मंगलवार, 26 मार्च 2019

घनश्याम तिवाड़ी तिवाड़ी ने थामा कांग्रेस का हाथ, भाजपा के दो नेता भी जुड़े;


 12 निर्दलीय विधायकों ने किया समर्थन

26, मार्च 2019.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी मेंभारत वाहिनी पार्टी के प्रमुख व पूर्व भाजपा नेता घनश्याम तिवाड़ी कांग्रेस में शामिल हो गए।उनके साथ भाजपा नेता रह चुके सुरेंद्र गोयल (पूर्व केबिनेट मंत्री) औरजनार्दन गहलोत (पूर्व केबिनेट मंत्री) भी कांग्रेस से जुड़े।

इसके अलावा 12 निर्दलीय विधायकों ने भी कांग्रेस का समर्थन किया है। राहुल  जयपुर मेंकार्यकर्ता सम्मेलन में शामिल होने पहुंचे थे।

इस दौरान तिवाड़ी ने कहाकि लोकतंत्र को बचाने की जरूरत है। इसलिए वह कांग्रेस से जुड़ रहे हैं। तिवाड़ी भाजपा के वरिष्ठ नेता रह चुके हैं। वे कई बारविधानसभा के सदस्य भी रहे हैं। विधानसभा चुनाव से पहले उन्होंने भाजपा छोड़ दी थी और भारत वाहिनी पार्टी से चुनाव लड़ा था। जिसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा था।

तिवाड़ी ने कहा कि जिन सिंद्धांतों के साथ भाजपा में और भारत वाहिनी पार्टी में काम किया। उन्हीं सिद्धांतों पर आगे भी कायम रहूंगा। अभी वे कांग्रेस से जुड़ रहे हैं। आगेभारत वाहिनी के कांग्रेस में विलय की प्रक्रिया होगी।


घनश्याम तिवाड़ी का राजनैतिक सफर


घनश्याम तिवाड़ी ने भाजपा में कई अहम पदों पर काम किया है। राजस्थान की 7वीं, 8वीं, 10वीं, 12वीं, 13वीं, 14वीं विधानसभा के सदस्य रहे। तिवाड़ी 1980 में पहली बार सीकर से विधायक बने। इसके बाद 1985 से 1989 तक पुन: विधानसभा क्षेत्र सीकर से विधायक रहे। 1993 से 1998 तक विधानसभा क्षेत्र चौमूं से विधायक बने। वह जुलाई 1998 से नवम्बर 1998 तक भैरोंसिंह शेखावत सरकार में ऊर्जा मंत्री भी रह चुके हैं। दिसम्बर, 2003 से 2007 तक वसुंधरा राजे सरकार में प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च माध्यमिक शिक्षा, संस्कृत शिक्षा, विधि एवं न्याय, संसदीय मामले, भाषाई अल्पसंख्यक, पुस्तकालय एवं भाषा मंत्री रहे। दिसम्बर 2007 से वर्ष 2008 तक खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति और विधि एवं न्याय मंत्री के पद पर रहे।


इन विधायकों ने दिया कांग्रेस को समर्थन

तिवाड़ी के साथ ही 12 निर्दलीय विधायकों ने भीकांग्रेस को समर्थन देने की घोषणा की जिनमें राजकुमार गौड़,रमीला खडिया,कांतिलाल मीणा, रामकेश मीणा,लक्ष्मण मीणा,संयम लोढा,बाबूलाल नागर,आलोक बेनीवाल, बलजीत यादव,सुरेश टांक,खुशवीर सिंह जोझावर,महादेव सिंह खंडेला हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें