सोमवार, 19 नवंबर 2018

सूरतगढ़:कांग्रेस प्रत्याशी हनुमान मील की सभा:लोगों की कम उपस्थिति चर्चा बनी

 

   * करणीदानसिंह राजपूत *

कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशी हनुमान मील की सभा आज नामांकन दर्ज कराने से पहले पुरानी धान मंडी में हुई। सभा में भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी रामप्रताप कासनिया और बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी डूंगरराम गेदर व उनकी पार्टियों की नीतियों को जमकर कोसा गया।

डूंगर राम गेदर पर भ्रष्टाचार का व्यक्तिगत गंभीर आरोप लगाया

गया।

सभा में हनुमान मील ने मंच पर आकर हाथ जोड़े और हाथ हिलाकर उपस्थित लोगों का स्वागत किया। वे मंच पर आगे होकर बैठे। हनुमान मील से हाथ मिलाने वालों की संख्या लगातार रही।

 इस मंच पर पूर्व विधायक गंगाजल मील और कांग्रेस पार्टी के कई कार्यकर्ता मौजूद थे। 

सभा के मंच पर हनुमान मील और गंगाजल मील का फोटो लगा था। सभा स्थल के प्रवेश द्वार पर भी एक तरफ हनुमान मील और दूसरी तरफ गंगाजल मील का चित्र छपा हुआ था।यह प्रदर्शित हो रहा था कि हनुमान मील चुनाव लड़ रहे हैं और गंगाजल मील का हर कदम पर सहयोग रहेगा। मंच से एक वक्ता ने भी कहा कि पुरानी गलतियों को दोहराया नहीं जाएगा।जनता के काम कराए जाएंगे हनुमान मील चाहे जयपुर रहें लेकिन सूरतगढ़ में हर वक्त गंगाजल मील जनता को उपलब्ध रहेंगे।

सभा में अन्य दलों को छोड़कर आए लोगों को हरियाणा  रोहतक के सांसद  दीपेन्द्र हुड्डा, राजस्थान कांग्रेस प्रभारी  काजी मोहम्मद   निजामुद्दीन की अध्यक्षता में कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण करायी गई और पार्टी को मजबूत बनाने और सबके साथ चलने का वादा किया I  कांग्रेस की सभा को दीपेंद्र हुड्डा,काजी निजामुद्दीन,भरत मेघवाल,गंगाजल मील, राजाराम मील और प्रत्याशी हनुमान मील ने  संबोधित किया। हनुमान मील ने कहा कि सेवा का मौका मिला है और यह कार्य सेवक के रूप में करूंगा

दीपेन्द्र हुड्डा जी,काजी मोहम्मद निजामुद्दीन,पूर्व विधायक गंगाजल  मील,कांग्रेस पार्टी के जिला अध्यक्ष संतोष सहारण, पूर्व सांसद भरत मेघवाल,सूरतगढ  ब्लोक अध्यक्ष परसराम भाटिया,राजियासर ब्लोक अध्यक्ष बनवारी थोरी,पूर्व पार्षद राजाराम गोदारा,उप प्रधान रामकुमार भांभू,हाजी खुदाबकस ,जिला परिषद सदस्य  कमला अठवाल,आदि मौजूद थे। 

कांग्रेस की इस सभा में लोगों की कम उपस्थिति पर सवाल उठ रहे थे कि डूू़ंंगर गेदर की सभा में संख्या अधिक थी। लोगों में यही सवाल हो रहे थे कि बसपा की सभा से भीड़ ज्यादा होनी चाहिए थी।टिकट नहीं मिलने सै नाराज नेता सभा मेंं नहीं आए। वे किधर जाएंगे कि चर्चा एं भी हो रही थी। टिकट न मिलने से नाराज कुछ नेताओं के हाथ के बजाय हाथी के पक्ष में जाने के समाचार इलाके में फैल रहे हैं। उनके बैठकें करने की सूचनाएं भी इधर उधर हो रही हैं।नाराज नेताओं और कार्य कर्ताओं के सभा में नहीं आने से समाचारों को बल मिल रहा है।







7777777777777777777777777777





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें