Thursday, March 30, 2017

राजथानी दिवस माथै राजस्थानी नै मान्यता लेवण सारूं सरकार नै खुली ललकार


पैलां मूं माथै पट्टी बांध जुलूस निकाल्यौ अर बाद मांय जलसे मांय दीन्हीं ललकार

सूरतगढ़ 30 मार्च 2015.अखिल भारतीय राजस्थानी भाषा मान्यता संघर्ष समिति री ओर स्यूं राजस्थानी दिवस 30 मार्च रे अवसर माथै राजस्थानी भाषा नै संवैधानिक मान्यता लेवण सारूं जुलूस अर जलसे मांय सीधी ललकार दीन्हीं कै अब चुप रहण री वेळा नीं है। सरकार ललकार  री भाषा जाणै अर ललकार री भाषा ही मानै। अब सगळां रै भेळप रै मजबूत ललकार सूं  ही मनावांगा। 


 राजस्थानी रा हेताळुआं भाषा प्रेमियों पौराणिक गढ़ रै सिंघ दरवाजे रै आगे सूं मूंढे आगे पट्टी लगा रै जुलूस बहीर करयौ। पट्टियां पर लिख्योड़ो हो म्हारी जबान पर ताळो क्यं? ओ जुलूस नगर रै घणकरां रास्तां होवतो भारत माता चौक पर भारत माता नै नमन करतो,आजाद चौक माथै शहीद आजाद ने नमन करतौ, भगतसिंह चौक माथै शहीद भगतसिंह नै नमन करतो अर महाराणा प्रताप चौक माथै प्रताप नै नमन करतो उपखंड कार्यालय पूंच्यौ।
इण जुलूस
नामी गिरामी संस्थावां रा पदाधिकारी अर कार्यकर्ता,राजनैतिक दलां रा लोग,पत्रकार,नारी संगठन आद   सामल हा।
उपखंड कार्यालय पूंचनै रै बाद राजस्थानी रा हेताळूआं मूं पट्टियां खोल अर जलसो करयौ जिण 
मांय सीधी ललकार दीन्हीं। 
सभा मांय राजस्थानी रा हेताळुआं कह्यौ कै 13 करोड़ राजस्थानियों री मायड़ भाषा राजस्थानी नै संविधान री आठवीं अनुसूचि में सामल  करणै री मांग लारला 68 सालां सूं की जा रैई है।  इण वास्तै प्रदेशवासी अर आंतरै बस्या लोगां लगोतार आंदोलन कर राख्यौ है। हेताळुआं कह्यौ कै 25 अगस्त 2003 नै राजस्थान विधानसभा सूं सर्वसमति सूं  प्रस्ताव पारित कर केन्द्र सरकार नै  भिजवा दीन्हो पण केन्द्र सरकार हणै तक इण माथै गंभीरता सूं विचार नीं करयौ। अर अब बरदास्त सूं बाहर रो हाल है।
केन्द्र सरकार रो सगळा जम अर विरोध करां हां अर हमें ललकार देवण रै अलावा कीं नीं बच्यौ है। ललकार देवणै री म्हारी मजबूरी है। जणां कोई चीज हक होवतां नीं मिल सकै तद ललकार सूं लेवणमांय कोई बुराई नीं है।
बतायौ गयो कै देश में एक एक कर 22 भाषावां आठवीं अनसूचि में सामल करदी गई पण राजस्थानी रै सागै सौतेलो ब्यौहार करीजण लाग रैयौ है।
राजस्थानी री मान्यता रो  मुद्दो  नौजवाना रै रोजगार अर राजस्थानियां री मरजादा रो सवाल है जठै सांस्कृतिक संरक्षण रो भी सवाल है। सरकार नै राजस्थानी नै मान्यता दे अर राजस्थानियां री जुबान पर लगायोड़ो ताळो खोलण मांय अब जल्दी करणी जाईजै।
सभास्थल पर विचार व्यक्त करने वालों में अखिल भारतीय राजस्थानी भाषा मान्यता संघर्ष समिति रा , प्रदेश मंत्री राजस्थानी साहित्यकार पत्रकार मनोज कुमार स्वामी,पूर्व प्रदेश अघ्यक्ष डां हरिमोहन सारस्वत, जिलाध्यक्ष परसराम भाटिया, छात्र मोर्चा प्रदेशाध्यक्ष डा.गौरीशंकर निमीवाल, , पत्रकार अर राजस्थानी रा लिखारा करणीदान सिंह राजपूत, पूर्व विधायक हरचंद सिंह सिद्वू, पूर्व विधायक गंगाजल मील, जिला परिषद डायरेक्टर, डूंगर राम गेदर, माकपा नेता सफी मोहम्द, बसपा नेता पवन सोनी,जमीदारा पार्टी नेता बलराम कुक्ड़वाल,नारी उत्थान केन्द्र री अध्यक्ष पार्षद श्रीमती राजेश सिडऩा, उपखण्ड़ विकास समिति रा अध्यक्ष दिलात्म प्रकाश जैन, शिक्षक प्रशिक्षणार्थी विजयलक्ष्मी भार्गव, डा.जोगासिंह कैत जोगी आद आपरै भाषणां मांय राजस्थानी नै मान्यता मिलण सारूं बातां राखी।
सभा मांय पार्षद लक्ष्मण सिंह शेखावत, पार्षद ओमप्रकाश अठवाल, पार्षद सावित्री स्वामी, शारदा गौड़, गंगादेवी स्वामी, इन्द्रादेवी स्वामी,लक्ष्य संसथान रा  पी.के मिश्र, प्रजापत मैत्री क्लब रा अध्यक्ष आत्माराम तैरहपुरियां, एपेक्स क्लब रा अध्यक्ष के. के. खासपुरिया, गुरूद्वारा सिंघ सभा रा जसवीर सिंह जस्सा, रोटेक्ट क्लब रा संयोजक डा.सुशील जेतली, राजपूत क्षत्रिय संध रा पूर्व अध्यक्ष लाल सिंह बिका अर राजकुमारसिंह, भारत विकास परिषद रा घनश्याम शर्मा,टैगोर महिला शिक्षक प्रशिक्षण महा विद्यालय री छात्रावां अर  प्राचार्य डा.त्रिलोकीनाथ, मारवाड़ी युवा मंच रा अध्यक्ष संजय चौधरी,प्रवीण जैन,मुरलीधर पारीक,अमित कल्याणा,वेदप्रकाश सोनी अर समाजसेवी रमेशचन्द्र माथुर आद घणकरा लोगां राजस्थानी रा जयकारा लगाया।
सभा करण रै बाद मायड़ भाषा रा हेताळुआं नारा लगाता उपखंड कार्यालय परिसर मांय दाखिल होया अर उपखंड अधिकारी रामचन्द्र पोटलिया नै प्रधानमंत्री अर  प्रदेश री मुख्य मंत्री रै नाम रा ज्ञापन भेंट कीन्या। इण ज्ञापनां मांय राजस्थानी भाषा नै आठवीं अनुसूचि में सामल करण री मांग कीन्हीं गई ।














मनोजकुमार स्वामी,करणीदानसिंह राजपूत,गौरीशंकर निमीवाल,परसरामभाटिया
पूर्व विधायक हरचंदसिंह सिद्धु,पूर्व विधायक गंगाजल मील,जिला परिषद सदस्य डूंगर राम गेधर,बलराम कुक्कड़वाल

दिलात्म प्रकाश जैन,पवन सोनी,जोगासिंह कैंत जोगी,सफी मोहम्

नारी उत्थान केन्द्र री अध्यक्ष श्रीमती राजेश सिडाना शिक्षक प्रशिक्षणार्थी विजयलक्ष्मी भार्गव

30-3-2015.
update 30-3-2017.

No comments:

Post a Comment

Search This Blog