रविवार, 12 मार्च 2017

होली रेलवे सीमा 2017 परिक्रमा का उत्साह

* करणी दान सिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 12 मार्च 2017।

 रेलवे परिसीमा जहां रामलीला मंच है उससे कुछ दूरी पर सामने होली का सजाई गई। पूजन हुआ और उसके बाद होली मंगलाई गई। राजस्थानी भाषा में मंगलाने का मतलब जलाना होता है। इस पर्व को यहां आसपास के लोगों ने मौज मस्ती हर्ष और उल्लास के साथ मनाया। आसपास के जनप्रतिनिधियों ने भाग लिया। व्यवसाइयों ने भाग लिया।सरकारी कर्मचारियों ने परिवारजनों ने भाग लिया।
 यहां पर होली का महोत्सव कई सालों से मनाया जा रहा है। बड़ा उत्साह होता है। दिन भर पूजन होता है जो सूर्यास्त तक होता रहा।
 विधिवत पूजन मंत्रोचार के साथ किए जाने के बाद होलिका को अग्नि प्रदान की गई। एक युवा ने जलती हुई होली में से प्रहलाद रूपी हरी पेड़ की डाल को निकाला और उसे पानी में ले जाकर छोड़ा। परंपरा है प्रहलाद को बचाने की। मान्यता है कि जो युवा प्रहलाद को जलती हुई होली में से बचाता है उसका विवाह शीघ्र ही होता है। इस होली महोत्सव के कुछ चित्र लिए गए जो यहां दिए जा रहे हैं


















































कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें