सोमवार, 29 अप्रैल 2019

सूरतगढ़-हास्टल में रहने वाले 2 व संचालक गिरफ्तार-तीनों जेल भेजे गए

 ^^ करणीदानसिंह राजपूत ^^

सूरतगढ़ 29.04.2019.

महादेव पीजी हास्टल सूरतगढ़ के संचालक 1.अमित पुत्र प्रभूराम जाति जाट पूनियां उम्र 18 साल निवासी वार्ड नं. 18 सूरतगढ़ और हास्टल में रहने वाले 2.अमन पुत्र लाधूराम पूनियां जाति जाट उम्र 24 साल निवासी पंचकोसी थाना खुईया सरवर तहसील अबोहर हाल पुराना हाउसिंग बोर्ड सूरतगढ़ व

 3. सुखदेव पुत्र दलीप कुमार जाति जाट उम्र 21 साल निवासी पंचकोसी थाना सरवर खुईया तहसील अबोहर जिला फाजिल्का पंजाब  को पुलिस ने शांति भंग में गिरफ्तार किया व उपखण्ड मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया।  उपखण्ड मजिस्ट्रेट अदालत ने प्रत्येक को 6 माह तक शांति बनाये रखने तथा वर्तमान में लोकसभा चुनाव को दृष्टिगत रखते हुए न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया।


थानाधिकारी पुलिस थाना सूरतगढ़ शहर द्वारा तीनों के विरूद्ध इस्तगासा

अर्न्तगत धारा 107-116(3)151 सीआरपीसी प्रस्तुत किया गया जिसमें आरोप का बयौरा दिया गया था।

इस्तगासे के अनुसार ओमप्रकाश पुत्र धन्नाराम जाति स्वामी उम्र 45 वर्ष सा.वार्ड नं. 18 सूरतगढ़ ने थाने में परिवाद पेश किया कि 29.04.19 को रात 2 बजे हमारे घर के आगे ये घूम रहे थे। मैने रात्रि को घूमने का कारण पूछा तो मेरे साथ बदतमिजी करने लगे। शोर शराबा सुनकर पड़ौसी उठ गये। इनको डांटा तो ये गाली गलोज पर उतारू हो गये। 

रामेश्वरलाल उपनिरीक्षक मौके पर गए।तीनों को थाने लाया गया। उपनिरीक्षक ने परिवादी से जांच कर बयान लिखे एवं दोनों पक्षों को आमने सामने करवाया तब अमन पूनीयां ने खुद को महादेव पीजी हास्टल सूरतगढ़ का संचालक व सुखदेव व अमित को अपना साथी बताया।

ये तीनों थाना परिसर में ही उपनिरीक्षक के सामने ही परिवादी ओमप्रकाश को धमकाते हुए कहने लगे कि हम रात्रि को गली में ही खड़े थे। इससे तुम्हें क्या एतराज है। उक्त तीनों शख्स उपनिरीक्षक के सामने ही परिवादी को मारने के लिये लपके व धमकी देने लगे कि थाने से बाहर निकलने के बाद तेरे को देखेंगे। उपनिरीक्षक ने समझाने की कोशिश की परन्तु नहीं माने जिस पर उपनिरीक्षक ने तीनों जनों को दफा 151 सीआरपीसी में गिरफ्तार किया। यदि गिरफ्तार नहीं किया जाता तो कोई संज्ञेय अपराध करते। उपर्युक्त तीनों गैरसायल सूरतगढ़ में हास्टल में रह रहे है तथा बाहर के लोग है,तथा रात्रि 2 बजे घूम रहे थे। 

पुलिस द्वारा इनका मेडिकल करवाया गया मेडिकल रिपोर्ट अनुसार उक्त तीनों ने शराब पी रखी थी। 

सूरतगढ़ के हास्टलों के गैर कानूनी संचालन और उनमें रहने वालों पर हुड़दंग करने व अन्य आरोप लगते रहे हैं। उपखण्ड मजिस्ट्रेट रामावतार कुमावत की अध्यक्षता में 25-4-2019 को हुई बैठक में हास्टलों की अनियमितताएं सामने आई तब सभी को सख्त हिदायत दी गई थी कि शांति व कानून व्यवस्था बनाए रखेंगे लेकिन चौथे दिन की रात को ही ऐसे हालात सामने आए।

******************




मतदान दिवस! मोदी प्रकाट्य दिवस!! कविता-करणीदानसिंह राजपूत.


मुझे लग रहा है।
जब जब अवतार हुए
उस समय प्रकृति बदली
वातावरण बदला,
लोगों ने माना कि
कुछ अलौकिक होने वाला है।
हुआ था ऐसा ही,
लोगों की सोच
सच्च सिद्ध हुई।
धरा पर महान आत्माएं प्रगट हुई,
जिन्हें लोगों ने अवतार माना।
अब फिर यह बदलाव का नजारा
और बदलाव का वातावरण
कुछ न कुछ होने वाला है।
कोई विशिष्ट प्रगट होने वाला है।
मैं ही नहीं लोगों से भरे
नगर डगर मान रहे हैं
देश ही नहीं विश्व में भी
यह हलचल समझी जा रही है,
भारत में मोदी शक्ति का विस्तार
अब किसी के रोके रुकने वाला नहीं है,
मोदी अवतार नहीं,
मोदी तो आदर्श पुरुष है।
मतदान दिवस
लोगों को नजर आए मोदी दिवस,
मतदान दिवस जब हर नगर डगर में
बन जाए मोदी दिवस,
जब अधि संख्य विचार में गूँज उठे
मोदी ही मोदी,
आगे मोदी पीछे मोदी,
बीच में मोदी और दूर दूर तक मोदी।
बस यही है मोदी प्रकट्य दिवस।
मोदी अवतार नहीं है
आदर्श पुरुष है।


-- 



करणीदानसिंह राजपूत,
स्वतंत्र पत्रकार,
सूरतगढ़
94143 81356.
*********





रविवार, 28 अप्रैल 2019

जॉनसन एंड जॉनसन बेबी शैम्पू एवं पाउडर की बिक्री पर रोक



राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) ने सभी राज्यों से बिक्री रोकने और बाजार से उत्पाद हटाने के लिए कहा

27अप्रैल 2019.

नई दिल्ली. राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) ने बहुराष्ट्रीय कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन के बेबी शैम्पू और टेलकम पाउडर में हानिकारक तत्व होने के कारण सभी राज्यों से इनकी बिक्री रोकने एवं संबंधित उत्पादों को बाजार से हटाने को कहा है। 

अमेरिका में पूर्व में इस कंपनी के उत्पाद पर रोक लग चुकी है। भारत में पहली बार प्रतिबंध लगाया गया है। 

सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को जारी किए गए निर्देश  सूत्रों ने शनिवार को बताया कि आयोग ने जॉनसन एंड जॉनसन बेबी टेलकम पाउडर एवं शैम्पू में एस्बेस्टस के तत्व पाये जाने के खबरों के बाद सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखा है। पत्र में अफसरों को अपने-अपने क्षेत्रों से इन उत्पादों की बिक्री रोकने के निर्देश दिये हैं। आयोग ने बाजार में उपलब्ध जॉनसन एंड जॉनसन बेबी टेलकम पाउडर और शैम्पू को भी दुकानों से हटाने को कहा है। 

 राजस्थान में कैंसरकारी तत्व मिलने पर हुई कार्रवाई   खबरों के अनुसार राजस्थान में एक बाजार से जॉनसन एंड जॉनसन बेबी शैम्पू एवं टेलकम पाउडर में एस्बेस्टस और कैंसरकारी तत्व मिले हैं।  आयोग ने आंध्रप्रदेश, राजस्थान, झारखंड, मध्यप्रदेश और असम के मुख्य सचिवों से इन उत्पादों के नमूने बाजार से लेने और कार्रवाई रिपोर्ट भेजने को भी कहा है।


 विदेशों में लग चुका है करोड़ों रुपए का जुर्माना  

 पहले भी जॉनसन एंड जॉनसन के कई प्रोडक्ट्स पर बच्चों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक कैंसरकारी तत्वों के होने की बात सामने आई हैं। विदेशो में इसके खिलाफ बड़ी कार्रवाई भी हुई हैं और कंपनी को करोड़ों का जुर्माना भी देना पड़ा हैं। । इसका खुलासा रूटर्स की इन्वेस्टीगेशन से हुआ जिसे करने की वजह थी 9000 से अधिक पीड़ितों द्वारा किये गए जॉनसन कंपनी पर केस है। इन लोगों ने इलज़ाम लगाया है की इसमें  एस्बेस्टस होता है जिससे ओवेरियन एवम दूसरी तरह के कैंसर को बढ़ावा मिलता है। कोर्ट ने पीड़ित परिवारों एवं महिलाओं को नुक्सान की भरपाई के लिए करीब 4.7 अरब डॉलर दिलवाए जिन लोगों ने पाउडर में एस्बेस्टस होने एवं कैंसर का आरोप लगाया था।


 एस्बेस्टस ?

एस्बेस्टस एक बहुत ही खतरनाक अवयव है। अगर हम इसे स्वांस के साथ अपने अन्दर लेते है तो यह कई तरह की खतरनाक बिमारी जैसे फेफड़ों की घटक बिमारी अस्बेस्तोसिस, फेफड़े का कैंसर तथा ओवेरियन कैंसर को जन्म दे सकता है।

बेबी पाउडर से सिर्फ शिशु को ही नहीं बल्कि उसकी माँ को भी ख़तरा होता है क्योंकि उसके संपर्क में दोनों होते हैं। तो यह सिर्फ शिशु को ही नहीं बल्कि उसकी माँ को भी बीमारियाँ दे सकता है।



वह अवतरित हुई,आनंदित हुए हम

दिव्यता
विजयश्री:रिंकु
जन्म 9 अप्रेल 1981 गमन 28 अप्रेल 1984.


 








वह अवतरित हुई
आनन्दित हुए
हम
सब।
उसके 
हाव भाव
देते रहे

दिव्य संदेश।
परी सी उड़ गई
एक दिन
विलीन हो गई
आकाश में।

छोड़ गई
स्मृतियों में
अनन्त
संदेश।

.........
श्रीमती विनीता सूर्यवंशी-करणीदानसिंह राजपूत  :  माता-पिता
योगेन्द्र प्रतापसिंह-रीतिका-अनाया  :(  लघु भ्राता-भाभी-भतीजी,)

रवि प्रतापसिंह-साक्षी:( लघु भ्राता-भाभी)

शनिवार, 27 अप्रैल 2019

सूरतगढ़ के हॉस्टलों व पीजी हॉस्टलों में सबकुछ गैर कानूनी: * लड़के लड़कियों की सुरक्षा पर प्रशासन व पुलिस गंभीर*

^^ संचालकों को कानून पालन की पहली सख्त चेतावनी भरी समझाईस ^^

** विशेष रिपोर्ट- करणीदानसिंह राजपूत **
सूरतगढ़ में कोचिंग और शिक्षण के लिए आए हुए लड़के लड़कियों के अभिभावकों ने ध्यान नहीं दिया तो उनके बच्चे कब किस दुर्घटना,अनहोनी या अनैतिक,गैर कानूनी कार्यों नशा व आपराधिक गतिविधियों की लिप्तता में जा सकते हैं या फुसलाए जा सकते हैं। अधिकांश लड़के लड़कियां नियम विरुद्ध संचालित हो रहे हॉस्टलों व पीजी हॉस्टलों में किरायों में रहते हैं जहां देर रात तक बाहर रहने, कहीं आने जाने पर न रोकटोक है न कोई व्यवस्था है और न कोई समय,न दुर्घटना अनहोनी में बचाव के साधन हैं। सूरतगढ़ में पिछले कुछ सालों में अनेक घटनाएं हुई जिनकी चर्चाएं बनती और खत्म होती रही व  पुलिस रिकॉर्ड तक पहुंच नहीं पाई जिससे हालात विस्फोटक स्थिति की ओर बढते रहे हैं। कुछ मामले पुलिस तक पहुंचे।
उपखंड मजिस्ट्रेट रामावतार कुमावत ने सूरतगढ़ में आने के बाद कानून व्यवस्था व शहर व ग्रामीण क्षेत्र की विभिन्न गतिविधियों पर ध्यान दिया तब शिक्षा के हब प्रचारित हो रहे शहर के हॉस्टलों व पीजी हॉस्टलों की अनियमितताएं सामने आई।
उपखंड मजिस्ट्रेट ने पड़ताल शुरू की तो विस्फोटक स्थिति सामने आई है कि  सभी हॉस्टलों व पीजी हॉस्टलों का संचालन बिना मंजूरी के हो रहा है तथा अभिभावक बेखबर हैं।
प्रशासन और पुलिस ने शिक्षा के लिए आए लड़के लड़कियों के शैक्षणिक जीवन को सुरक्षित रखने की ओर ध्यान देते हुए 25 अप्रैल 2019 को बैठक आयोजित कर हॉस्टलों व पीजी हॉस्टलों के संचालकों को पहली सख्त  समझाईस की है कि सभी नियमों का पालन करें और सब कुछ रिकॉर्ड पर हो।
उपखण्ड मजिस्ट्रेट की अध्यक्षता में नगरपालिका सभागार में दिनांक 25.04.2019 को शहर में संचालित हॉस्टल/निजी पुस्तकालय के सम्बन्ध में बैठक आयोजित हुई।
उपखण्ड मजिस्ट्रेट सूरतगढ़ द्वारा सर्वप्रथम उपस्थित हुए सभी अधिकारियों/हॉस्टल संचालकों का स्वागत सहित परिचय प्राप्त किया गया।
उपखण्ड मजिस्ट्रेट ने संचालकों को बताया कि कोई भी व्यवस्था कानून सम्मत तरीके से संचालित होती है। व्यवस्था बनाये रखने में सभी का सहयोग अपेक्षित है। व्यवस्था में नियम, कायदे, एक्ट तय होते है, प्रशासन को पालना करानी होती है। नियम एवं कायदे, कानून के सिस्टम से ही व्यवस्था चलती है। जो काम जिस ऑथोरिटी ( अधिकृत विभाग) को करना था उसके द्वारा नहीं किया जा रहा है तो इसके लिये वही ऑथोरिटी जिम्मेवार है। हम सभी सिस्टम (व्यवस्था) में है हमारा थीम (ध्येय) एक होता है कि हम सभी मिलकर कानून व्यवस्था बनाएं।
हॉस्टल संचालकों द्वारा हॉस्टल में रह रहे कुल बच्चों की संख्या , हॉस्टल का नाम, स्वयं मालिक या वार्डन का नाम, कब से चल रहा है तथा इसके अनुरूप कुल सीटों के बारे में जानकारी व परिचय दिया गया। हॉस्टल संचालकों से पूछा गया कि हॉस्टल में सीटें किस ऑथोरिटी से स्वीकृत कराई गई है तो कोई जवाब नहीं दिया गया। यह स्थिति उजागर हुई कि सरकारी नियमों के बजाय संचालकों के अपने ही नियम हैं जिनका आधार केवल कमाई करना है।
1.बैठक में बताया गया कि हॉस्टल वाणिज्यिक गतिविधि में आता है तथा हॉस्टल पंजीकृत होना आवश्यक है तथा जिस भवन में है वह भवन भी आवासीय की बजाय वाणिज्यिक में परिवर्तित कराया जाना आवश्यक है। अधिशाषी अधिकारी नगरपालिका को निर्देश दिये गये कि शहर में संचालित हॉस्टलों का वार्डवाईज सर्वे कराया जाकर रिपोर्ट तैयार की जावे कि वार्ड में किस स्थान पर हॉस्टल है व उसमें कमरों की संख्या तथा उसमें बच्चे (लड़के/लड़कियों) की संख्या तथा कब से रह रहे हैं  तथा वार्डन व मालिक कौन है इसकी जानकारी ली जाकर रिपोर्ट तैयार करवायी जावे।
2 लाईब्रेरी संचालकों से जानकारी ली गई कि उक्त लाईब्रेरी किस नियमों के तहत तथा किसकी अनुमति से संचालित की जा रही है लिखित में अवगत करावें। 

3.पीजी के सम्बन्ध में बताया गया कि पीजी (पेईग गेस्ट) वह होता है जो कुछ दिवसों  (सीमित समयावधि) हेतु किसी मकान मालिक के यहां परिवार के सदस्य के रूप में रहता है तथा अपने पर हुए खर्चें का भुगतान करके सीमित समयावधि के बाद चला जाता है। परन्तु शहर में चल रहे पीजी उसकी परिभाषा में नहीं आते है। यह हॉस्टल की श्रेणी में आते है जो वाणिज्यिक गतिविधि है।




4. यदि मकान मालिक द्वारा अपने घर के कमरे किसी को किराये पर दे रखे हैं तो वह गतिविधि किराया अधिनियम के तहत आती है। जिसकी अपील सुनने का क्षेत्राधिकार उपखण्ड मजिस्ट्रेट को है। मकान मालिक द्वारा किरायेदार का डाटा पुलिस को उपलब्ध कराना होगा, उसके बाद पुलिस सत्यापन होगा ताकि किसी प्रकार की आपराधिक गतिविधि में संलिप्त होने की स्थिति में कानूनी कार्यवाही की जा सके।
     5.उपखण्ड मजिस्ट्रेट द्वारा बताया गया कि जब किसी भूमि पर कोई गतिविधि वाणिज्यिक रूप में की जाती है तो उस भूमि का वाणिज्यिक में संपरिवर्तन होना आवश्यक है फिर वाणिज्यिक पंजीयन होता है। इससे होने वाली आय राजकोष में नियमानुसार जमा होती है।              
     6.हॉस्टल संचालकों को बताया गया कि स्थानीय प्रशासन को सामान्य कानून व्यवस्था की स्थिति को भी बनाये रखना होता है। शहर में अत्यधिक संख्या में हॉस्टल होने के कारण तथा एक ही हॉस्टल में अत्याधिक भीड़ की वजह से हॉस्टल में रहने वाले बच्चों को नैसंर्गिक जीवन  जीने की आवश्कताओं में कमी आती हैं। डिप्रेशन( अवसाद)जैसी नकारात्मक प्रभाव बच्चों में आना शुरू हो जाते है। तथा भीड़ वाले एरिया में होने से सही वेंटिलेशन नहीं मिल पाता है तथा पानी बिजली आपूर्ती की समस्या रहती है। इसका उदाहरण वर्तमान में कोटा शहर है।
     7.लाईब्रेरी संचालकों से पूछा गया कि लाईब्रेरी किन नियमों के तहत संचालित की जा रही है तो वे इसका कोई उत्तर ही नहीं दे सके।
8. हॉस्टल संचालक किराये तक सीमित रहते है तथा अभिभावक किराया अदा करके मुक्त हो जाते है। हॉस्टल में रहने वाले बच्चे वाहन तेज गति से चलाते हैं  या बिना परिवहन ड्राईविंग लाईसेंस के व्हीकल या टू व्हीलर चलाते है तो यह समस्त जिम्मेवारी पुलिस प्रशासन तथा स्थानीय निकाय पर आती है।
9. सभी हॉस्टल/लाईब्रेरी संचालक निर्धारित नियम तथा कायदों से कार्य करें। मकान किराये पर चलाने के राज्य सरकार का किराया अधिनियम लागू होता है। नगरपालिका ऐसे मकानों का सर्वे कर नियमों के तहत वांछित कार्यवाही करें।
      10.उपखण्ड मजिस्ट्रेट द्वारा सभी हॉस्टल संचालकों से कानूनी रूप से हॉस्टल संचालन हेतु सुझाव प्राप्त किये गये। हॉस्टल संचालकों ने बताया कि हमें हॉस्टल संचालन के नियम तथा प्रक्रिया की पूर्ण जानकारी नहीं है। जितने नियमों की जानकारी है उनकी पालना की जा रही है व कार्यवाही की जा रही है। इसके अलावा प्रशासन , पुलिस एवं नगरपालिका द्वारा जो नियम बताये जायेंगे उसी अनुसार हॉस्टल का संचालन किया जावेगा।
11. उपखण्ड मजिस्ट्रेट द्वारा संचालकों को बताया गया कि पूर्व में जो चल रहा है वह गलत है या नहीं, यह तय होना चाहिये। हॉस्टल में रहने वाले बच्चे की किसी कारणवश  दुर्घटना या मिसहैपनिंग( अनहोनी घटना) होने पर पूरी जांच होगी। इसलिए संचालकों को रहने वाले बच्चों की पूरी जानकारी रखनी चाहिये। किसी भवन में हॉस्टल संचालित किया जा रहा है तो नियमानुसार  नगरपालिका वांछित कार्यवाही करेगी। हॉस्टल के सम्बन्ध में नियम कायदे होते हैं यथा हॉस्टल के उपर से तार नहीं जाने चाहिये, हाईवे आदि से कितनी दूरी पर होने चाहिए, अस्पताल पास में होना चाहिये इत्यादि। राज्य सरकार सभी प्रकार के नियम बनाकर पालन करवाती है। हॉस्टल संचालक नियमों का पालन करें।
12.यदि हॉस्टल में कोई आपराधिक प्रवृति का व्यक्ति रहना पाया जाता है तो पुलिस कार्यवाही होती है।
13.संचालकों को हॉस्टल में मेडिकल फैसिलिटी व अग्नि शमन की व्यवस्था भी रखनी होती है। यहां जो इंस्टीटयूट संचालित है, वे लिगल फोरम में है या नहीं है इसकी सूची आवश्यक है।
14. अधिशाषी अधिकारी नगरपालिका नियमों को लागू कराया जाना सूनिश्चित करें। यदि हॉस्टल में रहने वाले किसी बच्चे को कोई परेशान करना पाया गया तो उपखण्ड मजिस्ट्रेट या पुलिस उप अधीक्षक द्वारा औचक निरीक्षण किया जा सकता है। प्रशासन सकारात्मक तरीके से काम करना चाहता है,लेकिन नियमों का पालन जरूरी है।
    
15.पुलिस उप अधीक्षक वृत सूरतगढ़ ने बताया कि हॉस्टल वाणिज्यिक गतिविधि में आता है तथा जिस भवन में संचालित हो रहा है वह भवन भी व्यवसायिक में परिवर्तन होना चाहिये तथा बिजली, पानी बिल का भुगतान भी वाणिज्यिक की दर से होता है। समस्त हॉस्टल संचालकों द्वारा एक रजिस्टर का संधारण किया जावे जिसमें रहने वाले बच्चे के पहचान का दस्तावेज, मोबाईल नम्बर, फोटो रजिस्टर में चस्पा होनी चाहिये तथा अलग से प्रत्येक की एक फाईल बनाई जावे। स्थानीय गारजियन, माता पिता का मोबाईल नम्बर भी लिखा जाना चाहिये। हॉस्टल में सीसीटीवी कैमरे आवश्यक रूप से होने चाहिये। संचालकों को यह भी सुनिश्चित करना चाहिये कि जो बच्चा रह रहा है वह डिप्रेशन में तो नहीं है। यदि वह किसी कारणवश  डिप्रेशन में होने से सुसाइड करने तक की स्थिति पैदा हो सकती है। ऐसा कई स्थानों पर पूर्व में हो चुका है। कुछ समय पूर्व हॉस्टल जांच करवाये गये थे जिनमें अनियमिततायें पाई गई थी। पंजाब का गेंगस्टर सूरतगढ़ में रहना पाया गया था। हॉस्टल में बच्चों के आने जाने का समय निर्धारित होना चाहिये। लाईब्रेरी का भी खुलने व बन्द होने का समय निर्धारित होना चाहिये। हॉस्टल का एक गेट होगा जो बंद रहेगा। लाईब्रेरी में जिसका रजिस्ट्रेशन होगा वही रहेगा अन्य साथी नहीं रह सकते, इसलिए  रिकार्ड अपडेट संधारित रखा जाना आवश्यक है,जिससे संचालक स्वयं भी परेशानी से बचे रहेंगे।
16.उपखण्ड मजिस्ट्रेट के ध्यान में लाया गया है कि पूरी पूरी रात लाईब्रेरी केे नाम पर कथित लाईब्रेरियां खुली रहती है तथा पढ़ने वाले लड़के, लड़कियां बिना सुरक्षा उनमें रहते हैं। घर से दूर पढ़ने वाले बच्चों की सेहत एवं अनैतिक कोई घटना ना घटे इसके लिए यह अति आवश्यक है कि इनका संचालन  राजकीय (जिला) पुस्तकालय नियमों के तहत संचालन हो व अवैध व अनैतिक गतिविधि पर कानूनी कार्यवाही हो।
17.अधिशाषी अधिकारी नगरपालिका ने समस्त हॉस्टल संचालकों को बताया कि सूरतगढ़ में काफी संख्या में हॉस्टल संचालित हो रहे है। अनेक हॉस्टल व कोचिंग सेंटर अब हाल ही में खुले हैं  जिनकी किसी को जानकारी नहीं है। कोई अपराध होने के बाद ही हॉस्टल संचालित होने का पता चलता है। शहर में हॉस्टल की संख्या बहुत है। किसी भवन में हॉस्टल चलाने पर आवासीय से व्यावसायिक में परिवर्तन करवाना होगा। यदि हॉस्टल नियमों के प्रतिकूल चलना पाया जाता है तथा किसी प्रकार की अनियमितता पाई जाती है तो सीज किया जा सकता है। हॉस्टल चलने की दिनांक से जुर्माना वसूला जावेगा। हर वार्ड में सर्वे करवाया जावेगा तथा सर्वे के बाद अलग से रजिस्टर संधारण होगा। हॉस्टल भवन को वाणिज्यिक में परिवर्तन करवाया जावे तथा पंजीकरण भी करवायें। पालिका को आय होने पर पालिका द्वारा सुविधाओं में भी विस्तार किया जावेगा। यदि कोई हॉस्टल नियम कायदों के विपरीत संचालित होना पाया जावेगा तो नियमानुसार कार्यवाही अमल में लाई जावेगी।
18. उपखण्ड मजिस्ट्रेट द्वारा अधिशाषी अधिकारी नगरपालिका को निर्देश दिये गये कि जिन हॉस्टल संचालकों को मीटिंग में आने हेतु सुचित किया गया लेकिन सूचना के  बावजूद बैठक में उपस्थित नहीं हुए,उनको नोटिस जारी किया जावे।
19.निर्देश दिए गए कि हॉस्टलों के अन्दर व बाहर नियमित सफाई व्यवस्था हो। देखने में आया है कि हॉस्टल संचालकों द्वारा कचरा डालने की कोई डस्टबीन आदि की कोई व्यवस्था नहीं  है। खुले में कचरा व सब्जियों आदि के वेस्ट फेंकने से गंदगी व बीमारियां फैलती है व आवारा पशु ऐसे कचरे के कारण गली-गली घूमते हैं ।
20.हॉस्टलों व लाईब्रेरी में आगजनी व सुरक्षा से निपटने की पूर्ण माकूल व्यवस्था का जिम्मा संचालकों पर हैं। कोई दुर्घटना न हो इस बाबत् अग्निशमन यंत्र लगाए जावें।
21. पड़ोसियों को कोई अव्यवस्था नहीं हो तथा उनके सामान्य जीवन में कोई व्यवधान हॉस्टल संचालकों व लाईब्रेरी संचालकों की गतिविधियों से या उसमें रहने वालों के कारण ना हो,यह भी  सुनिश्चित किया जावे। हॉस्टलों में प्राथमिक उपचार की व्यवस्था हो।
22.अनाधिकृत रूप से देर रात्रि में (ओड ऑवर्स ) में लड़के, लड़कियां बाहर जायेंगें तो अनैतिक व आपराधिक गतिविधियां होने से इन्कार नहीं किया जा सकता। अतः प्रत्येक हॉस्टल संचालक व प्रत्येक लाईब्रेरी संचालक इसका समय तय करके अवगत करायेंगे, अन्यथा आवश्यकता पड़ने पर प्रशासन द्वारा समय तय कर दिया जावेगा।
23.अधिशाषी अधिकारी नगरपालिका को निर्देशित किया गया कि शहर में चल रहे कोचिंग संस्थानों/शिक्षण संस्थानों की भी उपरोक्त नियमों के तहत परीक्षण व सर्वे करावें व नियमानुसार कार्यवाही कराने के निर्देश दिए गए।
24. तहसीलदार सूरतगढ़ को निर्देशिदत किया गया कि राजस्व नियमों के तहत समस्त तहसील क्षेत्र में इस तरह की गतिविधियों पर नियमानुसार कार्यवाही करें व प्रगति से अवगत् करावें।
25.अधिशाषी अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि अभी तैयार सूची में शहर में 62 हॉस्टल व 10 लाईब्रेरियां संचालित की जा रही है,लेकिन बैठक में 42  हॉस्टल/पीजी संचालक व 5 लाईब्रेरी संचालक  उपस्थित हुए हैं।
अधिशाषी अधिकारी ने बताया कि शहर के अन्दर लगभग 200 हॉस्टल/पीजी व लगभग 20 लाईब्रेरी संचालित हो रही है। सही आंकड़ा वार्ड वाईज सर्वे के बाद ही आ पायेगा। प्रत्येक वार्ड वाईज गहन सर्वे शीघ्र ही उपखण्ड मजिस्ट्रेट महोदय के समक्ष पेश कर दिया जायेगा। इसके अलावा मिटिंग में दिये गए आदेशों (ऊपर वर्णित) की नियमों के तहत पालनाएं भी पेश कर दी जायेगी।
26.सभी को कानून व्यवस्था बनाये रखने व सूरतगढ़ शहर को खूबसूरत बनाने की शपथ दिलायी गयी।
बैठक में  पुलिस उप अधीक्षक श्री विद्या प्रकाश, तहसीलदार प्रदीप कुमार, सिटी पुलिस थाने के एएसआई श्री धर्मेन्द्रसिंह, अधिशाषी अधिकारी नगरपालिका श्री लालचंद सांखला, व हॉस्टल मालिक/प्रतिनिधि/ वार्डन तथा लाईब्रेरी संचालक उपस्थित हुए।

*****



शुक्रवार, 26 अप्रैल 2019

मशहूर पंजाबी गायक दलेर मेहंदी भाजपा में शामिल-जानिए किसने कराया प्रवेश


नई दिल्ली।

देश सहित कनाडा-अमेरिका आदि कई देशों में मशहूर पंजाबी गायक दलेर मेहंदी ने भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली है। वे शुक्रवार 26-4-2019 को  दोपहर में भाजपा के मुख्यालय में पार्टी में शामिल हुए।

 दलेर मेहंदी को भाजपा ज्वाइन कराने वाले उत्तर पश्चिमी दिल्ली लोकसभा सीट (North West Delhi Lok Sabha Seat) से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार हंसराज हंस हैं। 

 दलेर महेंदी और हंस राज हंस दोनों ही गायक होने के साथ एक-दूसरे के समधी भी हैं।

दलेर मेहंदी दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी और केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हुए। माना जा रहा है कि दलेर मेहंदी को भी पंजाब की किसी सीट से भाजपा मैदान में उतार सकती है।


यहां पर बता दें कि हंसराज हंस, दलेर मेहंदी के समधी हैं। हंसराज हंस के बेटे नवराज हंस और दलेर मेहंदी की बेटी अवजीत कौर ने साल 2017 में शादी की थी।


बचपन से है संगीत से लगाव


दलेर मेहंदी के परिवार में सात पीढ़ियों से गाने का ट्रेंड चला आ रहा है। माता-पिता ने संगीत से विशेष लगाव को देखते हुए उन्हें 'राग' और 'सबद' की शिक्षा दे दी थी। 11 साल की छोटी सी उम्र में उन्होंने क्लासिकल संगीत की शिक्षा ली।


गौरतलब है कि पंजाबी सिंगर व कंपोजर दलेरी मेहंदी का बिहार की राजधानी पटना से नाता बहुत पुराना है। दलेर का जन्म 18 अगस्त 1967 में पटना साहिब में हुआ था। उनका बचपन पटना की गलियों में गुजरा है। पटना सिटी स्थित संगीत सदन व मुकुट संगीत स्कूल से संगीत की शिक्षा प्राप्त करने के बाद उन्होंने लंबे समय तक तख्त श्री हरमंदिर साहिब में शबद कीर्तन किया। स्थानीय लोग बताते हैं कि संघर्ष के दलेर मेंहदी पटना में एक रुपये लेकर गाना सुनाया करते थे।

दलेर की दो शादियां हैं। पहली शादी अमरजीत मेहंदी से हुई थी। उनसे बेटा मंदीप मेहंदी और बेटी अजित मेहंदी हुए। मंदीप और अजित दोनों ही पार्श्व गायक हैं। दलेर मेहंदी की दूसरी शादी आर्किटेक्ट और सिंगर तरनप्रीत से हुई है जिन्हें 'निक्की मेहंदी' के नाम से भी जाना जाता है।


चीन ने अब अरुणाचल प्रदेश और POK को बताया भारत का हिस्सा


Apr 26, 2019.ण
भारत के पूर्वोत्तर राज्य अरुणाचल प्रदेश पर हमेशा अपना दावा जताने वाले चीन ने आखिरकार इसे भारत का हिस्सा मान ही लिया है।
चीन ने अपने नक्शे में पाक अधिकृत कश्मीर को और अरुणाचल प्रदेश को भारत का हिस्सा दिखा दिया है।
चीन की राजधानी बीजिंग में 'बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI)' के दूसरे समिट में चीन ने नक्शा प्रदर्शित किया  है। इस नक्शे में भारत को भी BRI का हिस्सा दिखाया गया है।
बता दें कि भारत ने इस समिट का बहिष्कार किया है। इससे पहले 2017 में BRI के पहले समिट में भी भारत शामिल नहीं हुआ था। BRI समिट में 37 देश शामिल हो रहे हैं।
इसका मकसद राजमार्गों, रेल लाइनों, बंदरगाहों और सी-लेन के नेटवर्क के माध्यम से एशिया, अफ्रीका और यूरोप को जोड़ने का लक्ष्य है। तीन दिन तक चलने वाले इस समिट की शुरुआत गुरुवार 25-4-2019 को हुई। ये नक्शा चीन की कॉमर्स मिनिस्ट्री ने पेश किया, जिसमें जम्मू-कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश को भारत का हिस्सा बताया गया है।
दरअसल जम्मू और कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश को भारत में शामिल करना चीन का ये कदम हैरान कर देने वाला है। दरअसल हाल ही में चीन ने अरुणाचल प्रदेश और ताइवान को अपने क्षेत्र का हिस्सा ना दिखाने को लेकर देश में छपे 30,000 विश्व मानचित्रों को नष्ट कर दिया है। चीन अकसर भारत के पूर्वोत्तर राज्य अरुणाचल प्रदेश पर दक्षिण तिब्बत का हिस्सा होने का दावा करता रहा है। वह  अपने रुख को उजागर करने के लिए आए दिन अरुणाचल प्रदेश में भारतीय नेताओं के आने पर आपत्ति जताता रहता है।
भारत का कहना है कि अरुणाचल प्रदेश उसका अभिन्न हिस्सा है और भारतीय नेता देश के अन्य हिस्सों की तरह समय-समय पर अरुणाचल प्रदेश जाते रहते हैं। दोनों देशों ने 3,488 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा से जुड़े सीमा विवाद को हल करने के लिए अभी 21 चरणों की वार्ता की है। चीन उससे अलग हुए ताइवान पर भी अपना दावा जताता है।

( आन लाइन पंजाब केसरी से साभार)

गुरुवार, 25 अप्रैल 2019

सूरतगढ़ थर्मल के कार्यप्रभारी XEN सतीष बतरा की दुर्घटना में मृत्यु




सूरतगढ़ 25 अप्रैल 2019.

सूरतगढ़ तापीय विद्युत परियोजना से रावतसर को जाने वाली  सड़क पर कारों की आमने सामने की टक्कर में सूरतगढ़ थर्मल के अधिशासी अभियंता की मौत हो गई। 

 गुरुवार सुबह करीब आठ बजे सूरतगढ़ तापीय विद्युत परियोजना के अधिशासी अभियंता सतीश कुमार बतरा कार से रावतसर जा रहे थे। एक सामने से आ रही कार और बतरा की कार की टक्कर हो गई। इस दुर्घटना में सतीष बतरा की मृत्यु हो गई व दूसरी कार में सवार दो व्यक्ति घायल हो गए। यह दुर्घटना

थर्मल से मेगा हाइवे को जोड़ने वाली सड़क पर धन्नासर कैंची के नजदीक हुई। 

बतरा की पत्नी रावतसर के राजकीय विद्यालय में अध्यापिका है। अधिशाषी अभियंता गुरुवार को साप्ताहिक अवकाश के कारण रावतसर जा रहे थे। दुर्घटना की सूचना मिलने पर ग्रामीणों ने घायलों को रावतसर के राजकीय चिकित्सालय पहुंचाया जहां चिकित्सको ने बतरा को मृत घोषित कर दिया। बतरा श्रीकरणपुर के रहनेवाले थे।


वही बतरा की कार से भिडऩे वाली कार में सवार दोनों घायलों को गंभीर चोटों के कारण अन्यत्र रेफर करने की सूचना है। 

घटना की सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में थर्मल के अधिकारी और कर्मचारी रावतसर के चिकित्सालय पहुंचे। बतरा 

25-6-2016 से थर्मल में as a xen ड्यूटी कर रहे थे।

मंगलवार, 23 अप्रैल 2019

चौकीदार की लाठी से डर और ललकार से भी डर


 

** करणीदानसिंह राजपूत **


चौकीदार तो हर युग में रहा है। जहां चौकसी की आवश्यकता हुई या जहां गड़बड़ी हुई, वहां पर चौकीदार की मौजूदगी मिली है।पुरातन ग्रंथ और इतिहास साक्षी है।

 सतयुग त्रेता द्वापर से लेकर कलयुग तक चौकीदार रहे हैं।

आजतक चौकीदार है।फिर चौकीदार नाम से घृणा क्यों हो रही है?

इसका कारण है।

मोदी ने यह बोल दिया,

मोदी चौकीदार बन गया।

चौकीदार कोई भी बन जाता और कुछ भी करता।

बस,मोदी नहीं बनना चाहिए था।

मोदी चौकीदार बन गया,यहां तक भी चल जाता,

मगर यह तो चौकीदारी करने लग गया।

अब,मरना यह है कि इस चौकीदार की लाठी से तो डर लगता ही है। इसकी ललकार से भी डर लगता है।**

सोमवार, 22 अप्रैल 2019

मोदी के साथ वह कौन?


** करणीदानसिंह राजपूत **


- मोदी की खास उपलब्धि?

- सबको खड़ा कर रखा है।

- गुजरात का सीएम बना तो बनता ही चला। सीएम की कुर्सी अपनी ईच्छा तक अपने पास रखी। अपनी ईच्छा से छोड़ी।

-ओह! तो अब पीएम की कुर्सी पर अपनी ईच्छा तक बैठेगा।

-समझ में आया मगर देर से।

-फिर भी कब तक बैठेगा?

-जब तक मोदी की ईच्छा।

-ऐसा कैसे हो सकता है? भगवान चाहेगा फिर कैसे रहेगा?

-वह साथ है।

*************


रविवार, 21 अप्रैल 2019

सूरतगढ़ में बिजली गुल और खारे पानी का तूफान * लोकसभा चुनाव के मौके पर लोग नाराज*

****मील से लोगों के दिल नहीं मिलते-भरतराम मेघवाल ने भी मेल की कोशिश नहीं की।*****


* करणीदानसिंह राजपूत *


लोकसभा चुनाव के ऐन मौके पर सूरतगढ़ में खारे पानी का वितरण और बिजली का बीसियों बार गुल हो जाने से तूफान मचा है। सोशल मीडिया पर लगभग हर ग्रुप में खारे पानी और बिजली की आवाजाही पर रोष प्रकट किया जा रहा है। शहर के लोग बेहद नाराज हो रहे हैं कि प्रशासन सो रहा है और विभागों पर उसका कोई नियंत्रण नहीं है। सूरतगढ़ में सूरतगढ़ सुपर थर्मल पावर स्टेशन के होने के बावजूद बिजली की हालत बहुत खराब है। सड़कों की बिजली तो हद से ज्यादा गायब रहती है। एक तरफ अंधेरा तूफानी वर्षा और उस समय बिजली का गायब होना आम आदमी को पीड़ित करने वाला रहा है। आश्चर्य यह है कि लोगों की आवाज़ के बावजूद कोई सुधार नहीं हो रहा। आरोप है कि जोधपुर विद्युत वितरण निगम के अधिकारी सूरतगढ़ में नहीं रहते। वे दूसरे शहरों में रहते हैं रात को यहां नहीं रहते और उस कारण भी व्यवधान रहता है। फील्ड के कर्मचारियों की ड्यूटी भी कार्यालयों में कंप्यूटरों पर लगाने का आरोप है। जनता की आवाज पर कुछ भी नहीं हो रहा है। 

 इस बिजली की अव्यवस्था में पानी का भी बुरा हाल हो गया है। सूर्योदय नगरी में पानी 1 दिन छोड़ कर दिया जाता है उसका भी कोई समय निर्धारित नहीं है। पूर्ण रूप से पानी शुद्ध भी नहीं होता। हालात बहुत खराब है और अचानक 20 अप्रैल से सोशल मीडिया पर छाया कि शहर में खारे पानी की सप्लाई हो रही है। विभाग की ओर से पूर्ण चुपी है। नेताओं की ओर से भी सभी चुप बैठे हैं।


सबसे बड़ी आश्चर्यजनक बात यह है कि चुनाव के मौके पर जब एक तरफ कांग्रेस की सरकार श्री गंगानगर लोकसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी भरतराम मेघवाल को जिताने की कोशिश कर रही है वहीं पर सूरतगढ़ के लोगों को बिजली बंद और खारे पानी की सप्लाई से पीड़ित किया जा रहा है।  इस तरह से कांग्रेस पार्टी के नेता सूरतगढ़ से भरतराम मेघवाल को कैसे वोट दिला पाएंगे? 

एक कहावत भी वर्षों से चली आ रही है के अशोक के काल में बिजली पानी का संकट और आकाल की छाया रहती है। हालात यही दर्शा रहे हैं और कहावत चरितार्थ हो रही है।

इन हालात में तो कांग्रेस को परेशान जनता से अपने प्रत्याशी के लिए वोट मिलना मुश्किल ही लगता है। 

कांग्रेस के लोगों की कोई रुचि नजर नहीं आती है। सूरतगढ़ विधानसभा सीट 2018 में हारने के बाद कांग्रेस की गाड़ी वापस पटरी पर नहीं आई। बिखरे नेता और गुट जुड़ नहीं पाए। किसी ने भी कांग्रेस को एकजुट करने की कोशिश ही नहीं की। असल में मील के साथ दूसरों के दिल ही नहीं मिलते। भरतराम को अपने स्तर पर मेल बिठाने का प्रयास करना था लेकिन जिन्हें मिलने के लिए फोन काल किया,वहां भी नहीं गए।

**********



श्रीगंगानगर-निहाल चंद व भरतराम सहित 9 नामांकन सही पाए गए

लोकसभा आम चुनाव 2019.

** करणीदानसिंह राजपूत **

श्रीगंगानगर, 20 अप्रैल 2019.

लोकसभा आम चुनाव 2019 के दौरान 20 अप्रैल 2019 को जिला कलक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री शिवप्रसाद मदन नकाते ने अन्तिम तिथि 18 अप्रैल 2019 तक प्राप्त 11 उम्मीदवारों के नामांकन पत्रों की संवीक्षा की, जिनमें से 9 नामांकन पत्र विधिमान्य पाए गए। इस अवसर पर भारत निर्वाचन आयोग द्वारा लगाए गए भारतीय प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी एवं सामान्य पर्यवेक्षक श्री अभिशेक जैन भी मौजूद थे। 

गंगानगर संसदीय क्षेत्र के लिए संवीक्षा के बाद ये नामांकन सही पाए गए।

1. निहालचंद, भारतीय जनता पार्टी.

2. भरतराम मेघवाल, इंडियन नेशनल कांग्रेस.

3. रावताराम कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया.

4. लूणाराम बहुजन समाज पार्टी.

 5.तीतरसिंह निर्दलीय.

 6.नरेश कुमार निर्दलीय.

7. डॉ0 बालकृष्ण पंवार निर्दलीय. 

8. भजन सिंह घारू निर्दलीय.

9.सतीश कुमार निर्दलीय.

 

22 अप्रैल को 3 बजे तक नामांकन वापस लेने का समय

    जिला निर्वाचन अधिकारी श्री नकाते ने बताया कि नामांकन पत्रों की संवीक्षा के बाद 22 अप्रैल 2019 को सायं 3 बजे तक नामांकन पत्र वापस लेने का समय रहेगा। इसके पश्चात इसी दिन 3 बजे प्रत्याक्षियों को चुनाव चिन्ह आवंटित किए जाएंगे।

22 अप्रैल को उम्मीदवारों की बैठक 4 बजे

    जिला निर्वाचन अधिकारी श्री नकाते ने बताया कि 22 अप्रैल 2019 को चुनाव चिन्ह आवंटन के बाद 4 बजे कलैक्ट्रेट सभाहॉल में उम्मीदवारों व राजनैतिक दलों की बैठक आयोजित होगी। बैठक में लोकसभा आम चुनाव 2019 के दौरान आदर्श आचार संहिता की पालना, निर्वाचन व्यय, स्वतंत्र निष्पक्ष भयमुक्त मतदान तथा आयोग के दिशा निर्देशों की जानकारी दी जाएग

राहुल गांधी के नामांकन की जांच रोकी गई-नागरिकता पर सवाल उठा:22 तक जवाब मांगा गया


* क्या 2004 में राहुल गांधी ब्रिटिश नागरिक थे, बीजेपी ने उठाया सवाल;*

*नामांकन पत्र की जांच रोकी गई राहुल की नागरिकता पर उठे सवालों के बाद अमेठी लोकसभा सीट से भरे गए राहुल गांधी के नामांकन पत्र की जांच रोक दी गई है।*

 20 Apr 2019.

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की नागरिकता पर बीजेपी ने बड़ा सवाल उठाया है। बीजेपी ने कहा कि राहुल बताएं कि वो ब्रिटिश नागरिक हैं या भारतीय। बीजेपी प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा ने कहा कि राहुल गांधी ने 2004 में खुद को ब्रिटिश नागरिक बताया था।


बीजेपी की ओर से प्रेस कांफ्रेंस करते हुए राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा, नामांकन के दस्‍तावेज में राहुल गांधी का नाम ब्रिटिश नागरिक के तौर पर दर्शाया गया है। इस पर बीजेपी ने सवाल उठाया है कि क्‍या राहुल गांधी ब्रिटिश नागरिक थे। बीजेपी का आरोप है कि राहुल गांधी ने नामांकन में जो दस्‍तावेज दिए हैं, उसमें झूठे तथ्‍य दिखाए गए हैं।

अमेठी के जिला निर्वाचन अधिकारी ने राहुल गांधी को सोमवार तक का समय दिया है। जीवीएल नरसिम्‍हा राव ने कहा, मुझे लगता है कि यह बहुत आश्चर्य की बात है कि उनकी नागरिकता को लेकर जो आपत्तियां जताई गई हैं, उनका जवाब नहीं दिया गया है।

जीवीएल ने कहा, मुझे लगता है कि यह घोर आश्‍चर्य का विषय है कि राहुल गांधी की नागरिकता को लेकर जो सवाल उठाए गए हैं, उसका उन्‍होंने अब तक जवाब नहीं दिया है। राहुल गांधी के कानूनी सलाहकार ने दूसरे उम्‍मीदवारों द्वारा उठाए गए सवालों का अब तक जवाब नहीं दिया है। उन्‍होंने उठाए गए सवालों का जवाब देने के लिए निर्वाचन कार्यालय से समय मांगा है।


राहुल की नागरिकता पर उठे सवालों के बाद अमेठी लोकसभा सीट से भरे गए राहुल गांधी के नामांकन पत्र की जांच रोक दी गई है। राहुल के वकील ने बीजेपी की आपत्ति का जवाब देने के लिए 22 अप्रैल तक का वक्त मांगा है जिसके बाद राहुल के नामांकन पत्र की जांच रोकी गई।

शनिवार, 20 अप्रैल 2019

आयकर रिटर्न नहीं भरने,2013 से 2017 पर कार्यवाही के संकेत

^^ 2.04 करोड़ लोगों ने नहीं भरा आयकर रिटर्न। ^^

* केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने आयकर विभाग से साल 2013 से 2017 के बीच आयकर रिटर्न नहीं दाखिल करने वालों के साथ ही अनियमित आयकर रिटर्न भरने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है। बोर्ड ने आयकर रिटर्न नहीं भरने वाले 2.04 करोड़ लोगों का पता लगाया है।*


केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने आयकर विभाग के 30 जून से टैक्स रिटर्न नहीं भरने वाले और नियमित रूप से टैक्स रिटर्न भरने वालों के खिलाफ जुर्माना लगाने संबंधी कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। आयकर विभाग के नॉन-फाइलर मॉनिटरिंग सिस्टम (एनएमएस) के अनुसार साल 2013 से 2017 के दौरान 2.04 करोड़ आयकर रिटर्न नहीं भरने वालों का पता लगा गया है।

इसके अतिरिक्त 25 लाख ऐसे लोगों की भी पहचान की गई है जो नियमित रूप से टैक्स रिटर्न नहीं भर रहे या बीच में रिटर्न भरने में गैप कर रहे हैं। ऐसे लोग जो एक साल तो रिटर्न भरते हैं लेकिन अगले साल नहीं भरते या बीच में दो साल के गैप के बाद फिर रिटर्न भरते हैं। विभाग ऐसे लोगों को ‘ड्रॉप फाइलर्स’ की कैटेगरी में रखता है। जबकि ‘नॉन फाइलर्स’ वो लोग हैं जो रिटर्न ही नहीं भरते हैं।


असेसिंग अधिकारी ने कहा, ‘हम देशभर के सभी नॉन फाइलर्स और ड्रॉप फाइलर्स को नोटिस जारी कर रहे हैं और संबंधित मामलों में कार्रवाई शुरू की जाएगी।’ आयकर विभाग के सेक्शन 271एफ के अंतर्गत टैक्स रिटर्न नहीं फाइल करने वाले पर जुर्माना लगाया जाएगा। वहीं देरी से रिटर्न फाइल करने वालों पर सेक्शन 234 के तहत कार्रवाई होगी।

यदि करदाता 31 अगस्त की निर्धारित तारीख के बाद लेकिन 31 दिसंबर से पहले रिटर्न फाइल कर देता है तो उस पर 5000 रुपये का जुर्माना लगेगा। वे लोग जो 31 दिसंबर के बाद रिटर्न फाइल करते हैं उनपर जुर्माने की रकम बढ़ कर 10000 रुपये हो जाएगी। हालांकि, इसमें छोटे करदाताओं को छूट दी जाएगी।

यदि उनकी कुल आय 5 लाख से अधिक नहीं है तो उन पर अधिकतम 1000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। एक असेसिंग अधिकारी जुर्माने के साथ ही तीन महीने से लेकर 2 साल तक सजा संबंधी कार्रवाई शुरू कर सकता है। कर योग्य आय 25 लाख से अधिक होने की सूरत में सजा की अवधि बढ़ सकती है।

कर विभाग ने एनएमएस डाटाबेस के आधार पर कार्रवाई शुरू कर दी है। एनएमएस के डाटा को असेसिंग अधिकारियों के साथ साझा किया जा रहा है। एक अधिकारी ने बताया कि इस सूचना के आधार पर कर दायरा को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जाएगा। एनएमएस डाटा के अनुसार साल 2013 के बाद से आयकर रिटर्न नहीं दाखिल करने वाले लोगों की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है।

साल 2014 में आयकर रिटर्न नहीं दाखिल करने वाले लोगों की संख्या 12.2 लाख थी जो साल 2015 में बढ़कर 67.5 लाख हो गई। वहीं ड्रॉप फाइलर्स की संख्या वित्त वर्ष 2017 के 28.3 लाख के मुकाबले वित्त वर्ष 2018 में 25.2 लाख हो गई।

( साभार जनसत्ता ऑनलाइन April 20, 2019.)

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2019

सूरतगढ़ रेलवे स्टेशन पर बिजली से चलेंगी गाड़ियां:पटरियों के विद्युतीकरण में तेजी

 ^^ करणी दान सिंह राजपूत ^^

सूरतगढ़ 19 अप्रैल 2019.

 मॉडल स्टेशन सूरतगढ़ में रेल पटरियों पर विद्युत उपकरण लगाने का कार्य तीव्र गति से चल रहा है। कार्य पूर्ण होने के बाद यहां रेलगाड़ियां का आवागमन विद्युत से शुरू हो जाएगा। 

 सूरतगढ़ से बठिंडा तक रेल लाइन का विद्युतीकरण कार्य लगभग पूर्ण है।  बठिंडा से हनुमानगढ़ तक पूर्व में इंजन चला कर जांच की जा चुकी है।  हनुमानगढ़ से रंग महल स्टेशन तक की जांच कुछ दिनों पहले हो चुकी है।  वर्तमान में रेलवे स्टेशन यार्ड में और प्लेटफार्म के पास तेज गति से कार्य हो रहा है। रेल पटरी का विद्युतीकरण थर्मल पावर स्टेशन तक होगा ताकि कोयले के रेक वहां पर आसानी से पहुंच सकें। 

 रेल पटरी के विद्युतीकरण के बाद बठिंडा सूरतगढ़ के बीच रेलों की गति में और तेजी आएगी।

**************





गुरुवार, 18 अप्रैल 2019

लोकसभा चुनाव 2019-स्वीप कार्यक्रम के तहत सतरंगी सप्ताह 27 अप्रैल से 3 मई


श्रीगंगानगर, 17 अप्रेल। जिला कलक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री शिवप्रसाद मदन नकाते के निर्देशानुसार लोकसभा आम चुनाव 2019 के दौरान 6 मई को मतदान का प्रतिशत बढाने के लिए 27 अप्रैल से 3 मई तक सतरंगी सप्ताह का आयोजन किया जाएगा। 

27 अप्रैल को सतरंगी सप्ताह के दौरान हर शहर में जन जन उठेंगे, मतदान की कीमत समझेगें सांग के साथ दीपदान होगा तथा हम भी वोट करेगे, हम भी गर्व करेंगे सलोगन व बैंगनी कलर की थीम के साथ कार्यक्रम करेंगे। 

इसी प्रकार 28 अप्रैल को अब कोई ना आकर भरमाये, मन मे डर न घर कर जाए संगीत के साथ लालच पर होगी चोट सोच समझकर करेंगे वोट सलोगन व नारंगी रगं की थीम के साथ बैण्डवादन का कार्यक्रम होगा। 

इसी प्रकार 29 अप्रैल को क्या गांव डगर सब संग आये कोई वोट न बाकी रह जाये सांग व हम भी नाचेंगे गायेंगे वोट डालकर आयेगें सलोगन व नीले रंग की थीम पर वोट बारात का कार्यक्रम होगा। 

इसी प्रकार 30 अप्रैल को अब आओं घूंघट से निकले घर ढाणी पनघट से निकले गाने की थीम व वोट करूगीं तभी तो बढूंगी सलोगन व हरे रंग की थीम के साथ महिला मार्च का कार्यक्रम होगा। 

एक मई को हर पीढी के मतदाता जनतंत्र के भाग्यविधाता सांग व जिम्मेदारी का एहसास है वोट डालने को तैयार है सलोगन तथा पीले रंग की थीम के साथ मानव श्रखंला बनाई जाएगी।

 2 मई को हम लोकतंत्र की जान बने जनजागृति का आह्वान् बने सांग व अधिकार का प्रयोग करेंगे , वोट करेंगी वोट करेंगे सलोगन तथा ओरेंज कलर की थीम के साथ ट्राईसाईकिल रैली निकाली जाएगी।

 इसी प्रकार 3 मई को उर्जा हम है, हम संयम है, हम जोश है, हिम्मत दमखम है सांग तथा अगुंली पर निशान राष्ट्र के नाम सलोगन व लाल थीम के साथ वोट मैराथन का आयोजन किया जाएगा। 


सूरतगढ़-सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र को बेबीकिट भेंट

17-4-2019.

महावीर इन्टरनेशनल, सूरतगढ़ द्वारा महावीर जयन्ति के उपलक्ष में एस.टी.पी.एस. सूरतगढ़ के मुख्य अभियन्ता बी.पी. नागर के सहयोग से प्राप्त 100 हाइजैनिक बेबी किट सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सूरतगढ़ में भेंट की गयी। ये बेबी किट राजकीय चिकित्सालय में जन्म लेने वाले प्रत्येक शिशु को निःशुल्क प्रदान की जाती है। इसी के साथ संस्था सदस्य पवन जैन व नीरज डांग के सहयोग से सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती रोगियों को फल व बिस्कुट वितरित किये गये। इस अवसर पर एस.टी.पी.एस. के तकनीकी सहायक हिमांशु बोलिया, नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. सपना बवेजा, नर्सिंगकर्मी बबीता शर्मा, किरण, पूर्ण भाटिया सहित संस्था अध्यक्ष नत्थूराम कलवासिया, पूर्व अध्यक्ष संजय बैद, शंकरलाल मूंधड़ा, विजय कुमार सावनसुखा, अमन रांका, दिलीप मिश्रा, पवन जैन, नीरज डांग, रमेश तिवाड़ी, सचिव राजेश वर्मा उपस्थित थे।


बुधवार, 17 अप्रैल 2019

सूरतगढ़:अवैध खनन व ढुलाई पर सख्ती:अनुमति स्थल के अलावा खनन अवैध:जिप्सम का होता है अवैध खनन.



^^ जिप्सम के अवैध खनन ढुलाई में माफिया और भ्रष्ट अधिकारी मालामाल होते रहे, अब लगेगी रोक ^^
** करणीदानसिंह राजपूत **
 सूरतगढ़। उपखण्ड अधिकारी रामावतार  कुमावत  की अध्यक्षता में तहसील क्षेत्र सूरतगढ़ में अवैध खनन व निर्गमन पर रोकथाम हेतु 16 अप्रैल 2019 को एक बैठक का आयोजन किया गया। 
उपखण्ड अधिकारी ने तहसीलदार सूरतगढ़ को निर्देशित किया कि वे उपखण्ड क्षेत्र सूरतगढ़ में जिन स्थानों पर खान विभाग द्वारा खनन करने का अनुमति पत्र दे रखा है, उसकी सूची प्रस्तुत करें व कनिष्ठ अभिंयता खान विभाग को निर्देशित किया कि उनके विभाग द्वारा उपखण्ड क्षेत्र सूरतगढ़ में कितने खनिज परमिट जारी किये गये हैं  उनकी सम्पूर्ण सूची दो दिवस में प्रस्तुत करें। 
कुमावत ने कहा कि खान विभाग द्वारा जारी खनन परमिट में शर्ते दी हुई होती है, लेकिन लीजधारक खनन परमिट में दी गई शर्तो की पालना नहीं करता है। खनिज परमिट अनुसार खनिज की जाने वाली भूमि पर सम्पूर्ण विवरण सहित बोर्ड व तकनीकी व्यक्ति होना आवश्यक है व अनुमति पत्रधारित भूमि पर सीमांकन आवश्यक है। लेकिन लीजधारक उक्त शर्तो की पालना नही करता है। उन्होंने ऐसे लीजधारक के विरूद्ध नियमानुसार सख्त कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये। 
उन्होंने कहा कि लीजधारक खान विभाग द्वारा जारी परमिट से ज्यादा क्षेत्र में खनन करता है तो वह अवैध खनन की श्रेणी में आता है इसलिये संबंधित लीजधारक के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जाए है व अवैध खनन करने वालों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं  जावे।

  परिवहन विभाग व पुलिस विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया ओवरलोडैड वाहनों पर यातायात नियमों से कठोर कार्यवाही की जावे, अवैध खनन के परिवहन में लिप्त वाहनों के परमिट निलम्बन/निरस्त करने की कार्यवाही नियमानुसार की जाने के साथ ही वाहन चालक का लाईसेन्स भी जब्त करने की कार्यवाही की जावे। तहसीलदार सूरतगढ़ को निर्देशित किया कि वे अपने अधीनस्थ गिरदावर व पटवारियों को निर्देशित कर रिपोर्ट प्राप्त करें कि कहां-कहां अवैध खनन किया जा रहा है तथा खातेदारी भूमि पर अवैध खनन होने पर एवं खान विभाग की अथवा अन्यथा रिपोर्ट प्राप्त होने पर राजस्व अधिकारी नियमों का अनुसरण कर खातेदारी निरस्त करने की कार्यवाही करें। उन्होने कहा कि राजस्व/पुलिस/खान/वन/परिवहन विभाग निचले स्तर पर सामंजस्य रखेगें, निर्दिष्ट स्थान के अतिरिक्त पास में कही से कोई अवैध खनन की सूचना किसी स्त्रोत द्वारा प्राप्त होती है तो उसे नजरन्दाज न कर कार्यवही करेगें। पंचायतीराज विभाग के प्रतिनिधी को निर्देश दिये कि वे अपने अधिकार क्षेत्र की भूमि को सुरक्षित करें यदि कहीं अवैध माईनिंग हो रही है तो पंचायतीराज अधिनियम के तहत नियमानुसार कार्यवाही करें। 
श्री कुमावत ने कहा कि खातेदार कृषक द्वारा अपनी खातेदारी भूमि में खनन करना भी अवैध है, ऐसा करने पर उसके विरूद्ध राजस्थान काश्तकारी अधिनियम के तहत नियमानुसार खातेदारी निरस्त करने की कार्यवाही की जावेगी। यदि कोई व्यक्ति अवैध खनन करते पाया गया तो उसके विरूद्ध नियमानुसार कठोर कार्यवाही की जावेगी। 
      बैठक में श्री रामेश्वरलाल बिश्नोई, उप निरीक्षक सूरतगढ़, श्री ओमप्रकाश रेंजर वन विभाग, श्री सतवीर सिंह, उपनिरीक्षक, परिवहन विभाग, श्री एम0एस0 परिहार, वरिष्ठ प्रबन्धक, एफसीआई, श्री बजरंगसिंह, कनिष्ठ अभियंता, खान विभाग, श्री पवनकुमार, काूननगो तहसील कार्यालय, श्री कुलदीप सिंह रीडर उपखण्ड कार्यालय, श्री रोशनलाल, थाना राजियासर, श्री राजेन्द्रकुमार थाना सूरतगढ़ सदर व श्री तेजाराम, पंचायत प्रसार अधिकारी, सूरतगढ़ उपस्थित रहे।





मंगलवार, 16 अप्रैल 2019

सूरतगढ में संचालित हर होस्टल/पीजी की पुलिस जांच-जांच के बिंदु सख्त-3 दिन में जांच

^^^^^ संचालक व रहने वालों का पूरा विवरण^^^^^

^^ पुलिस सत्यापन नहीं कराने वालों पर बिजली गिरेगी^^


विशेष खबर - करणीदानसिंह राजपूत*


सूरतगढ़ में छोटे बड़े बीसियों हास्टल संचालित हैं जिनमें विद्यार्थी,कोचिंग लेने वाले और विभिन्न सरकारी गैर सरकारी संस्थानों में काम करनेवाले लोग रहते हैं। इसी तरह से पेईंग गेस्ट हाऊस भी हैं। बाहरी लोगों युवाओं की तरफ से अनेक बार दंगे फसाद हुए, मारपीट हुई, डीजे का शोर गुल हुआ। पुलिस जांच की मांग उठती रही।  पुलिस और प्रशासन को ज्ञापन दिए जाते रहे, मगर जांच सिरे नहीं चढी। बीट कांस्टेबल से जांच कराने की मांग सीएलजी की बैठकों में भी होती रही। हालांकि यह काम दो तीन दिन का होते हुए भी कभी संपन्न नहीं हुआ।

सूरतगढ़ सामरिक दृष्टि से संवेदनशील है और यहां अनेक विभाग हैं,लेकिन परवाह नहीं की गई। इस कारण यहां मनमाने तरीकों से होस्टल चलाए जाते रहे। 

अब उपखंड अधिकारी रामावतार कुमावत ने इस अति महत्वपूर्ण मामले पर गौर किया है और जांच के बिंदु तय कर 3 दिन में जांच रिपोर्ट मांगी है। उपखंड अधिकारी ने सूरतगढ़ के उप अधीक्षक पुलिस को  16-4-2019 को पत्र दिया है।


--- जांच के बिंदु ---

सूरतगढ में संचालित हर होस्टल/पीजी की पुलिस जांच-जांच के बिंदु सख्त-3 दिन में जांच

1. होस्टल/पीजी व संचालक नाम व पूर्ण पता, मो0नं0 मय प्रमाण।

2. होस्टल/पीजी में रहने वालों की संख्या एवं सूची (पूर्ण पता मो0नम्बर सहित)।

3. होस्टल/पीजी संचालक द्वारा अपने होस्टल/पीजी में रहने वाले व्यक्तियों के मूल निवास, पता, रेफरेन्स, रहने की अवधि, रहने का उद्देश्य।। अध्ययनरत है तो किस संस्थान में आदि संबन्धी रिकार्ड/रजिस्टर का संधारण किया जा रहा है अथवा नहीं। मालिक द्वारा पहचानस्वरूप लिये गये दस्तावेज की जानकारी। 

4. जांच के दौरान होस्टल/पीजी में कोई बाहर के प्रतिबंधित/अनाधिकृत व्यक्ति के गैरकानूनी रूप से निवासरत होना पाया गया अथवा नहीं। 

5. होस्टल/पीजी में रहने वाले व्यक्तियों के संबन्ध में होस्टल स्वामी द्वारा थाना हाजा में दी गई सूचना एवं पुलिस सत्यापन करवाया गया है अथवा नहीं, संबन्धी विवरण।

6. होस्टल संचालक/पीजी संचालक द्वारा संचालित होस्टल/पीजी के संचालन की अनुमति के संबन्ध में टिप्पणी। 

7. संचालक स्वयं भवन का मालिक है अथवा किराये पर लिया हुआ है। भवन के मालिकाना/किराये पर लिये जाने संबन्धी दस्तावेज की प्रति रिपोर्ट के संलग्न करें। 

8. पुलिस थाना में होस्टल/पीजी के संबन्ध में संधारित रिकार्ड अथवा किसी होस्टल/पीजी की किसी प्रकार से की गई जांच /शिकायत प्राप्ति पर की गई कार्यवाही एवं पाये गये तथ्य संबन्धी विवरण।

(समाप्त)


लोकसभा चुनाव-सूरतगढ़ मेंं 3 भवन अधिग्रहित- अन्य स्थानों पर भी.

श्रीगंगानगर, 16 अप्रेल। लोकसभा आम चुनाव 2019 के प्रयोजनार्थ बाहर से आने वाले केन्द्रीय पुलिस बलों एवं अन्य पुलिस बलों के अधिकारियों, जवानों के उपयोग के लिये लोकप्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 के तहत 30 अप्रेल से 7 मई तक विभिन्न भवनों का अधिग्रहण किया गया है। अधिग्रहित भवन व परिसर को जिला निर्वाचन अधिकारी की पूर्व अनुमति के बिना किसी अन्य कार्य के लिये उपयोग में नही लिया जायेगा। 

    जिला कलक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री शिवप्रसाद मदन नकाते के निर्देशानुसार पंचायती धर्मशाला, महावीर दल मंदिर, सोनी धर्मशाला, कुम्हार धर्मशाला, लीला धर्मशाला गंगानगर, नागपाल धर्मशाला अनुपगढ, व्यापार मंडल नई मंडी घडसाना, अरोडवंश धर्मशाला करणपुर, दुर्गा मंदिर धर्मशाला सादुलशहर, व्यापार मंडल सादुलशहर, महाराजा अग्रसेन आईटीआई कॉलेज सूरतगढ, जसन मेरिज पेलेस सूरतगढ, सत्यनारायण धर्मशाला विजयनगर तथा ब्रह्मण धर्मशाला रायसिंहनगर का अधिग्रहण किया गया है। 

7 मेडिकल स्टोर के अनुज्ञा पत्र निलम्बित-3 से एनडीपीएस औषधियां की अनुमति वापस ली

श्रीगंगानगर, 16 अप्रेल 2019.  औषधि नियंत्रक विभाग द्वारा मेडिकल स्टोर की जॉंच के दौरान अनिममितताऐ पाये जाने पर 7 मेडिकल स्टोर के अनुज्ञा पत्र निलम्बित किये गये है। 

आदेशों के अनुसार शिव मैडिकल स्टोर छापावाली, जयहिन्द मेडिकल स्टोर गोधूवाला तथा सिपसामेड सूरतगढ का 10 प्रकार की एनडीपीएस औषधियों की अनुमति को स्थायी रूप से वापिस ले लिया गया है। 


सहायक औषधि नियंत्रक डी एस उप्पल ने बताया कि सतगुरू मैडिकल स्टोर कोठा का 22 अप्रेल से 1 मई, शिव मैडिकल स्टोर छापावाली का 22 अप्रेल से 1 मई, जयहिन्द मेडिकल स्टोर गोधूवाला का 22 से 28 अप्रेल, सिपसामेड सूरतगढ का 22 से 28 अप्रेल, बवेजा मैडिकल स्टोर ओडकी का 29 अप्रेल से 5 मई, विक्रम मेडिकोज चक 1एलएलपी का 29 अप्रेल से 13 मई तथा गुरूनानक मेडिकोज हिन्दुमलकोट का 29 अप्रेल से 5 मई तक के लिये अनुज्ञा पत्र निलम्बित किये गये है।

सूरतगढ़ स्टेशन- नये निर्माण में खोट:


^^ करणीदानसिंह राजपूत ^^

उत्तर पश्चिम रेलवे के माडल स्टेशन 'सूरत गढ' पर इंजीनियरों की देखरेख में  करोड़ों रूपये खर्च करने के बाद भी अनेक निर्माण कार्य बेहद घटिया हुए हैं।

निर्माण सही नहीं होने, लेवल सही नहीं होने और टूट जाने के प्रमाण हैं।

मुंह तो सुंदर होना चाहिए और उसका रखरखाव भी उच्च स्तरीय होना चाहिए। लेकिन मुख्य द्वार जहां से लोगों का प्रवेश व निकास है वहां आंगन समतल के बजाय नीचे धंस चुका है।टाईल्स इंटरलॉकिंग से पहले मिट्टी को दबाया नहीं गया। अब मामूली वर्षा होने पर पानी भरता है। यात्रियों को मजबूरी में उस पानी में से गुजरना पड़ता है। सवाल यही है कि जूते चप्पल भी क्यों भीगे।

इसी प्रवेश द्वार पर ऊपर देखें तो नाम पट्ट भी टूटा हुआ दिखाई देता है। सूरतगढ़ की यह सूरत निर्माण इंजीनियरों ने और ठेकेदारों ने बना दी है। 


सोमवार, 15 अप्रैल 2019

सूरतगढ़ गंगानगर हनुमानगढ में अंधड़- कुछ बरखा,औले गिरे-किसानों को चिंता

* करणीदानसिंह राजपूत *

मौसम विभाग की पूर्व सूचना के अनुसार इलाके में 15-4-2019 की शाम को करीब पौने सात बजे अंधड़ छाया। अंधड़ की गति काफी तेज। 

कुछ स्थानों पर बरखा ।

गंगानगर जिले में कई स्थानों पर औले गिरे।

मारवाड़ी युवा मंच सूरतगढ़ का शपथ ग्रहण व दानदाता सम्मान सामारोह 14-4-2019.

मारवाड़ी युवा मंच शाखा सूरतगढ़ का शपथ ग्रहण व दानदाता सम्मान सामारोह माहेश्वरी भवन में 14 अप्रैल को सम्पन्न हुआ। 

 कार्यक्रम अध्यक्ष कपिल लखोटिया जी ने शाखा अध्यक्ष भरत मून्दड़ा, सचिव नितेश सोमानी व कोषाध्यक्ष कपिल गुप्ता के साथ कार्यकारिणी को शपथ दिलायी।

कार्यक्रम प्रभारी महेन्द्र बैद के अनुसार मंच कार्यक्रम में मुख्य अतिथि नोएडा से मारवाड़ी युवा मंच के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कपिल लखोटिया कार्यक्रम अध्यक्ष, नोखा से प्रांतीय अध्यक्ष सुरेन्द्र जी भट्टड़ विशिष्ट अतिथि, देशनोक से प्रांतीय महामंत्री जयकरण जी चारण व प्रांतीय उपाध्यक्ष संजय जी चौधरी ने भाग लिया।

मारवाड़ी युवा मंच के कार्यक्रम में कोषाध्यक्ष ने सत्र 18-19 के आय-व्यय का लेखा जोखा प्रस्तुत किया गया।

सचिव ने गत वर्ष हुए सामाजिक प्रकल्पो का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। निवृत अध्यक्ष मनीष सोनी ने अपने कार्यकाल में सहयोग करने के लिये सभी का आभार जताया। 

मंच के सत्र 18-19 के रूप में सर्वश्रष्ठ सदस्य के रूप में अशोक सोनी व अंकित कुक्कड़ को सम्मानित किया गया। 

भरत ऋषि रांका को पांच वर्षो से शाखा के प्रकल्पों व गतिविधियों  में मार्गदर्शन के लिए विशेष सम्मान प्रदान किया गया। 

मंच के सामाजिक प्रकल्पों  में सहयोग करने वाले सभी दानदाता नागरिकों को सम्मान प्रतीक देकर सम्मानित किया गया।

साथ ही हाल ही में मंच से जुड़े नये सदस्यो का स्वागत भी लेपल पिन लगाकर किया गया। नव निर्वाचित कार्यकारिणी ने पूर्व की भांति सामाजिक सारोकार में बढचढ़ कर भाग लेकर मंच के सामाजिक उद्देश्यों को प्राप्त करने में पूरी मेहनत व लगन के कार्य करने का भरोसा दिलाया।

मंच द्वारा आये हुऐ सभी सम्मानित अतिथियों को भी सम्मान प्रतीक देकर सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम का मंच संचालन डॉ आर आर यादव ने किया।





 

 


सूरतगढ़ एसडीएम की क्षेत्र के मतदाताओं व कर्मचारियों को विशेष नवीनतम जानकारी



*** करणीदानसिंह राजपूत *

श्रीगंगानगर जिला मुख्यालय पर दिनांक 13.4.2019 को लोकसभा आम चुनाव-2019 की तैयारियों के संदर्भ में सहायक रिटर्निंग अधिकारियों की बैठक में दिये गये निर्देशों के क्रम में सूरतगढ़ में
उपखंड अधिकारी रामावतार कुमावत ने 14 अप्रैल को बैठक आयोजित कर अति महत्वपूर्ण निर्देश व जानकारी दी।

आम मतदाता के लिए यह जानकारी खास मानते हुए हम प्रकाशित कर रहे हैं।

बैठक में लोकसभा चुनाव के दृष्टिगत लोकशांति बनाये रखने एवं मतदाताओं के लिए निर्भीक वातावरण बनाये रखने हेतु पुलिस उप अधीक्षक सूरतगढ व सभी थानाधिकारियों को वांछित निरोधात्मक कार्यवाही शीघ्र पूरी करने हेतु निर्देश दिये गये तथा चुनावों के दृष्टिगत अवैध शराब, नकदी आदि की जब्ती संबन्धी कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये। बैठक में प्रथम रेण्डमाईजेशन में प्राप्त मशीनों की जांच आदि के बारे में चर्चा करते हुए द्वितीय रेण्डमाईजेशन के तुरन्त बाद ईवीएम तैयारी हेतु आवश्यक  स्टाफ लगाने हेतु निर्देश  दिये गये । विकास अधिकारी एवं तहसीलदार सूरतगढ को निर्वाचन विभाग के निर्देशा नुसार मतदान दिवस को बूथों पर छाया, पानी एवं अन्य आवश्यक सुविधाऐं उपलब्ध कराने हेतु बूथवार व्यवस्था सुनिष्चित करने हेतु निर्देष दिये गये।
          बैठक में जानकारी देते हुए उपखण्ड अधिकारी ने बताया कि पूर्व चुनाव की भांति इस बार भी आदर्श  मतदान केन्द्र , महिला मतदान केन्द्र स्थापित किये जायेंगे। फ्लाईंग स्कवाड, स्थैतिक निगरानी दल, विडियो सर्विलेन्स टीम पूर्णतः सतर्क होकर कार्य करें।
मतदाता सूची के संबन्ध में चर्चा करते हुए उपखण्ड अधिकारी ने बताया कि मतदाता सूची की शुद्वता एवं अद्यतन होना सुनिश्चित की जानी आवश्यक है। क्षैत्र के मतदाताओं को बीएलओ के माध्यम से पर्ची वितरण कार्यक्रम अवधि दिनांक 21.4.2019 से 27.4.2019 के मध्य की निर्धारित कर समय पर पर्ची वितरण करने हेतुु निर्देश  देते हुए उपखण्ड अधिकारी ने बताया कि पर्ची वितरण कार्यक्रम की जानकारी राजनीतिक दलों एवं अभ्यर्थियों को भी यथासमय दी जावे। मतदाता पर्ची कार्यक्रम की चुनाव पर्यवेक्षक एवं तहसीलदार सूरतगढ द्वारा मोनीटरिंग की जाकर सेक्टर ऑफिसर के माध्यम से सत्यापन कराया जायेगा तथा पर्ची वितरण में किसी बीएलओ द्वारा लापरवाही किये जाने पर आयोग के निर्देशानुसार सख्त कार्यवाही अमल में लाई जावेगी। मतदान हेतु निर्वाचन विभाग द्वारा जारी वोटर कार्ड के अलावा अन्य निर्धारित दस्तावेज भी पहचान हेतु मान्य होंगे। निर्वाचन विभाग द्वारा सेक्टर ऑफिसर्स को दी गई रिजर्व मशीनों की जीपीएस द्वारा ट्रेकिंग की जायेगी, इसलिए सेक्टर ऑफिसर्स निर्धारित रूट चार्ट अनुसार भ्रमण एवं जरूरत अनुसार रिजर्व ईवीएम उपलब्ध कराना सुनिश्श्चित करें। मतदान केन्द्रों पर निर्वाचन विभाग द्वारा उपलब्ध कराई जाने वाली सुविधाओं की जानकारी देते हुए उपखण्ड अधिकारी ने बताया कि मतदान केन्द्रों पर आवश्यक होने पर मतदाताओं के लिए छाया हेतु टैण्ट लगाकर छाया की सुविधा दी जायेगी तथा पेयजल हेतु वाटर कैम्पर उपलब्ध कराये जायेंगे । निर्वाचन विभाग द्वारा मतदान केन्द्र पर छाया की सुविधा हेतु 500रूपये एवं पेयजल हेतु 500/-रूपये संबन्धित बीएलओ को दिये जायेंगे। दिव्यांग एवं वृद्वजन मतदाओं की सहायता व केन्द्रों  पर मतदाताओं के कतारबद्व करने व्यवस्था हेतु प्रत्येक मतदान केन्द्र पर 2 स्काउट गाईड लगाये जायेंगे। स्काउट गाईड को इस हेतु ट्रेनिंग के 250/-, मतदान दिवस का 250रूपये व भोजन हेतु 150 रूप्ये का भुगतान बीएलओ के माध्यम से किया जायेगा।
बैठक में श्री प्रदीपकुमार चाहर तहसीलदार सूरतगढ़, श्री विनोद कुमार विकास अधिकारी, प0स0 सूरतगढ़, श्री लालचन्द सांखला अधिशाषी अधिकारी नगरपालिका सूरतगढ़, चुनाव प्रभारी मलकीत सिंह, सह प्रभारी शाईना भटेजा व श्री विशाल सिंह आदि कार्मिक उपस्थित थे।

रविवार, 14 अप्रैल 2019

भादू कटले के निर्माण की स्वीकृति में गड़बड़ी- पूरा पढें

** करणीदानसिंह राजपूत **

^^ आरोप-सरकारी नियमों में निर्माण स्वीकृति मिलना असंभव था,मगर पूर्व के एक  पालिका अधिकारी ने तथ्यों की अनदेखी कर नियमों को ताक पर रख,स्वीकृति जारी करदी- दस्तावेजों की नकलें लेने वालों के सामने ऐसी स्थिति स्पष्ट हुई है।बात का निचोड़ यह है कि कटले का निर्माण द्रुत गति से चल रहा है और ऐसे में कौन बिल्ली के गले में घंटी बांधे। इस निर्माण को लेकर चर्चाएं हैं और राजनीतिक बड़े लोग एकदम चुप हैं और शहर उनकी ओर देख रहा है। राजनीतिक नेताओं में जिन्होंने सीधे संघर्ष करने से मना किया था,उनके समाचार ब्लास्ट की आवाज में बहुत पहले छप चुके।


**कानूनी रूप में किसी ने भी कटले के निर्माण को रोकने के लिये पालिका में कोई आवेदन नहीं दिया और संघर्ष करने को सामने नहीं आया। **

सूरतगढ।  मुख्य बाजार में बीकानेर रोड से सटी जमीन पर तेज गति से बनाए जा रहे भादू शॉपिंग कांपलेक्स की नगर पालिका द्वारा जारी की गई निर्माण स्वीकृति में गड़बड़ी है। जिस भूखंड पर निर्माण चल रहा है, उस पर दस्तावेज की अनदेखी की जाने की चर्चा है। नगरपालिका की ओर से मौजूद स्थिति दस्तावेजों व आवेदन पर निर्माण की स्वीकृति गलत दी गई की चर्चा अब होने लगी है जब निर्माण धरती के ऊपर नजर आने लगा है। 

संपूर्ण भूखंड की मालिकाना अधिकारिता में जो आवेदन किया गया, उसमें निर्माण की स्वीकृति दी नहीं जा सकती लेकिन गलत दे दी। आरोप है कि आवेदन कीअसलियत और मौजूद भूखंड के तथ्यों में अंतर है, मेल नहीं है,जिसके कारण निर्माण की स्वीकृति दी नहीं जा सकती थी।

 दस्तावेजों में मौजूद तथ्यों की वजह से नियमों की पालना की जाती तो स्वीकृति जारी नहीं होती लेकिन नगर पालिका की ओर से अनदेखी कर निर्माण करने की स्वीकृति मालिकों को दी गई। भूखंड पर निर्माण स्वीकृति के बाद निर्माण कार्य तेज गति से चलता हुआ भूमिगत कार्य के बाद जब भूमि से ऊपर शुरू हुआ तो नजरों में आने लगा। 

 इस निर्माण कार्य को लेकर चर्चाएं तो आम हैं मगर गलत स्वीकृति और अनेक तथ्यों को नजर बंद रखते हुए स्वीकृति जारी कर दी गई। वर्तमान अधिशासी अधिकारी से पहले यह स्वीकृति जारी की गई कटले की भूमि और सड़कों गलियों के बारे में भी गड़बड़ी के आरोप हैं। राजनीतिक दृष्टि से शहर में चर्चाओं के बावजूद भी कोई राजनीतिक नेता इस मामले पर मुंह खोलना नहीं चाहता। लोग दस्तावेज प्राप्त करते हैं और पढ़ कर के रह जाते हैं। समाचार भी छपते हैं पढ़े जाते हैं मगर कोई भी व्यक्ति इस प्रकरण में पक्की कार्यवाही करने को आगे नहीं आता। अभी भी यही स्थिति बनी हुई है चर्चाएं गर्म है और चर्चाओं से कुछ होने वाला नहीं है।

 कोई भी बड़ा आदमी या राजनीति पार्टी का नेता और कार्यकर्ता दूसरे बड़े आदमी या राजनीति परिवार के विरुद्ध संघर्ष करने के बजाय अनजान बने रहना अच्छा समझता है। लेकिन राजनीतिक नेताओं के अलावा भी लोग रहते हैं जो नजरों में नहीं आकर भी काम करते हैं। ऐसा अनेक स्थानों पर हो चुका है।***

( ब्लास्ट की आवाज 15-4-2019 में)






सूरतगढ़:महावीर इन्टरनेशनल व वीरा केन्द्र की नवनिर्वाचित कार्यकारिणी का शपथग्रहण 14-4-2019.








सूरतगढ़ 14 अप्रैल, 2019.

 समाज सेवा संस्था महावीर इंटरनेशनल सूरतगढ़ व वीरा केंद्र का शपथ ग्रहण समारोह अग्रसेन भवन में आयोजित किया गया।

 कार्यक्रम के अध्यक्ष महावीर इन्टरनेशनल एपेक्स के अन्तर्राष्ट्रीय महासचिव वीर डॉ. विनय शर्मा, मुख्य अतिथि एस.टी.पी.एस. सूरतगढ़ के मुख्य अभियन्ता बी.पी. नागर, सम्मानीय अतिथि बीकानेर के साहित्याचार्य एवं कथावाचक श्रद्धेय रमन जी महाराज थे, जबकि विशिष्ट अतिथि सी.आर.पी.एफ. के डी.आई.जी. गिरीश चावला, व्यापार मण्डल अध्यक्ष दीपक भाटिया, महावीर इन्टरनेशनल एपेक्स की संभागीय अध्यक्ष वीरा चारू नाहटा व जोन सचिव वीरा नन्दिनी छल्लानी थी। अतिथियों द्वारा दीप प्रज्जवलन कर समारोह का शुभारम्भ किया गया।

 वीरा केन्द्र की बहिनों द्वारा प्रार्थना व संस्था सचिव दिलीप मिश्रा ने स्वागत के रूप में अपना उद्बोधन प्रस्तुत किया। रोज वेली स्कूल के विद्यार्थियों द्वारा स्वागत गीत व नृत्य प्रस्तुत किया गया। अध्यक्ष नत्थूराम कलवासिया एवं वीरा केन्द्र की अध्यक्ष नीतू बैद ने वर्ष 2016 से 2019 तक अपना अध्यक्षीय प्रतिवेदन एवं भावी योजनाओं का प्रारूप प्रस्तुत किया तथा कोषाध्यक्ष अमन रांका ने आय-व्यय का ब्यौरा प्रस्तुत किया। 

अतिथियों द्वारा रक्तदाताओं, भामाशाहों, सहयोगी संस्थाओं को सम्मानित किया गया व सांस्कृति कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले विद्यार्थियों को प्रोत्साहन स्वरूप उपहार दिये गये। समारोह के दौरान हंसराज पचेरिया ने देहदान की घोषणा की तथा निर्धन कन्याओं की शादी के लिए समाज सेवी रायचन्द डागा ने 11,000/-रू, रमाकान्त सोनी ने 5100/-रू. व बी.पी. नागर ने नवजात शिशुओं के लिए 100 बेबी किट देने की घोषणा की। सचिव राजेश वर्मा द्वारा महावीर इन्टरनेशनल के प्रकल्पों के बारे में प्रश्नोतरी कार्यक्रम में आगन्तुकों से प्रश्न पूछे गये व कार्यक्रम के दौरान लक्की ड्रा का भी आयोजन किया गया। प्रश्नोतरी व लक्की ड्रा के विजेताओं को भी उपहार भेंट किये गये। डॉ. विनय शर्मा ने नई कार्यकारिणी में अध्यक्ष नत्थूराम कलवासिया, संरक्षक सुरेश सिडाना, उपाध्यक्ष शंकर लाल मूंदड़ा, सचिव राजेश वर्मा, कोषाध्यक्ष अमन रांका, सह-सचिव विजय कुमार सावनसुखा, धनसंग्रह अधिकारी अनिल वर्मा व जनसम्पर्क अधिकारी शिशपाल सारस्वत को एवं नये सदस्यों में रमेश तिवाड़ी, चन्द्र सिंह चौधरी व दीपक बिश्नोई को शपथ दिलाई। इसी प्रकार वीरा केन्द्र की अध्यक्ष नीतू बैद, उपाध्यक्ष इन्दु सोनी, सचिव अंजना सिंह, कोषाध्यक्ष सोनू डागा, सह-सचिव विजयश्री बैद को एवं नई सदस्यों में खुशबु सिंह, सारिका रांका, पूजा बैद, ममता सारड़ा, अनुजा सारड़ा, प्रमिला सुराणा, प्रीति मूंधड़ा, अनिशा नौलखा, चन्दा नौलखा, अदिती गोदारा को शपथ दिलाई गई। कार्यक्रम अध्यक्ष डॉ. विनय शर्मा ने रक्तदान व पौधारोपण जैसे सेवा कार्यों को और अधिक सुदृढ़ बनाने के लिए महावीर इन्टरनेशनल एपेक्स द्वारा शीघ्र ही लांच किये जा रहे एप के बारे में जानकारी दी तथा अन्य सेवा कार्यों के बारे में भी मार्गदर्शन किया। बी.पी. नागर व दीपक भाटिया ने संस्था के सेवा कार्यों की सराहना करते हुए मानव सेवा को सर्वोपरि बताया। 

श्रद्धेय रमन जी महाराज ने कहा कि ऋग्वेद के अनुसार ‘अस्माकम सेवा धर्म’ अर्थात सेवा ही धर्म है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक धार्मिक ग्रन्थ में सेवा का भाव अंकित है। प्रत्येक सामाजिक संस्थाओं को सत्यता, शुद्ध आचरण, सदाचार, अंहकारविहीन आदि सात तरह की मर्यादाओं में रहते हुए सेवा कार्य करने के लिए प्रोत्साहित किया। 

गिरीश चावला ने संस्था के सेवा प्रकल्पों की प्रशंसा करते हुए सी.आर.पी.एफ. की ओर से मानव सेवा, पौधारोपण जैसे सेवा कार्यों में हर संभव सहयोग देने का आश्वासन दिया। 

चारू नाहटा व नन्दिनी छल्लानी ने संस्था व वीरा केन्द्र के सेवा कार्यों की सराहना करते हुए नारी सशक्तिकरण के बारे में बताया। उन्होंने नारी को शिक्षित कर सिलाई आदि जैसी कलायें सिखाकर उन्हें रोजगारयुक्त बनाने का संदेश दिया तथा महावीर इन्टरनेशनल की ‘स्वस्थ मां स्वस्थ शिशु’ योजना के बारे में बताया। 

इस कार्यक्रम में दानदाता, रक्तदाता, सहयोगी संस्थाओं सहित विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारीगण, गणमान्य व्यक्ति आदि उपस्थित हुए।

संस्था द्वारा सभी अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। नवनिर्वाचित सचिव वीर राजेश वर्मा ने आगन्तुकों का आभार व्यक्त किया। मंच का सफल संचालन पूर्व अध्यक्ष संजय बैद व विकास पारीक ने संयुक्त रूप से किया।





यह ब्लॉग खोजें