गुरुवार, 26 मई 2016

पवन शर्मा को आत्महत्या के लिए मजबूर करने वाले क्यों नहीं हुए गिरफ्तार?


सवालों में पुलिस-तीन खून चूंसने वाले फाइनेन्सरों को कब पकड़ेगी पुलिस?
7 दिन में गिरफ्तार करने का दिया गया था आश्वासन:
सूरतगढ़ 26 मई।
रेलवे के ठेकेदार सूरतगढ़ निवासी पवन शर्मा की लाश इंदिरागांधी नहर में 13 अप्रेल को मिली और उसके कपड़ों में मिला था सुसाइड नोट। सुसाइड नोट में पावन शर्मा ने 3 लोगों के नाम दिए जिन्होंने उसे फाइनेन्स तो किया मगर इतना सूद वसूलते रहे कि उसे आत्महत्या को मजबूर होना पड़ा। राजियासर थाने में यह प्रकरण दर्ज हुआ। परिवार जनों व अन्य लोगों ने पुलिस उप अधीक्षक कार्यालय के आगे 14 अप्रेल को धरना लगाया। किसी तरह से धरना उठवाया गया। जब पुलिस ने आरोपितों की गिरफ्तारी नहीं की तब पुलिस उप अधीक्षक कार्यालय के आगे चेतावनी देकर धरना शुरू किया गया। कई दिनों के बाद पुलिस ने आश्वासन दिया कि सात दिन में आरोपितों को पकड़ लिया जाएगा लेकिन डेढ़ माह हो गया अभी तक एक भी व्यक्ति को गिरफ्तार नहीं किया जा सका।
पुलिस सवालों के घेरे में है कि आखिर आरोपित अभी तक क्यों नहीं पकड़े जा सके?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें