शुक्रवार, 9 सितंबर 2016

राम के पूजन बिना राहुल को कैसे मिलेगा हनुमान का आशीर्वाद:


राहुल गांधी का हनुमानगढ़ी दर्शन पूजन रामलला मंदिर शिलान्यास से दूर रहे:
- करणीदानसिंह राजपूत -
कांग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष राहुल गांधी चुनाव से पहले कांग्रेस की इमेज सुधारने के लिए यूपी में यात्रा पर हैं और नए नए प्रयोग कर रहे हैं। राहुल गांधी ने अयोध्या/फैजाबाद में राहुल गांधी ने 9 सितम्बर को सुबह हनुमानगढ़ी में दर्शन किया। बेसन के लड्डू प्रसाद में चढ़ा कर पूजन किया। उनकी सुरक्षा के चक्कर में साधु संतों को दूर करने के चक्कर में एक प्रकार से धक्के दिए गए। साधु संतों में इसका रोष प्रगट हुआ। राहुल गांधी पास में ही जाकर महंत ज्ञानदास से भी मिले व कोई मंत्रणा की।
राहुल गांधी यूपी चुनाव से पहले हिन्दु मुसलमान दोनों तबकों को किसी तरह से राजी करना चाहते हैं। राहुल गांधी हनुमानगढ़ी तो गए लेकिन जहां पर राम लल्ला के मंदिर का शिलान्यास स्थल है वहां पर नहीं गए।
वैसे एक बात मान्य है कि स्वयं हनुमानजी राम भक्त हैं और वे ऐसे किसी को भी आशीर्वाद कैसे दे सकते हैं जो उनके दर्शन तो करे मगर प्रभु राम के नजदीक होते हुए भी वहां जाना टाल जाए।
राहुल का शाम का कार्यक्रम मस्जिद में जाने का भी है। राहुल गांधी की यात्रा से कांग्रेस को कितना लाभ मिलेगा? यह अभी तो मिलता हुआ नजर नहीं आ रहा?



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें