Monday, November 20, 2017

सचिन पायलेट के सूरतगढ़ 28 नवम्बर दौरे की तैयारी-पत्रकार वार्ता


सचिन पायलेट किसानों से बात करेंगे:गूंगी बहरी राज्य व केन्द्र की सरकारें किसी की भी नहीं सुन रही

- करणीदानसिंह राजपूत -
सूरतगढ़ 20 नवम्बर।
कांग्रेस के नेताओं श्रीगंगानगर जिला प्रभारी जगदीश वर्मा, प्रदेश कमेटी के महासचिव कुलदीप इंदौरा व पूर्व विधायक गंगाजल मील ने राज्य व केन्द्र की भाजपा सरकारों पर आरोप लगाया कि किसानों व्यापारियों और मजदूरों की सुन नहीं रही है गूंगी बहरी हो चुकी हैं जिससे हर ओर हाहाकार मचा हुआ है। ब्लॉक कांग्रेस के कार्यालय में सचिन पायलेट की सूरतगढ़ यात्रा को लेकर आयोजित पत्रकार वार्ता में कांग्रेसी नेताओं ने आरोप लगाए।
जगदीश वर्मा ने कहा कि कांग्रेस के राजस्थान अध्यक्ष सचिन पायलेट का 28 नवम्बर को सूरतगढ़ में किसान सम्मेलन में आना तय है। पायलेट यहां के किसानों की समस्याएं सुनेंगे तथा उनके हालचाल जानेंगे। पुरानी धानमंडी में आयोजित कार्यक्रम में अनेक लोगों को कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण करवाई जाऐगी। उन्होंने कहा कि किसानों की हालत जानने के लिए हाल ही में पायलेट साहब ने रूालावाड़ में एक सौ किलो मीटर की पदयात्रा भी की थी।
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महा सचिव कुलदीप इंदौरा ने कहा कि इस क्षेत्र में तीनों नहरों इंदिरा गांधी नहर, भाखड़ा नहर और गंग नहर के किसानों की हालत खराब है। डैम में पर्याप्त पानी होते हुए भी पानी नहीं दिया जा रहा है।  सरकार का कहना है कि नहरों की मरम्मत करवानी है लेकिन फसल बचाने के लिए मरम्मत कुछ आगे भी खिसकाई जा सकती है। किसानों की ओर से आए दिन धरना प्रदर्शन हो रहे हैं। किसानों की फसलें तबाह हो गई उपर से सरकार ऋण वसूली के नोटिस तैयार करवाने में लगी है।
इंदौरा ने कहा कि 28 तारीख तक सरकार को कोई फैसला पानी वितरण पर नहीं आया तो पायलेट घड़साना जा सकते हैं जहां पर किसानों का पड़ाव चल रहा है। इंदौरा ने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकारें जन मानस के लिए खरी नहीं उतरी।
पूर्व विधायक गंगाजल मील ने भी कहा कि राजस्थान की सरकार किसान मजदूर व्यापारी विरोधी हो चुकी है तथा दमन करने पर लगी हुई है। इससे हर वर्ग नाराज है।
इस पत्रकार वार्ता में पूर्व जिला प्रमुख पृथ्वीराज मील,सूरतगढ़ ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष गंगाजल जाखड़, जिला उपाध्यक्ष स.गुरदर्शनसिंह सोढ़ी व सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र के प्रभारी जिला महासचिव बलकरणसिंह भी मौजूद थे।

====================================



No comments:

Post a Comment

Search This Blog