Tuesday, March 22, 2011

सोने सरीखी धरती...


तूँ के खोजे सोने रे कण ने, आ धरती सोने बरगी, माथो ऊँचो कर देख, आ मायड़ राजस्थान री धरती.....

No comments:

Post a Comment

Search This Blog