Monday, January 1, 2018

राजस्थान: पुलिस चौकी में औरत के साथ फोटो खींच 3 को फंसाया फिर खुद भी एसीबी में फंसे


पुलिस चौकी में औरत के साथ तीन युवकों की आपत्तिजनक तस्वीरें खींची गई और फिर उन्हें ब्लैकमेल करने का खेल शुरू हुआ। 

 राजस्थान के बीकानेर जिले के महाजन थाना इलाके की जैतपुर पुलिस चौकी का है। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने 31.12.217 को छापा मार कर रिश्वत में ली गई रकम सहित ब्लैकमेलिंग के आरोप में चौकी प्रभारी और दो पुलिस कांस्टेबलों को गिरफ्तार किया। 

यह कार्रवाई एसीबी श्रीगंगानगर के प्रभारी एएसपी राजेंद्र प्रसाद ढिढारिया के नेतृत्व में की गई। राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी हैडकांस्टेबल शिवराम मीणा है। वह बीकानेर जिले के महाजन थानान्तर्गत जैतपुर पुलिस चौकी प्रभारी है।

शिवराज मीणा निवासी रुपवास जिला अलवर निवासी है। इसके अलावा भादवा, हनुमानगढ़ निवासी कांस्टेबल राकेश कुमार स्वामी और हनुमानगढ़ सदर निवासी कांस्टेबल देवीलाल मेघवाल भी पुलिस चौकी जैतपुर पर पदस्थापित हैं। 

पुलिसवालों की परिचित थी औरत।


परिवादी मुकेश कुमार जाट निवासी उदयपुर गोदारान, सूरतगढ़ जिला श्रीगंगानगर ने 24 दिसंबर को एसीबी में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि वह 22 दिसंबर को अपने दोस्त पवन कुमार और रामकुमार के साथ रात करीब एक बजे श्रीसीमेंट से बाइक पर सवार होकर पल्लू जा रहे थे। इसी दौरान एक प्राइवेट कार में सवार तीनों पुलिसकर्मियों ने परिवादी और उसके दोस्त को बीच रास्ते में रुकवा लिया। वे उन्हें जबरन पकड़कर जैतपुर पुलिस चौकी ले गए। वहां पुलिसकर्मियों ने अपनी एक औरत के साथ कपड़े उतरवा कर आपत्तिजनक फोटों खींचे और फिर मुकदमे में फंसाने का आरोप लगाते हुए मोटरसाइकिल जब्त कर ली। उनके पास रखे 10 हजार रुपए भी छीन लिए। उक्त महिला पुलिस वालों की परिचित है।

पीड़ितों का आरोप है कि इसके बाद चौकी प्रभारी और दोनों पुलिसकर्मियों ने धमकियां दी और मुकदमा दर्ज नहीं करने तथा मोटरसाइकिल छोड़ने की एवज में 50 हजार रुपए की रिश्वत मांगी। एसीबी ने शिकायत का सत्यापन किया तब चौकी पर तैनात घूसखोर पुलिस​कर्मियों ने 45 सौ रुपए रिश्वत ले ली। इसके बाद आज ट्रेप के दौरान पीड़ित 10 हजार रुपए लेकर पुलिस चौकी पर पहुंचे। जहां आरोपी कांस्टेबल राकेश ने रिश्वत की रकम 10 हजार रुपए लेकर रख लिए। तभी एसीबी टीम ने कांस्टेबल को रंगे हाथों धरदबोचा। पूछताछ में रिश्वत के इस खेल में चौकी प्रभारी शिवलाल व कांस्टेबल देवीलाल का नाम सामने आया। तब एसीबी ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया।

शिकायत कर्ता का मोटरसाइकिल भी  चौकी के एक ताला बंद कमरे में बरामद किया गया। देवीलाल के मोबाइल में शिकायत कर्ता व महिला की तस्वीरें मिली। अन्य पुरुषों की तस्वीरें भी औरत  के साथ मिली। इससे लगता है की अनेक लोगों को शिकार बनाया गया। एक माह पहले ही इनकी चौकी पर नियुक्ति हुई थी। जिस कार में ये घूमा करते थे वह इन्हीं में से एक की पत्नी के नाम से बताई जाती है।


No comments:

Post a Comment

Search This Blog