गुरुवार, 30 नवंबर 2017

सूरतगढ़ सीवरेज में करोड़ों के घोटाले- कांग्रेस की पत्रकारवार्ता

सूरतगढ़ 30 नवंबर 2017.

सूरतगढ़ शहर में सीवरेज निर्माण में भारी घोटाला और तकनीकी आधार पर निर्माण नहीं होने का आरोप लगाया  गया है कि स्थानीय अमित शाह सब करवा रहा है।

कांग्रेस के जिला उपाध्यक्ष गुरदर्शनसिंह सोढी और नगरपालिका बोर्ड सूरतगढ़ के पूर्व अध्यक्ष बनवारी लाल मेघवाल ने आरोप लगाया कि सीवरेज सिस्टम पूरे शहर का था जिसे सूर्योदय नगरी की 11 वार्डों को छोड़कर बाकी के 24 वार्डों में निर्माण शुरू करवाया गया। यह निर्माण भी तकनीकी आधार पर नहीं हो रहा है। मुख्य ठेकेदार कंपनी मोंटी कार्लो का कोई प्रतिनिधि इंजीनियर आदि नगर पालिका का इंजीनियर आदि मौके पर उपस्थित नहीं हो रहा और बिना किसी लेवल के यह कार्य हो रहा है।जहां सीमेंट के पाइप लगाए जाने चाहिए थे वहां पर प्लास्टिक के पाइप लगा दिए गए हैं।

पूर्व पालिकाध्यक्ष बनवारी लाल ने कहा  कि बड़े घोटाले में सूरतगढ़ के अमित शाह कमाई करने में लगे हैं इसलिए कोई  रोक टोक व देखरेख नहीं की जा रही है।

 नगर पालिका अध्यक्ष के पति का नाम लेते हुए भी उन्होंने कई आरोप लगाए।

पूर्व पालिकाध्यक्ष ने कहा कि सीवरेज सिस्टम 35 वार्डों का संपूर्ण शहर का बनाया गया था लेकिन बाद में सब बदल दिया गया। अब आधे शहर को ही शामिल किया गया है  व सूर्योदय नगरी के 11 वार्डों को छोड़ दिया गया है। आधे शहर में निर्माण मगर लागत करोड़ों की बढ़ती गई। एस्टीमेट के हिसाब से इसकी लागत करोड़ों रुपए में बढ़ गई है जो बहुत बड़ा घोटाला है।

 इसमें पूरे शहर की सड़कें एक साथ खोद डाली गई जबकि यह निर्माण एक एक ब्लॉक में अलग-अलग किया जाना चाहिए था। उन्होंने कहा कि सीवरेज का ट्रीटमेंट प्लांट का भी मापदंड बदल दिया गया है तथा अरोड़वंश कल्याण भूमि के पास का ट्रीटमेंट प्लांट 6 एमएलडी से घटाकर 4 एमएलडी कर दिया गया।

कांग्रेस के जिला उपाध्यक्ष गुरदर्शन सिंह सोढ़ी ने कहा कि नगर पालिका से सीवरेज की जी शेडूल एस्टीमेट व ड्राइंग की प्रमाणित प्रतिलिपियां सूचना के अधिकार के तहत मांगी गई है।यह सब कुछ रिकॉर्ड 15 नवंबर को सूचना के अधिकार के तहत मांगा गया है, 15 दिन बीत जाने के बावजूद उपलब्ध नहीं कराया गया। यह रिकॉर्ड तो पालिका में हर वक्त ही उपलब्ध रहता है।

कांग्रेस पार्टी इसके लिए 1 दिसंबर को सुभाष चौक पर धरना लगाएगी। 

धरने के समय घोटाले के बाबत तथ्यों को आम नागरिकों के सामने उजागर किया जाएगा। सोढ़ी ने कहा की धरना स्थल पर आंदोलन की रूपरेखा के बारे में भी बताया जाएगा। 

उन्होंने कहा कि उपखंड अधिकारी ने भी जल्दी से जल्दी सूचनाएं उपलब्ध कराने का निर्देश दिया था लेकिन नगर पालिका प्रशासन इतने दिन के बावजूद सूचनाएं नहीं दे रहा जिसका स्पष्ट मतलब निकलता है कि निर्माण में बहुत बड़ा घोटाला हो रहा है।

********************************************** 



 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें