बुधवार, 4 अप्रैल 2018

यों फंसा रिश्वत लेते हड्डीरोग डाक्टर


चित्तौडग़ढ़. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो चित्तौडग़ढ़ ने 3-4-2018 को फ्रेक्चर का ऑपरेशन करने के नाम पर पांच हजार रुपए की घूस लेने के आरोप में सांवलियाजी राजकीय सामान्य चिकित्सालय के अस्थि रोग विशेषज्ञ व एक मेडिकल व्यवसायी बिचौलिए को गिरफ्तार किया है।

ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक चिरंजीलाल मीणा ने अनुसार गांधी नगर निवासी संतोष (30)पत्नी धर्मवीर जाट के हाथ में फ्रेक्चर होने पर वह सांवलिया जी राजकीय सामान्य चिकित्सालयमें उपचार के लिए अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ. संजय मीणा के पास गई। चिकित्सक मीणा  ने ऑपरेशन करने के नाम पर पांच हजार रू की रिश्वत मांगी।

 महिला ने एसीबी कार्यालय में इस संबंध में शिकायत की। ब्यूरो की ओर से सत्यापन के बाद महिला ने चिकित्सक से पांच हजार रुपए देने के लिए बात की तो उसने कहा कि यह राशि वह अस्पताल के सामने स्थित न्यू श्री मेडिकल के संचालक गोपाल पालीवाल को दे दें। महिला ने जैसे ही पालीवाल को पांच हजार रुपए दिए, ब्यूरो की टीम ने उसे दबोच लिया। 

ब्यूरो की टीम ने मेडिकलस्टोर वाले की चिकित्सक मीणा से मोबाइल पर बात करवाई तो चिकित्सक ने मेडिकल व्यवसायी को यह राशि अपने पास रख लेने को कहा।

 ब्यूरो की टीम बाद में सांवलियाजी अस्पताल पहुंची और चिकित्सक बूंदी जिले के रूपनगर निवासी संजय मीणा (36) पुत्र हीरालाल मीणा तथा न्यू श्री मेडिकल के संचालक भदेसर थानान्तर्गत होड़ा निवासी गोपाललाल (42) पुत्र गंगाधर पालीवाल को गिरफ्तार कर लिया। 

दोनों आरोपितों के घरों की तलाशी ली गई, लेकिन वहां कुछ नहीं मिला।  एसीबी की इस कार्रवाई से प्रशासनिक व चिकित्सा क्षेत्र में हलचल मच गई। सांवलियाजी जिला अस्पताल के अंदर एसीबी टीम देख सुबह आउटडोर में वहां आए लोग भी चकित रह गए।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें