Tuesday, November 24, 2015

अनशनकारी पूजा छाबड़ा का मुख्यमंत्री वसुंधरा को खुला चैलेंज:महिला सीएम को मैं महिला सीधा करूंगी:

पूजा छाबड़ा से 24 नवम्बर सुबह 8-30 पर करणीदानसिंंह राजपूत की वार्ता
स्व.गुरूशरण छाबड़ा की पुत्रवधु पूजा छाबड़ा का शहीद स्मारक जयपुर पर आमरण अनशन: 


राजस्थान में शराबबंदी व सशक्त लोकपाल की मांगों पर आमरण अनशन में गुरूशरण छाबड़ा बलिदान हो गए और उनका यह मोर्चा उनकी पुत्रवधु पूजा छाबड़ा ने संभाला है।
पूजा छाबड़ा का शहीद स्मारक पर आमरण अनशन 24 नवम्बर को दूसरे दिन में प्रवेश कर गया। पूजा छाबड़ा से बातचीत हुई और उसने अपनी बोल्डनेस के अनुसार चैलेंज किया कि राजस्थान की गरूर में डूबी महिला मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को मैं महिला ही सीधा करूंगी और रास्ते पर लाऊंगी। पूजा के कहने में था कि सीएम किसी से बात नहीं करना चाहती। सूरतगढ़ से विधायक रहे गुरूशरण छाबड़ा इन मांगों पर आमरण अनशन करते हुए 3 नवम्बर को अपना बलिदान कर गए।
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे आमरण अनशनकारी छाबड़ा से मिलने गई नहीं। उनकी मृत्यु के बाद उनके निवास पर चौथे दिन पहुंची। वहां पर सीएम करीब पैंतालीस मिनट रही। वहां पर सीएम ने यह कहा बताते हैं कि उनको छाबड़ा के अनशन का मालूम नहीं था। यह घोर आश्चर्य करने वाली बात थी। मुख्यमंत्री के लिए सारे राजस्थान की मुख्य हलचल समाचार आदि विशेष रूप से तैयार कर पढ़ाए जाते हैं और 33 दिन तक उनको मालूम नहीं पडऩा यह संकेत देता है कि सीएम को राजस्थान में क्या कुछ हो रहा है का मालूम नहीं है तो वह सीएम क्यों हैं? सीएम के लिए एक प्रेस अटैची पीआरओ भी होता है। ऐसा लगता है कि यह सफेद झूठ था।
तब परिवार जनों ने स्पष्ट कह दिया था कि छाबड़ा जी का बलिदान व्यर्थ नहीं जाने दिया जाएगा।
उसी के अनुरूप 23 नवम्बर को पूजा छाबड़ा आमरण अनशन के लिए मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के सिविल लाईंस निवास के आगे पहुंच गई सूचना के अनुसार उनके साथ उनकी माता, पति गौरव व कार्यकर्ता भी थे।
पुलिस उनको हिरासत में लेकर सोढाला थाने ले आई। पूजा ने थाने में आमरण अनशन जारी रखा। थाने में कार्यपालक मजिस्ट्रेट और पुलिस कमिश्रर आदि ने पूजा पर दबाव डाला कि वह आमरण अनशन समाप्त करदे लेकिन उसने आमरण अनशन तोडऩे से इन्कार कर दिया। उसके बाद व्यक्तिगत जमानत बौंड भरने का कहा लेकिन उसने वह भी नहीं भरा। रात को यह कहते हुए छोड़ दिया गया कि अब यह मामला अदालत में पेश होगा और पूजा वहीं पर फेस करे।
पूजा व कार्यकर्ताओं ने अब शहीद समारक पर यह आमरण अनशन जारी रखा है। पूजा के आमरण अनशन का दूसरा दिन शुरू हो गया है।
पूजा ने शहीद स्मारक पर से ही वार्ता की और मुख्यमंत्री को सुधारने की बात कही।
पूजा ने कहा कि जब तक छाबड़ा जी की मांगों पर निर्णय नहीं हो जाता है तब तब आँदोलन नहीं थमेगा चाहे सरकार कितना ही जोर लगाले या दबाव डाले। अब तीसरी मांग और जुड़ गई है कि छाबड़ा जी को शहीद का दर्जा दिया जाए।
इसी दौरान सूरतगढ़ के कई कार्यकर्ता जयपुर पहुंच गए हैं।

No comments:

Post a Comment

Search This Blog