मंगलवार, 26 मार्च 2013

सीएम अशोक ने पूर्व विधायक गुरूशरण को जूस पिला आमरण अनशन खत्म करवाया


राजस्थान में संपूर्ण शराबबंदी विचार वास्ते कमेटी बनाई गई:दो माह में रिपोर्ट देगी

खास रपट- करणीदानसिंह राजपूत

सूरतगढ़, 26 मार्च 2013. राजस्थान में संपूर्ण शराबबंदी की मांग को लेकर जयपुर एसएमएस चिकित्सालय की गहन चिकित्सा इकाई में भी अनशन जारी रखे हुए पूर्व विधायक गुरूशरण छाबड़ा का अनशन सोलहवें दिन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जूस पिला कर खत्म करवाया। मुख्यमंत्री ने शाम को करीब साढ़े पांच बजे जूस पिलाया। मुख्यमंत्री के साथ कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष डा.चन्द्रभान,आबकारी मंत्री राजेन्द्र पारीक व राज्यमंत्री वीरेन्द्र बेनीवाल थे।

मुख्यमंत्री ने 25 मार्च को चिकित्सालय में छाबड़ा से बात की थी जिसमें एक कमेटी बनाने की बात रखी जिस पर छाबड़ा ने अपनी बात रखी कि उसमें विधानसभा के सदस्य भी शामिल किए जाने चाहिए। छाबड़ा के सुझाव को शामिल किया गया व कमेटी बनाई गई।

 आबकारी विभाग के उप शासन सचिव की विज्ञप्ति के अनुसार  5 सदस्यीय कमेटी बनाई गई है। कमेटी में अतिरिक्त मुख्य सचिव सी.एस.राजन,आबकारी आयुक्त दिनेश कुमार,एसएमएस के अधीक्षक डा.वीरेन्द्रसिंह तथा 2 विधायक होंगे। विधायकों के नामों की घोषणा विधानसभा अध्यक्ष की अनुमति से होगी। यह कमेटी अपनी रिपोर्ट 2 माह में प्रस्तुत करेगी।

होली पर्व और छाबड़ा जी के गिरते स्वास्थ्य को लेकर मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री अशोक गहलोत चिंतित थे। उन्होंने 25 मार्च को छाबड़ा जी से कहा कि वे खुद शराबबंदी के हामी है। उन्होंने छाबड़ा को विश्वास दिलाया कि इसके लिए एक कमेटी बना कर विचार विमर्श कर शराब बंदी के प्रयास का कदम उठाया जाएगा।

मुख्यमंत्री के साथ में आबकारी मंत्री राजेन्द्र पारीक भी थे। पारीक पहले एकेले मिल कर गए थे। उसके बाद मुख्यमंत्री और पारीक आए मिले लेकिन छाबड़ा ने अनशन छोडऩा अस्वीकार कर दिया था। मुख्यमंत्री के दुबारा मिलने पर भी छाबड़ा ने कहा कि पहले शराबबंदी के लिए कोई ठोस कदम उठाया जाए। छाबड़ा जी से राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री दर्रू मियां भी मिल कर गए थे। विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता गुलाबचंद कटारिया ने यह मुद्दा विधानसभा में उठाया। वे और कई विधायक,पूर्व मंत्री ललितकिशोर चतुर्वेदी आदि उनसे लगातार कई बार मिले।

छाबड़ा जी के पुत्र गौरव छाबड़ा व पुत्रवधु पूजा छाबड़ा ने मीडिया के माध्यम से राजस्थान के समाजसेवी संगठनों व एनजीओ से शराबबंदी के कार्यक्रम में सहयोग की मांग के साथ आग्रह किया है कि वे अपने अपने स्थानों पर प्रदर्शनों मांगों के द्वारा सरकार तक बात पहुंचाएं।

छाबड़ा के अनशन खत्म करते समय शराबबंदी मंच की महिला प्रदेशाध्यक्ष श्रीमती राजेश सिडाना,उनके पति एम.एल.सिडाना,समाजसेवी बाबूसिंह खीची आदि मौजूद थे।

गुरूशरण छाबड़ा जनता पार्टी की टिकट पर सूरतगढ़ सीट से चुनाव जीत कर 1977 में विधायक बने थे। उससे पहले वे आपातकाल में मीसा में विभिन्न जेलों में बंद रहे थे। उनके समाजसेवी कार्यों का इतिहास रहा है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें