बुधवार, 22 अप्रैल 2020

सूरतगढ़ में सख्ती नहीं - लोगों को लोकडाउन की परवाह नहीं-लोगों पर कार्यवाही हो.


* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 22 अप्रैल 2020.

मुख्यबाजार में भी लोग लोकडाउन नियम से नहीं डर रहे। मोटर साइकिल पर दो तीन बैठे निकलते हैं। सीसीटीवी कैमरे सुभाष चौक और महाराणा प्रताप चौक पर लगे हैं जिनका निरीक्षण हर वक्त पुलिस थाने में किया जा सकता है। कोई बीमार को लेजाते वक्त 2 हों तो छूट हो सकती है। बीमार तो छुपा नहीं रह सकता। 

सुभाष चौक से दोपहर को एक मोटरसाइकिल निकली साथ में स्त्री बैठी। दोनों के मुंह भिड़े हुए साफ लग रहा कि आराम से निकल रहे हैं, कानून की कोई परवाह नहीं।

सूर्योदय नगरी मोहल्लों की सड़कें और उन पर बातें करते, मोटर साईकिल चलाते युवा। किसी के मास्क नहीं और कोई एक मीटर की दूरी भी नहीं।

शाम के समय तो टोलियां निकल पड़ती है। 

सुबह छोटे बच्चे बच्चियां रोटी मांगते। घरों के दरवाजों पर  पुराने लोको के आसपास।

रेलवे पुल से रेलवे कालोनी, शिवबाड़ी,आसपास के मोहल्लों की सड़कें लोकडाउन तोड़ते स्त्रियों और युवकों की टोलियां। 


इन इलाकों में शाम को सख्त चैकिंग की जरूरत है। सूरतगढ़ को सुरक्षित रखना है तो सख्ती की जरूरत भी है।

लोकडाउन की कार्यवाही नगरपालिका के कचरा उठाने वाले वाहनों पर लाउडस्पीकर प्रचार तक ही सीमित रह गई है।00




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें