Wednesday, September 20, 2017

राजस्थान के फलाहारी बाबा यौन शोषण मुकदमें में फंसे: देश-विदेश में भक्तों की भरमार



राजस्थान के अलवर जिले के नामचीन संत कौशलेंद्र प्रपन्नाचार्य फलाहारी महाराज पर यौन शोषण का मामला दर्ज हुआ है। 

एक 21 वर्षीय छात्रा ने बिलासपुर, छत्तीसगढ़ के थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। इसके बाद पीड़िता के 164 के बयान और कपड़ों की फर्द जब्ती की कार्रवाई कर जीरो नंबर की एफआईआर दर्ज कर अलवर जिला पुलिस, राजस्थान में भेजी गई जहां बुधवार  20 सितंबर को अरावली विहार थाना पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर पड़ताल शुरू कर दी है। अरावली थानाधिकारी हेमराज मीणा के अनुसार बिलासपुर की इक्कीस साल की वकालत का अध्ययन कर रही पीड़िता ने बिलासपुर थाने में प्रपन्नाचार्य महाराज उर्फ फलाहारी महाराज के खिलाफ अलवर आश्रम में यौनशोषण करने की शिकायत दी थी. बिलासपुर पुलिस ने जीरो प्राथमिकी अरावली थाने भेजी थी जिस पर मामला दर्ज कर जांच की जा रही है.

उन्होंने बताया कि फलाहारी महाराज से पूछताछ के लिए पुलिस उनके आश्रम पहुंची। फलाहारी बाबा के बीमार होने वअलवर के एक निजी अस्पताल में उपचाराधीन होने की सूचना मिली. पुलिस ने अस्पताल पहुंचकर महाराज का उपचार कर रहे चिकित्सक से बातचीत की है. चिकित्सक की मंजूरी मिलने के बाद आरोपी से पूछताछ की जाएगी.

मीणा ने बताया कि आरोपी महाराज का पीड़िता के घर बिलासपुर में लम्बे समय से आना जाना है. शुरूआती जांच में सामने आया है कि पीड़िता कानून की पढ़ाई के दौरान गत सात अगस्त को उनके आश्रम गयी थी.

उन्होंने बताया कि महाराज ने उसी दिन अपने एक शिष्य की मदद से पीड़िता को अपने कक्ष तक बुलाया और उसके साथ यौन शोषण किया. पीड़िता ने काफी दिनों तक परिजनों को यह जानकारी नहीं दी. लेकिन उसके काफी परेशान रहने पर परिजनों ने कारण जानना चाहा तो पीड़िता ने आप-बीती सुनायी.

 वह 7 अगस्त को बाबा के अलवर आश्रम पहुंची। यहां शाम करीब 7 बजे बाबा ने उसे मंदिर के बेसमेंट में बने कमरे में ठहराया। साथ ही बाबा ने यहां मौजूद लोगों को आरती में शामिल होने के लिए भेज दिया।

-  तभी बाबा ने लड़की को अकेला पाकर कमरे का गेट बंद कर दिया और उसके साथ अश्लील बातें करने के साथ छेड़छाड़ शुरू कर दी और बाबा ने लड़की के साथ सेक्शुअली हैरेस किया।

- घटना के बाद लड़की आश्रम से दिल्ली रह रहे अपने भाई के पास पहुंची और उसे आपबीती बताई। इसके बाद दोनों भाई-बहन बिलासपुर पहुंचे और अपने माता-पिता को बाबा द्वारा की गई करतूत के बारे बताया। इसके बाद लड़की ने बाबा के खिलाफ बिलासपुर महिला थाने में सेक्शुअल हैरेसमेंट का मामला दर्ज कराया।

थानाधिकारी के अनुसार प्रपन्नाचार्य महाराज उर्फ फलाहारी महाराज का अलवर में काफी बड़े क्षेत्र में फैला आश्रम है. स्कूल, धर्मशाला संचालित है और देश विदेश में लाखों अनुयायी है. आरोपी महाराज अन्न का सेवन नहीं करते. वो केवल फलों का ही सेवन करने की वजह से फलाहारी बाबा के नाम से पहचाने जाते हैं. पुलिस मामले की जांच में जुटी है.

बिलासपुर निवासी छात्रा ने जयपुर में रहकर लाॅ की पढ़ाई की। पीड़िता ने एलएलबी की पढ़ाई के दौरान बाबा कौशलेंद्र प्रपन्नाचारी की सिफारिश पर ही सुप्रीम कोर्ट के एक वकील के अधीन अपना इंटर्नशिप पूरा किया था। इंटर्नशिप खत्म होने के बाद पीड़िता को तीन हजार रूपए का मानदेय दिया गया।

इन रुपयों को छात्रा ने परिवार को सौंपा तो परिजनों ने उसे यह पहली कमाई अलवर में फलाहारी बाबा को समर्पित करने की सलाह दी। बिलासपुर के महिला थाने में दिए बयानों में पीड़िता ने बताया है कि 7 अगस्त यानी रक्षाबंधन के दिन वह बाबा के दर्शन करने अलवर स्थित दिव्य धाम पहुंची थी।

इंटर्नशिप के तौर पर कमाई गई पहली कमाई जगदगुरू स्वामी कौशलेंद्र प्रपन्नाचारी फलाहारी महाराज को अर्पित करने के बाद बाबा ने पीड़िता से रात दिव्य धाम में ही रूकने का आदेश दिया। साथ ही, बेहतर भविष्य के लिए गुप्त दिव्य मंत्र देंगे। पीड़िता का आरोप है कि बाबा फलाहारी ने शाम साढ़े सात बजे दिव्य धाम के अपने कक्ष में उसे बुलाया।

बाबा ने छात्रा को अपने राजनीतिक, नौकरशाही, प्रशासनिक क्षेत्र से जुड़े लोगों से रसूखात बताते हुए अपने मोबाइल फोन पर उनकी तस्वीरें भी दिखाईं। साथ ही, पीड़िता को जज बनवा देने का आश्वासन भी दिया। इसके बाद आपत्तिजनक शब्द कहना शुरू कर दिए। इससे छात्रा सहम गई।

इसके बाद बाबा ने उसे प्रसाद खाने को कहा। इसके बाद वह अचेत हो गई और फिर उसने वैसा ही किया जैसा बाबा ने कहा। तभी एक बच्चे ने कमरे का दरवाजा खटखटाया। इससे पीड़िता घबरा गई और मौका पाकर कमरे से बाहर निकल गई। छात्रा दिव्य धाम परिसर से बाहर निकलकर वेद विद्यालय स्थित आश्रम में जा पहुंची।

जहां वह एक कमरे में ठहरी और अगले दिन सुबह मौका पाकर वहां से निकल गई और जयपुर आ गई। यहां करीब बीस दिन अवसाद में रही।

जानकारी के अनुसार इसी बीच बाबा राम रहीम को यौन शोषण का मामला सामने आया तब छात्रा ने हिम्मत जुटाकर परिजनों से आपबीती बताई और परिजन उसे लेकर छत्तीसगढ़ के डीजीपी एएन उपाध्याय से मिले। तब स्थानीय पुलिस ने मामले को गंभीरता से लिया।बिलासपुर महिला थाना में पीड़िता का बयान दर्ज कर फलाहारी बाबा के खिलाफ जीरो नंबर एफआईआर दर्ज कर ली। छात्रा के माता-पिता का बयान के अलावा मजिस्ट्रेट के समक्ष पीड़िता का बयान दर्ज करवाया। इसके बाद केस डायरी लेकर बिलासपुर पुलिस की एक टीम अलवर, राजस्थान पहुंची। जहां अरावली विहार थाने में मुकदमा दर्ज करवाया गया।यह भी जानकारी है कि पीड़िता का परिवार पिछले कई सालों से फलाहारी बाबा से जुड़ा हुआ है। लगभग हर साल वे बाबा के दिव्य धाम अलवर में आते है। वहीं, फलाहारी महाराज के शिष्यों ने केस की जानकारी होने से इंकार करते हुए बाबा के आंतों में संकम्रण होने से अस्पताल में भर्ती होने की जानकारी दी है। 

-----------

बाबा फलाहारी महाराज के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है.— राहुल प्रकाश, एसपी, अलवर पुलिस


No comments:

Post a Comment

Search This Blog