Tuesday, August 8, 2017

सूरतगढ के लालगढ़िया गांव की इंदुबाला जाट प्रेमी की हत्या में गिरफ्तार

श्रीगंगानगर 8-8-2017. नए प्रेमी के सहयोग से पुराने प्रेमी की हत्या के मामले में सूरतगढ़ के लालगढ़िया गांव की इंदूबाला जाट को गिरफ्तार किया गया है। 

एक सप्ताह पहले सूरतगढ़ रोड पर नेतेवाला बाइपास पर हुई कंपाडर विनोद बेनीवाल की हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। इस हत्याकांड में नर्सिग महिला टयूटर को गिरफ्तार किया है। पुलिस उप अधीक्षक शहर तुलसीदास पुरोहित ने सदर थाने में प्रेस वार्ता में इस ब्लाइंड मर्डर का खुलासा करते हुए बताया कि 31 जुलाई की रात को एेलनाबाद निवासी विनोद बेनीवाल को उसकी प्रेमिका इंदुबाला और इंदुबाला के दूसरे प्रेमी दीपक मलिक ने पूरी वारदात को अंजाम दिया था। इंदुबाला जब नर्सिग कोर्स कर रही थी तब राजकीय जिला चिकित्सालय में लैब टैक्नीशियन विनोद बेनीवाल के साथ दोस्ती हो गई और यह बात रिश्ते पर जा पहुंची। इंदुबाला के परिजनों ने जब विनोद के घर पर जाकर हालात देखे तो उसकी गरीबी को देखते हुए रिश्ता करने से इनकार कर दिया। इस बीच इंदुबाला देहरादून में नर्सिग कोर्स करने चली गई। वहां उसकी मुलाकात हरियाणा के चरखी दादरी निवासी दीपक मलिक से हो गई और दोनों में प्यार पनप गया। इधर, विनोद ने इंदुबाला के पास फोन पर वार्ता करने का सिलसिला जारी रखा। यह बात दीपक को पता चली तो इंदुबाला से नाराज हुआ लेकिन फिर आपस में सुलह हो गई। इस प्रेमी कहानी में रास्ता का कांटा बनते जा रहे विनोद को हटाने के लिए दीपक ने विनोद से दोस्ती की और उसे सूरतगढ़ रोड पर स्थित होमलैण्ड सिटी के किराये के मकान में बुलाया। वहां इंदुबाला भी मौजूद थी। विनोद ने जमकर शराब पी तो दीपक ने उसके सिर पर बोतलें मारी और उसे अपनी कार में बिठाकर नेतेवाला बाइपास सूनसान इलाके में ले गए। वहां विनोद को कार से उतारा और उसके सिर पर गोली मार दी। इंदुबाला ने इस हत्या का राज छुपाने के लिए खुद ड्राइविंग कर कार से तीन चार बार चक्कर लगाकर विनोद का सिर कुचल डाला। पुलिस ने आरोपित इंदुबाला को गिरफ्तार कर लिया जबकि आरोपित दीपक भूमिगत हो गया है। फिल्मी स्टाइल से मारी गोली हरियाणा के भिवानी जिले के चरखी दादरी तहसील गांव नौरंगबास निवासी दीपक कुमार मलिक (30) पुत्र सुरेश कुमार जाट शराब तस्करी से जुड़ा हुआ है। यह दीपक अजमेर जिले के गांधीनगर थाने में एक हिस्ट्रीशीटर की हत्या मामले में नामजद आरोपित है और गिरफ्तारी से बचने के लिए भूमिगत है। अब इस विनोद बेनीवाल की हत्या के मामले में उसकी सक्रिय भूमिका सामने आई है। गिरफ्तार आरोपित इंदुबाला जाट ने पुलिस पूछताछ में बताया कि दीपक के पास तीन चार नाजायज हथियार भी है। दिमाग से सनकी इस आरोपित ने ही इंदुबाला को फेसबुक और मोबाइल वट्सअप के माध्यम से विनोद को होमलैण्ड सिटी के किराये के मकान में बुलाया था। जांच अधिकारी ने बताया कि शराब अधिक पीने के बाद विनोद को अपनी कार में डालकर दीपक और इंदुबाला दोनों नेतेवाला के पास सूनसान इलाके में पहुंचे और वहां विनोद को कार से नीचे उतारा। विनोद ने माफी मांगने का प्रयास भी किया लेकिन खून पर सवार दीपक ने फिल्मी स्टाइल से विनोद के सिर पर गोली मारने में देर नहीं की। एेसे हुई विनोद से दोस्ती और दीपक से प्यार सदर सीआई कुलदीप वालिया ने बताया कि सूरतगढ़ क्षेत्र गांव लालगढि़या निवासी 24 वर्षीय इंदुबाला जाट पुत्री भादरराम कुलडि़या पहले गोधूवाली ढाणी में अपने ताऊ के मकान में रहती थी लेकिन अब गांव 4 एमएल में किराये का मकान लेकर रहने लगी। इंदुबाला वर्ष 2011से 2014 तक यहां श्री गंगानगर के एसएन नर्सिग कॉलेज में नर्सिग का कोर्स कर रही थी तब कुछ दिनों के लिए कॉलेज प्रशासन के आदेश पर इंदुबाला को राजकीय जिला चिकित्सालय में नर्स के रूप में तीन महीने के लिए भेजा गया। वहां कार्यरत लैब टैक्निशीयन विनोद बेनीवाल से दोस्ती हो गई। इस विनोद के साथ इंदुबाला शादी कराने को राजी हो गई लेकिन उसके पिता ने जब एेलनाबाद क्षेत्र गांव रानियां जाकर विनोद की माली हालत ठीक नहीं थी, उनके परिवार के अनुरुप यह रिश्ता नहीं होने पर इनकार कर दिया। इस बीच बीएससी कोर्स के लिए इंदुबाला देहरादून चली गई। वहां दीपक के पिता किसी बीमारी के लिए भर्ती हुए तो वहां फिमेल नर्स के रूप में इंदुबाला सार संभाल करती मिली तो दीपक की मां की बातें मोबाइल पर होने लगी। दीपक की मां के साथ साथ दीपक खुद भी इंदुबाला से मिलने लगा। शादी कराए बिना रहने लगे होमलैण्ड सिटी इस बीच इंदुबाला अपना कोर्स पूरा करने के बाद यहां एसएन नर्सिग कॉलेज में महिला टयूटर के रूप में नौकरी करने लगी।

No comments:

Post a Comment

Search This Blog