मंगलवार, 3 नवंबर 2020

लोकतंत्र सेनानी शहीद गुरुशरण छाबड़ा की पुण्यतिथि पर छाबड़ा के जयघोष

 



* करणीदानसिंह राजपूत *
सूरतगढ़ 3 नवंबर 2020.
लोकतंत्र सेनानी राजस्थान में शराबबंदी की मांग को लेकर आमरण अनशन करते हुए प्राण त्यागने वाले पूर्व विधायक शहीद गुरुशरण छाबड़ा की पुण्यतिथि पर उनकी प्रतिमा पर पुष्प मालाएं पहनाई गई।
गुरुशरण छाबड़ा अमर रहे के नारों से और भाषणों से उन्हें याद किया गया।
आपातकाल लोकतंत्र सेनानी वरिष्ठतम 86 वर्षीय सरदार गुरनाम सिंह कंबोज के द्वारा माल्यार्पण कार्यक्रम शुरू किया गया।
लोकतंत्र सेनानियों करणी दान सिंह राजपूत बलराम वर्मा लक्ष्मण शर्मा ने भी माल्यार्पण किया।
इनके अलावा गुरुशरण छाबड़ा स्मारक समिति के अध्यक्ष बलदेव राज तनेजा,कार्यक्रम संयोजक डॉ  टी.एल.अरोड़ा,समाजसेवी जसराज गुंबर,अंकुश गाबा, इंजीनियर रमेश चंद्र माथुर, एडवोकेट बलराम कुक्कड़,एडवोकेट  विवेेेक सेतिया,एडवोकेट अमित मोदी, राजस्थानी साहित्यकार मनोज कुमार स्वामी रामप्रवेश डाला आदि ने कार्यक्रम में भाग लिया।
गुरुशरण छाबड़ा के आंदोलनों आपातकाल के संघर्ष और राजस्थान में पूर्ण शराबबंदी की मांग को लेकर प्राण त्यागने का जीवन वृत्तांत करणी दान सिंह राजपूत,डा.डी एल अरोड़ा, बलराम वर्मा,लक्ष्मण शर्मा,अंकुश गाबा व क्रांतिकारी महावीर प्रसाद भोजक आदि ने  किया।
विदित रहे कि सूरतगढ़ में राजकीय महाविद्यालय की स्थापना को लेकर गुरुशरण छाबड़ा का संघर्ष  रहा है।
राजकीय महाविद्यालय का नाम राजस्थान सरकार ने स्वर्गीय गुरुशरण छाबड़ा स्मृति राजकीय महाविद्यालय किया है।oo





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें