआई जांच की मांग की।
*- सादूलपुर में पोस्टिंग को लिया चैलेंज के रूप में*
पोस्टिंग के समय एक रिपोर्टर द्वारा लिये गये साक्षात्कार में थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्रोई ने बताया था कि राजगढ़ में अपराध का ग्राफ चरम सीमा पर हैं ओर यह एरिया बदनाम होता जा रहा है। इसलिये पुलिस विभाग के उच्चधिकारियों ने मुझेवं यहां लगाया हैं, इसलिये मैं प्रयास करूगां कि इस क्षेत्र से बदनामी के नाम का धब्बा लगा हैं वह हटे। इसके लिये प्रयास करूगा।
*- सांसद हनुमान बेनीवाल ने घेरा गहलोत को*
राजगढ़ थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्रोई के सरकारी आवास पर फांसी के फंदे पर लटकने के मामले को लेकर सांसद हनुमान बेनीवाल ने राजस्थान की गहलोत सरकार को घेरा है। सांसद हनुमान बेनीवाल ने अपने फेसबुक पेज पर गहलोत सरकार के बारे में लिखा हैं कि आपके पुलिस विभाग के एक थानाधिकारी ने आत्महत्या कर ली हैं ओर यह सिस्टम पर बहुत बड़ा सवालिया निशान है। जांच सीबीआई को देकर मामले में आप स्वयं वक्तव्य जारी करें, क्योंकि गृह विभाग भी आपके पास है। उन्होंने मुख्यमंत्री गहलोत को लिखा है कि गृह विभाग का मोह त्याग कर यह जिम्मा किसी काबिल जनप्रतिनिधि को दे देना चाहिये।
*- संभाग के कई थानों में रहे, अपराधियों में था भय*
राजगढ़ के थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्रोई बीकानेर संभाग के कई जिलों में कार्यरत्त रहे, वे बीकानेर, संगरिया से लेकर जयपुर तक में कार्यरत रहे थे।अपराधी उनके नाम से कांपते थे। हनुमानगढ़ के संगरिया में उन्होंने अपराधियों के अवैध धंधे तक बंद करा दिये थे।थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्रोई ने 3 नवंबर 1997 को पुलिस सेवा ज्वाईन की, जिसमें उनकी पोस्टिंग जयपुर, बीकानेर सहित कई थानों में रही। उनकी सेवाकाल को करीब 23 साल हो गये थे। गौरतलब हैं कि उनके दो बच्चे है, एक बेटा ओर एक बेटी।
*- केन्द्रीय मंत्री से लेकर कई सांसदों ने जताया शोक*
थानाधिकारी विष्णुदत्त बिश्रोई के दबंगई ओर ईमानदारी के चर्चे पूरे संभाग मे चर्चित थे ओर वे हर किसी के चहेते थे। लेकिन जब उनकी मौत की खबर फैली तो चहुंओर से शोक जताने के लिये हर कोई आगे आया। इसी क्रम में केन्द्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल, सांसद हनुमान बेनीवाल, पूर्व विधायक मनोज न्यांगली सहित कई नेताओं ने चुरू जिले के ईमानदार व कर्तव्यनिष्ठ पुलिस अधिकारी ओर राजगढ़ एसएचओ श्री विष्णुदत्त
बिश्रोई के निधन पर शोक जताया है।००

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें