सोमवार, 15 फ़रवरी 2021

देश नै ताकत देवै आपणो राजस्थान अर आपणी राजस्थानी :कविता:


देश नै ताकत देवै
आपणो राजस्थान
अर आपणी राजस्थानी।
जीणै रा आधार दोनूं
राजस्थान अर राजस्थानी।
डूंगरा मांय आवाज गूंजै
धोरिया सोने सिरखा चमकै
हरा हरा खेतां री महक
जीणै रा आधार दोनूं।
देश रै कण कण मांय
राजस्थान बोलै
बठै बठै राजस्थानी
सगळा नै जोडै़।
राजस्थानी गळै मिलावै
सागै सागै कदम बढावै
देश री शान है राजस्थान
देश री ताकत है राजस्थानी।
राजस्थान मांय उपजै
नुंई नुंई उम्मीदां
अर बिंयानै सींचै
सरचै राजस्थानी।
राजस्थानी सूं
सज्योड़ौ है
साहित्य संसार,
वीर रस सगळौ
राजस्थानी भरयौ
सीनो चोड़ौ
करै राजस्थानी।
देश नै ताकत देवै
आपणो राजस्थान
अर आपणी राजस्थानी।


                                     
करणीदानसिंह राजपूत 
स्वतंत्र पत्रकार,
                                              

सूरतगढ़।
                                         

94143 81356                               
:::::::::::::::::::::::::::::::::::
5-12-2015.
updated 30-3-2017.
Updated 15 फरवरी 2021.










कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें