Sunday, December 17, 2017

कुलचंद्र गांव कविताओं से हर्षाया - हुआ भाव विभोर

 कुलचंद्र गांव में एक कदम गांव की ओर कार्यक्रम के तहत राजकीय माध्यमिक विद्यालय के प्रांगण में ग्राम की प्रतिभाओं का सम्मान समारोह का आयोजन किया गया।कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सेवानिवृत्त पुलिस अधीक्षक लक्ष्मण सांखला,विशिष्ठ अतिथि डॉ.रमेश डूडी,मदन लाल भोबिया,अधिवक्ता अनिल शर्मा थे।

संयोजक मोहनलाल डूडी ने बताया कवि सम्मेलन में बीकानेर संभाग के कवियों ने कविताओं से विविध रंगों से दर्शकों को रूबरू करवाया।बीकानेर से पधारे सुप्रसिद्ध राजस्थानी कवि शंकरसिंह राजपुरोहित बीकानेर ने मोबाईल पर कटाक्ष करते हुए धमाल कर लो दुनियां मुठ्ठी में,ओ बेचणिया रो नारो रे,काम धाम सब छोड़ भायां मोबाईल धारो रे सुनाकर खूब दाद पाई।

राजस्थानी हास्य कवि हरीश हैरी ने अपने ही अंदाज में राजस्थानी कविताएं सुनाई।

युवा कवि अशोक परिहार उदय ने मां बाप का यूं दिल ना दुखा,तेरी करतूत से दिल टूट जाएगा सुनाकर भावविभोर कर दिया।

कुलचन्द्र के युवा रंगकर्मी,आलोचक व कवि डॉ.गौरीशंकर निमिवाल ने अपनी कविताओं से खूब दाद पाई।कवि अजमेरसिंह ने हास्य कविताओं से दर्शकों का खूब मनोरंजन किया।

कार्यक्रम में गांव की प्रतिभाओं का भी सम्मान व गरीब प्रतिभाओं को आगे लाने के लिए एक फाउंडेशन का गठन भी किया गया।मुख्य अतिथि लक्ष्मणसिंह सांखला ने युवाओं को सकारात्मक सोच के साथ कार्य करने के लिए 

कार्यक्रम में विनोद झोरड़,मोहनलाल शर्मा,चानणराम सैनी,डॉ.सुरेन्द्र सहारण,दिनेश जाखड़,अभिषेक झोरड़,विजयसिंह डूडी,दौलतराम टाक,विष्णु शर्मा,चंदुराम शर्मा,कुलवंत वर्मा,रामकुमार निमिवाल सहित अनेक गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।मंच संचालन रमन निमिवाल ने किया। संस्था के अध्यक्ष बूटासिंह बजरोत ने सफल कार्यक्रम हेतु सबका आभार व्यक्त किया


No comments:

Post a Comment

Search This Blog