मंगलवार, 15 दिसंबर 2020

राजस्थान के विभागों में फाईल ई-ट्रेकिंग सिस्टम लागू करने के निर्देश- फाईल की गति, कार्यवाही,मालूम होगी



* करणीदानसिंह राजपूत *


 फ़ाईल पर क्या कार्यवाही हो रही है? फ़ाईल कहां है?अब आपको इन सभी सवालों के जवाब चाहिये। दफ्तरों के चक्कर लगाने की जरुरत नहीं पड़ेगी। जी हां, दरअसल अब सभी फ़ाईल की जानकारी एक क्लिक पर मिल सकेगी।


 मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने राजकार्य में पारदर्शिता, सुगमता, सरलता एवं समयबद्धता से पत्रावलियों की ट्रेकिंग के लिए सभी विभागों में फाईल ई-ट्रेकिंग सिस्टम लागू करने के निर्देश दिए है। 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मंशा के अनुसार ई-फाईल ट्रेकिंग सिस्टम से फाईलों एवं पत्रावलियों के चलने में पारदर्शिता एवं तेजी आएगी और कब, कहाँ, किसके पास कौनसी फाईल प्रक्रियाधीन है यह जानना और जल्दी कार्यवाई करना भी आसान हो जाएगा। 


सीएस आर्य ने निर्देश दिये है कि जिन विभागों में अभी तक ई-फाईल ट्रेकिंग सिस्टम लागू नहीं है वे तुरंत प्रभाव से इस व्यवस्था को लागू करें। उन्होंने सभी अधिकारियों से राज-काज, ई-ऑफिस, ई-फाईल की प्रणाली को पूर्ण रूप से लागू करने के विषय पर भी चर्चा की और सभी को इस सबंधं में प्रारंभिक तैयारी करने के निर्देश भी दिए।

इसके लिये आयोजित हुई बैठक में सूचना एवं प्रोद्यौगिकी विभाग के आयुक्त विरेन्द्र सिंह ने राज-काज सिस्टम के माध्यम से फाईल ट्रेकिंग मैंनजमेंट मॉड्यूल के बारे में विस्तार से प्रस्तुतिकरण दिया। उन्होंने प्रजेंटेशन में विभिन्न विभागों में राजकीय कार्याे के लिए अब तक लागू हुए विभिन्न मॉड्यूल्स एवं इसको विस्तार देते हुए नये मॉड्यूल जो लागू होने वाले हैं उनके बारे में भी जानकारी दी। 

उन्होेंने बताया कि इस तकनीक के माध्यम से फाईल कहॉ से कब शुरू हुई, रिसिव हुई अथवा पेंडिंग है या डिस्पॉज है या फिर फॉरवार्ड हुई है इस प्रकार की जानकारी ऑन-लाईन देखी जा सकती है।००







कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें