बुधवार, 15 फ़रवरी 2017

सीमांत रक्षक के विरुद्ध एसीबी ने एक नई शिकायत जांच वास्ते जिला कलेक्टर को सौंपी



सूरतगढ़ 15 फरवरी 2017.
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो राजस्थान मुख्यालय के महानिदेशक कार्यालय से जिला कलेक्टर श्री गंगानगर को  सीमांत रक्षक के विरुद्ध एक शिकायत की जांच सौंपी गई है।
सीमांत रक्षक दैनिक अखबार का प्रकाशन सूरतगढ़ से होता है।
अखबार के विरुद्ध ओमप्रकाश चौहान निवासी एक के एस आर तहसील सूरतगढ़ ने विभिन्न आरोप लगाते हुए भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को शिकायत भेजी थी। ब्यूरो ने यह शिकायत परिवाद संख्या एच-5947/16 दिनांक 30-12-2016. दर्ज की।
यह शिकायत सीमांत रक्षक अखबार और अन्य लोगों के विरुद्ध है ।
सूचना है कि अखबार व अन्य पर  भ्रष्टाचार और कूट रचित दस्तावेजों को तैयार करने और इस्तेमाल करने का आरोप है।
सीमांत रक्षक के मालिक संपादक प्रकाशक सत्यपाल के विरुद्ध पहले भाजपा महिला नेता श्रीमती रजनी मोदी सूरतगढ ने भी मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को एक शिकायत दी थी।
सूचना है कि वसुंधरा राजे के कार्यालय में वह शिकायत विचाराधीन है।
रजनी मोदी ने यहां अदालत में इस्तगासा पेश कर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। अदालत के आदेश  पर  सूरतगढ़ सिटी थाने में मुकद्दमा दर्ज किया गया जिसकी जांच चल रही है।
रजनी मोदी ने सत्यपाल मेघवाल के अखबार के विरुद्ध पूर्व जिला कलेक्टर पीसी किशन से भी मिली थी और  लिखित में शिकायत की थी। सूचना है कि अखबार के विरुद्ध आरोपों में सत्यपाल पर आरोप लगाए गए हैं कि उसने सरकारी विज्ञापन कि अधिक दर प्राप्त करने के लिए अखबार की प्रतियां फर्जी रूप से अधिक दिखाई,इसके लिए प्रेस के बिल,कागज के बिल आदि फर्जी तैयार किए। यह फाइल पीआरओ श्री गंगानगर ने वेरीफाई करके जयपुर सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय को भिजवाई थी।
जांच से मालूम होगा की सच्चाई क्या है?
सूचना है कि श्रीमती रजनी मोदी से समझौता हो चुका है इसलिए उसने आगे कोई कार्यवाही नहीं की लेकिन यह नई शिकायत सामने आई है।
जिला कलक्टर की जांच में मामला भ्रष्टाचार का बनता है तो यह फाइल और जांच रिपोर्ट वापस ब्यूरो मुख्यालय को जाएगी।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें