शनिवार, 21 जनवरी 2017

जेसलमेर में हिंदु आक्रोष सभा: जेसलमेर बंद रहा:




20 जनवरी 2017.


शासनप्रशासन के विरुद्ध जैसलमेर में हिंदू संगठनों ने शुक्रवार को शक्ति प्रदर्शन किया। साथ ही सरकार की चेताया कि हिंदुओं के साथ पुलिस प्रशासन जो व्यवहार कर रहा है वह अब सहन नहीं होगा।

जैसलमेर जिले के कई मुद्दों को लेकर हिंदू संगठनों में आक्रोश व्याप्त हो गया था। इसी के चलते संगठनों ने शुक्रवार को विशाल आक्रोश रैली जैसलमेर बंद का आह्वान किया। आह्वान के चलते शुक्रवार को पूरा जैसलमेर शहर बंद रहा। एक भी दुकान नहीं खुली। हिंदू आक्रोश रैली को लेकर जिले भर में उत्साह देखने को मिला। जिले भर से लोग सुबह से ही माहेश्वरी बेरा बगेची में पहुंचने शुरू हो गए। माहेश्वरी बेरा बगेची में सभी को एकत्र किया गया गया। एक अनुमान के मुताबिक रैली में 7 से 8 हजार लोग एकत्र हुए।

सांसद सोनाराम और सीएम राजे पर भी कटाक्ष:सुरजनदास महाराज ने शुरुआत में ही सांसद सोनाराम पर भी कटाक्ष किए। इसके बाद उन्होंने वसुंधरा सरकार द्वारा गायों के अनुदान को बंद कर देने तथा हिंगोलिया में गायों की मौत का मामला उठाया।

हिंदुओंकी कमजोरी जातिवाद:महाराजने कहा कि हिन्दुओं की कमजोरी जातिवाद है। हम मरने के बाद भी अलग है,सभी जातियों के अलग अलग श्मशान हैं। उन्होंने आह्वान किया कि हिंदुओं के लिए एक ही श्मशान होना चाहिए।

समयदेना होगा,संगठित होना पड़ेगा:सुरजनदास महाराज ने कहा कि पूरा विश्व अशांत है। ऐसे में अब जरूरत है तो हिंदुओं के एकजुट होने की। उन्होंने उपस्थित हजारों लोगों से अाह्वान किया कि वे समय देते हुए संगठित रहें और विहिप,बजरंग दल आरएसएस के साथ जुड़े। उन्होंने युवाओं को शपथ दिलवाई कि नशा नहीं करेंगे। यदि हम संगठित हो गए तो हवा का रुख बदल सकते हैं।

पुलिस ने की चप्पे चप्पे पर सुरक्षा व्यवस्था,एसटीएफ भी की तैनात

हिंदूसंगठनों के आह्वान पर एकत्र हुए हजारों हिंदुओं आक्रोश रैली को देखते हुए पुलिस प्रशासन के भी हाथ पांव फूल गए। चप्पे चप्पे पर पुलिस जाब्ता तैनात किया गया। कुछ संवेदनशील क्षेत्रों में अतिरिक्त जाब्ता भी तैनात किया गया। शहर पुलिस के साथ पूरे जिले के पुलिसकर्मी और एसटीएफ के जवान जगह जगह तैनात थे।

एकजुट रहोगे तो कोई आंख तक नहीं उठा पाएगा

विहिपके प्रदेश संगठन मंत्री ईश्वरलाल ने कहा कि यदि एकजुट रहोगे तो हिन्दुओं के सामने कोई आंख नहीं उठा पाएगा। हम किसी को छेड़ेंगे नहीं,यदि हमें कोई छेड़ेगा तो हम उसे छोड़ेंगे नहीं।

हमारा रवैया नहीं बदला तो कश्मीर घाटी जैसे हालात होंगे

बजरंगदल के क्षेत्रीय संयोजक इंदरजीतसिंह ने कहा कि पिछले दिनों पुलिस ने एक बजरंगी का पुलिस रिमांड मांग लिया गया,उन्होंने आरोप लगाया कि प्रशासन कुछ नेता चाहते हैं कि जैसलमेर पाकिस्तान में चला जाए। यहां एसपी पंकज चौधरी जैसों की जरूरत है। उन्होंने कार्रवाई की तो हटा दिया गया। हमारी सोच रवैया बदलना होगा नहीं तो जैसलमेर में कश्मीर घाटी जैसे हालात हो जाएंगे।

{आरएसएस के भगवतदान ने कहा कि जैसलमेर में लगातार हिन्दू की उपेक्षा की जा रही है।

{उन्होंने कहा कि 15 अगस्त 2016 लाठी में कुछ ताकतों ने पाक जिंदाबाद के नारे लगाए,उनका कुछ नहीं हुआ,जब उन्हें राष्ट्रभक्त रोकते हैं तो प्रशासन उनके खिलाफ कार्रवाई करता है।

{पोकरण के डॉ.याकूब पर कोई कार्रवाई नहीं हुई,जो आईटी एक्ट लागू होता है वह लागू नहीं हुआ।

{ओरण गोचर पर विशेष वर्ग कब्जा कर रहे हैं।

{बांधा से लेकर सम तक किसी भी हिंदू का मुरबा नहीं है। हजारों बीघा नहरी भूमि पर विशेष वर्ग के लोग अवैध काश्त कर रहे हैं,उन्हें रोका नहीं जा रहा है।

{खसरा नं.507 पर हाईकोर्ट का फैसला गया और दो माह तक प्रशासन सोता रहा,ताकि उन्हें सुप्रीम कोर्ट जाने का समय देना था।

{बॉर्डर पर मांधला गांव सीमा से 8 किमी अंदर है,वहां 4 करोड़ से अवैध मस्जिद का निर्माण हो गया।

{गायों की हत्या के मामले तीन साल में बहुत हुए,पुलिस ने पशु क्रूरता अधिनियम लगाया लेकिन गौ रक्षा अधिनियम नहीं लगाया।

हिंदू आक्रोश रैली में शामिल हजारों हिंदुओं की टोली माहेश्वरी बेरा बगेची से रवाना होकर हनुमान चौराहा पहुंची। शहर के मुख्य मार्गो पर रैली को देखने के लिए सैकड़ों लोग खड़े थे। रैली में चल रहे डीजे पर जयकारों की गूंज के साथ वंदे मातरम के नारे पूरे शहर में गूंजने लगे।

जैसलमेर|मुझेसमझ नहीं आता कि यह देश धर्मनिरपेक्ष कैसे है। यह विचार करने की जरूरत है। हमारे नेता अजमेर दरगाह चादर चढ़ाने तो जाते हैं लेकिन उन्हें रास्ते में पुष्कर की याद नहीं आती,क्या इसे धर्मनिरपेक्षता कहते हैं। यह बात हिंदू आक्रोश रैली को संबोधित करते हुए पाली से आए सुरजन दास महाराज ने कही। हिंदू आक्रोश रैली के बाद हनुमान चौराहा पर विशाल सभा का आयोजन किया गया। यहां कई संतों ने लोगों को को संबोधित किया। हिंदू संगठनों के परिषद पदाधिकारियों संतों ने राजनेताओं पर जमकर कटाक्ष किए। हिंदुओं की एकता संगठित रहने की बात को कहते हुए पुलिस,प्रशासन राजनेताओं को चेताया कि हिंदू अगर एकजुट हो गया तो कोई भी ताकत उसे नुकसान नहीं पहुंचा सकती है। उन्होंने कहा कि पुलिस किसी तस्कर से 50 रुपए में बिक जाती है। पुलिस द्वारा हिंदुओं का तिरस्कार किया जा रहा है इस अवसर पर पाली से आए संत सुरजन दास महाराज,शिवसुखनाथ महाराज,बाल भारती महाराज,दीपक साहेब,ईश्वरलाल,कन्हैयालाल,इंदरजीतसिंह,अनोपसिंह,विभाग संघ चालक दाऊलाल शर्मा उपस्थित थे।

विभाग प्रचार श्यामसिंह ने कहा कि धरती पर जब संकट आता है तो हमें एक होना पड़ता है। समय गया है एकजुट होने का। उन्होंने सैकड़ों साल पहले हिंदुओं के हुए धर्म परिवर्तन के बारे में कहते हुए कहा कि हमारे पूर्वज मजबूत थे उसी वजह से आज तक हम हिंदू है। उन्होंने गुरु गोविंदसिंह के बच्चों का उदाहरण देकर अपने समाज,देश धर्म के लिए अडिग रहने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि गत 20 वर्षों में देश में 17 प्रतिशत आबादी बढ़ी है,लेकिन जैसलमेर में यह आंकड़ा 39 प्रतिशत है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें