रविवार, 16 जून 2019

केन्द्रीय साहित्य अकादमी द्वारा 2018 के अनुवाद पुरस्कार:मनोजकुमार स्वामी राजस्थानी वास्ते पुरस्कृत


- विशेष समाचार: करणीदानसिंह राजपूत -

सूरतगढ़ 16 जून 2019.

केन्द्रीय साहित्य अकादमी द्वारा 24 भारतीय भाषाओं में दिया जाने वाला अनुवाद पुरस्कार 2018 का वितरण समारोह त्रिपुरा की राजधानी अगरतला में 14 जून 2019 को आयोजित हुआ। समारोह में राजस्थानी के लिए सूरतगढ़ के राजस्थानी साहित्यकार मनोजकुमार स्वामी को मलयाली के पुरस्कृति उपन्यास चैम्मीन के राजस्थानी अनुवाद नाव अर जाळ के लिए दिया गया। मलयाली लेखक तकषी शिवशंकर पिल्लै द्वारा मछुवारों के जीवन पर संजीव उपन्यास का उतना ही भाव पूर्ण अनुवाद राजस्थानी भाषा में किया गया। इस अवसर पर असमीया में अनुवाद पुरस्कार पार्थ प्रतिम हाजरिका को, बागला के लिए मबिनुल हक, बोडो के लिए नबीन ब्रहा्र, डोगरी के लिए नरसिंह देव जम्वाल, अग्रेजी के लिए सुबाश्री कृष्णास्वामी, गुजराती के लिए वीनेश अंताणी , हिन्दी के लिए प्रभात त्रिपाठी, कन्नड़ के लिए गिरडि गोविंदराज, कश्मीरी के लिए मो. जमॉ आजुर्दा, कोंकणी के लिए नारायण भास्कर देसाय, मैथिली के लिए सदरे आलम गौहर, मलयालम के लिए एम लीलावती, मणिपुरी के लिए राजकुमार मोबी सिंह, मराठी के लिए प्रफुल्ल शिलेदार, नेपाली के लिए मणिका मुखिया, उडि़या के लिए श्रद्धांजलि कानूनगो, पंजाबी के लिए के एल गर्ग, संथाली के लिए रूपचंद हसदा, सिंधी के लिए जगदीश लछाणी, संस्कृत के लिए दीपक कुमार शर्मा, तमिल के लिए कुलच्चल यूसुफ, तेलुगु के लिए ए कृष्णा राव ,उर्दू के लिए जकिया मशहदी, को पुरस्कार प्रदान किए गए पुरस्कार वितरण एकेडमी के अध्यक्ष पदम श्री डॉक्टर चंद्रशेखर कम्बार ने सभी अनुवाद पुरस्कार विजेता साहित्यकारों को तांम्र उत्किरण समृति चिन्ह शॉल व 50 हजार राशि का चेक प्रदान किया। 


इस मौके पर केंद्रीय साहित्य अकादमी में राजस्थानी भाषा के समन्वयक मधु आचार्य ने सभी पुरस्कार विजेताओं व राजस्थानी के लिए मनोज कुमार स्वामी को बधाई दी। राजस्थान से इस कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए माधवाचार्य एडवोकेट अशोक बबेरवाल इंजीनियर वीरेंद्र महिला कमल आचार्य आदि ने शिरकत की। 





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें