शनिवार, 11 नवंबर 2017

पंजाब में धार्मिक नेताओं की हत्याओं का शूटर गिरफ्तार

लुधियाना 10.11.2017.

पंजाब में हुई धार्मिक नेताओं की हत्या के मामले में पुलिस ने एक और आरोपी को गिरफ्तार किया है। हरदीप सिंह उर्फ शेरा नामक इस आरोपी को एक जिम से शुक्रवार   10.11.2017 को तड़के गिरफ्तार किया गया है। उसने ज्यादातर मामलों में शूटर की भूमिका अदा की थी। डीजीपी सुरेश अरोड़ा के मुताबिक गिरफ्तार आरोपी से पांच हथियार भी बरामद किए गए हैं।

डीजीपी के मुताबिक जगदीश गगनेजा और दुर्गा प्रसाद की हत्या में हरदीप ने ही शूटर की भूमिका निभाई थी। उससे पूछताछ की जा रही है। इन दोनों मामलों में आरोपी द्वारा प्रयोग में लाई गई बाइक को सरहिंद नहर से बरामद कर लिया गया है। डीजीपी ने स्वीकार किया कि इन हत्याओं के पीछे खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट का हाथ है। इन हत्याओं के मामले में अन्य देशों से फंडिंग होती थी। जांच में पता चला है कि हरदीप हत्या करने के बाद तुरंत विदेश भाग जाता था उससे बरामद पासपोर्ट से इसकी पुष्टि हुई है। गगनेजा की हत्या के बाद वह इटली चला गया था।

 शेरा बीते छह माह से जिले के प्रमुख बाजवा फिटनेस जोन में अपने आप को फिट रखने में लगा हुआ था। 

वह फतेहगढ़ साहिब की मार्डन वैली में रह रहा था। यह जानकारी फिटनेस सेंटर के संचालक गुरप्रीत सिंह ने दी।

एसएसपी अलका मीना ने बताया कि हरदीप सिहं शेरा माजरी किशनेवाली से संबंधित था। उसके फतेहगढ़ साहिब मेें जिम में आने जाने की जानकारी मिली। इसके बाद उसको शुक्रवार सुबह 7.30 बजे गिरफ्तार किया गया।

मेरा बेटा ऐसा काम नहीं कर सकता : सुरिंदर कौर

शेरा की मां सुरिंदर कौर का कहना था कि उसका बेटा शेरा 8 वर्ष की आयु में अपने ताया दलजीत सिंह के साथ इटली चला गया था। इस समय दौरान लगभग दो तीन बार ही वह उनके पास आया था। आखिरी बार दिसंबर 2016 में वह उनके पास आया और अप्रैल 2017 में वह इटली जाने के लिए बोलकर गया। उन्होंने बताया कि उसका अक्सर फोन विदेशी नंबर से ही आता था तथा आखिरी फोन लगभग एक सप्ताह पहले आया था। सुरिंदर कौर ने बताया कि उनके परिवार में किसी की शादी थी तो उसने शेरा को आने के लिए कहा, लेकिन शेरा ने अभी छुट्टी न मिलने की बात कही। मां ने बताया कि शेरा इटली की एक मीट फैक्टरी में काम करता था तथा वह अपना काम बदलता रहता था। शेरा का पिता बलविंदर सिंह भी दुबई से तीन वर्ष पहले ही आया था और अब यहीं प्राइवेट काम करता है। मां का कहना था कि उसे विश्वास है कि उसका शेरा कभी ऐसा काम नहीं कर सकता।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें