मंगलवार, 22 मार्च 2011

सोने सरीखी धरती...


तूँ के खोजे सोने रे कण ने, आ धरती सोने बरगी, माथो ऊँचो कर देख, आ मायड़ राजस्थान री धरती.....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें