सोमवार, 23 जनवरी 2017

एटा सिंगरासर माइनर या विधायक दोनुंआ मांय एक चुण लो।

-  करणीदानसिंह राजपूत -
विधायक जी फूटरा/फूठरा लागै तो फेरूं एटा सिंगरासर माइनर रो मुद्दो उठावणो खुद नै धोखो देवणो है। अर ओ काम अब ताईं करण लाग रया हो। हण तक मालम कोनी पड्यो कै। म्हारै खनै जे अकल दाढ होवती तो हूं बिना कीं टका लिये लगा देवतो।
एक बात बताओ। ओ डाग्दर राम परताप खुद नै कास्तकार बतावै है,इनै मालम कोनी कै। कीं सोचो। जिती अकल है बीं मांय ही सोचो। चालती नहरां मांय भी जकौ पाणी नीं देवै जकौ थानै नहर बणा रै पाणी देवेगो। पाणी वास्तै कास्तकार रोजीना आंदोलना मांय लाग रैया है।
अब ईं विधायक नै भी देख लो। सरकार अर सिंचाई विभाग कीं कोनी कर् यो।
लारलै मईना मांय विधायक कीं कोनी कर् यो। सोच अर बताओ। थै चुप होया अर विधायक बी चुप। काम तो विधायक नै करावणो हो।   सात आठ मईंना मांय कीं नीं कर् यो।
काळजो करडो़ कर एक चुण ल्यो।
विधायक या माइनर।
कणै ताईं खुद नै धोखो देवता रैवेगा अर  खुद री जामीं औलादां नै धोखो देवता रैवोला।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें