रविवार, 12 जुलाई 2020

* बड़े निर्माणाधीन व्यावसायिक भवन और भी सीज होने की संभावना*पालिका की नजर-कुछ फाईलें गायब*




* करणी दान सिंह राजपूत *


सूरतगढ़। शहर में निर्माण स्वीकृति के विपरीत निर्माणाधीन विशाल व्यवसायिक भवनों पर नगर पालिका की गाज गिरने की संभावना है। उच्च मार्ग और शहर के मुख्य बाजारों में

नगरपालिका की सख्त निरीक्षण नजरें घूमी हैं। सूत्र के अनुसार माने तो एक दो भवनों पर जल्दी ही नापजोख नोटिस जवाब और सीज की कार्यवाही हो सकती है। 


भादू कटला 13 दिसंबर 2019 को निर्माण मंजूरी के विपरीत करने पर सील किया गया जो अभी सीज पड़ा है और आठ माह बीत चुके हैं। 


शहर में बहुत बड़े बड़े निर्माणों पर भी नजर डाल रही है सूत्र के अनुसार भादू कटले की तरह निर्माण में गड़बड़ी के कुछ बड़े लोगों के निर्माणाधीन भवन सीध में हैं। 

 करोड़ों रुपए के व्यावसायिक भवन बड़े लोग बनाते हैं जो निर्माण की स्वीकृति का नक्शा और मौके पर निर्माण में बहुत बड़ा अंतर कर देते हैं।


सूत्र के अनुसार राष्ट्रीय उच्च मार्ग इंदिरा सर्कल से मानकसर चौक ,शहर के बीच में मुख्य मार्गों पर बने भवनों पर नगर पालिका की नजर है। शहर में कुछ भवन अभी बन रहे हैं कुछ बने हुए भवनों में भी काफी गड़बड़ी है।

 नगर पालिका मैं भूमि शाखा में बड़े लोगों की बड़े भवनों की फाइलों में नजरें गड़ाए गई है।

 सूत्र के अनुसार कुछ बड़े लोगों की फाईलें भी गायब हैं या इधर-उधर है और मिल नहीं रही है। 

आखिर फाइलें कहां गई यह भी एक रहस्य है?

सूचना के अनुसार वर्तमान कांग्रेस बोर्ड अध्यक्ष ओमप्रकाश कालवा के कार्य प्रारंभ से पहले भाजपा का काजल छाबड़ा की अध्यक्षता का बोर्ड था।उस भाजपा बोर्ड की अध्यक् काजल छाबड़ा के कार्यकाल में गंभीर प्रवृत्ति की गड़बड़ियों के आरोप हैं। आरोप काजल छाबड़ा पर लगते रहे हैं। सूत्र अनुसार उस समय निर्माण स्वीकृति या और मौके के निर्माणाधीन में भारी गड़बड़ियां हुई और कुछ निर्माण अभी चल रहे हैं। अभी कुछ दिन पूर्व पालिकाध्यक्ष ओमप्रकाश कालवा और पूर्व विधायक गंगाजल मील की पत्रकार वार्ता में भी काजल छाबड़ा के कार्यकाल में गलत पट्टे बनाने और व्यावसायिक गलत निर्माण के होने के आरोप लगाए गए थे। 


सूत्र के अनुसार नगर पालिका की ओर से बड़े लोगों के एक दो व्यावसायिक भवन सीज की श्रेणी में आ सकते हैं। विदित रहे कि निर्माण में बहुत बड़ी गड़बड़ी होने पर भवन को सीज करना डिस्मेंटल करना आदि कार्यवाहियां होती है। 

सूरतगढ़ नगरपालिका में विशाल मार्केटिंग कांपलेक्स  भादू कटले से भी  बड़ा कटला किशनगढ़ में सीज हुआ है जिसकी निर्माण लागत करीब ₹30 करोड़ रूपये है और वहिं के विधायक से संबंधित है। ऐसी स्थिति में माना जा रहा है कि सूरतगढ़ में अन्य कोई विशाल व्यावसायिक भवन निर्माण मंजूरी नक्शे के विपरीत निर्माण हुआ या हो रहा पाया जाता है तो वह सीज हो सकता है।००




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें