बुधवार, 23 नवंबर 2016

अनाया सिंह नरम गुदगुदे खिलौनों संग मुस्कुराती:


खिलौनों से बतियाती,खिलौने नहीं मुस्कुराते,


 
तब रूठ मुंह फेर लेती। कुछ पल बाद भूलती,


 
हंस हंस बतियाती..खिलौने चुप और चुप:






22-10-2016.
Update 14-11-2016.


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें