सोमवार, 27 अप्रैल 2020

* हवलदारजी,ड्यूटी पर बीड़ी सिगरेट का धुंवा उड़ाते हो,लोकडाउन में कहां से लाते हो?




* हवलदारजी,ड्यूटी पर बीड़ी सिगरेट का धुंवा उड़ाते हो,

लोकडाउन में कहां से लाते हो?

म्हारे शहर के सबते बड़े 

अर लोगां नै सबते घणी सीख

देवण आलै हवलदार जी।

तम से एक बात पूछण का जी कर आया।

ड्यूटी अर उपर ते पुलिस वर्दी पहनी,

बीड़ी सिगरेट के सुट लगाते धुआँ उड़ाते हो। ड्यूटी पर ऐसा नहीं न करते।

मेरा सवाल ड्यूटी पर धुंआ उड़ाने पर ना है जी।ये सवाल डिप्टी करे अर सीआई करते अच्छे लागै।

म्हारा सवाल तम से ये है जी।

लोकडाउन लाग रया सै। 

आपणे शहर में भी लाग रैया सै। 

बीड़ी सिगरेट गुटखा तम्बाकू की तमाम दुकानें रेहड़ियां स्टालें बंद सै।

तम बीड़ी सिगरेट गुटखा कहां तै

कबाड़ लातै हो जी। 

तम लोगां नै सारै दिन सीख देते हो जी

तम नै इतना मालम होवैगा अर होणा भी चाहिए कै इण तै कैंसर हो जाता है जी। फेफड़े,लीवर,गला आंते डैमेज हो जावै है।

तम तो परयावण परेमी भी हो।

 पौधे बांटते कितनी फोटू संस्थाओं कै साथ फेसबुक पर लगाते रहे हो जी।

 बीड़ी सिगरेट गुटखा सारै परयावण नै खराब करते हैं जी। 

तम लोगां गे चालान काटो हो,

थारा चालान कट जावेगा जी।

हम नहीं काटेंगे जी वो काट देगा जी।

तम पढ कै मान जावो जी।

बीड़ी सिगरेट के सुट तमने खराब करेंगे जी। 

ना मानोगे जणा कोई दूसरा हवलदार चौक पर सीख देता मिलेगा जी।

कहणा मान ही लो जी।

*****

करणीदानसिंह राजपूत,

स्वतंत्र पत्रकार( राजस्थान सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय से अधिस्वीकृत)

सूरतगढ़, भारत.

******





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें