मंगलवार, 24 नवंबर 2020

गंगानगर कलक्टर व एसपी की चेतावनी-101लोग होते ही मैरिज पैलेस सीज. 2 साल की सजा का भी प्रावधान.

 



* करणीदानसिंह राजपूत *


*जिले के मैरिज संचालकों से जिला प्रशासन का संवाद*

कोविड-19 की एडवाईजरी की 100 प्रतिशत पालना आवश्यकः- जिला कलक्टर*


श्रीगंगानगर, 24 नवम्बर2020.

 जिला कलक्टर श्री महावीर प्रसाद वर्मा ने कहा कि कोविड-19 संक्रमण एवं बचाव के दौरान समारोह संचालकों से संवाद करना महत्वपूर्ण इसलिये है कि वर्तमान में विवाह शादियों का सीजन प्रारम्भ हो गया है, ऐसे में कोविड-19 की गाईडलाईन की कड़ाई से पालना सुनिश्चित की जाये।

जिला कलक्टर श्री वर्मा मंगलवार को एसडी बिहाणी काॅलेज के आडिटोरियम में जिले भर के मैरिज पैलेस संचालकों एवं विभिन्न कार्यक्रमों के प्रबंधकों के संवाद कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रशासन की अपेक्षा है कि सभी संचालक यह सुनिश्चित करेंगे कि किसी भी समारोह में केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा जारी एडवाईजरी की 100 प्रतिशत पालना की जायेगी। उन्होंने कहा कि किसी भी कार्यक्रम में 100 से अधिक नागरिक नही होंगे। सौ से उपर 101 होते ही जुर्माना व विभिन्न प्रकार की कार्यवाही की जायेगी। 

उन्होंने कहा कि समारोह स्थल पर संख्या के साथ-साथ शत-प्रतिशत मास्क का उपयोग, सेनेटाईजर, साबुन की सुविधा तथा सामाजिक दूरी की प्रोपर पालना की जाये। किसी भी कार्यक्रम में आयोजक द्वारा 100 से अधिक नागरिक बुलाने पर आयोजक के साथ-साथ मैरिज पैलेस, कार्यक्रम स्थल को सीज करने की कार्यवाही की जायेगी तथा नियमों का उल्लंघन करने पर दो वर्ष की सजा का भी प्रावधान है। कोविड के संकट काल में एडवाईजरी की पालना कर आप देश की सेवा में भागीदार बन सकते है। 

श्री वर्मा ने कहा कि गत दो माह से कोविड को लेकर विभिन्न कार्यक्रम चलाये गये। बड़े पैमाने पर नागरिकों को मास्क बांटे गये। विभिन्न वर्गों में एडवोकेट, पार्षद, जनप्रतिनिधि, शिक्षाविद्, सामाजिक कार्यकर्ताओं सहित विभिन्न वर्गों से संवाद कर सहयोग मांगा गया तथा सहयोग मिला भी है। कार्यक्रमों से जुड़ा यह वर्ग वंचित था, इसलिये आज आप सभी से महत्वपूर्ण जानकारियां सांझा की गई है। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में कोविड की संख्या लगातार बढ़ रही है तथा एक सार्वभौमिक परिदृश्य है, जिसमें हमारा देश, राज्य तथा जिला भी अछूता नही है। इस महामारी से बचने का कोई उपचार नही है, लेकिन वैज्ञानिक एवं प्रशासनिक दृष्टिकोण से सामाजिक दूरी, मास्क का उपयोग, सेनेटाईजेशन व 14 दिन का आईसोलेसन इत्यादि को अपनाकर इस महामारी से बचा जा सकता है। 

जिला कलक्टर ने कहा कि बचाव के लिये लाॅकडाउन से लेकर अनलाॅक तक की विभिन्न प्रक्रियाओं को हमने देखा है, लेकिन अभी भी खतरा बरकरार है। इससे बचने के लिये सावधानियां ही एक साधन बचा है। उन्होंने बताया कि देश में लगभग 90 लाख के करीब व राज्य में 2.40 लाख के करीब कोविड रोगी है। मृत्यु भी कोरोना से हुई है। इन सबसे बचने के लिये एडवाईजरी की अक्षरशः पालना की जाये। जिले में अब तक 36 नागरिकों की मृत्यु तथा 5000 के करीब कोरोना पाॅजीटिव आये है। लगभग 45 हजार के नमूने लिये गये। 

कार्यक्रम स्थल पर पुलिस व प्रशासन के अधिकारी गोपनीय निरीक्षण करेंगेः- पुलिस अधीक्षक

पुलिस अधीक्षक श्री राजन दुष्यंत ने कहा कि जिले में आयोजित होने वाले विभिन्न समारोह स्थलों के संचालक यह सुनिश्चित कर ले कि हर हाल में एडवाईजरी की पालना की जानी है। किसी भी प्रकार का उल्लंघन होने पर आयोजक व प्रबंधक दोनों के विरूद्ध कार्यवाही होगी। संचालक अपनी सुविधा के लिये आयोजकों के साथ पालना शर्तों का अनुबंध कर सकते है। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम में 100 से अधिक नागरिक नही होने चाहिए। कार्यक्रम में पुलिस व प्रशासन के कार्मिक गोपनीय रूप से प्रवेश कर जांच करेंगे तथा वीडियोग्राफी कर यह सुनिश्चित करेंगे कि संख्या अधिक तो नही है। कार्यक्रम स्थल पर थर्मल स्कैनर से तापमान जांच के बाद ही नागरिक प्रवेश करे, सेनेटाईजर व हाथ धोने  की व्यवस्था हो तथा पूरा कार्यक्रम स्थल सेनेटाईज किया हुआ होना चाहिए। 

इस अवसर पर अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन डाॅ. गुंजन सोनी ने कहा कि कोविड-19 के परिदृश्य में लगातार जनहानि हो रही है, ये हम सभी जानते है। जिला कलक्टर द्वारा कोविड-19 को लेकर विशेष चिंता व्यक्त की गई है तथा जिले में एक बड़े जन आंदोलन के रूप में आमजन को जागरूक किया है, फिर भी वर्तमान में सभी के सहयोग की आवश्यकता है। इस अवसर पर अतिरिक्त जिला कलक्टर सर्तकता श्री अरविन्द जाखड़ ने आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में नगरपरिषद आयुक्त प्रियंका बुडानिया सहित अन्य विभागों के अधिकारी तथा जिले भर के मैरिज पैलेस संचालकों ने भाग लिया। कार्यक्रम का संचालन श्री प्रेम चुघ ने किया। 




******





------------

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें