Saturday, August 23, 2014

सूरतगढ़ में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो का छापा: नगरपालिका,1कर्मचारी 1पार्षद घेरे में

शिव कॉलोनी का मामला: भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की जांच
पार्षद राजाराम गोदारा व पालिका कर्मचारी लालचंद सांखला पर आय से अधिक संपत्ति का प्रकरण
सूरतगढ़। पूर्व विधायक हरचंदसिंह सिद्धु की शिकायतों के बाद भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने दोनों के घरों पर जांच की थी व रिकार्ड प्राप्त किया था।
ऐसी सूचना है कि भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने दोनों को लोक सेवक मानते हुए आय से अधिक संपत्ति का प्रकरण के तहत जांच को आगे बढ़ाया है।
शिव कॉलोनी के लिए अधिशाषी अधिकारी पृथ्वीराज जाखड़ आदि ने करोडों रूपए की सड़क का निर्माण करवा दिया।

23~8~2014
===================================

पालिका कर्मचारी लालचंद सांखला की संपति करीब 2 करोड़ 25 लाख

आय से अधिक संपति का मुकद्दमा भी दर्ज होगा:


पूर्व विधायक हरचंदसिंह सिद्धु की सरकार को की गई एक शिकायत सरकार ने ब्यूरो को भेजी थी

खास खबर- करणीदानसिंह राजपूत

लालचंद साखला पहले राजस्थान रोडवेज में कर्मचारी था और वहां भ्रष्टाचार के आरोप में बर्खास्त किया गया था। बर्खास्त कर्मचारी ही किसी भी विभाग में लगाया नहीं जा सकता। लेकिन  इस बाबत समाचार छपते रहने के बावजूद लालचंद को हटाया नहीं गया और जो वेतन दिया गया उसकी वापस वसूली नहीं की गई। लालचंद सांखला पर अब ब्यूरो की कार्यवाही होने पर वह पुराना मामला फिर से उठ रहा है।


नगरपालिका कर्मचारी लिपिक लालचंद सांखला के यहां 26 अगस्त 2013 को घर पर और 27 को बैंकों के खातों और लॉकर में मिले आभूषण और बैंक खातों में मिली संपत्ति का अनुमानित मूल्य करीब सवा दो करोड़ रूपए है। लालचंद सांखला के विरूद्ध आय ये अधिक संपत्ति का मुकद्दमा दर्ज होगा और आगे की विस्तृत जांच में अन्य लोगों से भी पूछताछ होगी। विस्तृत जांच से संपूर्ण स्थिति खुलासा होगा और अन्य जो लोग शामिल पाए जाऐंगे उन पर भी कार्यवाही होगी।

1.लालचंद सांखला के आनन्द विहार में बनाए गए आलीशान मकान का एक 10 लाख का लोन खाता है,जिसकी किस्त प्रतिमाह 12 हजार है और उस खाते में 10 लाख 64 हजार 102 रूपए मिले हैं। इसी में लालचंद का वेतन भी जमा होता रहा है। आश्चर्य यह हो रहा है कि लालचंद को उसके आलीशान मकान में चार एसी लगे हुए मिले हैं। जिनका प्रति दो माह का बिल 21 हजार से कम नहीं होता। लालचंद को वेतन में से कट कर जो रकम मिलती उससे घर का खर्च चल नहीं सकता।

लालचंद के बैंक खातों और लॉकर की जांच में यह राशि और गहने मिले।

1.स्टेट बैंक ऑफ पटियाला की सूरतगढ़ शाखा में लॉकर में 215.713 ग्राम सोने के आभूषण मिले हैं।

2.इस बैंक में चार खाते मिले। लालचंद सांखला के नाम से 10 लाख रूपए का एक लोन खाता मिला जो दि.21-4-2011 को खोला गया था व उसकी प्रतिमाह 12 हजार रूपए किस्त थी। इस खाते में ही लालचंद की तनख्वाह जमा होती थी। इस बैंक खाते में 10 लाख 64 हजार 102 रूपए मिले।

3.लालचंद के दूसरे खाते में 1 लाख 9 हजार 492 रूपए मिले।

4.तीसरा खाता पुत्र अमित के नाम पर है जिसमें 241 रूपए मिले।

5.चौथा खाता पत्नी मायादेवी के नाम पर है जिसमें 81 हजार 802 रूपए मिले।

6. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की सूरतगढ़ शाखा में पुत्र अमित के नाम वाले खाते में 21 हजार 666 रूपए मिले।

7.स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की सूरतगढ़ शाखा में पुत्र कपिल के खाते में 4 हजार 814 रूपए मिले।

ब्यूरो ने सूरतगढ़ के अन्य सभी बैंकों को पत्र जारी किया है जिसमें लालचंद सांखला व उसके परिवार के किसी सदस्य के नाम खाता और लॉकर आदि हो तो सूचित करने का लिखा है।

एक दिन पहले 26 अगस्त को लालचंद के घर हुई कार्यवाही में जो गहने रकम आदि मिली उसका ब्यौरा इस प्रकिार से है।

8.लालचंद के घर 8 लाख 33 हजार 833 नगद मिले।

9. धर पर 110 ग्राम स्वर्ण और 320 ग्राम चांदी मिली।

10. 1 कार 2 मोटर साईकिल,

11.आनन्द विहार का आवास 40 गुणा 70 फुट बना हुआ जिसकी कीमत करीब 1 करोड़ अनुमानित,

12. बीकानेर की समीक्षा कॉलोनी में 40 गुणा 70 का प्लॉट,

13.लूणकरणसर के पास लालेरा ग्राम में पत्नी मायादेवी के नाम से 25 बीघा जमीन ,

14. सूरतगढ़ के चक 1 पीपीएम में 0.569 हैक्टेअर कृषि भूमि,

15. चक 2 पीपीएम में 4.174 हैक्टेअर कृषि भूमि,

16.सूरतगढ़ की शिव विहार कॉलोनी की जमीन में 5 बीघा जमीन पत्नी मायादेवी के नाम से,

17.पंचायत समिति के पास में दो दुकानें 20 गुणा 40 फुट और 10 गुणा 20 फुट दो पुत्रों अमित और कपिल के नाम से,

18.सूरतगढ़ में एक प्लॉट था जो 29 जनवरी 2013 को बेचा।

19.जयपुर में महला ग्राम में 20 गुणा 40 फुट के 4 प्लॉट,

सूरतगढ़ के सांसी मोहल्ले में 36 गुणा 40 का एक प्लॉट,माहेश्वरी धर्मशाला के पास में एक प्लॉट होने की जानकारी की खबर है।

    भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भवानीशंकर मीणा ने पत्रकारों को बताया कि नगरपालिका कर्मचारी लालचंद सांखला कि विरूद्ध लगातार शिकायतें मिल रही थी तथा अखबारों में भी भ्रष्टाचार के समाचार छप रहे थे। इस पर 23 अगस्त 2013 को प्रकरण दर्ज किया गया। इसके बाद तीन दल बनाए गए। भवानी शंकर मीणा के दल ने लालचंद सांखला के घर पर,उप पुलिस अधीक्षक लक्ष्मण सांखला ने राजाराम गोदारा के घर पर और उप पुलिस अधीक्षक आनन्द स्वामी ने नगरपालिका कार्यालय में जांच की। कार्यवाही में इंसपेक्टर महेन्द्रसिंह व अन्य स्टाफ भी था।

यह बतलाया गया कि लालचंद सांखला की अधिकतर संपति पत्नी माया के नाम से है। राजाराम गोदारा के यहां जांच इसलिए की गई है कि उस पर लालचंद सांखला की पार्टनरशिप का आरोप है।

लालचंद सांखला नगरपालिका में 24 अक्टूबर 1990 को नियुक्त हुआ था। ब्यूरो के प्राथमिक सूचनानुसार करीब सात साल पहले से इसके पास ऊपरी कमाई होनी शुरू हुई। ब्यूरो के अनुसार जांच कई माह तक चलेगी।

पालिका में लालचंद साखला के अकेले तो कोई कार्य करना संभव नहीं। जिस शिव कॉलोनी को विकसित किया जा रहा है और लालचंद की पत्नी  मायादेवी की उसमें 5 बीघा जमीन है। वह कॉलोनी पालिकाध्यक्ष और अधिशाषी अधिकारी के सहयोग के बिना संभव नहीं है। इस कॉलोनी के प्लॉट अधिक से अधिक कीमत में बिकें इसलिए इंदिरागांधी नहर कॉलोनी की सिंचाई विभाग की सडक़ को बहुत चौड़ी कर नया निर्माण करवाया जिस पर करीब दो करोड़ रूपए अब तक लगाए जाने का आरोप है। इसमें पालिकाध्यक्ष बनवारीलाल मेघवाल, पहले के अधिशाषी अधिकारियों पृथ्वीराज जाखड़ और राकेश मेंहदीरत्ता,सहायक अभियंता कर्मचंद अरोड़ा पर भी आरोप लगते रहे हैं। इनके अलावा स्टाफ भी लपेटे में आ सकता है। यह सडक़ निर्माण का मामला भी अपने आप में बहुत गंभीर है,कि जो सडक़ नगरपालिका की नहीं थी उसका निर्माण करवाया गया।

    पूर्व विधायक और वरिष्ठ वकील हरचंदसिंह सिद्धु ने

नगरपालिका

 व्यापक भ्रष्टाचार होने की शिकायत राज्य सरकार को भेजी थी। जिसमें शिव कॉलोनी पर आरोप थे और उसमें लालचंद सांखला और राजाराम गोदारा पार्षद का भी नाम था। इस शिकायत के बाद राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव तथा स्वायत्त शासन विभाग के सचिव से जयपुर में वार्ता हुई और मामला जांच के लिए भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को भिजवाया गया। सिद्धु ब्यूरो से ही अनुसंधान करवाना चाहते थे। सिद्धु ने इस कार्यवाही के बाद अपने ताजा बयान में कहा कि लालचंद सांखला लोक सेवक में आता है,वहीं पालिकाध्यक्ष बनवारीलाल व पार्षद राजाराम भी लोकसेवक की श्रेणी में ही आते हैं।

आगे देखते हैं कि लालचंद सांखला आय संबंधी क्या स्पष्टीकरण देगा? इस मामले में विस्तृत जांच क्या कार्यवाही होती है? 

28~8~2013



लालचंद सांखला की आननन्द विहार कॉलोनी की कोठी में जांच के कुछ फोटो दिए जा रहे हैं।

 

 

 

 

लाइनपार बड़ोपल रोड पर पार्षद राजाराम गोदारा का आलीशान बंगला है जिसमें सूरतगढ़ पुलिस का पुरूष व महिला दस्ता सुरक्षा के लिए तैनात था। अंदर एक कमरे में भ्रष्टाचार निरोधक दस्ता कागजी कार्यवाही में लगा हुआ था। राजाराम गोदारा का पुत्र महेन्द्र वहां पर था जो ठेकेदारी करता है। उसने पत्रकारों को बताया कि कॉलोनी की कार्यवाही होती है तो उसमें ज्यादा होगा तो टैक्स लगेगा वो भर देंगे।

राजाराम गोदारा के घर पर कार्यवाही के फोटो

 

 




No comments:

Post a Comment

Search This Blog