बुधवार, 17 जनवरी 2018

करोड़ों के नोटों पर सोता था आनंद खत्री-3 बिस्तर :96करोड़ 66 लाख के:

कानपुर: नोटों का बिस्तर बना कर सोता था बिल्डर, NIA की छापेमारी में मिले 96 करोड़ के पुराने नोट

यूपी पुलिस ने मंगलवार (16 जनवरी 2018 को एक होटल और तीन अन्य ठिकानों पर छापा मारा था। इस मामले में आठ लोग पकड़े गये हैं। इसी के आधार पर स्वरुपनगर स्थित आनंद खत्री के घर छापेमारी की गई।

उत्तर प्रदेश के औद्योगिक शहर कानपुर में नोटबंदी के बाद पुराने नोटों की अबतक सबसे बड़ी बरामदगी हुई है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी और यूपी पुलिस ने एक ज्वाइंट ऑपरेशन में 96 करोड़ 62 लाख के पुराने नोट बरामद किये हैं। NIA और यूपी पुलिस ने छापेमारी के दौरान नोटों के तीन बिस्तर बरामद किये हैं। इनका इस्तेमाल सोने के लिए किया जाता था। ये बरामदगी बिल्डर आनंद खत्री के घर से हुई है। NIA और यूपी पुलिस ने मंगलवार (16 जनवरी) को एक होटल और तीन अन्य ठिकानों पर छापा मारा था। इस मामले में आठ लोग पकड़े गये हैं। इसी के आधार पर स्वरुपनगर स्थित आनंद खत्री के घर छापेमारी की गई। कानपुर के एसएसपी एके मीणा ने बताया कि सूचना मिलने के बाद इनके घर छापा मारा गया था। उन्होंने कहा कि इस बारे में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया और आयकर विभाग के अधिकारियों को सूचित कर दिया गया है।पुलिस के मुताबिक इस व्यापारी ने दूसरे बजनेसमैन से भी एक्सचेंज के लिए नगदी जमा की थी। बता दें कि पिछले दिनों यूपी पुलिस ने मेरठ के एक बिल्डर संजीव मित्तल के लगभग 25 करोड़ रुपये के पुराने नोट जब्त किये थे। इसके बाद NIA को पता चला कि यूपी में कई छोटे-बड़े गिरोह इस काम में सक्रिय हैं।

यूपी पुलिस का यह भी कहना है कि गिरफ्तार किया गया एक शख्स का रिश्तेदार रिजर्व बैंक में नौकरी करता है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि अभी इस बात की भी जांच की जा रही है कि कहीं इस धंधे में सरकारी अधिकारी तो शामिल नहीं है। पुलिस के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह पता करना है कि क्या ये लोग पुराने नोटों की बदली तो नहीं करते थे। रिजर्व बैंक के नियमों के मुताबिक अब पुराने नोटों की बदली नहीं की जा सकती है।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें