बुधवार, 30 अगस्त 2017

सेठिया परिवार में वैशाली और भूमिका का पर्यूषण माह में आठ दिवसीय तप


- करणीदानसिंह राजपूत -
सूरतगढ़। स्वर्गीय छगनमल सेठिया परिवार में उनकी पौत्रियों वैशाली और भूमिका के अठाई तप पर परिजनों रिश्तेदारों सहित जैन समुदाय व अन्य समुदाय के अनेक लोगों ने शुभकामनाओं आशीर्वाद के साथ अभिनन्दन किया। जैन समुदाय में तप का बड़ा महत्व है तथा तप करने को आत्म शुिद्ध माना जाता है। बड़े ही नहीं छोटे छोटे बच्चे बच्चियां भी तप करने में आगे रहते हैं। तप के इस महत्व के लिए तप करने वालों का अभिनन्दन किया जाने की परंपरा है।
सुशीलकुमार सेठिया की पुत्री वैशाली /16 वर्ष/और माणकचंद सेठिया की पुत्री भूमिका / 9 वर्ष/के अठाई तप पूर्ण होने पर उनका अभिनन्दन किया गया। 



तपस्विनी वैशाली एवं तपस्विनी भूमिका को दिनांक 26 अगस्त 2017 को सुबह गाजेबाजे के साथ श्री पाश्र्वनाथ जैन मंदिर लाया गया। इस मंदिर दर्शन यात्रा में भगवान महावीर के नाम का जयघोष होता रहा। मंदिर में भगवान श्री पाश्र्वनाथ सहित अन्य भगवानों की आरती व पूजन किया गया। तपस्विनियों द्वारा पूजन किया गया व परिक्रमा की गई। 





















कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें