गुरुवार, 30 सितंबर 2021

श्रीगंगानगर जिला - सभी बंद पैंसेजर ट्रेनों और कोविड स्पेशल को पुराने नामों से चलाएं



 

* करणीदानसिंह राजपूत *


सूरतगढ़ 30 सितंबर 2021.

जिला संयुक्त रेल संघर्ष समिति द्वारा जिले में आने व जाने वाली बंद पैसेंजर ट्रेनों को शुरू करने व मेल एक्सप्रेस ट्रेनों से स्पेशल का दर्जा हटाकर पूर्व की व्यवस्था लागू करने की मांग की गई।

आज जिला व्यापी आह्वान पर सूरतगढ़ स्टेशन अधीक्षक के मार्फत मंडल रेल प्रबंधक को ज्ञापन सौंपा। 

जिला संयुक्त रेल संघर्ष समिति के जिलाध्यक्ष ललित किशोर शर्मा के नेतृत्व में आज एक प्रतिनिधिमंडल स्टेशन अधीक्षक राज सिंह शेखावत से मिला और ज्ञापन दिया। 


 कोविड-19 के कारण देश में ट्रेनों को बंद किया गया था, उसके बाद महामारी की सामान्य स्थिति होने पर पुनः ट्रेनों का संचालन शुरू हुआ लेकिन स्पेशल ट्रेन के नाम से पूरे देश में ट्रेनों का संचालन हो रहा है जिस कारण विकलांग महिलाएं व सीनियर सिटीजन व मासिक पास वालों को रियायत का लाभ नहीं मिल रहा है, अब महामारी की स्थिति नहीं है इसलिए समिति मांग करता है कि शीघ्र मेल एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेनों से स्पेशल का दर्जा हटाकर पूर्व की तरह इन ट्रेनों का संचालन किया जाय, जिससे यात्रियों को रेल यात्रा का संपूर्ण लाभ मिल सके व रेल के राजस्व में बढ़ोतरी हो सके।

पैसेंजर ट्रेन शुरू होने से अनूपगढ़ बठिंडा रूट, कैनाल लूप, बठिंडा व श्रीगंगानगर आने जाने वाले यात्रियों को सस्ती यात्रा का लाभ मिल सकेगा। 

प्रतिनिधिमंडल में राजस्व बार संघ के पूर्व अध्यक्ष साहब राम स्वामी महावीर इंटरनेशनल के संजय बैद, सुरेश सिडाना पार्षद जसराम टाक भवानी शंकर भोजक हेमन्त चांडक भंवर बारिया मास्टर रामप्रसाद, गुरचरण सिंह कंबोज, शिव चंद्र शर्मा, रामप्रताप आदि उपस्थित थे।०0०

*********





मंगलवार, 28 सितंबर 2021

पुराने जोहड़ पर बने निर्माणों को हटाए बिना जीर्णशीर्ण तालकालोनी को बनाएं नया तालाब

 

* करणीदानसिंह राजपूत *


सूरतगढ़ के प्राचीन जोहड़े पर बने मकान सड़क कालोनियों आदि को हटाकर प्राकृतिक रूप में स्थापित करने पर हजारों लोगों के सामने आने वाले संकट को दूर करने के लिए अरबों रूपयों के निर्माणों को ध्वस्त किए बिना पास ही में जोहड़ स्थानांतरित कर विशाल विकसित नया रूप दिया जा सकता है।

इंदिरा गांधी नहर ताल कॉलोनी करीब साठ साल पहले बनाई गई थी जो जीर्ण शीर्ण हो चुकी है।आधे आवास खाली पड़े हैं। पूरी कालोनी को रहने के काबिल नहीं माना जा सकता। 

कुछ क्वार्टरों में विभिन्न विभागों के सरकारी कर्मचारी रहते हैं,जिन्हें अन्यत्र स्थानांतरित किया जा सकता है। 

ताल कालोनी का यह स्थान बहुत विस्तृत और चौकोर है इसमें बने हुए पुराने मकानों को हटाया जा सकता है और बहुत बड़ी रकम सरकार जुटा सकती है। इतने विशाल स्थान को पांच से दस फिट गहराई तक खुदाई करके नया तालाब बनाया जा सकता है। अभी कालोनी के चारों तरफ डोले (बंधे) व सड़कें हैं। वहीं पर खुदाई की मिट्टी चारों तरफ डालकर उसी स्थान को बगीचों में विकसित किया जा सकता है। इस नए जोहड़े में पानी भरने के लिए कोई परेशानी भी नहीं होगी क्योंकि वर्षा कालीन स्थिति में घग्घर बाढ़ के पानी भरा जा सकता है। एक उतरी बंधा तो घग्घर पानी को छूता है।

यह भाखड़ा की पीबीएन माइनर के पास में है।यह नया रूप आमोद प्रमोद के लिए मेले मगरिया के लिए भी बहुत उपयुक्त जगह है। घग्घर बाढ़ के दिनों में यहां सैर सपाटे के लिए लोग आते रहते थे। यहां टैंकरों आदि में पानी भरने की व्यवस्था भी की जा सकती है।


यहां नया जोहड़ बनाने में सरकारी स्तर पर कोई परेशानी नहीं हो सकती। पुराने जोहड़ सूरत सागर में जो मकान बने हुए हैं सड़कें कॉलोनियां बनी हुई है उन्हें हटाए बिना यह काम किया जा सकता है। मतलब पुराने जोहड़ को यहां स्थानांतरित करना सरकार के लिए कोई बड़ी बात नहीं। बस सुझाने नेता लोग व संस्थाएं ताकत दबाव और प्रभाव का पूरे जोर से इस्तेमाल करें।

प्राचीन जोहड़ में जो खाली जगह है वह अभी बची हुई है और आसपास गरीबों अल्प आय वालों के घर हैं जिनके पट्टे लेने के लिए भी पैसे नहीं है। ऐसे लोग उजड़े तो दूसरा घर नहीं बना पाएंगे। कालोनियों में रहने वाले भी अपने जीवन भर की कमाई लगा चुके हैं और उनके पास भी अब नया निर्माण करने के लिए न धन है न ताकत है। ऐसे लोग हैं जो अपनी आधी उम्र पार कर चुके हैं। पचास से ऊपर सतर अस्सी साल। सभी की उम्मीदें हैं कि अब कोई परेशानी न हो। 

नगरपालिका द्वारा नए तालाब क्षेत्र को विकसित करके वहां होटलों आदि से बहुत बड़ी रकम जुटा कर वहीं पर लगाई जा सकती है।


 इस तरह से हजारों लोगों को परेशानी से मुक्त किया जा सकता है और बहुत बड़ी अरबों रुपए की संपत्ति को हटाने के बजाय हूबहू निर्मित हालत में बचाया जा सकता है। 

जहां तक सवाल है कानूनी रूलिंग का उसको समय और काल के हिसाब से कुछ परिवर्तित किया जा सकता है। 

अन्य स्थानों पर बहुत बड़ा स्थान उपलब्ध होने में कठिनाई रही होगी लेकिन सूरतगढ़ में यह बहुत बड़ा स्थान एकदम काम में लिया जा सकता है। यहां से जीर्ण शीर्ण मकानों को हटाने में बहुत अधिक समय नहीं लगेगा और यह कार्य सरकार और नगर पालिका प्रभावित होने वाले लोग आपस में मिलकर तय करें तो शहर में नया विशाल क्षेत्र आधुनिक तालाब विकसित हो सकता है। जिसमें पार्क और उसके पास में होटल आदि हो सकते हैं। तालाब में पानी में खेले जाने वाले खेल नौकायन आदि भी हो सकते हैं। 

शहर के समझदार इस पर विचार कर सकते हैं और इस स्थान का अवलोकन कर सकते हैं।


( यह प्रारंभिक विचार है और इसमें अन्य लोग भी अपनी सोच से और विकसित कर सकते हैं)

दि. 28 सितंबर 2021.

०0०

करणीदानसिंह राजपूत,

पत्रकार (राजस्थान सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय से अधिस्वीकृत)

 सूरतगढ़।

**********



सूरतगढ़: शहीदेआजम भगतसिंह की जयंती पर जयघोष और श्रद्धा सुमन अर्पित

 




सूरतगढ़ 28 सितंबर 2021.

सूरतगढ आज शहीदे आजम भगत सिंह की 115 जयंती के उपलक्ष मे भगत सिंह चौक की प्रतिमा पर आज श्रद्धा सुमन अर्पित किए गए इसके बाद भगत सिंह अमर रहे के नारे लगाकर वातावरण गुंजायमान कर दिया गया इस अवसर पर क्रांतिकारी महावीर भोजक के द्वारा भगत सिंह के विचारों पर चलने की सबको प्रेरणा दी गई व युवाओं को नशा मुक्ति का आह्वान किया गया इसमें कामरेड मदन ओझा पूर्व विधायक अशोक नागपाल भवानी भोजक हरजिंदर सिंह सिद्धू रमेश पारीक कमल दाधिच अकुंर धानुका शक्ति सिंह महावीर तिवारी  हेमंत चांडक पूर्व विधायक राजेंद्र भादू सत्यनारायण छिंपा नरेन्द्र सिंह भाटी मुरलीधर उप्पाध्याय बड़ी संख्या में लोग उपस्थित होकर भगत सिंह जयंती बड़ी धूमधाम से मनाई गई।०0०

००००००००




शुक्रवार, 24 सितंबर 2021

अभियान में विधवाओं को भूखंड दिए जाएं जिनके पास खुद का घर नहीं है।- पूर्व विधायक स. हरचंद सिंह सिद्धु का मुख्य मंत्री को पत्र।

 



सूरतगढ़ 24 सितंबर 2021.


राजस्थान में प्रशासन शहरों / गांवों की ओर अभियान में विधवाओं को भूखंड दिए जाएं जिनके पास खुद का घर नहीं है और किसी अन्य के आश्रित या किराए के मकान में रह रही हैं।

पूर्व विधायक सरदार हरचंद सिंह सिद्धू ने मुख्यमंत्री को 24 सितंबर को एक पत्र प्रेषित किया है जिसमें यह अनुरोध है।

सिद्धु ने लिखा है कि अनेक विधवाएं परिवार में मुखिया हैं और परिवार चला रही है। उनके पास स्वयं का घर नहीं है। वे किसी किराये के घर में या किसी के आश्रित घर में रहती हैं। ऐसी बेघर विधवाओं को भूखंड दिए जाएं। शहरों में पालिका प्रशासन व पार्षद खाली जगह खोजें और गांवों में सरपंच पंच व ग्राम विकास अधिकारी खाली जगह खोजें जो अभियान में बेघर विधवाओं को दी जाए। सिद्धु ने लिखा है की ऐसा करके महात्मा गांधी का भारत बनाने का इतिहास रचा जाए।०0०

*******






मंगलवार, 21 सितंबर 2021

सूरतगढ़ में पानी पाईप लाईनों से अवैध कनेक्शन किए 120 लोगों पर कारवाई। पुलिस को पत्र.

 

* करणीदानसिंह राजपूत *
सूरतगढ़ 21 सितंबर 2021.
सूरतगढ़ में जन स्वास्थ्य अभियंत्रिकी विभाग की पाईप लाईनों में अवैध कनेक्शन कर पानी चोरी करने वालों के विरुद्ध पुलिस को सूचना।
विभाग ऐसे लोगों के पानी कनेक्शन काटने के साथ कानूनी कार्यवाही भी करेगा।
श्रीकरणपुर में 20 सितंबर को प्रभारी मंत्री बीडी कल्ला की अध्यक्षता में विभागों की जिला स्तरीय समीक्षा बैठक हुई। उस बैठक में बी.डी.कल्ला ने पानी की पाईप लाईनों में अवैध कनेक्शन करने वालों पर कार्यवाही करने का निर्देश दिया था। 
उस बैठक में जन स्वास्थ्य अभियंत्रिकी विभाग के अधीक्षण अभियंता वीरेंद्र बलाना ने बताया कि सूरतगढ़ में अवैध कनेक्शन करने वाले 120 लोगों पर एफआईआर के लिए पुलिस को लिखा गया है।
विदित रहे कि विभाग ने अवैध कनेक्शन को वैध कराने के लिए कई दिन पूर्व सूचना भी दी लेकिन इसके बावजूद लोगों ने अवैध कनेक्शन वैध नहीं करवाए और पानी चोरी कर विभाग को राजस्व नुकसान पहुंचाते रहे। विभाग द्वारा  अवैध कनेक्शन काटने की कार्यवाही चल रही है। ०0०

सूरतगढ़ में पानी पाईप लाईनों से अवैध कनेक्शन किए 120 लोगों पर कारवाई।
* करणीदानसिंह राजपूत *
सूरतगढ़ 21 सितंबर 2021.
सूरतगढ़ में जन स्वास्थ्य अभियंत्रिकी विभाग की पाईप लाईनों में अवैध कनेक्शन कर पानी चोरी करने वालों के विरुद्ध पुलिस को सूचना।
विभाग ऐसे लोगों के पानी कनेक्शन काटने के साथ कानूनी कार्यवाही भी करेगा।
श्रीकरणपुर में 20 सितंबर को प्रभारी मंत्री बीडी कल्ला की अध्यक्षता में विभागों की जिला स्तरीय समीक्षा बैठक हुई। उस बैठक में बी.डी.कल्ला ने पानी की पाईप लाईनों में अवैध कनेक्शन करने वालों पर कार्यवाही करने का निर्देश दिया था। 
उस बैठक में जन स्वास्थ्य अभियंत्रिकी विभाग के अधीक्षण अभियंता वीरेंद्र बलाना ने बताया कि सूरतगढ़ में अवैध कनेक्शन करने वाले 120 लोगों पर एफआईआर के लिए पुलिस को लिखा गया है।
विदित रहे कि विभाग ने अवैध कनेक्शन को वैध कराने के लिए कई दिन पूर्व सूचना भी दी लेकिन इसके बावजूद लोगों ने अवैध कनेक्शन वैध नहीं करवाए और पानी चोरी कर विभाग को राजस्व नुकसान पहुंचाते रहे। विभाग द्वारा  अवैध कनेक्शन काटने की कार्यवाही चल रही है। ०0०
००००००००








सोमवार, 20 सितंबर 2021

फूड सैम्पल अवमानक पाए जाने पर 5 व्यापारियों पर भारी जुर्माना

 

* करणीदानसिंह राजपूत *


हनुमानगढ़ 20 सितंबर 2021.

खाद्य पदार्थों के अवमानक/ मिथ्याछाप पाए जाने पर माननीय न्यायालय ने पांच खाद्य पदार्थ व्यापारियों पर 2 लाख 35 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है। संबंधित फर्म संचालकों को यह राशि एक माह के अंदर-अंदर जमा करवानी होगी। जुर्माना राशि जमा ना करवाने पर खाद्य विक्रेता का लाइसेंस निरस्त कर वसूली की कड़ी कार्यवाही अमल में लाई जावेगी। 


सीएमएचओ डॉ. नवनीत शर्मा ने बताया कि 'शुद्ध के लिए युद्ध अभियानÓ एवं रुटीन निरीक्षण में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के खाद्य सुरक्षा अधिकारी जीतसिंह यादव द्वारा गत माह हनुमानगढ़ जिले में अनेक संस्थानों पर निरीक्षण कर खाद्य पदार्थों के नमूने एकत्र करने की कार्यवाही की गई थी। 

एकत्र नमूनों को जांच के लिए बीकानेर स्थित जांच लैब में भेजा गया। उक्त नमूनों की जांच रिपोर्ट में सामने आया कि पांच फर्मों के नमूनों को अवमानक अथवा मिथ्याछाप होना पाया गया। उक्त पांच फर्मों पर माननीय न्यायालय एडीएम कोर्ट हनुमानगढ़ ने जुर्माना लगाया है।


 1- रावतसर के सतवीर जाट पुत्र किशनलाल जाट के संस्थान से मावा का सैम्पल भरा गया था, जो जांच में अवमानक पाया गया, जिस पर एक लाख रुपए जुर्माना लगाया गया। 

2-  पीलीबंगा के चेतराम पुत्र काशीराम स्वामी के संस्थान से घी का सैम्पल भरा गया। यह सैम्पल जांच में अवमानक पाए जाने पर कोर्ट ने इन पर 50 हजार रुपए जुर्माना लगाया। 

3- नोहर के देवकीनंदन पुत्र चेतनदास के संस्थान से सरसों के तेल का सैम्पल लिया गया, जो मिथ्याछाप पाए जाने पर संस्थान पर 50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया। 

4- हनुमानगढ़ निवासी राजेश कुमार पुत्र बलराम के संस्थान से गाय के दूध का सैम्पल भरा गया, जो अवमानक पाया गया। इन पर कोर्ट द्वारा 25 हजार रुपए जुर्माना लगाया गया। 

5- हनुमानगढ़ के बालकिशन पुत्र रामचन्द्र हलवाई के संस्थान से मावा का सैम्पल लिया गया, जो फेल हो गया। इन पर भी 10 हजार रुपए की जुर्माने से दण्डित किया गया।


 उन्होंने बताया कि कोर्ट द्वारा संबंधित संस्थानों को जुर्माना राशि जमा करवाने के लिए अवगत करवा दिया गया है। 

डॉ. नवनीत शर्मा ने बताया कि जिले में निरीक्षण की कार्यवाही निरंतर जारी रहेगी। उन्होंने आमजन से अपील की कि जिले में अगर कहीं पर भी मिलावटी खाद्य सामग्री का बेचान किया जाता है, तो उसकी सूचना चिकित्सा विभाग को आवश्यक रूप से दें। ०0०










रविवार, 19 सितंबर 2021

सूरतगढ़ में छापा:28,800 लीटर अवैध पैट्रोलियम पदार्थ जब्त.पवन पुत्र हीरालाल पर कार्यवाही.



* करणीदानसिंह राजपूत *


जिला कलेक्टर जाकिर हुसैन के निर्देश पर रसद विभाग की बड़ी कार्यवाही हुई है। 


श्रीगंगानगर, 19 सितंबर 2021.

जिला कलेक्टर श्री जाकिर हुसैन के निर्देश पर रविवार को जिला रसद अधिकारी श्री राकेश सोनी व प्रवर्तन अधिकारी गंगानगर श्री सुरेश कुमार द्वारा बड़ी कार्यवाही की गई।

 

जिला रसद अधिकारी टीम ने सूरतगढ़ शहर में बाबा रामदेव रोड पर स्थित नन्दलाल स्वामी के नोहरे पर छापा मारा। वहां हजारों लीटर पैट्रोलियम पदार्थ बरामद हुआ।

 पवन पुत्र  हीरालाल निवासी वार्ड नम्बर 23 सूरतगढ ने नोहरा किराये पर लेकर अवैध पेट्रोलियम पदार्थ का भारी मात्रा में भंडारण कर रखा था। वह बिना किसी परमिट या बिना वैध लाईसेंस से विक्रय करने की मंशा से यह भंडारण  किया  हुआ था। 

मौके पर नोहरे पर पवन के कब्जे से 2000 लीटर क्षमता की 15 प्लास्टिक की सिथेंटिक टंकियों में कुल 28800 अवैध पट्रोलियम पदार्थ, एक इलेक्ट्रोनिक डिस्पेंस यूनिट नोजल, एक बिजली मोटर दो बडी पाईपो से जुडी 5 लीटर लोहे की कीप को जब्त किया गया। यह पदार्थ सामान आदि जब्त कर चन्द्रशेखर पुत्र गुलाबचंद को सुपर्दगी मे दिया गया। सूरतगढ़ में इतनी अधिक मात्रा में पैट्रोलियम पदार्थ पकड़े  जाने का यह पहला मामला है। यदि आग जैसी दुर्घटना हो जाए तो इलाके में भारी नुकसान का खतरा। अग्नि शमन की व्यवस्था नहीं। 

टेक्स वोईस अलका पेट्रो ग्लोबल प्राईवेट लिमिटेड अहमदाबाद के नाम से जीटीएल लाईट पेराफिन के नाम से 59 रुपये प्रति लीटर से कटा हुआ था जो कि जोधपुर की विनायक ट्रेड लिंक नियर डीपीएस स्कूल पीएल बाइंपास से कटा हुआ था। जिसको कि मुताबिक ट्रांसपर्टर बिल के अर्जुन लाजेस्टिक गांधीधाम कच्छ 370201 गुजरात के ट्रांसपोर्टर द्वारा 14 सितंबर को सूरतगढ लाया गया था।

जब्तशुदा सामग्री को इसी एक्ट 1955 के तहत  6ए में  इस्तगासा न्यायालय जिला कलेक्टर को प्रस्तुत किया जायेगा। ०0०

---------











शनिवार, 18 सितंबर 2021

राजस्थान में अशोक गहलोत की सरकार पर पंजाब के तूफान का असर पड़ने की आशंका

 



* करणीदानसिंह राजपूत *
पंजाब कांग्रेस में पिछले कुछ महीनों से चल रहे घमासान का अंत आज 18 सितंबर 2021 को कैप्टन अमरेंद्र सिंह के मुख्यमंत्री पद त्याग से हुआ है लेकिन वहां नया तूफान उठने के संकेत हैं जिसका पूर्वानुमान इस्तीफे के बाद प्रेस को दिए अमरेंद्र के बयान से लगता है।
कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने त्यागपत्र के बाद पत्रकार वार्ता में कहा कि वे पार्टी में निरंतर अपमानित होते रहे हैं। बार बार उनका परीक्षण किया जाता रहा है। उन्होंने आगे की राजनीति के बारे में अपने साथियों से बातचीत करके कोई फैसला लेने का कहा है। 
पंजाब कांग्रेस में घमासान के बाद मुख्यमंत्री के त्यागपत्र देने का असर क्या राजस्थान में भी हो सकता है?
 राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच काफी समय से युद्ध जैसे हालात बने हुए हैं।
चुनाव से पहले सचिन पायलट ने बहुत मेहनत की और पायलट को आशा थी कि मुख्यमंत्री पद पर उन्हें बैठाया जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हो पाया।
पायलट के पास राजस्थान का कांग्रेस अध्यक्ष पद था विवाद में उनको उप मुख्यमंत्री पद भी सौंपा गया लेकिन विवाद थमा नहीं। विधायक इधर-उधर बड़ा बंदी जैसे रूप में भी रहे। इस झगड़े में पायलट को पार्टी का अध्यक्ष पद और उप मुख्यमंत्री पद भी छोड़ना पड़ा। 
दोनों के बीच झगड़ा जयपुर से चल कर दिल्ली तक पहुंचा मगर कोई निर्णय नहीं हो पाया। यह माना जाता रहा कि सोनिया गांधी का वरद हस्त अशोक गहलोत के सिर पर है इसलिए अशोक गहलोत का पद पूरी तरह से सुरक्षित है। सचिन पायलट कुछ भी बिगाड़ नहीं सकते। इस कशमकश में पिछले 1 साल से राजस्थान में सरकार की छवि बहुत धूमिल हुई है और जनता का बहुत कुछ बिगड़ा है।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पिछले 1 साल से नजर नहीं आते ऐसा जनता मान रही है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का राज जनता को निष्क्रिय जैसा लग रहा है। 
अशोक गहलोत को राजनीति का जादूगर माना जाता है लेकिन 1 साल से राजनीतिक जादू प्रभावी नजर नहीं आ रहा। एक साल से तो खटके के भय में राज चलाया जा रहा है। जनता समझ रही है कि सुपरफास्ट ट्रेन है मगर स्पीड नहीं पकड़ रही।
पंजाब में कैप्टन अमरेंद्र सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच जो विवाद चला उसमें कैप्टन अमरेंद्र सिंह को आज 18 सितंबर को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा। अमरेंद्र सिंह की धमकी भी चल नहीं पाई। 
 पंजाब में बदले हालात के बाद क्या राजस्थान में भी बड़ा प्रभाव पड़ने की आशंका हो गई है?
ऐसा लगता है कि सचिन पायलट की तरफ से कुछ होगा जरूर। 
यह आशंका बलवती हो गई है कि अशोक गहलोत की सरकार को भी आने वाले दिनों में ऐसा संकट झेलना पड़ सकता है?०0०
**********





x

पुलिस कर्तव्य और दायित्व पुस्तक पर भारतसरकार का पुरस्कार: लेखक आरपीसिंह का सम्मान.

 


* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 17 सितंबर 2021

राजस्थान मेघवाल समाज के संरक्षक पार्षद परसराम भाटिया के नेतृत्व में पुस्तक "पुलिस कर्तव्य और दायित्व" के लेखक सेवानिवृत्त आईपीएस डॉक्टर आर पी सिंह का अभिनंदन किया गया । यह कार्यक्रम अम्बेडकर भवन में आयोजित किया गया।

सम्मान कार्यक्रम से पूर्व अतिथियों द्वारा बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के चित्र पर माल्यार्पण किया गया। 

पुस्तक "पुलिस कर्तव्य और दायित्व"पर पंडित गोविंद बल्लभ प्रथम पुरस्कार भारत सरकार के केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा प्रदान किये जाने पर सूरतगढ़ में लेखक का सम्मान किया गया।

     इस अवसर पर मेघवाल समाज के संरक्षक कांग्रेस पार्टी के ब्लॉक अध्यक्ष पार्षद परसराम भाटिया ने कहा समाज की प्रतिभा सेवानिवृत्त आई पी एस डॉक्टर आरपी सिंह ने साहित्य के क्षेत्र में देश में सर्वोच्च सम्मान प्राप्त किया है ।

    इस अवसर पर पूर्व पालिकाध्यक्ष बनवारीलाल मेघवाल, काशीराम मेघवंशी, केसरा राम दहिया, राकेश राठी सहित समाज के प्रबुद्ध लोगों ने सेवानिवृत्त आईपीएस साहित्यकार डॉक्टर आरपी सिंह को मालाएं पहनाकर सम्मान प्रतीक भेंट किया। 

 डॉक्टर आरपी सिंह ने समाज के लोगों का आभार व्यक्त करते हुए कहा आप लोगों के स्नेह, प्यार आशीर्वाद से मिल रही ऊर्जा की बदौलत ही उन्नति के पथ पर प्रगति कर रहे हैं। 

आपका स्नेह और प्यार इसी तरह बना रहे । बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के बताए मार्ग पर चलकर सभी को जागरूकता का संदेश देते हुए आगे बढ़ना है। 

विदित रहे कि लेखक की अनेक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं।०0०

*********






राजस्थानी रामलीला:भूमि पूजन व ध्वज स्थापना

 

सूरतगढ़ 17 सितम्बर 2021.

मायड़ भाषा राजस्थानी लोक कला रंग मंच की राजस्थानी रामलीला के मंचनसे पूर्व पूजा और मंत्रोच्चार से भूमि पूजन और ध्वज स्थापना की गई। 

दीपक कुमार शास्त्री द्वारा नगरपालिका अध्यक्ष ओमप्रकाश कालवा के सानिध्य में पूजन कराया गया।

 इस अवसर पर साहित्यकार पत्रकार करणी दान सिंह राजपूत, लोककला रंगमंच संस्था के अध्यक्ष ओम साबणिया,पार्षद प्रियंका कल्याणा,पार्षद हंसराज स्वामी,बसपा नेता अमित कल्याणा,वरिष्ठ लोकतंत्र सेनानी पूर्व पार्षद मुरलीधर उपाध्याय, क्रांतिकारी महावीर भोजक, कांग्रेस कार्यकर्ता कन्हैया लाल पारीक,भानुशाली सिंधी समाज के उपाध्यक्ष प्रभुदयाल सिंधी,बाबूलाल सुथार, पीपुल फॉर एनिमल्स के जिलाध्यक्ष पत्रकार महेंद्र सिंह जाटव,भार्गव समाज के गोविंद भार्गव,पेमाराम नायक उपस्थित रहे।

इस मौके पर राजस्थानी रामलीला के सृजक मनोजकुमार स्वामी ने बताया कि हम विश्व के इकलौते इस मंचन के माध्यम से राजस्थानी भाषा की मान्यता की मांग को जिंदा रखने के प्रयास में लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि देश में एक एक करके 22 भाषाएं संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल हो चुकी है । लेकिन समृद्ध भाषा होते हुए भी राजस्थानी को उसका मान सम्मान नहीं मिला।

इस अवसर पर राजस्थानी रामलीला के  कलाकार भी उपस्थित थे।०0०






शुक्रवार, 17 सितंबर 2021

कैसा हो रहा है सूरतगढ़ का विकास और उसमें परेशानियां- अध्यक्ष कालवा से बातचीत

 

* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 16 सितंबर 2021.

नगर पालिका सूरतगढ़ के अध्यक्ष ओमप्रकाश कालवा ने बताया के सूरतगढ़ नगर पालिका नगरीय सीमा को बढ़ाने की आवश्यकता है और इस बाबत उच्च स्तरीय बैठक में यह बात रखी गई थी। नगरपालिका का पेराफेरी एरिया तो है लेकिन नगरीय सीमा वर्षों पुरानी ही पड़ी है।


नगर पालिका अपनी नगरीय सीमा में ही पट्टे आदि वितरण का कार्य कर सकती है। उन्होंने बताया कि प्रशासन शहरों की ओर में नगर पालिका सरकार द्वारा निर्धारित हर कार्य बहुत कुछ पूरी तरह करने की इच्छा रखती है। अतिक्रमण के पट्टे बनाने के बारे में अभी गाइड लाइन में यह नहीं बताया गया कि किस वर्ष तक के अतिक्रमण के पट्टे बनाए जा सकते हैं यह सूचना आने पर यह कार्य  किया जाएगा। शहरी अभियान विभिन्न चरणों में चलेगा उनमें अतिक्रमण के पट्टे बनाए जाने के मामले में भी पूरी तैयारी है। इसमें सरकार ने आवासीय क्षेत्र भी बढ़ाया है।

रेलवे स्टेशन से भगत सिंह चौक तक सड़क निर्माण का टेंडर करवाया जा चुका है लेकिन उसमें एक बाधाआ रही है कि पूर्व में इंटरलॉकिंग का एक मामला भ्रष्टाचार निरोधक विभाग में चल रहा है वह निस्तारित होना बहुत जरूरी है। उसकी जांच पूरी होने तक वहां कोई बदलाव नया निर्माण नहीं कराया जा सकता। एसीबी से जांच शीघ्र करने का आग्रह किया है। 

नालों पर आरसीसी निर्माण और उससे भी आगे लोहे के ऐंगल से बने अतिक्रमण से सफाई कर्मचारियों को बहुत परेशानी होने तथा अनेक बार नालों में हाथ डालकर सफाई करने का बिंदु भी अध्यक्ष के सामने रखा गया कि यह किसी भी हालत में सही नहीं बताया जा सकता।

उन्होंने माना कि सफाई में परेशानी आती है और सफाई भी पूरी नहीं हो पाती। इस मामले में बताया गया कि जब सुभाष चौक से भगतसिंह चौक तक सड़क का निर्माण होगा तब साथ ही यह कार्य संपन्न कर दिया जाएगा। महत्वपूर्ण बात यह हुई कि नालों पर ढक्कन नहीं हो और यदि आवश्यकता हुई तो नगर पालिका की ओर से ही यह व्यवस्था की जाएगी। 

नगरपालिका के नये भवन और जनरल मार्केट बाबत भी बात हुई। पालिका के भवन निर्माण बाबत लोन की स्वीकृति होने के बाद लेट क्यों की बात रखी गई। उन्होंने कहा कि निर्माण की सभी तकनीक आदि से निर्माण होगा।

उन्होंने कहा कि शहर को असहाय गौवंश और पशुओं से मुक्त करने की घोषणा और कार्य पर सवाल उठाए जाते हैं लेकिन इसकी असलियत पर गौर नहीं करते। नंदीशाला में करीब 350 संख्या में गौवंश और पशु थे जिनकी संख्या अब एक हजार तक पहुंच गई है। शहर में से ही ये नंदी शाला में पहुंचाए हैं। अब असलियत यह है कि गावों से लाकर शहर में पशु छोड़ने का क्रम निरंतर चल रहा है। इन पर बहुत बड़ा खर्च हो रहा है। 

नगरपालिका में और खुद अध्यक्ष पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए जाने की बात खुद ने ही सामने रखते हुए कहा कि जो आरोप लगा रहे हैं वे जबानी जमाखर्च हो रहा है, उनके पास कोई सबूत आदि हैं तो मुकदमा कर सकते हैं तथा भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो में शिकायत दर्ज करवा सकते हैं। लेकिन इन कदमों से पीछे रहते हैं।

उन्होंने खुद ने ही बताया कि एक और आरोप लगाया जा रहा है कि चैयरमैन अतिक्रमण करवा रहा है। लेकिन जब कहा गया कि बताओ कहां कहां चैयरमैन के अतिक्रमण हैं उनको तुड़वाएं। इसके बाद कोई आगे नहीं आता। उन्होंने कहा कि आश्चर्य तो इस बात का है कि इस तरह के सभी जबानी जमाखर्च वाले झूठे आरोप उन्हीं के दल वाले पार्षद संगठन पदाधिकारी लगा रहे हैं। अध्यक्ष इस प्रकार के आरोप लगाने को शहर हित में बाधा मानते हैं कि इनके जवाब देने में ही रहें। 

उन्होंने कहा कि सीवरेज निर्माण तो मेरे कार्यकाल से पहले ही शुरू हो चुका था। उसकी गड़बड़ी में आरोप मुझ पर लगाना और सीवरेज कं से 25 लाख रूपये लेने का आरोप लगाना। चैयरमैन ने इस आरोप को एकदम झूठा बताया।

उन्होंने कहा कि गढ के बिखरते जाने पर सवाल नगरपालिका पर किए जा रहे हैं जबकि नगरपालिका का इस संपत्ति से कोई संबंध नहीं। यह शुद्ध रूप से राजस्व विभाग तहसील से जुड़ा है। गढ के बाहरी तरफ बीस पच्चीस फुट की खाली जगह मार्ग होने की बात भी सामने आई कि अब ऐसी मौजूदा स्थिति नहीं है। 

उनका मानना है कि पूर्व विधायक गंगाजल मील और नगरपालिका बोर्ड का भरपूर सहयोग मिल रहा है।

अध्यक्ष ओमप्रकाश कालवा की बातों से यह सारांश निकला कि वे खुद को राजनैतिक व्यक्ति नहीं मानते जो खेल करे,वे तो साधारण आदमी है जो सरलता से काम करना चाहते हैं और उस नीति पर चल रहे हैं। ०0०

००००००





रविवार, 12 सितंबर 2021

जिला संयुक्त रेल संघर्ष समिति श्रीगंगानगर का गठन. ललित किशोर शर्मा अध्यक्ष

 



* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 12 सितंबर 2021.

श्रीगंगानगर जिले में रेलों के विकास, समस्याएं 

और संघर्ष के अलग अलग स्थानों पर जूझ रहे संगठनों के प्रतिनिधियों ने एक बड़ा संगठन बना कर कार्य करने की सोच को लेकर रेल संयुक्त संघर्ष समिति जिला श्री गंगानगर का गठन किया। सर्वसम्मति से ललित किशोर एडवोकेट सूरतगढ़ को जिला अध्यक्ष चुना गया

* जैतसर में सूरतगढ़ से लेकर अनूपगढ़  और सूरतगढ़ से केसरीसिंहपुर तक की मंडियों की रेल समितियों के पदाधिकारियों ने बैठक में हिस्सा लिया। सभी ने एकजुटता से कार्य करने का निर्णय लिया ताकि कार्य अधिक प्रभावी हो। विचार विमर्श के बाद जिले की संघर्ष समिति का गठन किया जिसका नाम ' श्रीगंगानगर जिला संयुक्त रेल संघर्ष समिति' रखा गया।

* इस मौके पर अनूपगढ़ रेल विकास संघर्ष समिति के अध्यक्ष गंगाबिशन सेतिया, महासचिव एडवोकेट तिलकराज चुघ के अलावा श्रीबिजयनगर से घनश्याम दास नागपाल जैतसर से शिव बागड़ी, गुरचरण सिंह पूर्व व्यापार मंडल अध्यक्ष वेदप्रकाश सेतिया, रायसिंहनगर से विजय कुमार जाखड़, गजसिंहपुर से जगदीश यादव,श्रीकरणपुर से  रेल संघर्ष समिति के बलदेव सेन,मांगी लाल बिश्नोई, अरुण कौशिक, ललित बंसल शामिल हुए।

*  अनूपगढ़ सूरतगढ़ रेल खंड तथा वाया लूप कैनाल खंड सूरतगढ़ से केसरीसिंहपुर पर रेल संचालन को लेकर आ रही समस्याओं व मांगों के संबंध में रेल संघर्ष समिति के पदाधिकारियों द्वारा अपने-अपने विचार रखे गए। 

*  सभी वक्ताओं ने रेल सेवाओं के मामले में जनप्रतिनिधियों द्वारा की जा रही उपेक्षा के मुद्दे को बार-बार उठाया और कहा कि एकजुटता के साथ पूरे जिले की रेल  समितियों को जनप्रतिनिधियों पर रेल सेवाओं के लिए दबाव बनाना होगा व विकास के लिए लगातार संघर्ष करना होगा। *

👌 इस मौके पर जिला संयुक्त रेल संघर्ष समिति के नवनियुक्त अध्यक्ष एडवोकेट ललित किशोर शर्मा ने अपने विचार रखे जिसमें सभी लोगों का आभार व्यक्त किया।

उन्होंने कहा कि जिले भर की रेल संघर्ष समिति का अध्यक्ष बनने का जो गौरव समिति के पदाधिकारियों व सदस्यों द्वारा दिया गया है उस पर खरा उतरने का प्रयास करेंगे तथा रेल सेवाओं के लिए अधिक से अधिक प्रयास किए जाएंगे।

* अन्य पदाधिकारी*

अनूपगढ़ के एडवोकेट तिलकराज चुघ को सचिव एवं श्रीकरणपुर के मांगीलाल बिश्नोई को वरिष्ठ उपाध्यक्ष एवं जैतसर के शिव बागड़ी को उपाध्यक्ष बनाया गया। वहीं श्रीविजयनगर के घनश्याम दास नागपाल को सह सचिव, श्रीकरणपुर के दुलीचंद को कोषाध्यक्ष एवं ओम चुघ को जिला संयुक्त संघर्ष समिति के प्रवक्ता के पद पर नियुक्त किया गया। 

इसके अलावा समिति के संरक्षक पद पर मंडी जैतसर के शंकरलाल ज्याणी तथा गजसिंहपुर के जगदीश यादव को संयोजक बनाया गया।


जिला संयुक्त रेल संघर्ष समिति के नवनियुक्त जिला अध्यक्ष ललित शर्मा ने बताया कि जिले भर की मंडियों से रेल सेवाओं के लिए जल्द ही मांग पत्र को रेलवे बोर्ड तक पहुंचा कर आगामी रूपरेखा बनाई जाएगी। साथ ही सांसदों एवं रेलवे बोर्ड के अधिकारियों सहित बीकानेर डी आर एम को भी मांगों से अवगत करवाया जाएगा।

आज की बैठक में जगतार सिंह कंग नगेंद्र सिंह, सुभाष हर्ष, दुलीचंद मित्तल, रमेश चंद्र, गुरुचरण सिंह कंबोज, सुरेंद्र गोयल,  तुलसी सुथार भी मौजूद थे।०0०

०००००००००००










यह ब्लॉग खोजें