मंगलवार, 31 अगस्त 2021

रूणेचा के श्रद्धालुओं व कैंसर रोगियों की सुविधा के लिये श्रीगंगानगर-जैसलमेर ट्रेन का रखा प्रस्ताव

 



श्रीगंगानगर,31 अगस्त 2021.


 श्रीगंगानगर संसदीय क्षेत्र की विभिन्न रेल समस्याओं के निराकरण को लेकर पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद श्री निहालचंद ने मंगलवार को बीकानेर में मण्डल रेल प्रबंधक कार्यालय में मीटिंग में भाग लिया।

इस बैठक में इलाके के रेलमार्गों का विद्युतीकरण जल्द करवाने के अलावा हनुमानगढ में वाशिंग लाइन बनाये जाने की मांग प्रमुख रूप से उठाई गई। 

बैठक में संसदीय क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों के रेल फाटक की समस्याओँ के निराकरण भी अहम मुद्दा रहे।





* इलाके में बढ़ते कैंसर रोगियों व रामदेवरा जाने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिये जेडआरयूसीसी सदस्य भीम शर्मा द्वारा तैयार किया गया श्रीगंगानगर से जैसलमेर के लिये रात्रिकालीन रेल सेवा का प्रस्ताव रखा गया। प्रस्ताव के अनुसार इलाके के अलावा पंजाब क्षेत्र से बड़ी संख्या में कैंसर रोगी इलाज के लिये बीकानेर जाते हैं। ऐसे में रात्रिकालीन ट्रैन से सुबह जल्दी पहुंचकर अस्पताल के समय वहा से परामर्श आदि लेकर शाम की ट्रेन से वापस अपने घरों को लौट सकते है।इससे इन लोगों को बीकानेर में रुकने का खर्च वहन नही करना पड़ेगा। इसके अलावा यह ट्रेन बाबा रामदेव के दर्शनार्थ जाने वाले श्रद्धालुओं को भी सीधी ट्रैन की सुविधा देगी।श्रीगंगानगर सहित पंजाब क्षेत्र से बड़ी संख्या में प्रतिदिन श्रद्धालु रूणेचा धाम जाते हैं।


 * इसके अलावा जयपुर से सादुलपुर के बीच (वाया झुंझुनूं, चिड़ावा, लोहारु ) संचालित ट्रेन का हनुमानगढ तक विस्तार करने की मांग भी प्रमुखता से रखी गयी।

बैठक में हनुमानगढ में सोलर प्लांट की जरूरत भी बताई गई। 

* बैठक में बीकानेर नगर विकास न्यास के पूर्व अध्यक्ष श्री महावीर रांका ने किसी एक ट्रेन का नामकरण आचार्य तुलसी के नाम करने की बात कही। 

* जेडआरयूसीसी सदस्य राजेन्द्र चौधरी ने हनुमानगढ को गार्ड/लोको पायलट के लिये मुख्यालय बनाने पर जोर दिया। 


बैठक में रेलवे की ओर से श्री अनिल रैना, वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक, श्री जय प्रकाश, वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक,श्री प्रमोद कुमार खत्री, अपर मंडल रेल प्रबंधक(इन्फ्रा), श्री निर्मल कुमार शर्मा, अपर मंडल रेल प्रबंधक (ऑपरेशन),श्री एम.एम.उपाध्याय, वरिष्ठ मंडल अभियांत्रिक अभियंता (समन्वय) आदि उपस्थित रहे।०0०

******







सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुपरटेक के 950 फ्लैट वाले 40 मंजिला 2 टॉवरों को गिराने का आदेश:

 




* करणीदानसिंह राजपूत *

सुप्रीम कोर्ट ने अधिकारियों की मिलीभगत से बिल्डरों/ कोलोनाइजरों द्वारा नियम विरुद्ध बनाए गए निर्माणों के मामलों में और आरक्षित क्षेत्र में नियम विरुद्ध निर्माणों के मामलों में बहुत सख्त है। अनेक फैसले अवैध निर्माणों को तोड़ने के होने के बाद निर्माणों को तय समय सीमा में तोड़ना पड़ा है।

एकदम ताजा मामला सुपरटेक का है। प्रोजेक्ट के 950 फ्लैट वाले 2 टॉवरों को गिराने का आदेश मंगलवार 31 अगस्त को दिया गया है।फ्लैट खरीदारों का क्या होगा का भी फैसले में वर्णन है।


सुप्रीम कोर्ट ने सुपरटेक के नोएडा एक्सप्रेस वे स्थित एमराल्ड कोर्ट प्रोजेक्ट के टॉवर-16 और 17 को अवैध ठहराया है. कोर्ट ने इन दोनों 40 मंजिला टॉवरों को 3 महीने में गिराने का आदेश दिया है।


सुप्रीम कोर्ट ने सुपरटेक के नोएडा एक्सप्रेस वे स्थित एमराल्ड कोर्ट प्रोजेक्ट के टॉवर-16 और 17 को अवैध ठहराया है. कोर्ट ने इन दोनों 40 मंजिला टॉवरों को 3 महीने में गिराने का आदेश दिया है.


सुप्रीम कोर्ट ने नोएडा अथॉरिटी को कहा कि बिल्डर और अथॉरिटी मिलकर गैर कानूनी काम कर रहे हैं. बिल्डर अपने पैसे के बल पर हर तरह का उलंघन कर रहे हैं. नोएडा में गैर कानूनी अतिक्रमण और कंस्ट्रक्शन की बड़ी वजह बिल्डर और अथॉरिटी के ऑफिसर का गठजोड़ है।


शीर्ष अदालत ने कंपनी को फ्लैट खरीदारों को ब्याज के साथ पैसे वापस करने का आदेश दिया है. कोर्ट ने कहा है कि फ्लैट मालिकों को दो महीने में पैसा ब्याज सहित पैसा वापस करना होगा. 12 परसेंट सालाना का ब्याज देना होगा।


* कोर्ट ने दोनों टॉवर को ठहराया अवैध*

सुप्रीम कोर्ट ने सुपरटेक के नोएडा एक्सप्रेस वे स्थित एमराल्ड कोर्ट प्रोजेक्ट के टॉवर-16 और 17 को अवैध ठहराया है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि Emarald Court सोसाइटी में दो टॉवर नियमों का उल्लंघन करके बनाए गए हैं. इन टॉवर में 950 फ्लैट हैं. एक टॉवर 42 मंजिल का है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जब नक्शा पास हुआ था तब ये दोनों टॉवर अप्रूव नहीं हुए थे. बाद में नियमों का उल्लंघन करके ये टॉवर बनाए गए थे।


* 2 करोड़ रुपये हर्जाना भी देना होगा *


इसके साथ ही सुपरटेक सोसाइटी  आरडब्लूओ को दो करोड़ रुपये का हर्जाना देगा. इन दोनों टॉवरों को सुपरटेक अपने पैसे से गिराएगा. कोर्ट ने इन्हें 3 महीने में गिराने के आदेश दिए हैं.

* अन्य भवनों को नुकसान नहीं पहुंचना चाहिए*


फैसले में कहा गया है कि टॉवर्स को तोड़ते वक्त अन्य भवनों को नुकसान नहीं पहुंचना चाहिए. 


* सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस एमआर शाह ने इस मामले की सुनवाई की।०0०





रविवार, 29 अगस्त 2021

भगवान राम की जन्मस्थली रेल से पहुंचे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद- रेल से आवागमन प्रशंसनीय

 


* करणीदानसिंह राजपूत *

रेलमंत्री ने रेलसेवा चुनने के लिये आभार जताया

अयोध्या स्टेशन के चहुँमुखी विकास पर 80 करोड़ रूपये खर्च किये जा रहे हैं



भारत के राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद रविवार सुबह एक विशेष रेलगाड़ी से भगवान राम की जन्मस्थली पवित्र अयोध्या पहुंचे। राष्ट्रपति द्वारा रेल सेवा को प्राथमिकता देना बड़ी बात है जिसकी मुक्त कंठ प्रशंसा की जाना स्वाभाविक है।

राष्ट्रपति को ले जाने वाली इस रेलगाड़ी ने उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के ऐतिहासिक चारबाग रेलवे स्टेशन से सुबह 09.39 बजे अपनी यात्रा शुरू की और पूर्वाह्न 11.27 बजे अयोध्या स्टेशन पहुंची। चारबाग रेलवे स्टेशन पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल, रेल राज्यमंत्री श्रीमती दर्शना विक्रम जरदोश, उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डाॅ0 दिनेश शर्मा, उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्रीगण, लखनऊ के मेयर, सांसद और विधायक, अध्यक्ष और सीईओ रेलवे बोर्ड सुनीत शर्मा, उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक आशुतोष गंगल, मंडल रेल प्रबंधक लखनऊ एस. के. सपरा तथा राज्य प्रशासन और रेलवे के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

 राष्ट्रपति का अयोध्या रेलवे स्टेशन पहुंचने पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ और उत्तर रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने स्वागत किया। 

 राष्ट्रपति इसी रेलगाड़ी से शाम 6.00 बजे वापस लखनऊ लौट आए। इससे पहले राष्ट्रपति ने पिछले महीने जून में दिल्ली सफदरजंग रेलवे स्टेशन से अपने गृहनगर कानपुर देहात तक रेल से यात्रा की थी। 

भारत के प्रथम नागरिक के लिए इन दोनों रेल दौरों की मेजबानी करना भारतीय रेलवे के लिए सम्मान और गौरव की बात है। 

राष्ट्रपति के पिछले दौरे की तरह ही इस बार भी उनके अयोध्या जाने के लिए एक विशेष राष्ट्रपति रेलगाड़ी को तैयार किया गया। आजादी के बाद से राष्ट्रपति द्वारा रेलयात्रा के लिए उपयोग में लाये जाने वाले सैलून कोच को कुछ समय पूर्व स्वयं राष्ट्रपति महोदय के कहने पर सेवा से विमुक्त कर दिया गया था क्योंकि इसके रख-रखाव पर काफी धन और संसाधन खर्च हो रहे थे। इन दिनों जबकि भगवान राम के पवित्र और प्राचीन शहर अयोध्या को फिर से जीवंत किया जा रहा है, ऐसे में उत्तर रेलवे बेहतर यात्री और माल सेवा अनुभव के लिए शहर और उसके आस.पास में सुविधाओं का विस्तार कर रहा है। रेलवे स्टेशन का पुनर्विकास किया जा रहा है और रेल उपयोगकर्ताओं के लिए 80 करोड़ रुपये की लागत से अनेक सुविधाएं प्रदान की जा रही है। इनमें एक नया स्टेशन भवन, फुटओवर ब्रिज, एस्केलेटर और लिफ्ट, जनसुविधाएं और विश्राम कक्ष इत्यादि का कार्य शामिल है। सालारपुर में एक नया माल ढ़ुलाई टर्मिनल तैयार किया जा रहा है। भिलारघाट में कोल साइडिंग का विकासए बाराबंकी-अकबरपुर रेल सेक्शन का विद्युतीकरण और बाराबंकी-अयोध्या-जफराबाद के बीच दोहरीकरण का कार्य समाप्ति के विभिन्न चरणों में है।

 दिल्ली में रेलमंत्री श्री अश्विनी वैष्णव ने माननीय राष्ट्रपति को उनकी अयोध्या यात्रा के लिए रेल सेवा का चुनाव करने के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने आगे कहा कि रेलवे यात्रा, पर्यटन और तीर्थ यात्रा को प्रोत्साहन देने के लिए धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व के स्टेशनों के विकास पर ध्यान केन्द्रित कर रही है। इससे स्थानीय अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिलेगी। 

(श्रीगंगानगर, 29 अगस्त 2021.)

*****





---------


सूरतगढ़ में बिजली लाईनों के नीचे लगाए पेड़ों से शुरू होने वाली है परेशानियां

 ० बिजली लाईनों के नीचे लगे पेड़ तारों तक पहुंचे। आने वाली परेशानियों से निपटने की तैयारी अभी शीघ्र ही शुरू करनी होगी। ०



* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ उपखंड कार्यालय के आसपास बिजली तारों के नीचे पौधारोपण हुआ और वे पौधे अब पेड़ बन कर इतने ऊंचे हो गए हैं कि कुछ समय बाद बिजली तारों को छूते हुए ऊपर तक निकल जाएंगे। इन पेड़ों की संख्या करीब 50 से अधिक है।

बिजली की लाइनें दूसरी जगह स्थानांतरित करने की आवश्यकता होगी और यह मांग भी जरूर उठेगी। वहां अन्यत्र स्थानांतरित करने की जगह होगी या नहीं होगी। यह अवलोकन अभी किया जा सकता है।

 पर्यावरण प्रेमी सामाजिक संस्थाएं सरकारी अधिकारी पौधरोपण/वृक्षारोपण करने से पहले स्थान तय करते वक्त यह ध्यान रखें कि बिजली तारों की लाइन के नीचे पौधारोपण / वृक्षारोपण नहीं हो। 








* पेड़ कितनी ऊंचाई लेगा और उसका घेरा कितना होगा यह पेड़ की किस्म से पहले तय किया जाना चाहिए।सड़क के किनारे भी पेड़ लगाते वक्त यह ध्यान रखना चाहिए कि कुछ साल के बाद पेड़ सड़क तक पहुंच कर आवागमन में बाधा न बने। भवनों की नींव से सटकर भी पौधारोपण नहीं होना चाहिए।


पर्यावरण प्रेमी और सामाजिक संस्थाएं पौधारोपण कर वृक्ष लगाने में लगी हैं जो समाज सेवा और प्रकृति पूजा का बहुत बड़ा कार्य है।०0०






शुक्रवार, 20 अगस्त 2021

राजीव गांधी की अष्ठधातु प्रतिमा का विधायक गुरमीतसिंह कुन्नर द्वारा लोकार्पण

 


* करणीदानसिंह राजपूत *

श्रीकरणपुर 20 अगस्त 2021.


भारत रत्न स्वर्गीय राजीव गांधी पूर्वप्रधानमंत्री के 77वीं जयंती के अवसर पर विधायक गुरमीत सिंह कुन्नर ने श्रीकरणपुर में अष्टधातु प्रतिमा का लोकार्पण किया। 

नगर पालिका श्रीकरणपुर के राजीव गांधी पार्क में शुक्रवार प्रातः 11 बजे राजीव गांधी की प्रतिमा का अनावरण किया गया।


 इस अवसर पर विधायक गुरमीत सिंह कुन्नर ने कहा कि पूरा देश आज राजीव गांधी को याद कर रहा है। वे न भुलाए जाने वाली योग्य शख्सियत थे जिन्होंने महिलाओं के उत्थान के लिए लगातार कार्य किया। मनरेगा योजना से गरीबों को आर्थिक संबल देने वाले तथा उनके लिए हर संभव प्रयास करने वाले ऐसी शख्सियत को भूल पाना संभव नहीं है । 

उन्होंने कहा कि देश को इक्कीसवीं सदी में प्रवेश दिलाकर विश्व के बेहतरीन देशों की श्रेणी में लाने का श्रेय श्री राजीव गांधी को जाता है। युवा पीढ़ी को आगे लाने का कार्य उन्होंने किया है। 

श्री कुन्नर ने आम जनता से अपील की कि वे राजीव गांधी पार्क की देख रेख व रखरखाव करें तथा पर्यावरण की सुरक्षा में अपना योगदान दें। 

उन्होंने कहा कि कोरोना में देश का आर्थिक नुकसान हुआ है। 

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत अपने कार्यों से प्रदेश को आगे लाने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि तीसरे लहर आने की संभावना को देखते हुए हमें सावधान रहना चाहिए तथा सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क लगाने जैसे महत्वपूर्ण कार्यों को भूलना नहीं चाहिए। उन्होंने वहाँ मौजूद आम नागरिक, प्रबुद्धगण व पार्षदों का धन्यवाद किया। 


पौधारोपण व रक्तदान शिविर सहित अन्य कार्यक्रम आयोजित


इस अवसर पर पौधारोपण भी किया गया

इस अवसर पर आम सभा को संबोधित करते हुए श्री कुन्नर ने कहा कि स्व श्री राजीव गांधी के समय में कंप्यूटर व इंटरनेट क्रांति ने देश को आगे लाने में पूरी मदद की। उन्होंने इस अवसर पर स्वर्गीय प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी को याद किया व उनके द्वारा किए गए कार्यों की भरपूर सराहना की। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी सादगी से भरपूर दूरगामी सोच के नेता व संचार क्रांति के प्रणेता थे। श्री कुन्नर ने इस अवसर पर सी सी रोड का शिलान्यास भी किया

रक्तदान महादान है. श्री कुन्नर

श्री गुरमीत सिंह द्वारा अरोड़वंश धर्मशाला में रक्तदान शिविर का आयोजन भी किया गया। इस कार्यक्रम में सैंकड़ों लोगों ने रक्तदान किया। श्री कुन्नर ने कहा कि रक्तदान महादान है व इससे पवित्रा कार्य कुछ नहीं हो सकता है।

इस अवसर पर एसडीएम सुभाष कुमार, डिप्टी एसपी सुरेंद्र कुमार राठौड़, नगरपालिका अध्यक्ष रमेश बंसल, श्री रूबी कुन्नर, पूर्व सांसद शंकर पन्नू, बिश्नोई समाज के राम स्वरूप मांझू सहित गणमान्य नागरिक व बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे। ०0०









रविवार, 15 अगस्त 2021

सूरतगढ़- गढ की प्राचीर पर फहराया तिरंगा- गढ बचाने का अभियान जारी.





* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 15 अगस्त 2021.

जांबाजो ने 75 वें स्वतंत्रता दिवस पर यहां गढ की बची हुई विरासत पर राष्ट्रीय धवज फहराया। प्रसिद्ध धावक महेंद्र नागर बद्रीप्रसाद बिनाणी, आदि ने कार्यक्रम में भाग लिया।

धरोहर संरक्षण समिति ने गढ की सुरक्षा और बचाव अभियान के तहत स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने की शुरुआत की थी। उसी की देखरेख में कुछ साल यह चला। उसके बाद शहर के जांबाजो ने इसे आगे बढाया। अब बचे हुए गढ को बचाने के लिए कभी कभी आवाज उठती रहती है। सूरतगढ़ का नाम रखने के लिए गढ होना ही चाहिए।

सरकार तो नजूल संपत्ति में घोषित करके गढ का काफी हिस्सा नीलाम कर बेच चुकी है। जन विरोध के कारण ही करीब आधा हिस्सा बच पाया।

नगरपालिका के कुछ अध्यक्षों ने मरम्मत कराने बाग विकसित कराने की घोषणाएं की मगर बाद में किसी ने कुछ भी नहीं किया और जनता व संस्थाओं ने भी दबाव नहीं डाला। नगरपालिका आज भी इसे मरम्मत करवा कर क्षेत्र को विकसित कर सकती है।

पूर्व में राष्ट्रीय पर्वों पर अनेक बार धरोहर संरक्षण समिति के पूर्व अध्यक्ष हरिमोहन सारस्वत 'रूंख', नाटककार स्व.बाबूलाल शर्मा बिन्नाणी, पत्रकार करणीदानसिंह राजपूत, इंजीनियर रमेश चन्द्र माथुर आदि यहां राष्ट्रीय ध्वज फहरा चुके हैं।०0०

******













भारतीय सेना की वीरता पर लालगढ़ जाटान छावनी में आयोजित छात्र वार्ता

 


* करणीदानसिंह राजपूत *

श्रीगंगानगर, 14 अगस्त 2021.

भारतीय सेना को अन्य सेनाओं में बेहतीन लडाकू बल के रूप में जाना जाता है। 

क्षेत्रीय अखण्डता, राष्ट्रीय सुरक्षा सुनिश्चित करना और राष्ट्रीय एकता को बनाये रखना,वर्षो से भारतीय सेना का प्राथमिक कर्तव्य रहा है। 


स्वतंत्रता के बाद से हमारी सेना शान्ति और सुरक्षा बनाए रखने के लिए बाहरी आक्रमण और आंतरिक खतरों के खिलाफ लड़ रही है। जिसकी वीरता की गाथा निरन्तर प्रगतिशील है।राष्ट्र विरोधियों के खिलाफ पारम्परिक अभियान घुसपैठ/काउन्टर आतंकवादी या मानवीय कार्यवाही और आपदा राहत जैसी परिस्थितियों में भरतीय सेना और दृढता के साथ संलग्न है।


स्वतंत्रता दिवस के 75 वें वर्ष के उपलक्ष में गाडीव डिव के तीव्र तीसरी ब्रिगेड ने 13 अगस्त 2021 को लालगढ जाटान सैन्य छावनी में 11 वीं और 12 वीं की कक्षा के स्कुली बच्चों के लिए भारतीय सेना में वीरता पर एक वार्ता आयोजित की।

देश के भावी योद्धाओं के मन में राष्ट्रवाद की भावना पैदा करने के लिए सेना स्वतंत्रता के बाद से विभिन्न युद्धो में वीरता पर जानकारी देने लघु कक्षाओं के स्कुली बच्चों तक पहुंची। 


इस अवसर पर एक युवा अधिकारी द्वारा भाषण दिया गया जो स्कुली बच्चों के मस्तिक में राष्ट्र भक्ति की भावना तथा राष्ट्रीय एकता को बनाये रखने पर केन्द्रीत था।

आर्मी पब्लिक स्कूल और केन्द्रीय विद्यालय लालगढ जाटान के कुल 104 छात्रों व शिक्षकों ने इस वार्ता में भाग लिया और 350 छात्रों के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से बात प्रसारित की गई। ०0०

--------







शनिवार, 14 अगस्त 2021

स.धर्मेंद्र सिंह पुलिस सब इंस्पेक्टर की ट्रेनिंग पूरी. टू स्टार लगे.पहली पोस्टिंग बीकानेर जिले में.


करणीदानसिंह राजपूत 

सूरतगढ़ 14 अगस्त 2021.

राजस्थान पुलिस में सब इंस्पेक्टर पदोन्नत सरदार धर्मेंद्र सिंह की ट्रेंनिंग पूरी हुई।

पुलिस महानिरीक्षक ने 12 अगस्त 2021 को आदेश जारी किए। अभी बीकानेर जिले में पोस्टिंग मिलेगी। फरवरी में चयन की सूचना के बाद सब इंस्पेक्टर की ट्रेनिंग शुरू हुई जो 28 जुलाई को संपन्न हुई।

46 वर्षीय स.धर्मेंद्र सिंह तेजतर्रार पुलिस कर्मियों में माने जाते हैं। अपराधियों व नशे के खेल चलाने वालों को पकड़ने में सिद्धहस्त माने जाते हैं। 

सूरतगढ़ सिटी पुलिस स्टेशन में एएसआई पद पर रह चुके हैं। सूरतगढ़ से ही सब इंस्पेक्टर ट्रेनिंग पर गए थे।०0०

०0०











सूरतगढ़ सिटी पुलिस स्टेशन के थाना अधिकारी सीआई राम कुमार लेघा का स्थानांतरण

 



* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ सिटी पुलिस स्टेशन के थाना अधिकारी सीआई राम कुमार लेघा का स्थानांतरण राजस्थान पुलिस अकादमी में किया गया। रामकुमार लेघा ने यहां 21 फरवरी 2020 को थाना अधिकारी का कार्यभार ग्रहण किया था।

अपराधों की रोकथाम अपराधों का शीघ्रता से पकड़ना और तीव्र अनुसंधान, कोरोना गंभीर संकट काल में शाम की शानदार पैदल गश्त
करने में रामकुमार लेघा  का कोई मुकाबला नहीं रहा। रात्रि ब्लाइंड मर्डर खोलने में और अवैध नशे पर रोकथाम में आगे रहे। नशीली मेडिसिन के अवैध कारोबारियों को भी पकड़ा।

* कोरोना काल में शाम के समय जब कर्फ्यू लगने का समय होता तब राम कुमार लेघा फोर्स के अन्य साथियों होमगार्ड आदि के साथ जो गस्त करते वह देखने वाली होती थी। लोग बहुत तेज गति से पैदल गस्त को देखते और सराहना करते। 
* सामाजिक गतिविधियों में भी रामकुमार लेघा ने अपना व्यक्तिगत और पुलिस का दायित्व महत्त्वपूर्ण रूप से निभाया। एक श्रेष्ठ पुलिस अधिकारी के रूप में प्रसिद्धि प्राप्त की।०0०
14 अगस्त 2021.
करणीदानसिंह राजपूत।.
पत्रकार ( राजस्थान सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय से अधिस्वीकृत)
सूरतगढ़.94143 81356.
*****







यह ब्लॉग खोजें