शनिवार, 31 मार्च 2018

श्रीगंगानगर: टाक परिवार द्वारा सीएम वसुंधरा राजे का स्वागत

श्रीगंगानगर। भाजपा नेता प्रहलादराय टाक के परिवार ने श्रीगंगानगर आई

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे  का जोरदार स्वागत किया। इस दौरान

होटल केएलएम में भाजपा नेता प्रहलादराय टाक की धर्मपत्नी श्रीमती

इंदूरानी टाक व दोनों पुत्रवधू प्रियंका टाक व अनुराधा टाक ने सीएम

वसुंधरा राजे को राजस्थानी चुनरी ओढ़ाकर व फूलमाला पहनाकर स्वागत किया।

इस मौके पर मनोज टाक व आनंद टाक भी मौजूद रहे।

शुक्रवार, 30 मार्च 2018

बिश्नोई समाज सूरतगढ़ ने विधायक राजेंद्र भादू का माल्यार्पण कर आभार प्रगट किया

* करणीदान सिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 30 मार्च 2018

 बिश्नोई समाज को नगरपालिका की ओर से 20 बीघा भूमिका पट्टा दिए जाने पर आज समाज की ओर से विधायक राजेंद्र सिंह भादू का माल्यार्पण कर  स्वागत आभार प्रकट किया गया।

 बिश्नोई सभा के पदाधिकारी व प्रमुख लोगों ने आज विधायक सेवा केंद्र पर पहुंचकर समाज को भूमि का पट्टा देने में विधायक राजेंद्र सिंह भादू के सहयोग को अपूर्व मानते हुए आभार प्रकट किया गया और माल्यार्पण कर अभिनंदन किया गया।

 बिश्नोई समाज के नेता एडवोकेट भागीरथ बिश्नोई ने विधायक राजेंद्र सिंह भादू को सर्वप्रथम माला पहनाई और उसके बाद अन्य सदस्यों ने भी माला पहनाई। इस अवसर पर उपस्थित सूरतगढ़ पंचायत समिति की प्रधान श्रीमती बिरमा देवी को भी पुष्प गुच्छ भेंट कर किया गया।

शहर के बीच में स्थित इस भूमि का पट्टा लेने का प्रयास करीब 40 सालों से किया जा रहा था। मुख्यमंत्री वसुंधराराजे ने 27 मार्च 2018 को समारोह मेंं यह पट्टा भेंट किया था।



सूरतगढ:विधायक भादू का ग्रामीण विकास पर नजरिया-पत्रकार वार्ता


सूरतगढ़ विधानसभामें क्षेत्र में प्रत्येक ग्राम पंचायत पर उच्च माध्यमिक विद्यालय स्थापित है।

भाजपा के विधायक राजेंद्र सिंह भादू ने राजस्थान दिवस पर 30 मार्च को आयोजित पत्रकार वार्ता में बताया कि गांव के चप्पे-चप्पे में शिक्षण संस्थाएं खुलना बहुत बड़ी बात है।

 उन्होंने कहा कि आप सभी जानते हैं कि अध्यापकों की भारी कमी है सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र में भी यह कमी चल रही है।सेकेंडरी स्कूलों में करीब 402 पद रिक्त हैं और उच्च प्राथमिक स्तर तक के विद्यालयों में 400 पद रिक्तहैं। उन्होंने कहा कि इस कमी को भी दूर किया जाएगा। भादू ने कहा कि जब मैं विधायक बना तब हर ग्राम पंचायत पर माध्यमिक स्कूल नहीं था लेकिन अब भाजपा राज में सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र की समस्त 52 ग्राम पंचायतों में  माध्यमिक स्कूल खोले जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि सूरतगढ़ तहसील की 46 ग्राम पंचायतें और जैतसर क्षेत्र की 6 ग्राम पंचायत में कुल 52 में सड़कों के ऊपर भी पूरा ध्यान है। पुरानी सड़कों केरिपेयर के टेंडर हो चुके हैं और रिकारपेंटिंग भी कार्य भी हो चुका है, कुछ सड़कें अभी नव निर्माण में चल रही।  उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य सेवाओं पर भी  पूरा ध्यान है । वे चाहते हैं कि हर उप स्वास्थ्य केंद्र पर कम से कम एक ए एन एम तो हर हालत में उपलब्ध रहे।

 इसके अलावा उन्होंने बताया कि गांव में जहां पानी की कमी थी उनको पेयजल उपलब्ध करवाने में लगातार प्रयास करते हुए सफल रहे। 

उन्होंने कहा कि राजस्थान मुख्य नहर की बुर्जी नंबर 335 पर क्रॉस रेगुलेटर  निर्माण के बाद वहां की नहरों में समुचित पानी प्रवाहित होने लगेगा। क्रॉस रेगुलेटर  हेड निर्माण पर 27 करोड़ 19 लाख रू का खर्च होगा।

एस एल डी नहर पर भी कार्य हो रहा है।संगीता को सेम मुक्त करने में सफल होंगे।



बुधवार, 28 मार्च 2018

एन.डी.सेतिया वरिष्ठ वकील श्रीगौशाला के अध्यक्ष निर्वाचित

 - करणीदानसिंह राजपूत -

सूरतगढ़ 28 मार्च 2018.

 वरिष्ठ वकील एवं नोटरी एन.डी सेतिया को श्री गौशाला सूरतगढ़ के अध्यक्ष पद पर निर्विरोध चुना गया है।

 एन डी सेतिया पिछले 10 -12 वर्षों से श्री गौशाला में गौ सरंक्षण और संवर्धन पर समाज सेवी के रूप में कार्य कर रहे हैं। सेतिया नगरपालिका में उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं।





मंगलवार, 27 मार्च 2018

सूरतगढ़ में सीएम वसुंधराराजे के जनसवांद में क्या हुआ? सचित्र रिपोर्ट।


- करणीदानसिंह राजपूत -

श्रीगंगानगर में 28 मार्च से होगी सरसों खरीद:

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे  ने सभी वर्गों के लोगों से किया संवाद:

सूरतगढ़, 27 मार्च। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने घोषणा की कि श्रीगंगानगर जिले में समर्थन मूल्य पर सरसों की खरीद 2 अप्रैल की बजाय 28 मार्च से शुरू की जाएगी। श्रीगंगानगर क्षेत्र के किसानों ने श्रीमती राजे से मुलाकात कर इस संबंध में आग्रह किया था। जिस पर उन्होंने तत्काल भारत सरकार से वार्ता कर सहमति प्राप्त कर ली है। अब बुधवार  28-3-2018 से ही सरसों की खरीद शुरू हो जाएगी। श्रीमती राजे ने यह घोषणा मंगलवार को सूरतगढ़ में आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम के दौरान की। जनसंवाद में उपस्थित किसानों व अन्य लोगों ने तालियां बजाकर मुख्यमंत्री का इस पर आभार व्यक्त किया। गंगानगर जिले में अभी 19 खरीद केन्द्र खोले गए हैं। लेकिन जरूरत के हिसाब से इनकी संख्या शीघ्र ही बढ़ायी जाएगी।

 श्रीमती राजे ने कहा कि राज्य सरकार ने किसानों के हित में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं और आगे भी उनके कल्याण में कोई कसर नहीं छोड़ेगी। उन्होंने बताया कि इंदिरा गांधी नहर की रि-लाइनिंग के लिए एग्रीमेंट हो गया है। सितम्बर माह के अंत तक यह काम पूरा हो जाएगा और प्रदेश के लोगों को इसका लाभ मिलने लगेगा।

मुख्यमंत्री  ने जनसंवाद में किसानों से गंगानगर जिले में विभिन्न सरकारी योजनाओं के अन्तर्गत करवाए गए कुण्ड एवं खाला निर्माण की जानकारी ली। किसानों ने बताया कि खालों के निर्माण से उन्हें टेल एण्ड पर भी भरपूर पानी मिल रहा है। मुख्यमंत्री ने इस पर खुशी व्यक्त की और उन्होंने इसके लिए जिला परिषद सीईओ विश्राम मीणा के प्रयासों की सराहना भी की। 

लाभार्थियों से बात कर योजनाओं का लिया फीडबैक

श्रीमती राजे ने जनसंवाद कार्यक्रम में भामाशाह योजना, भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, राजश्री योजना, पद्माक्षी योजना, पालनहार योजना, स्कूटी एवं लैपटॉप वितरण, श्रमिक कार्ड, निर्माण श्रमिक सहायता, ग्रामीण आवास योजना, उज्ज्वला योजना, छात्रावृत्ति, सामाजिक सुरक्षा पेंशनों के लाभार्थियों से मुलाकात कर इन योजनाओं के संबंध में फीडबैक लिया। 

उन्होंने छात्र छात्राओं से पूछा कि उनकी छात्रवृत्ति समय पर बैंक खाते में आ रही है या नहीं?

एक छात्रा ने स्कूल-कॉलेजों में खेल सुविधाएं बढ़ाने की मांग की। जिस पर मुख्यमंत्री ने वहां उपस्थित जनप्रतिनिधियों को सांसद एवं विधायक कोष से जिम एवं खेल सुविधाएं विकसित करवाने के निर्देश दिए।

 उन्होंने भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के अन्तर्गत हृदय का सफल ऑपरेशन करवाकर स्वस्थ जीवन जी रहे लाभार्थियों से भी बात की।

श्रमिक कार्ड बनाने के काम में लाएं तेजी

मुख्यमंत्री ने श्रम विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि श्रीगंगानगर क्षेत्र में जिन श्रमिकों के कार्ड लंबित हैं, उन्हें शीघ्र कार्ड बनाकर उपलब्ध करवाएं और पेंडेंसी जीरो करें। इस पर श्रम आयुक्त श्री टी रविकांत ने बताया कि श्रमिक कार्ड बनवाने में तेजी लाने के लिए यहां अलग से अधिकारी नियुक्त कर दिया है। गत एक माह में इस क्षेत्र में 8 हजार से अधिक श्रमिक कार्ड बनाए गए हैं। 

उन्होंने समाज कल्याण अधिकारी से दिव्यांगजन शिविर के बारे में जानकारी ली और निर्देश दिए कि इस कार्य में तेजी लाएं ताकि क्षेत्र के सभी दिव्यांगजनों को योजनाओं का लाभ मिल सके। 

सूरतगढ़ में ग्रामीण आवास योजना का शत-प्रतिशत लक्ष्य हासिल

श्रीमती राजे ने अधिकारियों से ग्रामीण आवास योजना के बारे में जानकारी ली तो उन्होंने बताया कि सूरतगढ़ क्षेत्र में वर्ष 2016-17 में 565 तथा 2017-18 में 925 स्वीकृतियां जारी कर योजना का शत प्रतिशत लक्ष्य हासिल कर लिया गया है। श्रीमती राजे ने इसके बाद सूरतगढ़ क्षेत्र के प्रतिभाशाली विद्यार्थियों, प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल हुए युवाओं, खिलाड़ियों, चिकित्सकों, अभियंता, सीए, पेंशनर्स सहित अन्य प्रबुद्धजनों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं सुनीं।

 उन्होंने भाटिया आश्रम द्वारा प्रतियोगी परीक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए किए जा रहे प्रयासों को सराहा। इस दौरान महिलाओं ने चाइल्ड केयर लीव का प्रावधान करने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया।


श्रीमती राजे ने इस अवसर पर सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र में हुए विकास कार्यां पर आधारित प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया।

इस अवसर पर जल संसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप, नगरीय विकास मंत्री श्री श्रीचंद कृपलानी, राज्य अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष श्री जसवीर सिंह, सांसद श्री निहालचंद मेघवाल, विधायक श्री राजेन्द्रसिंह भादू, विधायक श्री अभिषेक मटोरिया, जिला प्रभारी सचिव श्री शिखर अग्रवाल, कार्यवाहक संभागीय आयुक्त श्री अनिल गुप्ता एवं जिला कलेक्टर गंगानगर श्री ज्ञानाराम सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं अधिकारीगण उपस्थित थे।य




सूरतगढ़ बिश्नोई समाज द्वारा वसुंधरा राजे का स्वागत अभिनंदन



- करणीदानसिंह राजपूत -

सूरतगढ़ 27 मार्च 2018.

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का आज सूरतगढ़ में सन सिटी रिसॉर्ट मैरिज हॉल सभा भवन में बिश्नोई समाज की ओर से शानदार स्वागत किया गया।

 बिश्नोई समाज को सूरतगढ़ की जमीन का पट्टा दिया गया। विधायक राजेंद्र सिंह भादू ने बताया कि भाजपा की सरकार के काल मेंं  20 बीघा जमीन का आवंटन बिश्नोई समाज को किया गया है। शहर के बीच मेंं स्थित इस जमीन का पट्टा लेने के प्रयास करीब 40 सालों से हो रहे थे जो विधायक राजेंद्रसिंह भादू ने पूरे कराए। 

सूरतगढ़ हवाई अड्डे पर वायुयान से उतरने के बाद वसुंधरा राजे का यह पहला कार्यक्रम था जो शानदार रहा। वसुंधरा राजे ने कहा की कार्य प्यार से होते हैं उन्होंने कार्य किए हैं इसलिए जनता चुनती है। 




सोमवार, 26 मार्च 2018

सूरतगढ में बिश्नोई समाज को 20 बीघा भूमि का आवंटन

- करणीदानसिंह राजपूत -

सूरतगढ़ 26 मार्च 2018.

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के सूरतगढ़ सहित श्रीगंगानगर जिले के जिले के जिले के दौरे से पूर्व 25 मार्च को श्री गंगानगर जिले में जिले में श्री गंगानगर हनुमानगढ़ हनुमानगढ़ जिलों के बारे में स्वायत्तशासन मंत्री श्री चंद कृपलानी कृपलानी की अध्यक्षता में हुई। बैठक में विधायक राजेंद्र सिंह भादू के मुंहसे यह वक्तव्य आया। 

 श्री गंगानगर के जनसंपर्क अधिकारी द्वारा जारी समाचार सूचना में यह समाचार भी है जो हम पूरा यहां लगा रहे हैं।


((राजस्थान सरकार

सूचना एवं जनसंपर्क कार्यालय

आगामी तीन माह में सफाई कर्मियों की होगी भर्ती 

शहरी क्षेत्र में निवास करने वाले अधिकतम परिवारों के पट्टे दिये जाये

कही नियमों में बदलाव की आवश्यकता है तो किया जायेगाः- श्रीचंद कृपलानी

पुरानी एलएनपी नहर की जगह गाजर मंडी व सोलिड वेस्ट प्लांट लगेगाः- डॉ. रामप्रताप

श्रीगंगानगर, 25 मार्च। स्वायत शासन एवं नगरीय विकास मंत्री श्रीचंद कृपलानी ने कहा कि राज्य सरकार की मंशा शहरी क्षेत्र में निवास करने वाले नागरिकों, कच्ची बस्तियों में रहने वाले परिवारों को पट्टे देने की है। इसी के अनुरूप सभी स्थानीय निकाय पट्टे जारी करने की प्रक्रिया में तेजी लाये। इसके लिये पूर्व में आदेश दिये गये है फिर भी कही नियमों में बदलाव की आवश्यकता है, तो जरूरत के अनुसार किये जायेगें। उन्होंने कहा कि स्टेट ग्रांट के तहत पट्टे देने की अवधि 30 जून 2018 तक बढ़ा दी गई है। 

श्रीचंद कृपलानी एवं जल संसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप रविवार को कलेक्ट्रेट सभाहॉल में हनुमानगढ़ व गंगानगर जिले के अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों की बैठक में आवश्यक निर्देश दे रहे थे। स्वायत शासन मंत्री ने कहा कि सभी नगरपरिषदों व नगरपालिकाओं में सफाई कर्मचारियों की भर्ती की जायेगी। इसके लिये आगामी तीन माह में भर्ती की कार्यवाही अमल में लायी जायेगी। उन्होंने कहा कि जिन नागरिकों ने पट्टों के लिये आवेदन किया है, उनके आवेदन निरस्त नही करें तथा ईम्पॉवर कमेटी में ऐसे प्रकरणों को रखकर पट्टे जारी किये जाये। उन्होंने कहा कि स्थानीय निकायों को पट्टे जारी करने में कही परेशानी हो, तो इसके लिये ले आउट प्लान के निर्देश जयपुर स्तर से जारी करवा दिये जायेगें। 

श्रीचंद कृपलानी ने कहा कि जो गरीब परिवार कई वर्षों से अपना कच्चा-पक्का मकान बनाकर निवास कर रहे है, ऐसे परिवारों को  पट्टा मिलने से उनके घर में खुशी का माहौल बनेगा तथा वे मन से दुआएं देगें। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 62 शहरों में जहां वर्षा के समय जल भराव होता है कि निकासी की कार्य योजना बनाई गई है, जिसमें गंगानगर जिले की नगरपालिकाओं व नगरपरिषद के लिये 110 करोड़ रूपये दिये जायेगें, जिसकी डीपीआर तैयार की जा रही है। श्रीगंगानगर में सड़कों के लिये 10 करोड़ तथा हनुमानगढ़ में सड़कों के लिये 15 करोड़ रूपये की राशि जारी की गई है। वॉटर लॉकिंग के लिये श्रीगंगानगर को 10 करोड़ रूपये की राशि दी गई है। उन्होंने कहा कि जिन शहरों में बिजली सेज वसूल किया जाता है, वहां पर सरकार द्वारा एलईडी की व्यवस्थाएं की जायेगी। उन्होंने कहा कि श्रीगंगानगर शहर के लिये नगरपरिषद व नगरविकास न्यास एक प्लान बनाकर स्थानीय निकाय को सौंपे। 


जल संसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप ने कहा कि पुरानी एलएनपी नहर की लगभग 28 बीघा भूमि बनती है, जिसमें से 4 बीघा भूमि को गाजर मंडी के लिये आवंटित की जायेगी तथा 20 बीघा भूमि का उपयोग सोलिड वेस्ट के लिये किया जायेगा तथा 4 बीघा भूमि अन्य उपयोग के लिये रखी गई है। उन्होंने कहा कि इसका पूरा प्रस्ताव तैयार कर राज्य सरकार को भिजवाये।  


डॉ. रामप्रताप ने कहा कि पेयजल विभाग की पहली प्राथमिकता आमजन को पेयजल मुहैया करवाना है, जहां कही कॉलोनियों में बस्तियों में पाईप लाईन नही है, वहां पाईपलाईन डाली जाये। इस कार्य में किसी तरह की लापरवाही असहनीय होगी। उन्होंने कहा कि अतिक्रमण जहां हटाये जाते है, वहां साथ के साथ सड़क व नाली का निर्माण होना चाहिए। हनुमानगढ़ जंक्शन व टाउन में एसटीपी लगभग तैयार है, 1200 फीट लम्बाई के पाईपलाईन डालकर जिसे शीघ्र प्रारम्भ करने के निर्देश दिये गये। श्रीगंगानगर में जिस क्षेत्र में सीवरेज लाईन डाल दी गई है। उस क्षेत्र में 7 हजार परिवारों को पेयजल कनेक्शन दिये जाने है, इसके लिये अतिरिक्त 4 करोड़ रूपये की राशि सरकार द्वारा जारी की जायेगी। 


पूर्व केन्द्रीय राज्यमंत्री एवं सांसद श्री निहालचंद ने कहा कि रायसिंहनगर में वृक्षकुंज स्थापित करने के लिये 12 बीघा भूमि दी गई है, जिस पर तत्काल वृक्षारोपण किया जाये। साथ ही अनूपगढ़-सूरतगढ़ सड़क मार्ग तथा रायसिंहनगर-विजयनगर सड़क व गौरव पथ के मध्य खड़े खम्बों को हटाने के निर्देश दिये गये। उन्होंने बताया कि रायसिंहनगर में इसी सड़क पर तीन-तीन खम्बों की लाईनें है, जिनमें 2 लाईनें बिना उपयोग वाली है, जिन्हें हटाया जाये। 

**************

सूरतगढ़ विधायक श्री राजेन्द्र सिंह भादू ने कहा कि सूरतगढ़ में बिश्नोई समाज के लिये 20 बीघा भूमि का आवंटन सराहनीय है। उन्होंने सूरतगढ़ क्षेत्र में पट्टे जारी करने की बात रखी। उन्होंने कहा कि पट्टे जारी करने के नियमों में थोडा संशोधन करने से बहुत सारे परिवारों को इसका लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि कच्ची बस्तियों को राज्य स्तर से डी-नोटिफिकेशन करवाया जाये, जिससे पट्टे देने में आसानी होगी।

***********

 पीलीबंगा विधायक श्रीमती द्रोपती ने भी एक बस्ती में पानी नही पहुंचने की समस्या रखी तथा आमजन के पट्टे जारी करने पर जोर दिया। 


स्वायत शासन विभाग के शासन सचिव श्री मनजीत सिंह ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत जो गांव व शहर ओडीएफ घोषित हो गये है, उनका दुबारा भी सर्वें होगा। सार्वजनिक शौचालयों के निर्माण, घर-घर कचरा संग्रहण पर अधिक जोर दिया जाये। सभी स्थानीय निकाय ठोस कचरा के लिये जगह चिन्हित करें तथा गरीब परिवारों को संबल प्रदान करने के लिये उन्हें मकान, रोजगार तथा स्वयं सहायता समूह बनाकर लाभान्वित किया जाये। उन्होंने कहा कि सभी तरह के भुगतान ऑनलाईन किये जाये। नक्शे, म्यूटेशन, विभिन्न प्रकार के प्रमाण पत्रों को भी ऑनलाईन जारी करने की प्रक्रिया अपनाई जाये।


बैठक में पूर्व राज्यमंत्री एवं सादुलशहर विधायक श्री गुरजंट सिंह बराड़, गंगानगर विधायक श्रीमती कामिनी जिंदल, अतिरिक्त मुख्य सचिव नगरीय विकास श्री मुकेश कुमार शर्मा, अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन श्री नख्तदान बारहठ, न्यास अध्यक्ष श्री संजय महिपाल सहित गंगानगर व हनुमानगढ़ जिले के वरिष्ठ अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों ने भाग लिया।


रविवार, 25 मार्च 2018

पालिका ईओ 39 हजार जेईएन 15 हजार लेते गिरफ्तार

मंडावा. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो सीकर की टीम ने बुधवार 22-3-2018 को मंडावा नगर पालिका में चल रहे रिश्वत खेल मेन पालिका के ईओ और जेईन को रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है।

 पालिका के ईओ भरतकुमार हरितवाल को 39 हजार और जेईन श्रवण कुमार को 15 हजार रुपए रुपए की घूस लेते गिरफ्तार किया। ईओ हरितवाल सीकर जिले के रामगढ़ शेखावाटी कस्बे के वार्ड 12 का और जेईएन श्रवण लक्ष्मणगढ़ के पास स्थित राजपुरा गांव का रहने वाला है।

इन्होंने पहले भुगतान किए गए बिलों पर  घूस नहीं देने पर अन्य निर्माण का भुगतान रोक लिया था।

 परिवादी पवन अपने बिलों के भुगतान के लिए पिछले सात माह से चक्कर लगा रहा था। वह पहले भी कई बार रिश्वत दे चुका है। 

कार्रवाई के दौरान टीम में सीआई महेंद्र चावला, एएसआई श्रवणसिंह, कांस्टेबल मूलचंद, दलीप कुमार, राजेंद्र कुमार, कैलाशचंद्र, रामनिवास आदि थे।

 शिकायत के सत्यापन के बाद पिछले दस दिनों में दोनों अधिकारी बुधवार को एक साथ नगर पालिका में आने के साथ ही एसीबी टीम ने दोनों को धर दबोचा। एसीबी टीम ने दोनों अधिकारियों के घरों का भी सर्च किया है। पवन कुमार की शर्मा कंस्ट्रक्शन कपंनी है। उसकी कंपनी पालिका के टेंडर पर सड़क व नाली आदि निर्माण के कार्य करती है। पवन कुमार ने 12 मार्च को सीकर एसीबी में शिकायत दर्ज करवाई थी कि नगर पालिका ईओ भरत कुमार व जेईन श्रवण कुमार ने उसकी कंपनी की ओर से किए गए निर्माण कार्य का भुगतान रोक लिया है। वे पहले किए गए कार्य का तीन फीसदी कमिशन मांग रहे हैं। इस पर एसीबी की टीम ने उसी दिन शिकायत का सत्यापन करवा लिया। लेकिन वे जाल में नहीं फंस पाए। शिकायत के दस दिन बाद ट्रेप की कार्रवाई हो पाई। इस दौरान गवाहों ने भी पूरी गंभीरता बरती।

लोगों की भीड़ होने पर किया गेट बंद 

नगर पालिका में एसीबी टीम की कार्रवाई की सूचना के साथ ही वहां लोगों की भीड़ एकत्र हो गई। ऐसे में एसीबी टीम ने पालिका का गेट बंद करवा कर कार्रवाई की। टीम जब अंदर पहुंची तो ईओ हरितवाल पालिकाध्यक्ष के कक्ष में बैठे थे। टीम ने उनकी जेब से रुपए बरामद कर लिए। जेईएन ने रिश्वत की राशि को लेने के बाद फाइलों में छिपा दिया था, लेकिन टीम ने उसे बरामद कर दोनों के हाथ धुलवाए तो रंग आ गया। नगरपालिकाओं मेंं कमीशन तय है।



उनके हाथ रंग आ गया।

 

राजपूत क्षत्रिय करणी मंदिर में चैत्र नवरात्रा 2018 पर हवन

सूरतगढ़ 25 मार्च 2018.

 राजपूत क्षत्रिय करणी माता मंदिर में  नवरात्रा पर 25 मार्च को नवमी पर हवन किया गया।

 मंदिर प्रांगण में राजपूत संघ के  अध्यक्ष मल सिंह भाटी,पूर्व अध्यक्ष लाल सिंह बीका एवं संरक्षक करणीदानसिंह राजपूत( बैंस) ने सपत्नीक हवन किया। हवन में राजपूत समाज के अलावा उपस्थित अन्य समुदाय के श्रद्धालुओं ने भी आहुतियां डाली। मां करणी का पूजन अर्चन के बाद कन्याओं को भोजन कराया गया व प्रसाद का वितरण किया गया।

 सूरतगढ़ के इस मंदिर में देशनोक में विराजमान मां करणी की  अनुकृति स्थापित की हुई है। हनुमानगढ़ श्रीगंगानगर बाईपास पर क्षत्रिय राजपूतों का यह मंदिर है।





शनिवार, 24 मार्च 2018

उड़ादो फूंक से अत्याचारी सरकारें: कविता- करणीदानसिंह राजपूत,




एको राखो,

चेतो राखो,

शासन प्रशासन ने,

सेके राखो,

ना माने 

सरकार तो,

टेके राखो.

ताकतवर सरकारों को

हिलाने हटाने के लिए

यह आह्वान 

यह अपील

काफी है।

यह अपील

बहुत 

शक्तिशाली है।

अपने आपको

प्रचंड बहुमत से

शक्तिशाली

मानकर

नादिरशाही 

व्यवहार करने

वाली

अत्याचारी

सरकारें

जनता की

एकता की

फूंक से

उड़

जाती हैं।

इतिहास की

पुस्तकें

भरी हैं 

ऐसे

परिवर्तनों से।

तो फिर

झुको नहीं

रूको नहीं

पलट डालो

तख्त ताज

राजगद्दी

तानाशाही की।

लोकतंत्र में 

मत का

ताकतवर

हथियार

तुम्हारे

पास है।

करो

तैयारी

अब

सुदर्शन जैसा

कालचक्र

तुम्हें ही

चलाना है।

समय

आ पहंचा है

रणभेरी

बजाने का।

*****

करणीदानसिंह राजपूत,

सूरतगढ,

94143 81356.



शुक्रवार, 23 मार्च 2018

ईओ नगरपालिका 50 हजार रू.रिश्वत लेते दलाल सहित गिरफ्तार

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने नगर पालिका संगरिया के अधिशाषी अधिकारी संदीप बिश्नोई को ₹50 हजार की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया। संदीप बिश्नोई का बिचौलिया दलाल विनोद कुमार भी मौके पर पकड़ में आया।

बीकानेर स्थित भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की एसपी ममता बिश्नोई के निर्देश पर यह कार्यवाही हुई।

संदीप बिश्नोई ने यह रिश्वत की राशि धर्म कांटे वाले जैन प्रकाश से ली जिनका रतनपुरा मेंं धर्मकांटा लगाया हुआ है।ईओ धर्मकांटे को अवैध बता रहा था।

 पूर्ण विवरण की प्रतीक्षा है।

23-3-2018.

मंगलवार, 20 मार्च 2018

छात्राओं का यौन उत्पीड़न, प्रोफेसर गिरफ्तार

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में 9 छात्राओं से यौन उत्पीड़न के आरोपी प्रोफेसर अतुल जौहरी को दिल्ली पुलिस ने अरेस्ट कर लिया है। सोमवार को लगातार हंगामे-प्रदर्शन के बाद पुलिस ने प्रोफेसर अतुल जौहरी के खिलाफ 8 एफआईआर दर्ज किये। आरोपी प्रोफेसर से आज पूछताछ हो सकती है। बता दें कि यौन शोषण के आरोपी प्रोफेसर अतुल जौहरी को हटाने की मांग को लेकर जेएनयू के छात्र-छात्राओं ने सोमवार शाम को वसंतकुंज थाने तक विरोध मार्च निकाला। 

जेएनयू छात्रसंघ की ओर से जारी बयान के मुताबिक दिल्ली पुलिस ने शिकायत करने वाली छात्राओं के मामले में प्रोफेसर अतुल जौहरी पर अलग-अलग एफआईआर दर्ज की हैं। सोमवार को शिक्षक संघ के नेतृत्व में शिक्षकों ने जेएनयू परिसर में 'सत्याग्रह' आंदोलन शुरू कर दिया। इसके बाद तीन शिक्षकों ने भूख हड़ताल शुरू कर दी। ये तीनों शिक्षक बुधवार तक तीन दिन भूख हड़ताल पर रहेंगे। छात्रों ने दो मुद्दों को लेकर परिसर में अलग-अलग जगह प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन शुरू कर दिया। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि जेएनयू में कुलपति ने अपनी मनमानी से कई केंद्रों के सात चेयरपर्सन और डीन को बदल दिया है। उनका आरोप है कि कुलपति अपने खास लोगों को इन पदों पर काबिज करने के लिए चेयरपर्सन और डीन को बदल दिया।


उनका कहना है कि प्रशासन अनिवार्य हाजिरी को लागू करने और अपने फैसलों को जबरदस्ती थोपने के लिए हर केंद्रों में प्रमुख पदों पर अपने लोगों को गलत तरीके से भरना चाहता है। जेएनयू शिक्षक संघ के सचिव सुधीर के सुथर का कहना है कि जेएनयू प्रशासन ने पहले तो एकादमिक परिषद की बैठक में बिना प्रस्ताव पारित किए कक्षाओं में हाजिरी अनिवार्य करने के फैसले को लागू कर दिया। इसके बाद उन्होंने डीन और चेयरपर्सन को निशाना बनाकर हटाया गया। प्रशासन के गलत फैसलों का विरोध करने वाले छात्रों को नोटिस भेजे गए और जुर्माना लगाया गया। उन्होंने कहा कि प्रशासन विश्वविद्यालय की अकादमिक संस्कृति को नष्ट करने पर तुला हुआ है। 


प्रशासन पर अतुल जौहरी को बचाने का आरोप


जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष गीता कुमारी ने बताया कि अतुल जौहरी पर नौ छात्राओं ने यौन शोषण के आरोप लगाए हैं। उनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज हो चुकी है। इसके बावजूद जेएनयू प्रशासन ने न सिर्फ अतुल जौहरी को निलंबित किया है बल्कि कुलपति समेत कई प्रशासनिक अधिकारी उन्हें बचाने में लगे हैं। उन्होंने बताया कि प्रोफेसर अतुल जौहरी के खिलाफ शिकायत करने वाली छात्राओं को प्रशासन ने एक कमरे में बंद कर दिया। जेएनयू की अन्य छात्राओं को उनसे मिलने भी नहीं दिया गया था। जब वे पीड़ित छात्राओं से मिलने की कोशिश कर रही थीं तो जेएनयू प्रशासन के सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें रोकने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि 72 घंटे से ज्यादा का वक्त हो गया है लेकिन उनके खिलाफ अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। वह जेएनयू परिसर में मिली सुविधाओं का लाभ उठा रहे हैं। जेएनयू प्रशासन ने उन्हें उनके अकादमिक दायित्वों से भी मुक्त नहीं किया है। उन्होंने जेएनयू प्रशासन से अतुल जौहरी को तुरंत निलंबित करने की मांग की है।


प्रशासन बोला अकादमिक माहौल बिगाड़ रहे कुछ शिक्षक


जेएनयू प्रशासन ने सत्याग्रह आंदोलन शुरू करने वाले कुछ शिक्षकों पर छात्रों को भड़काने का आरोप लगाया। रजिस्ट्रार प्रमोद कुमार की ओर से जारी बयान के मुताबिक विश्वविद्यालय में कुछ शिक्षकों के समर्थन से कुछ छात्र आकादमिक गतिविधियों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। वहीं, जेएनयू के प्रोफेसर अतुल जौहरी ने दावा किया कि उनके खिलाफ लगाए गए आरोप बेबुनियाद हैं।


उन्होंने कहा कि अनिवार्य हाजिरी के पक्ष में उन्होंने खुलकर बातचीत की है, इसलिए उन पर झूठे आरोप लगाए जा रहे हैं।  वहीं, जेएनयू के रजिस्ट्रार डॉ. प्रमोद कुमार ने बताया कि लाइफ साइंसेज डिपार्टमेंट की कुछ छात्राओं ने मौखिक रूप से प्रोफेसर के खिलाफ शिकायतें की हैं। उन्हें कहा गया है कि यूनिवर्सिटी के नियम के हिसाब से एक बॉडी से प्रशासन इसकी जांच करवाएगी। रजिस्ट्रार ने यह भी कहा कि जब अधिकारी लड़कियों से बात कर रहे थे तब कुछ छात्र उस कमरे के दरवाजे को जोर-जोर से खटखटाने लगे। शिकायत करने वाली लड़कियों की गुजारिश पर भी वे रुके नहीं।

(हिन्दुस्तान 20-3-2018)

सोमवार, 19 मार्च 2018

करणी माता सूरतगढ़ में देशनोक वाली:अद्भुत सिंदूर श्रंगारित शिला प्रतिमा


                                       दर्शन में ही हो जाती है देवीय अनुभूति:

            देशनोक मंदिर वाली माता की अनुकृति:
                     विशेष- करणीदानसिंह राजपूत  


 करणी माता मंदिर  फोटो करणीदानसिंह राजपूत

करणी माता-
 इस मंदिर में माता की प्रतिमा देशनोक मंदिर में स्थापित प्रतिमा की अनुकृति है। शिला पर गढ़ी हुई प्रतिमा सिंदूर सजी है, और प्रतिमा के दर्शन से यह आभास होता है मानों देवी मां असीम कृपा दृष्टि से भक्त की ओर देखती हुई आशीर्वाद दे रही है।
  फोटो करणीदानसिंह राजपूत


हवन करते हुए श्रदृधालु
6 मई 2011 को शुभ मुहूर्त में प्रथम पूज्य भगवान गणेश, शिव परिवार, शिव लिंग,राधा कृष्ण, हनुमान, देवियों में लक्ष्मी, सरस्वती, दुर्गा, संतोषी,शीतला, और काली की प्रतिमाओं की स्थापना की गई। इस शुभ समय पर हवन किया गया जिसमें अनेक श्रद्धालुओं ने देवी देवताओं की कृपा दृष्टि प्राप्त की।

शिवपरिवार व शिव लिंग-फोटो करणीदानसिंह राजपूत

भगवान गणेश माता लक्ष्मी और माता सरस्वती-फोटो करणीदानसिंह राजपूत

माता दुर्गा संतोषी और राधा कृष्ण-फोटो करणीदानसिंह राजपूत

माता शीतला काली हनुमान और मंदिर पर त्रिशूल स्थापना करते श्रदृधालु-
 फोटो करणीदानसिंह राजपूत

सूरतगढ, 6 मई 2011. 
अपडेट 19-3-2018.

राजस्थान में श्रीगंगानगर जिले के विश्व विख्यात कस्बे सूरतगढ़ में हनुमानगढ़ श्रीगंगानगर बाई पास पर करणी माता का यह मंदिर। इस मंदिर में माता की प्रतिमा देशनोक मंदिर में स्थापित प्रतिमा की अनुकृति है। शिला पर गढ़ी हुई प्रतिमा सिंदूर सजी है, और प्रतिमा के दर्शन से यह आभास होता है मानों देवी मां असीम कृपा दृष्टि से भक्त की ओर देखती हुई आशीर्वाद दे रही है। 
 श्रद्धालु माता के दर्शन के बाद भैरूंजी के दर्शन करते हैं और उसके बाद सफेद चूहों के दर्शन कर कृपा प्राप्त करते हैं। इस मंदिर में माता करणी के दर्शन और पूजन के लिए हर धर्म संप्रदाय और जाति के श्रद्धालु दूर दूर पहुंचते हैं। अनेक नव विवाहित जोड़े सहित अपने परिवार जनों के साथ पहुंचते हैं। नव रात्रों में हवन और पूजन तथा कन्याओं को भोजन कराने की परंपरा है।
    वर्षों पहले किसी दृष्टांत से प्रभावित होकर यहां पर करणी माता का चित्र रख कर पूजन अर्चन शुरू किया गया था, और भक्तों के जुड़ाव के साथ ही मंदिर का निर्माण हुआ। इस मंदिर की देखरेख और संचालन राजपूत क्षत्रिय संघ करता है।
श्रद्धालओं की सोच थी कि इस मंदिर में मां करणी के अलावा अन्य देवी देवताओं की प्रतिमाएं भी स्थापित की जाएं। इसके बाद यहां 6 मई 2011 को शुभ मुहूर्त में प्रथम पूज्य भगवान गणेश, शिव परिवार, शिव लिंग,राधा कृष्ण, हनुमान, देवियों में लक्ष्मी, सरस्वती, दुर्गा, संतोषी,शीतला, और काली की प्रतिमाओं की स्थापना की गई। इस शुभ समय पर हवन किया गया जिसमें अनेक श्रद्धालुओं ने देवी देवताओं की कृपा दृष्टि प्राप्त की। 


  पुजारी भगवती प्रसाद भोजक के अनुसार मंदिर पूजा दर्शन के लिए सुबह 5 बजे से 9 बजे तक और शाम को  4 बजे से रात के 9 बजे तक खुला रहता है।

सूरतगढ़ में या समीप के शहर कस्बे में निवास है तो इस मंदिर में स्थापित मां करणी की इस शिला प्रतिमा का दर्शन अवश्य करना चाहिए। शिला पर ऊकेरी हुई प्रतिमाएं प्राचीनता अद्भुत अहसास कराती है। आजकल इस प्रकार की प्रतिमाएं स्थापित नहीं होती। संगमरमर की प्रतिमाएं स्थापित होती हैं।

-------------------------------------------------------





काली मां के भक्त श्रीकृष्ण मोकलसर का जागरण:










डमरू की डम डम में उतरती माता और भाव विभोर होते श्रद्धालु:
विशेष रिपोर्ट - करणीदानसिंह राजपूत


महाकाली उपासक पण्डित परमानन्द दर्द के समाधान व परामर्श






प्रस्तुत कर्ता- करणीदानसिंह राजपूत
हिंदुस्तान में राजस्थान प्रदेश के श्रीगंगानगर जिले में एक कस्बा है सूरतगढ़ जो बालुई टीब्बे और हरियाले खेतों के बीच में बसा है। यह कस्बा विभिन्न परंपराओं और कारणों से विश्व भर में प्रसिद्ध है।
    यह कस्बा रेलवे स्टेशन बीच में होने से दो भागों में बंटा है। एक भाग को लाईन पार का क्षेत्र कहा जाता है जहां पर शिवबाड़ी से कुछ ही दूरी पर रेलवे सीमा के पास में एक छोटे से मकान में महाकाली की प्रतिमा प्रतिष्ठित है और उसके उपासक हैं पंडित परमानन्द दर्द। परमानन्द करीब तेरह वर्ष पूर्व शांति और ज्ञान की प्रप्ति के लिए पहाड़ी ओर निर्जन स्थानों पर,तीर्थ स्थलों पर भ्रमण कर रहे थे तब ऋषिकेश में महाकाली के उपासक नित्यानन्द महाराज के दर्शन हुए जिन्होंने परमानन्द की सोच बदल दी। शांति और ज्ञान वह सर्व शक्तिमान तो उसके स्वयं के आस पास ही है; केवल पहचानने की आवश्यकता है। मिलेगा तो आसानी से मिल जाएगा। श्रद्धा और विश्वास होना चाहिए। नित्यानन्द जी महाराज असम प्रांत के डिब्रूगढ़ में रहते हैं तथा काफी वृद्ध हो चुके हैं। उन्हीं के दिए संत वाक्यों ने ग़ज़ल गायक परमानन्द दर्द का जीवन बदल दिया और परमानन्द दर्द लोगों के दर्द और पीड़ाओं को दूर करने के ध्येय से आस्थाओं के संसार से जुड़ गए।
   महाकाली महाकाली के दर्शन को प्रातः काल से ही श्रद्ालुओं का आना शुरू हो जाता है। के दर्शन पूजन के साथ ही अनेक प्रकार की समस्याओं से हैरान परेशान लोग समाधान और परामर्श के लिए विनती शुरू करते हैं। लोगों का आना जाना और अपनी समस्याएं बताते हुए तथा पंडित परमानन्द को समाधान परामर्श बताते हुए देखना भी कौतुहल सा लगता है और चकित करता है। समाधान और परामर्श चाहने वालों में हर प्रकार के लोग आते हैं। महिलाएं भी हैं तो पुरूष और युवक भी हैं। वे लोग भी हैं जो अपने परिजन की रिश्तेदार की तो कोई अपने परिचित की परेशानी का समाधान लेने को मिलते हैं। कस्बे के और दूर दराज के तथा आसपास के प्रदेशों के लोग समस्याएं बतलाते हैं। उनको बडे़ धैर्य से सुनना और कोई कमी रही हो तो बारीकी से एक एक बात पूछना भी एक खासियत नजर आती है।

पंडित परमानन्द का मानना है कि सर्वाधिक मानसिक परेशानियों से पीड़ित लोग या उनके परिजन आते हैं तो उनको उसी प्रकार के समाधान और परामर्श से समझाया जाता है। कई बार लोग मोबाईल से ही समाधान परामर्श चाहते हैं। उनको भी परामर्श दिया जाता है, लेकिन पंडित जी का कहना है कि व्यक्ति स्वयं आए तो ज्यादा उचित रहता है। उसको सामने देख कर अधिक समझा जा सकता है और अधिक समझाया भी जा सकता है।  
विभिन्न प्रकार की बीमारियों से पीड़ित लोग भी आते हैं और बच्चों को भी लाया जाता है, जिनको नाना प्रकार के देशी नुस्खे बताए जाते हैं।

    पंडित परमानन्द मंत्र तंत्र यंत्र के साथ टोटके व नुस्खों का उपयोग करते हैं। लेकिन उनकी प्राथमिकता तंत्र में रहती है। उनका कहना है कि मानव शरीर में किसी देवता और देवी की छाया नहीं आती। देवी देवता मानव शरीर में क्यों आऐंगे? यह केवल प्रचार होता है। परमानन्द का मानना है कि लोग छोटी छोटी बातों की तरफ ध्यान नहीं देते और बाद में वह छोटी समस्या परेशान करती हुई बड़ी समस्या बन जाती है। परमानन्द सूरतगढ़ के इस मुख्यालय से चंडीगढ़ और दिल्ली व निमंत्रण पर अन्य स्थानों पर भी परामर्श देने को जाते हैं।
    उनका यह भी मानना है कि किसी से भी अपनी समस्या और परेशानी का समाधान व परामर्श परख करके ही लिया जाना चाहिए,क्योंकि यह विश्वास और पवित्र श्रदृधा से जुड़ा हुआ होता है।
प्रस्तुत कर्ता- करणीदानसिंह राजपूत

*********************************
26-3-2015
up date 19-3-2018.
00000000000000000000000000000000000000000000000000000000000000000000000
0000000000000ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ00000000000000000000000000000000000000
00000000000000000000000000000000000000000000000000000000000000000000000
 
                             

माँ काली की छाया:रूकमादेवी मुंडा का नाच व गरजते बोल:अद्भुत रोमांचकारी रात थी।


नंगी तलवारों संग नाचते भक्तों के बीच छाया में डूबी रूकमा का नाच:
काली माँ की आस्था की अद्भुत रोमांचभरी रात:
डमरू की डमडम के रोमांच में डूबे नाचते गाते भक्त और आस्था के सन्नाटे में डूबे श्रद्धालु नर नारी:
प्रस्तुतकर्ता- करणीदानसिंह राजपूत

27-3-2015.
अपडेट 19-3-2018.
*********************

काली माँ की आस्था की अद्भुत रोमांच भरी वह रात थी।
काली माँ का त्रिशूल लगा हुआ और उस पर ओढाई काली चुनरी। सबकी निगाहें उस ओर ही थी। पास में अपनी प्रबल्लता के साथ माँ की जोत  की ऊंची उठती लपट। श्रद्धालु नर नारियों की भीड़ की निगाहें त्रिशूल और जोत पर बार बार जाती तथा मुंह से जयकारे वाले बोल के साथ हाथ जुड़ जाते नमन की मुद्रा में।
माँ के भजन डमरू की डमडम में नाचते भक्त जोश से गाते और ढोल की जोरदार थाप पर पांव जमीन पर पड़ते तब उनमें बंधे घुंघरऊओं की घनघनाहट भी जोरदार होती।
अद्भुत लय इन सब के बीच में चल रही थी।
मोकलसर के माँ भक्त कृष्ण के हाथ में बजता डमरू तथा घेरदार लाल चोगा तथा भजनों के बोल की स्वर लहरियां।
आधी रात बीत गई थी।
माँ के भक्तों का नृत्य तेज और तेज होता जा रहा था।
एक भक्त सांकलों का भारी गुच्छा लहराता नाचने लगा।
एक भक्त नंगी तलवार लिए दिखाई दिया।
नंगी तलवारों के साथ दो भक्त हुए।
नंगी तलवारों के साथ तीन भक्त हुए और उनका नाच शुरू हुआ।
अद्भुत नजारा हो गया। बहुत बहुत तेज तलवारों का नृत्य हो गया।
उसी तेज नंगी तलवारों के नृत्य में अचानक एक महिला पहुंची और नाचने लगी।
अद्भुत रोमांचक नजारा। नंगी तलवारों में नाचते भक्तों में वह झूम झूम नाचने लगी।
उसे परवाह नहीं थी नंगी तलवारों की लेकिन देख रहे श्रद्धालुओं को झुरझुरी कंपकंपी छूट छूट जा रही थी।
उसकी नृत्य झूम बढ़ती जा रहा थी और जीभ निकलती जा रही थी।

आँखें अंगारों सी लाल धधकती सी हो चुकी थी।

करणी माता : देवी सफेद चूहों वाली सूरतगढ़



 करणी माता मंदिर  फोटो करणीदानसिंह राजपूत

करणी माता-इस मंदिर में माता की प्रतिमा देशनोक मंदिर में स्थापित प्रतिमा की अनुकृति है। शिला पर गढ़ी हुई प्रतिमा सिंदूर सजी है, और प्रतिमा के दर्शन से यह आभास होता है मानों देवी मां असीम कृपा दृष्टि से भक्त की ओर देखती हुई आशीर्वाद दे रही है। फोटो करणीदानसिंह राजपूत

श्रद्धालु माता के दर्शन के बाद सफेद चूहों के दर्शन कर कृपा प्राप्त करते हैं।  फोटो करणीदानसिंह राजपूत

हवन करते हुए श्रदृधालु- फोटो इन्द्रसिंह बैंस
6 मई 2011 को शुभ मुहूर्त में प्रथम पूज्य भगवान गणेश, शिव परिवार, शिव लिंग,राधा कृष्ण, हनुमान, देवियों में लक्ष्मी, सरस्वती, दुर्गा, संतोषी,शीतला, और काली की प्रतिमाओं की स्थापना की गई। इस शुभ समय पर हवन किया गया जिसमें अनेक श्रद्धालुओं ने देवी देवताओं की कृपा दृष्टि प्राप्त की।

शिवपरिवार व शिव लिंग-फोटो करणीदानसिंह राजपूत

भगवान गणेश माता लक्ष्मी और माता सरस्वती-फोटो करणीदानसिंह राजपूत

माता दुर्गा संतोषी और राधा कृष्ण-फोटो करणीदानसिंह राजपूत

माता शीतला काली हनुमान और मंदिर पर त्रिशूल स्थापना करते श्रदृधालु-
 फोटो करणीदानसिंह राजपूत

करणीदानसिंह राजपूत
सूरतगढ, 6 मई 2011. 
राजस्थान में श्रीगंगानगर जिले के विश्व विख्यात कस्बे सूरतगढ़ में हनुमानगढ़ श्रीगंगानगर बाई पास पर करणी माता का यह मंदिर। इस मंदिर में माता की प्रतिमा देशनोक मंदिर में स्थापित प्रतिमा की अनुकृति है। शिला पर गढ़ी हुई प्रतिमा सिंदूर सजी है, और प्रतिमा के दर्शन से यह आभास होता है मानों देवी मां असीम कृपा दृष्टि से भक्त की ओर देखती हुई आशीर्वाद दे रही है। श्रद्धालु माता के दर्शन के बाद भैरूंजी के दर्शन करते हैं और उसके बाद सफेद चूहों के दर्शन कर कृपा प्राप्त करते हैं। माता करणी के दर्शन और पूजन के लिए हर धर्म संप्रदाय और जाति के श्रद्धालु दूर दूर पहुंचते हैं। अनेक नव विवाहित जोड़े सहित अपने परिवार जनों के साथ पहुंचते हैं। नव रात्रों में हवन और पूजन तथा कन्याओं को भोजन कराने की परंपरा है।
    वर्षों पहले किसी दृष्टांत से प्रभावित होकर यहां पर करणी माता का चित्र रख कर पूजन अर्चन शुरू किया गया था, और भक्तों के जुड़ाव के साथ ही मंदिर का निर्माण हुआ। इस मंदिर की देखरेख और संचालन राजपूत क्षत्रिय संघ करता है।
श्रद्धालओं की सोच थी कि इस मंदिर में मां करणी के अलावा अन्य देवी देवताओं की प्रतिमाएं भी स्थापित की जाएं। इसके बाद यहां 6 मई 2011 को शुभ मुहूर्त में प्रथम पूज्य भगवान गणेश, शिव परिवार, शिव लिंग,राधा कृष्ण, हनुमान, देवियों में लक्ष्मी, सरस्वती, दुर्गा, संतोषी,शीतला, और काली की प्रतिमाओं की स्थापना की गई। इस शुभ समय पर हवन किया गया जिसमें अनेक श्रद्धालुओं ने देवी देवताओं की कृपा दृष्टि प्राप्त की। 


 पुजारी भगवती प्रसाद भोजक के अनुसार मंदिर पूजा दर्शन के लिए सुबह 5 बजे से 9 बजे तक और शाम को  4 बजे से रात के 9 बजे तक खुला रहता है।----------------------------------------------------------



ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ



यह ब्लॉग खोजें