Saturday, June 24, 2017

कुछ तो शर्म करो: भाजपा को क्यों बदनाम करते हो:


नई दिल्ली,24-6-2017.एक तरफ जहां योगी सरकार उत्तर प्रदेश में पुलिस और प्रशासन चुस्त-दुरुस्त करने और गुंडई खत्म करने की बात कर रही है तो दूसरी तरफ शुक्रवार को

जो नज़ारा देखने को मिला वह बेहद हैरान करने वाला था।


सीओ ने भाजपा कार्यकर्ताओं से कहा- दर्ज करा दूंगी मुकदमा 

जहां एक ओर सीओ ने भाजपा के कार्यकर्ताओं से कहा- ‘कुछ तो शर्म करो.. क्यों भाजपा को बदनाम कर रहे हो। सरकार से कहलवा दो कि अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए रात में चेकिंग न कराए। तुम भाजपाई नहीं, जो सरकार के कामकाज पर विरोध जताकर पानी फेरने का प्रयास कर रहे हो, लेकिन इसे बर्दास्त नहीं किया जाएगा। वर्दी जनता की सुरक्षा के लिए पहनी है न कि गुंडों की हिफाजत के लिए। अगर सरकार को बदनाम करने के लिए गुंडई दिखाई को सभी पर मुकदमा दर्ज करा दूंगी।’

ये पूरा मामला है बुलंदशहर का है, जहां पर शुक्रवार को जिला पंचायत सदस्य प्रवेश देवी के पति प्रमोद की बाइक का चालान करने पर बखेड़ा हो गया। इस मामले को लेकर भाजपाई और पुलिस आमने-सामने आ गए। भाजपाइयों ने जिला पंचायत सदस्य के पति की गिरफ्तारी के विरोध में पुलिस आफिस और कचहरी में जमकर नारेबाजी की। देर तक हंगामा होता रहा। स्याना विधायक देवेंद्र लोधी ने एसएसपी से मिलकर दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग की। जैसे-तैसे हालात सामान्य हुए।



गुरुवार देर शाम स्याना की सीओ श्रेष्ठा, अपने हमराह व कोतवाल के साथ स्याना में ही वाहनों की चेकिंग कर रही थीं। इसी दौरान पुलिस ने वार्ड पांच की जिला पंचायत सदस्य के पति प्रमोद को रोक लिया। कागजात न होने पर पुलिस ने चाबी ले ली। फिर दो सौ रुपये का चालान काट दिया। प्रमोद का कहना है कि उन्होंने चालान के पैसे जमा करने के बाद चाबी मांगी तो पुलिसकर्मियों ने नहीं दी। इसकी ऐवज में सुविधा शुल्क मांगा।



सीओ श्रेष्ठा का आरोप था कि जिला पंचायत सदस्य के पति व उनके साथियों ने पुलिस के साथ अभद्र व्यवहार किया। सरकारी कार्य में बाधा डाली। बहरहाल, पुलिस ने प्रमोद के खिलाफ मुकदमा लिखकर उन्हें गिरफ्तार कर लिया। शुक्रवार को इसी के विरोध में स्याना विधायक देवेंद्र लोधी के नेतृत्व में भाजपाई एसएसपी मुनिराज से मिले। विधायक ने पुलिस के दुर्व्यवहार की शिकायत की। जांच के बाद दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन दिया।


मामला उस समय बिगड़ गया, जब पेशी के दौरान कचहरी में भाजपाइयों ने प्रमोद को पुलिस से छुड़ाकर अपने कब्जे में ले लिया। सूचना मिलते ही वहां सीओ स्याना भी पहुंच गई। स्याना सीओ को देखकर भाजपाइयों ने उनके खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। इसको लेकर सीओ व भाजपाइयों की जमकर नोकझोंक हुई। मौके की नजाकत को देखते हुए भाजपाई वहां से चल दिए। उन्होंने फिर पूरे मामले की शिकायत देवेंद्र लोधी से की। देवेंद्र लोधी दोपहर को फिर एसएसपी से मिले। उन्होंने दोषी पुलिसकर्मियों पर मुकदमा दर्ज कराने के लिए शिकायती पत्र दिया। उधर, दोपहर बाद न्यायालय ने प्रमोद को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

( जागरण स्पेशल डेस्क)


No comments:

Post a Comment

Search This Blog