मंगलवार, 22 नवंबर 2016

बेनामी संपत्ति वालों की सूचना देने में मोदी भक्त डर रहे हैं।


बेनामी संपत्ति वाले तो आसपास ही हैं,दो उनकी सूचना:मोदी का स्वच्छ राज उसके बिना कैसे आ पाएगा?
- करणीदानसिंह राजपूत -
मोदी भक्तों की ओर से फेस बुक आदि पर लोगों से कहा जा रहा है कि सैनिक सीमा पर डटे हैं और आप नोट बदलने की लाइन में खड़े नहीं हाते हुए परेशान हो रहे हो। मोदी के नोट बदलने का कार्य राष्ट्रधर्म है उसमें सहयोग करें। लोगों को उलाहना दिया जा रहा है। अगर मोदी का साथ नहीं दिया तो राष्ट्रभक्त नहीं।
मोदी भक्त केवल बैंक की लाइन बाबत संदेश दे रहे हैं और उलाहने दे रहे हैं। जो मोदी का साथ नहीं देना चाहते उनको कोस रहे हैं।
मोदी जी ने तो बेनामी संपत्ति वालों पर भी सख्त कार्यवाही करने की घोषणा कर दी लेकिन आश्चर्य है कि इस घोषणा के सहयोग पर कोई भी भक्त नहीं बोल रहा है।
मोदी भक्तों के आसपास हर शहर गांव में बेनामी संपत्ति वाले होंगे ही और उनके नाम पत्ते आयकर विभाग व अन्य विभाग को सौंपना परम कर्तव्य होना चाहिए। केवल नोट बदलने से तो भ्रष्टाचार समाप्त नहीं हो पाएगा। मोदी जी ने बेनामी संपत्ति पर जो घोषणा की है उसके बाद से किसी भक्त ने अभियान नहीं छेड़ा। एक भक्त एक बेनामी संपत्ति का ही उल्लेख कर दे तो मोदी के हाथ मजबूत ही होंगे।
यहां पर ऐसा लग रहा है कि मोदी भक्त बेनामी संपत्ति वालों से दोस्ती रखना चाह रहे हैं या फिर डरते हैं। कायर हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें