गुरुवार, 6 सितंबर 2018

सूरतगढ सीआई निकेत पारीक के सिर पर चोट:लाठी का वार


सूरतगढ़ 6-9-2018.

उपखण्ड कार्यालय पर सखी मोहम्मद प्रकरण में काम ठप्प की घोषणा में लोग जबरन एसडीएम कोर्ट में घुसने लगे।

पुलिस के धक्के लगाने लगे। अचानक धक्के तेज हुए काले झंडे लिए लोग आगे बढे। सीआई निकेत पारीक वहीं मौके पर थे। किसी ने लाठी या पत्थर मारा जिससे सिर में चोट लगी और खून निकलने लगा। उसी समय पत्थर चलने लगे। पुलिस ने बल प्रयोग कर भीड़ को खदेड़ा।कुछ लोगों को घटनास्थल से हिरासत में लिया गया है। पुलिस की ओर से सभा व बाद की विडियोग्राफी की हुई है। पुलिस मामला दर्ज करने व अनुसंधान मेंं उसका इस्तेमाल करेगी। घटना के बाद में कई नेता मौके पर मौजूद थे और उनका कहना था कि प्रदर्शन मेंं इस घटना को  भीतर घुसे असामाजिक तत्वों ने किया है। 

आज सभा में भाषण देने वालों में कांग्रेस के पूर्व विधायक गंगाजल मील,बलराम वर्मा,परमजीतसिंह रंधावा,परसराम भाटिया,मुखराम खिलेरी,बसपा के डूंगरराम गेदर,अमित कल्याणा पवन सोनी,माकपा के लक्ष्मण शर्मा मदन औझा,आम आदमी पार्टी के सत्यप्रकाश सिहाग पत्रकार संपादक हाईलाईन हरिमोहन सारस्वत,भाजपा नगर मंडल के उपाध्यक्ष ओम सोमानी,पीततांबर दत्त शर्मा,रतनलाल पारीक,संघर्ष समिति के अध्यक्ष श्याम मोदी,महावीर भोजक,राजू जाट व अनेक लोग थे। भाषाओं में कुछ उग्र थे तो कुछ शांति से काम ठप्प करने का भी कह रहे थे। कामरेड हेतराम बेनीवाल भी भाषण देने वालों मेंं थे मगर वे चले गए थे। सखी मोहम्मद एल.एल.बी कर रहे हैं,उनके साथ पुलिस पिटाई पर वकील सहदेव जोशी व वकील रविकांत ने भी भाषण दिए।

भाषणों में उग्र होने का कारण सीएम की यात्रा और आगामी चुनाव थे। अनेक तो टिकटार्थी हैं व कुछ चुनाव मेंं उतर चुके हैं।

कुछ भाषण उत्तेजित थे और भीड़ उसके कारण उत्तेजित हुई। हालांकि लोगों की संख्या काफी कम थी।

यह मामला ऐसे मौके पर हुआ है जब सीएम संभाग के दौरे पर है और कल सात सितंबर को गौरवयात्रा श्रीगंगानगर जिले में अनूपगढ में प्रवेश करनेवाली है।

 पहले पत्रकारवार्ता में 6 सितंबर को एसडीएम कोर्ट का काम ठप्प करने की चेतावनी दी थी। ( विस्तृत समाचार बाद मेंं)






कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें