Tuesday, June 20, 2017

राजस्थानी अकादमी बीकानेर मांय अध्यक्ष री उडीक:राज मद गैली हुई वसुंधरा नै कुण सिमझावै:



अकादमी री एक पत्रिका जागती जोत रो छपनो बंद सूं बत्तौ है। कई कई महीनां बाद मरता डूबता एक दो अंक छपै। उडीक सूं ही लारो छूट्यौ।



वसुंधरा राज 3 सालों रो उत्सब  बीकानेर  मांय मनाया चुक्यौ । पण राजस्थानी रा रचनाकार सख्त लहजे सूं बात करणै सूं कतरा रैया है। 




- करणीदानसिंह राजपूत -



राजस्थानी भाषा साहित्य एवं संस्कृति अकादमी बीकानेर रो अध्यक्ष पद सरकार खानी सूं थरपीजणे मांय सालो साल बीतण लाग रैया है। अकादमी री साख मानीजती एकल पत्रिका जागती जोत रो छपणो बंद है। सगळा उत्सब आद धोरा रळग्या। रणबांकुरो कहीजै जकै राजस्थान मांय शूरवीर लिखारा मांय सूं एक भी ऐड़ो नीं जकौ वसुंधरा नै सिमझा सके। वसुंधरा तो राज मद मांय गैली हो गई। राजस्थानी साहित्यकारां लिखारां नै भूल गई। राजस्थानी नै भूल गई।

राजस्थानी लिखारा इण धरती नै देव रमण आळी बतावै पण इतरी ताकत नीं दिखावै कै राज नै बता सकै। राजस्थानी अकादमी नै तड़पा तड़पा मारण सूं तो आच्छो रैसी कै सरकार नै चेतो करवा दियो जावै कै थारा पद थारै खनै राखो अर राजस्थानी लोग आपै सगळो काम बिना थारै राज रै सहयोग कर लेसी।

वसुंधरा जद जद राज मांय आई अकादमी रे अध्यक्ष रो थरपणो देरी सूं करियौ। राज रा करोड़ों रिपिया बीजै उत्सबां मांय लागै पण राजस्थानी भाषा प्रेमी उत्सब नीं मना सकै। राजस्थानी अकादमी रै सहयोग सूं होवण आळा सगळा काम अर पोथियां रो परकासन बंद है। राज सूं सवाल तो करयो जा सकै है के जै कीं नीं करणो तो अकादमी नै बंद कर दो।

राजस्थान सरकार रा वसुंधरा राज रा तीन साल पूरा होवण सारूं बीकानेर मांय ही संभाग रो उत्सब मनायो। 


 बीकानेर राजस्थानी  लिखारा रचनाकारां साहित्यकारां रो गढ़ है पण देखणो है कै सरकार नै कितरा साहित्यकार  चेतो करावण रा पतर लिखसी।

:::::::::::::::::::::::::::::::::::

पैली बार 16-12-2016.

अपडेट 30-3-2017.राजस्थान दिवस.

अपडेट 20-6-2017.

No comments:

Post a Comment

Search This Blog