बुधवार, 29 जून 2011

करोड़ों रूपए के मार्केट कॉम्पलेक्स के अवैध निर्माण को गिराने की मांग

नगरपालिका कहीं न कहीं गैर मंजूरी के निर्माण अवैध मान कर तोड़ती रही है, मगर इस निर्माण को नहीं तोड़ा।

अमित कल्याणा ने जिला कलेक्टर से भेट कर दिया ज्ञापन

बहुजन समाज पार्टी के नगर अध्यक्ष अमित कल्याणा ने जिला कलेक्टर से भेट कर दिया ज्ञापन
जिला कलेक्टर ने जांच कराने का कहा
फरवरी 2011 से हो रहा है निर्माण पालिका प्रशासन अखबारों में छपने के बावजूद चुप रहा
विपक्षी राजनैतिक दल भाजपा के कदावर नेताओं ने भी इस पर आंखें बंद रखी
अधिशाषी अधिकारी फंसेगा या फिर अतिक्रमण रोधक दस्ता इंचार्ज
करणीदानसिंह राजपूत
सूरतगढ़, 29 जून। शहर के बीच में जहां पर नगरीय कानून नियमों के तहत आवासीय क्षेत्र में जहां पर संकड़ी गली है वहां पर किसी भी हालत में व्यावसायिक काम्पलेक्स नहीं बनाया जा सकता, मगर यहां पर वार्ड नं 14 में बनाया जा रहा है। व्यावसायिक कॉम्लेक्स के लिए भू परिवर्तन नगर नियोजक की मंजूरी से ही किया जा सकता है, मगर अखबारों खासकर ब्लास्ट की आवाज में कई बार सचित्र छपने के बावजूद भी नगरपालिका  प्रशासन ने कार्यवाही नहीं की।
    अधिशाषी अधिकारी की ओर से एक नोटिस भेजा गया यह सुनने में आया कि वह नोटिस भी निर्माणकर्ता को दिया जाने के बजाय वहां चिपकाया गया। सवाल यह है कि अगर वहां पर निर्माण करने वाला ही कोई नहीं मिला तो उसके बाद भी निर्माण जारी किसने रखा। इसके समाचार भी सचित्र छपते रहे मगर अधिशाषी अधिकारी किशन लाल सेंगवा ने आगे कोई कदम नहीं उठाया। नगरपालिका का अतिक्रमण रोधी दस्ता जिसका इंचार्ज लाल चंद सांखला को बनाया हुआ है, उसकी तरफ से भी कोई कार्यवाही नही हुई। नगरपालिका से मंजूरी नहीं लेकर किया हुआ हर निर्माण अवैध की श्रेणी में ही आता है तथा उसको बिना कोई सूचना के तोड़े जाने का प्रावधान है। नगरपालिका कहीं न कहीं गैर मंजूरी के निर्माण अवैध मान कर तोड़ती रही है, मगर इस निर्माण को नहीं तोड़ा।
नगरपालिका प्रशासन ने राजनैतिक दबाव से आगे कोई कदम नहीं बढ़ाया या फिर संबंधित निर्माता ने मंजूरी लेली। इसके लिए समाचार पत्रों को कोई भी अधिकृत सूचना जारी नहीं की गई।
    नगरपालिका के अधिशाषी अधिकारी किशनलाल सेंगवा और नागरिक प्रशासन के एडीएम व एसडीएम बार बार छपने के बावजूद इस अवैध निर्माण को देखने तक नहीं गए। इसी शह के कारण यह निर्माण जारी रहा। इस अवैध निर्माण को प्रतिपक्ष के नेताओं के चुप रहने का लाभ मिला। भाजपा के कदावर नेता चुप रहे और चेताए जाने के बावजूद मुंह नहीं खोला। भाजपा के नेता इस निर्माता से डरते हुए दहशत में रहे या उनका भीतर से कोई समझौता हुआ।
    देर से ही सही बहुजन समाज पार्टी ने इसकी शिकायत 29 जून को जिला कलेक्टर से की है। नगर अध्यक्ष अमित कल्याणा ने जिला कलकटर से भेंट करके सारे हालत से अवगत कराते हुए इस अवैध निर्माण को गिराने की मांग की है।
।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें