शनिवार, 19 जनवरी 2019

हर्ष कॉन्वेट स्कूल व स्पिक मैके के तत्वाधान में शास्त्रीय नृत्य:दीपक महाराज का कत्थक

हर्ष कॉन्वेट स्कूल व स्पिक मैके के संयुक्त तत्वाधान में शास्त्रीय नृत्य कलाकार श्री दीपक महाराज द्वारा कथक की प्रस्तुती दी गई। उन्होने अपना परिचय देते हुए अपनी कामयाबी का श्रेय अपने गुरू व पिता श्री बिरजु महाराज को दिया। हर्ष कॉन्वेट स्कूल के सभागार में आयोजित इस सांस्कृतिक कार्यक्रम में डिप्टी कमान्डेट श्री गिरीश चावला (सी.आर.पी.एफ.) , मेजर जयवीर, व्यापार मण्डल अध्यक्ष श्री ललित सिडाना अतिथि थे।  

कार्यक्रम में दीपक महाराज ने विद्यार्थियो को भारतीय शास्त्रीय संगीत व नृत्य के प्रति प्रेरित करते हुए शास्त्रीय नृत्य कथक की बहुत सी बारीक बातें सिखायी उन्होनें जीवन के हर पडाव में लय की महता को समझाते हुए जीवन की तीन अवस्थाओं (बाल्यावस्था, युवावस्था, वृद्धावस्था) को नृत्य द्वारा दर्शाया विद्यार्थियो का मन मोहने के लिए उन्होनें कृष्ण यशोदा माखन प्रसंग अभिनय व नृत्य के साथ प्रस्तुत किया। नायक-नायिका की जुगलबन्दी को घुंघरू व तबले की ताल द्वारा दर्शाया जिससे पुरा सभागार तालियों की गड़गड़ाहट से गूँज उठा।

 मुख्य अतिथि श्री गिरिश जी चावला व मेजर जयवीर ने कार्यक्रम की सराहना करते हुए विद्यार्थियो को सौभाग्यशाली बताया जो इतनी छोटी उम्र में इतनें बड़े कलाकार की प्रस्तुती देख सके। कार्यक्रम में श्री दीपक महाराज के अलावा तबला वादक प्रान्शु चतुरलाल, जनाब वारिस खान, जनाब मोहम्मद आयुब आदि कलाकारों का भी सहयोग रहा। 

 गई। उन्होने अपना परिचय देते हुए अपनी कामयाबी का श्रेय अपने गुरू व पिता श्री बिरजु महाराज को दिया। हर्ष कॉन्वेट स्कूल के सभागार में आयोजित इस सांस्कृतिक कार्यक्रम में डिप्टी कमान्डेट श्री गिरीश चावला (सी.आर.पी.एफ.) , मेजर जयवीर, व्यापार मण्डल अध्यक्ष श्री ललित सिडाना अतिथि थे।  


 कार्यक्रम में दीपक महाराज ने विद्यार्थियो को भारतीय शास्त्रीय संगीत व नृत्य के प्रति प्रेरित करते हुए शास्त्रीय नृत्य कथक की बहुत सी बारीक बातें सिखायी उन्होनें जीवन के हर पडाव में लय की महता को समझाते हुए जीवन की तीन अवस्थाओं (बाल्यावस्था, युवावस्था, वृद्धावस्था) को नृत्य द्वारा दर्शाया विद्यार्थियो का मन मोहने के लिए उन्होनें कृष्ण यशोदा माखन प्रसंग अभिनय व नृत्य के साथ प्रस्तुत किया। नायक-नायिका की जुगलबन्दी को घुंघरू व तबले की ताल द्वारा दर्शाया जिससे पुरा सभागार तालियों की गड़गड़ाहट से गूँज उठा।

 मुख्य अतिथि श्री गिरिश जी चावला व मेजर जयवीर ने कार्यक्रम की सराहना करते हुए विद्यार्थियो को सौभाग्यशाली बताया जो इतनी छोटी उम्र में इतनें बड़े कलाकार की प्रस्तुती देख सके। कार्यक्रम में श्री दीपक महाराज के अलावा तबला वादक प्रान्शु चतुरलाल, जनाब वारिस खान, जनाब मोहम्मद आयुब आदि कलाकारों का भी सहयोग रहा। 




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें