Sunday, June 11, 2017

सूरतगढ में फटफटिया सवार बदमाशों की छीना-झपटी और छेड़छाड़ का खतरा बढा

- करणीदानसिंह राजपूत -

सावधान! सावधान!! सावधान!!!

 सूरतगढ़ में फटफटिया सवार गुंडों की छीनाझपटी का खतरा फिर से पैदा हो गया है।किसी के साथ  कभी भी  छीना-झपटी हो सकती है और इसमें कीमती सामान रकम जाने के साथ चोट भी पहुंच सकती है। फटफटिया सवार गुंडे उचक्के छीना झपटी के वक्त हमला ही करते हैं जिससे चोट लगने का खतरा रहता है।
विदित रहे कि 6 जून शाम को पर्स छीनकर दो बदमाश फटफटिया पर फरार हो गए ।

इस प्रकार की घटना किसी के साथ भी आगे भी हो सकती है।

 बदमाश उचक्के कहीं भी घटना घटित कर सकते हैं और उससे चोट भी पहुंच सकती है इसलिए सावधान रहने की आवश्यकता है ।
जिन गलियों में अंधेरा रहता हो प्रकाश कम हो और आवागमन कम रहता हो उधर से निकलते वक्त सावधान रहने की अधिक आवश्यकता है।
फटफटिया पर सवार बदमाश उचक्के कहीं भी इस प्रकार की गलियों में प्रगट होते हैं और असावधानी से निकल रहे लोगों पर झपट्टा मारकर उनके पर्स और थैले आदि छीन कर ले जा सकते हैं। बैंकों के आसपास भी असावधानी से गुजरने वाले लोगों विशेषकर बुड्ढे एवं महिलाओं पर छीनाझपटी हो सकती है। खासकर देखा गया है कि जो पर्स हाथ में पकड़े हुए होते हैं उन्हें छीनकर भागने में उचक्कों को आसानी रहती है। अनेक लोग बैंकों से बाहर निकलते वक्त अपनी रकम रुमाल आदि में लपेट करके निकलते हैं और वह रूमाल कपड़ा हाथ में ही पकड़ा हुआ होता है जो आसानी से उचक्के ले जा सकते हैं। सूरतगढ़ में महिलाओं के साथ पहले भी छीना झपटी की घटनाएं हो चुकी है। बैंकों के आगे से भी रुपए भरे बैग उचक्के छीन कर ले जा चुके हैं। ऐसे हालात में खुद की सजगता जरूरी है। गलियों में निकलते वक्त मोड़ पर घूमते वक्त इधर उधर नजर रखना जरूरी है और संदिग्ध अवस्था में कोई गली में मोटरसाइकिल लिए हुए संदेह की हालत में खड़े युवक दिखाई दे तो सावधानी से आगे बढ़ें। अगर लगे कि खतरा है तो दूसरा मार्ग भी उपयोग में लेना चाहिए।
 यदि रात को आवागमन करना है तो कम प्रकाश वाली सुनसान गलियों के बजाय प्रकाशवान सड़कों को उपयोग में लेना चाहिए।  लेकिन गली मोहल्लों में गलियां अंधेरी और कम रोशनी वाली होती हैं।
 घटना मुख्य सड़क पर भी हो सकती है मगर वहां गलियों के बजाय संभावना कम होती है और घटना के बाद गुंडे/गुंडों, उचक्के/उचक्कों का पीछा करने में आसपास के लोगों को आसानी होती है। लोग तत्काल पीछा करके छीना झपटी करने वालों को पकड़ भी सकते हैं।
लड़कियों महिलाओं से छेड़खानी करने वाले  फटफटिया सवार गुंडे बदमाशों की हरकतों पर भी ध्यान रखना और पुलिस को सूचित करने की जरूरत होती जा रही है। फटफटिया सवार बदमाश अकेली लड़की या युवती को देखकर छेड़खानी करते हैं तथा फरार हो जाते हैं।  फटफटिया की पहचान ही अलग होती है। साइलेंसर में जाली निकालते हैं जिससे भयानक डरावना शोर होता है और उससे लड़की युवती महिला घबरा जाती है।अजीबो आवाज करने वाले हार्न भी डराते हैं।

ऐसे बदमाशों की पहचान करना कठिन नहीं है। पुलिस को ऐसे गुंडे-बदमाशों  पर कार्यवाही करनी ही होगी तभी सूरतगढ़ सुरक्षित रह सकता है।
 विशेषकर मोटरसाइकिल रिपेयर करने वाले मिस्त्रियों को भी सावधान रहना चाहिए।  वे लोग मोटरसाइकिलों​ पर अजीबोगरीब हार्नेस लगाने की गलती ना करें।कोई भी इस प्रकार के बदलाव मोटर साइकिलों में करवाते हैं तो हर हालत में इनकार करें। इस प्रकार के हार्न बेचे भी नहीं जाने चाहिए।
पुलिस को अपने बीट कांस्टेबलों को सावधान करना चाहिए कि अपने अपने क्षेत्र में फटफटिया सवार बदमाशों पहचान कर कार्यवाही करें, ताकि हर गली-मोहल्ले सुरक्षित रह सकें।

***********************************
सूरतगढ़ में विश्वसनीय संस्थान.

 दीप विजुअल  एंड आई केयर(चश्मा घर)


 भगत सिंह चौक, सूरतगढ़।
******************************


No comments:

Post a Comment

Search This Blog