Monday, November 14, 2016

मामा की गोदी में इतराऊं

मैं नन्ही माही, पल में जागूं, पल में सोऊं, मुस्काते करूं मनन, मामा की गोदी मिले, इतराऊं इठलाऊं।
शब्द चित्र- करणीदानसिंह राजपूत
-----------------------------------------------------------------

No comments:

Post a Comment

Search This Blog