Monday, November 13, 2017

भाजपा की छुट्टी करने वास्ते राजस्थान में बनेगी नई पार्टी:मकर संक्रांति को नाम की घोषणा: घनश्याम तिवाड़ी का वसुंधरा से जंगे ऐलान


सीकर 12.11.2017. रामलीला मैदान में लोकसंग्रह अभियान के तहत हुए कार्यकर्ता सम्मेलन में घनश्याम तिवाड़ी ने राजस्थान में नई पार्टी बनाने की घोषणा की।

दीनदयाल वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष व वरिष्ठ भाजपा नेता घनश्याम तिवाड़ी ने  राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018  के लिए नई पार्टी बनाने की घोषणा की है जो समस्त 200 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। नयी पार्टी का नाम मकरसंक्रांति दिवस पर जयपुर में घोषित किया जाएगा।

तिवाड़ी ने कहा कि वे खुद​ जयपुर के सांगानेर विधानसभा क्षेत्र से ही चुनाव लड़ेंगे।

घनश्याम तिवाड़ी रविवार  12.11.2017 को सीकर के रामलीला मैदान में दीनदयाल वाहिनी के लोक संग्रह अभियान के तहत आयोजित  सीकर-झुंझुनूं के कार्यकर्ताओं के सम्मेलन में संबोधित कर रहे थे।

घनश्याम तिवाड़ी ने कहा कि भाजपा का पहला सम्मेलन उन्होंने सीकर में कराया। इसके लिए साइकिल पर दूध बेचने वाले कार्यकर्ताओं ने भी चंदे के पैसे दिए, लेकिन अब यह सांपों को दूध पिलाने जैसा हो गया है। उन्होंने कहा कि जो दूध पिलाता है, वह पिटारे में बंद करना भी जानता है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में भ्रष्टाचार चरम पर है।

 पतो नहीं यह ...कतरो क गटकसी...। हर व्यक्ति के मुंह पर एक ही भाव है...आ तो खाय गी... आ तो लूट लियो...। 

किसी भी विभाग में बिन पैसों के काम नहीं होता। षड़यंत्र  पूर्वक काला कानून लाया जा रहा है। मंत्री व अधिकारियों की किसी की नहीं चलती है। भ्रष्ट अफसरों को बहाल करके पोस्टिंग भी दे दी गई है।

तिवाड़ी ने कहा कि उनकी पार्टी के आने से गरीब व किसान का राज कायम होगा। काला कानून, मुख्यमंत्री का बयान, किसानों की कर्ज माफी, बेरोजगारी, वंचितों को आरक्षण आदि प्रमुख मुद्दे होगे। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति, जनजाति, ओबीसी, विशेष ओबीसी का आरक्षण जारी रखते हुए वंचित वर्गों के गरीब बच्चों को भी 14 प्रतिशत का आरक्षण मिले। ऐसी सामाजिक समरसता की लड़ाई हम लड़ रहे हैं। वंचित वर्ग के आरक्षण के बिल को सरकार दबा कर बैठी है, जिसे विधानसभा में पास भी कर दिया गया मगर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही। गुर्जर आरक्षण और वंचित वर्ग के आरक्षण, दोनों ही मामलों में प्रदेश सरकार जनता से धोखा कर रही है।

तिवाड़ी ने कहा कि उन्हें समझौता करना होता तो वे कभी भी अंगुठा देकर मंत्री बन जाते लेकिन वे राजस्थान को लूट तंत्र नहीं बनने देंगे।

वे बोले" मेरी आवाज दबाने के लिए खूब प्रयास किए। अनुशासन का नोटिस दिलवाया गया, लेकिन जब उन्होंने इसका जवाब दिया तो अमित शाह की जूं सो गई। इसके बाद मुझे पटाने के प्रयास शुरू किए गए, लेकिन अब समय पटने का नहीं, बल्कि पटकने का है।"

****************************************** 


 ********************************************************

 


No comments:

Post a Comment

Search This Blog