शुक्रवार, 16 फ़रवरी 2018

बिल्ली के घर में आने से आती है परेशानियां






घरों में बिल्लियों को पालतू जानवर के रूप में पाला जाता है, लेकिन यह कितना अशुभ है या शुभ इसके बारे में कई धारणाएँ हैं। नारद पुराण के मुताबिक बिल्ली का घर में बार-बार आना तक अशुभ माना गया है। यदि बिल्ली घर में आती है तो जरूर कुछ अशुभ होने वाला है क्योंकि उसे नकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक माना गया है।


बिल्ली पॉज़िटिव एनर्जी का नाश करती हैं 

जहां-जहां बिल्ली जाती है या आती है वहां सकारात्मक ऊर्जा की हानि होती है। इसलिए तंत्र-मंत्र की साधना करने वाले बिल्ली को काली शक्ति के प्रतीक के रूप में मानते हैं। 

यदि किसी घर में बिल्ली बार-बार आती है तो उस घर में रहने वाले लोगों के स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव बना रहता है।


परेशानियां लाती हैं बिल्लियाँ


जहां तक हो सके बिल्ली को घर में बार-बार न आने दें यदि फिर भी ऎसा होता है तो उससे निकली नकारात्मक ऊर्जा से मुक्ति पाने के लिए सत्यनारायण भगवान की पूजा अथवा कोई हवन का अनुष्ठान करवाएं। माना जाता है की बिल्ली घर में एक के बाद एक नई समस्या लाती है जिस कारण घर का मुखिया तनाव में रहता है।


सावधान हो जाएं

अगर आपके घर में अचानक ही बिल्लियों का आना बढ़ गया है तो इसे सामान्य बात मानकर अनदेखी नहीं करें. यह भविष्य में होने वाली घटना का संकेत हो सकता है. इसलिए सावधान हो जाएं.


क्यों है बिल्ली अशुभ


इसका कारण यह है कि बिल्ली के घर में बार-बार आने से बिल्ली के दूध पी जाने का खतरा ही नहीं रहता बल्कि घर में नकारात्मक उर्जा बढ़ने लगती है. नारद पुराण में बताया गया है कि बिल्लियों की पैरों की धूल जहां जहां भी उड़ती है वहां सकारात्मक उर्जा की हानि होती है यानी शुभ का नाश होता है.


बिल्ली अशुभ क्यों मानी जाती है


तंत्र-मंत्र की साधना करने वाले बिल्ली को काली शक्ति का प्रतीक मानते हैं और बिल्लियों की पूजा करते हैं. बिल्लियों का पितरों से भी संबंध माना गया है. इसलिए भी बल्लियों का घर में आना अशुभ माना जाता है. बिल्लियों के बारे में मान्यता है कि भोजन करते समय बिल्ली आकर देखे तो कष्ट होता है और बड़ी हानि होती है.


भाग जाती है पालतू बिल्ली


कुछ लोगों के यहां कोई अशुभ घटना होने पर बिल्लियों का आना बढ़ने की बजाय. इनकी पालतू बिल्ली भी घर से भाग जाती है. इसका कारण यह है कि बिल्लियों की छठी इन्द्री अधिक सक्रिय होती है जिससे उन्हें पूर्वाभास हो जाता है और घर छोड़कर भाग जाती है.


ब‌िल्ली द्वारा सिर चाटना


 सोये हुए हैं और बिल्ली आकर ‌स‌िर चाटने लगे तो सरकारी मामले में फंस सकते हैं। बिल्ली का पैर चाटना निकट भविष्य में बीमार होने का संकेत होता है। ब‌िल्ली ऊपर से कूद कर चली जाए तो तकलीफ सहनी पड़ती है।


बिल्ली का रास्ता काटना


मान्यता अनुसार काली बिल्ली का रास्ता काटना तभी अशुभ माना जाता है जबकि बिल्ली बाईं ओर रास्ता काटते हुए दाईं ओर जाए। 

अन्य स्थ‌ित‌ियों में बिल्ली का रास्ता काटना अशुभ नहीं माना जाता है। जब बिल्ली रास्ता काटकर दूसरी ओर चली जाती है तो अपने पीछे वह उसकी नेगेटिव ऊर्जा छोड़ जाती है, जो काफी देर तक उस मार्ग पर बनी रहती है। खासकर काली बिल्ली के बारे में यह माना जाता है।


बिल्ली का रोना


बिल्ली के रोने की आवाज बहुत ही डरावनी होती है। निश्‍चित ही इसको सुनने से हमारे मन में भय और आशंका का जन्म होता है। माना जाता है कि बिल्ली अगर घर में आकर रोने लगे तो घर के किसी सदस्य की मौत होने की सूचना है या कोई अनहोनी घटना हो सकती है।


बिल्ली का आपस में झगड़ना


बिल्लियों का आपस में लड़ना धनहानि और गृहकलह का संकेत है। यदि किसी के घर में बिल्लियां आपस में लड़ रही हैं तो माना जाता है कि शीघ्र ही घर में कलह उत्पन्न होने वाली है। गृहकलह से ही धनहानि होती है।


बिल्ली से जुड़े कुछ और विश्वास


लोक मान्यता है कि दीपावली की रात घर में ब‌िल्ली का आना शुभ शगुन होता है। बिल्ली घर में बच्चे को जन्‍म देती है तो इसे भी अच्छा माना जाता है।


बिल्ली से जुड़े कुछ और विश्वास


लाल किताब के अनुसार बिल्ली को राहु की सवारी कहा गया है। जिस जातक की कुण्डली में राहु शुभ नहीं है उसे राहु के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए ब‌िल्ली पालना चाहिए।


बिल्ली से जुड़े कुछ और विश्वास


यदि सोए हुए व्यक्ति के ‌स‌िर को बिल्ली चाटने लगे तो ऐसा व्यक्ति सरकारी मामले में फंस सकता है। यदि आप कहीं जा रहे हैं और बिल्ली आपके सामने कोई खाने वाली वस्तु लेकर आए और म्याऊं बोले तो- अशुभ होता है। यही क्रिया आपके घर आते समय हो तो- शुभ होता है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें