शुक्रवार, 30 जुलाई 2021

प्रत्येक पंचायत समिति से चुने पांच श्रेष्ठ अग्रणी किसानों को 50 हजार तक का पुरस्कार:आवेदन करें


* करणीदानसिंह राजपूत *


श्रीगंगानगर, 30 जुलाई 2021.


आत्मा योजनान्तर्गत आत्मा शाषी परिषद की 24 जून 2021 को जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में जिले में कृषक पुरूस्कार हेतु कृषि, उद्यानिकी, पशुपालन, जैविक खेती व नवाचारी खेती का चयन किया गया है। इन क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 5-5 कृषकों का चयन प्रत्येक पंचायत समिति से किया जायेगा। प्रत्येक पंचायत समिति से एक उद्यम के लिए एक ही कृषक का चयन किया जायेगा। इस प्रकरण सम्पूर्ण जिले की 9 पंचायत समितियों में से 45 कृषकों का चयन पुरूस्कार हेतु कर उनको नगद पुरूस्कार व प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया जावेगा। इसके लिए कृषि विभाग ने आत्मा योजनान्तर्गत तैयारी शुरू कर दी है। प्रगतिशील कृषकों को 30 सितम्बर 2021 तक आवेदन करना है। इसके बाद कृषि विभाग की गठित कमेटी भौतिक सत्यापन कर प्रगतिशील कृषकों का चयन करेगी।

उप निदेषक कृषि एवं पदेन परियोजना निदेशक (आत्मा) श्री विनोद सिंह गौतम ने बताया कि कृषि विस्तार सुधार कार्यक्रम (आत्मा) के तहत कृषि उद्यमों के श्रेष्ठ कृषकों को राज्य, जिला तथा पंचायत समिति स्तर के लिए चयन कर पुरूस्कृत किये जाने का प्रावधान है। 

राज्य स्तर पर चुने जाने वाले प्रगतिशील कृषकों को 50-50 हजार का पुरूस्कार दिया जायेगा। इसी तरह जिला स्तर पर भी 10 श्रेष्ठ कृषक चुने जायेंगे, जिन्हें 25-25 हजार रूपये दिये जायेंगे तथा पंचायत समिति स्तर पर 5 श्रेष्ठ कृषकों का चयन कर उन्हें 10-10 हजार रूपये का पुरूस्कार देकर पुरस्कृत व सम्मानित किया जायेगा। कृषक को एक बार ही इस योजना के अन्तर्गत सम्मानित किया जाना है। वर्ष 2009-10 से 2020-21 तक 226 कृषकों को आत्मा योजनान्तर्गत पुरूस्कृत किया जा चुका है वे कृषक इस योजना के पुनः पात्र नहीं होंगे।

इस क्षेत्र में कार्य करने पर मिलेगा सम्मानः उन्नत जल प्रबन्धन तकनीकि से कृषि कार्य, हाईटेक उद्यानिकी, उन्नत पशुपालन, जैविक खेती व नवाचारी खेती आदि कार्य करने वाले कृषक पुरूस्कार चयन हेतु आवेदन निर्धारित प्रपत्र में समस्त सूचना भरकर अपना पासपोर्ट साईज फोटो लगाकर कृषि एवं सम्बंधित क्षेत्र में किये जा रहे उल्लेखनीय कार्यों की फोटो व सीडी सहित पूर्ण पत्रावली अपने नजदीक के सहायक निदेशक कृषि (विस्तार) कार्यालय के माध्यम से उप निदेशक कृषि एवं पदेन परियोजना निदेशक (आत्मा) श्रीगंगानगर में 30 सितम्बर 2021 तक प्रस्तुत कर सकते हैं। निर्धारित आवेदन पत्र सभी सहायक निदेशक कृषि (विस्तार)/बीटीटी कन्वीनर कार्यालयों में उपलब्ध हैं। 

चयन प्रक्रिया

कृषक सम्मान हेतु आवेदन करने वाले कृषकों की उप निदेषक कृषि एवं परियोजना निदेशक आत्मा द्वारा उप निदेशक कृषि (विस्तार), जिला परिषदए संयुक्त निदेशक/उप निदेशक पशुपालन, सहायक निदेशक कृषि (विस्तार), सहायक निदेशक उद्यान एवं कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक इत्यादि के माध्यम से प्रारंभिक जांच के पश्चात् पंचायत समिति वार सूची तैयार की जाकर, अंतिम रूप से चयन हेतु जिला कलक्टर एवं अध्यक्ष आत्मा की अनुमति से विचारार्थ शाषी परिषद् को प्रस्तुत किया जायेगा। शाषी परिषद् द्वारा इन नामांकनों में से प्रत्येक पंचायत समिति में पांच कृषकों का चयन किया जायेगा। पंचायत समिति वार चयनित कृषकों में से ही जिला स्तर के 10 कृषकों का पुनः चयन किया जायेगा। जिला स्तर पर चयनित कृषकों में से राज्य स्तर पर चयन किया जावेगा। अधिक जानकारी के लिए दूरभाष नम्बर 0154-2441930, मो.नं. 9460562672 पर सम्पर्क करें।

--------

राजस्थान में इलैक्ट्रिक वाहनों की खरीद पर अनुदान

 


श्रीगंगानगर, 30 जुलाई 2021.

परिवहन विभाग द्वारा इलैक्ट्रिक वाहनों की खरीद को प्रोत्साहन देने के लिये इलैक्ट्रिक वाहनों के क्रेताओं को एसजीएसटी राशि का पुर्नभरण एवं एक मुश्त अनुदान दिया जायेगा। 

जिला परिवहन अधिकारी श्री विनोद कुमार ने बताया कि एसजीएसटी राशि का पुनः भरण समस्त प्रकार के इलैक्ट्रिक वाहन दुपहिया, तिपहिया इलैक्ट्रिक वाहनों पर बैटरी क्षमता अनुसार देय है। यह अनुदान एक अप्रैल 2021 से 31 मार्च 2022 तक क्रय किये गये एवं 31 मार्च 2022 तक पंजीकृत किये गये वाहनों पर देय है। वाहन का क्रय राजस्थान राज्य से ही होना आवश्यक है। o0o

-------





सफाई कर्मचारियों से दफ्तरों कंप्यूटर अन्य कार्य पर रोक:वेतन नहीं देने का सख्त आदेश देखें.

 



*करणीदानसिंह राजपूत *


राजस्थान के  स्वायत शासन विभाग के निदेशक ने 29 जुलाई 2021को आदेश दिया है जिससे पूरे राजस्थान की नगरपालिकाओं नगरपरिषदों व नगरनिगमों में हड़कंप मचा है।


 स्वायत शासन विभाग के निदेशक ने आदेश दिया है कि नगर पालिका नगर परिषद  और नगर निगम में सफाई कर्मचारियों के पद पर लगे कर्मचारियों से अन्य स्थानों विभागों पर कार्य कराया जा रहा है,उन्हें मूल पद पर कार्य का आदेश दिया जाए।

यदि कोई मूल पद पर कार्य नहीं करता है तो उसकी हाजिरी नहीं लगाई जाए और वेतन नहीं दिया जाए।

विदित रहे कि नगर पालिका नगर परिषद नगर निगमों में सफाई कर्मचारियों के पदों पर लगे कर्मचारियों से अन्य स्थानों पर दफ्तरों में लिपिक पदों कंप्यूटर ऑपरेटरों आदि पर कार्य कराया जा रहा है। अनेक को विभिन्न दफ्तरों में प्रतिनियुक्ति पर लगाया हुआ है।

इससे सफाई कार्य प्रभावित होता है।

इनकी शिकायतें होती रही है लेकिन आदेशों के बावजूद नगर निकायों में अधिशासी अधिकारी चुने हुए अध्यक्ष आदि ध्यान नहीं दे रहे।




स्वायत शासन विभाग ने 2018 और 2020 में भी इस प्रकार के आदेश दिए थे जिनका पालन नहीं होने पर शिकायतें होती रही। अब 29 जुलाई 2021 को यह सख्त आदेश जारी हुआ है। अब अन्यत्र काम करने वालों को वेतन का संकट रहेगा वहीं अधिशासी अधिकारी जैसे पद पर भी कार्रवाई होगी।०0०

०००००००००००







सीमा और छावनी क्षेत्रों में ड्रोन का उपयोग पर रोक:अन्य इस्तेमाल पर पंजीयन जरूरी.



* करणीदानसिंह राजपूत *

श्रीगंगानगर, 30 जुलाई 2021.

अंतर्राष्ट्रीय सीमा से 25 किलोमीटर तथा छावनी क्षेत्र के तीन किलोमीटर में उपयोग नहीं 

राष्ट्रीय सुरक्षा सर्वोपरि, सभी ऐजेंसियां सर्तक रहें:- जिला मजिस्ट्रेट जाकिर हुसैन.


जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट श्री जाकिर हुसैन ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा सर्वोपरि है। सभी सुरक्षा ऐजेंसियां, पुलिस प्रशासन का सुरक्षा को लेकर सभी की महत्वपूर्ण भूमिका है। सुरक्षा संबंधी बैठक जो प्रतिमाह आयोजित की जाकर विभिन्न इशू का निपटारा किया जायें। उन्होंने कहा कि विभिन्न ऐजेंसियों द्वारा जो समय-समय पर इनपुट दिये जाते है, उन पर विशेष ध्यान दिया जाये तथा सर्तकता बरती जाये। 

जिला कलक्टर शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभाहाॅल में जिला स्तरीय स्टैंडिंग कमेटी की बैठक में आवश्यक निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि जिले में ड्रोन कैमरें को सूचीबद्ध करने के साथ-साथ जानकारी दी जाये कि अंतर्राष्ट्रीय सीमा से 25 किलोमीटर तथा सेना छावनी के तीन किलोमीटर के आसपास ड्रोन का उपयोग नहीं किया जा सकता। विवाह समारोह इत्यादि में उपयोग के लिये 24 घंटे पूर्व स्थानीय प्रशासन व पुलिस को सूचना देनी होगी। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर आमजन को जागरूक किया जाये कि ड्रोन का उपयोग बिना अनुमति नहीं हो। 

जिला कलक्टर ने निर्देश दिये कि अंतर्राष्ट्रीय सीमा के पास अधिक ऊंचाई वाली फसलें न बोयी जाये। उन्होंने कहा कि बीएसएफ, स्थानीय पुलिस, राजस्व व कृषि विभाग संयुक्त रूप से एक जागरूकता अभियान चलाकर किसानों को बताए कि राष्ट्रीय सुरक्षा के लिये लगभग 2 फीट ऊंचाई वाली फसलें ही सीमा क्षेत्र के पास बोयी जाये, जिससे सुरक्षा ऐजेंसियों को निगाह रखने में आसानी होगी। जिला कलक्टर ने कहा कि सीमा क्षेत्र के आसपास मूलभूत सुविधाएं होनी चाहिए। सुरक्षा ऐजेंसियों की आवश्यकता के अनुसार सड़क, पानी, बिजली इत्यादि सुविधाएं विकसित करने के लिये सुरक्षा बलों से प्राथमिकता के अनुसार कार्यों की सूची ले लें। 

अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन श्री भवानी सिंह पंवार ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय सीमा के पास अवांछनीय गतिविधियां न हो, इसको लेकर किसान कम ऊंचाई की फसलों की बुवाई करें। उन्होंने कहा कि नशा मुक्ति के लिये जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन द्वारा लगातार नशा मुक्ति शिविर लगाकर युवाओं को जागरूक किया जा रहा है। नशीली दवाओं को पकड़ने के लिये भी पर्याप्त कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने कहा कि सीमा के समीप किसी प्रकार की अवांछनीय गतिविधि में शामिल संबंधित नागरिक के विरूद्ध पुलिस द्वारा प्रभावी कार्यवाही की जानी चाहिए। 

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सीआईडी श्रीमती दीक्षा कामरा ने कहा कि जिले में लगभग 55 ड्रोन है, जिन्हें सूचीबद्ध किया गया है। माइक्रो एवं स्माल श्रेणी के ड्रोन का पंजीयन आवश्यक है। डिजिटल स्काई प्लेटफार्म पर ड्रोन का पंजीयन करवाया जा सकता है। 24 घंटे पूर्व प्रशासन व पुलिस को सूचित कर शादी में उपयोग किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि छावनी, हवाई अड्डा के आसपास तीन किलोमीटर तथा अंतर्राष्ट्रीय सीमा से 25 किलोमीटर तक ड्रोन का उपयोग नहीं करना चाहिए। 

मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री अशोक कुमार मीणा ने सीमांत क्षेत्र विकास योजना के तहत बीएसएफ द्वारा करवाये जाने वाले 6 लम्बित कार्यों की टीएस जारी करने तथा दो पेयजल परियोजनाओं का कार्य बीएसएफ को देने पर चर्चा की। साथ ही बीएसएफ द्वारा नरेगा योजना में किये जाने वाले कार्यों पर बल दिया। 

बीएसएफ के अधिकारियों ने सीमा क्षेत्र के पास मिसिंग लिंक सड़कों का निर्माण करने, पेयजल परियोजनाओं को पूर्ण करने सहित विभिन्न प्रकार के सुरक्षा से जुड़े बिन्दुओं पर चर्चा की। बैठक में मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री अशोक कुमार मीणा, बीएसएफ के डीआईजी श्री अमित कुमार त्यागी, कमाण्डेंट श्री देशराज, कमाण्डेंट श्री एस.आर. खान, डीसी श्री जे.के.नांगल, जिला परिवहन अधिकारी श्री विनोद कुमार, खनन विभाग से नोरंग लाल, अधीक्षण अभियंता पीडब्ल्यूडी श्री सुमन मिनोचा, एनएचआई के श्री सुशील बिश्नोई सहित विभिन्न अधिकारी उपस्थित थे। 

---------






गुरुवार, 29 जुलाई 2021

प्रभारी मंत्री बी.डी.कल्ला जी गंगानगर में क्या खास कह गए. विशेष रिपोर्ट

 




* करणीदानसिंह राजपूत *


श्रीगंगानगर, 28 जुलाई 2021.


ऊर्जा, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी एवं भू-जल, कला, साहित्य, संस्कृति तथा पुरातत्व विभाग के मंत्री डाॅ. बी.डी.कल्ला ने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का लाभ अल्पसंख्यक वर्ग को अवश्य मिले। 


प्रभारी मंत्री डाॅ. बी.डी.कल्ला ने बुधवार को जिला कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक ली। इस बैठक में 20 सूत्री, 15 सूत्री व फ्लैगशिप योजनाओं की सभी विभागों से विस्तार से चर्चा की गई।


 वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि गंगानगर में पौधारोपण के लक्ष्य अगले 2-3 महीनों में पूर्ण कर लिये जायेंगे। डीएफओ ने बताया कि घर-घर औषधि वितरण योजना के तहत औषधीय पौधे परिवार चिन्हित कर दिये जा रहे हैं व 2 लाख से अधिक पौधे वितरित कर दिये गये है। 


डाॅ. बी.डी.कल्ला ने कहा कि पौधे देते समय सभी से शपथ दिलवायें कि वे पौधों का ध्यान रखेंगे तथा कोई भी पौधा सूखने न पाये। पौधारोपण कार्यक्रम के तहत जामुन, शीशम, नीम, तुलसी, गिलोय, कालमेघ आदि पौधे लगवाये जा रहे हैं। इसी प्रकार सूखे क्षेत्र में बबूल जैसे वृक्ष व कांटेदार पौधे, ऐलाविरा आदि लगाये जा रहे है। 


प्रभारी मंत्री ने की कोविड की समीक्षा


प्रभारी मंत्री डाॅ. कल्ला ने आने वाली तीसरी लहर को देखते हुए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया कि टीकाकरण अभियान में तेज़ी लायें व मास्क व सामाजिक दूरी का पूर्ण ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि द्वितीय डोज 84 दिन बाद जिनकी भी डयू हो वे अवश्य लगवायें। उन्होंने पीएमओ डाॅ. बलदेव सिंह को निर्देशित किया कि जिला अस्पताल व अन्य सरकारी अस्पतालों में ऐसा मेकेनिज़्म अपनायें कि खराब हुई मशीनें 72 घंटे में ठीक की जा सके ताकि आमजन को कोई असुविधा न हो। आरसीएचओ डाॅ. एच.एस.बराड़ ने बताया कि जिले में 808 कंसट्रेटर उपलब्ध हंै, जिनमें से 51 दानदाताओं द्वारा दिये गये हंै तथा जिले में आॅक्सीजन बेड, दवाईयां पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं फिलहाल जिले में 14 एक्टिव केसेज है। 


डाॅ. कल्ला ने कहा कि मुख्यमंत्री चिरंजीवी योजना सरकार की बेहद अच्छी योजना है। सरकार ने 3 हजार करोड़ रूपये बीमा कम्पनी को दिये है ताकि लोगों को इलाज की सुविधा प्राप्त हो। उन्होंने निर्देशित किया कि इस योजना से संबंधित प्राईवेट व सरकारी सभी संस्थाएं ईलाज करने के लिये ज़्यादा से ज्यादा आगे आयें। 


डीईओ श्री हंसराज यादव ने बताया कि 20 जुलाई को कक्षा प्रथम के लिये लाॅटरी निकाली गई है तथा कक्षा 6 से 8 वीं की खाली सीटों के लिये लाॅटरी 23 जुलाई को निकाली गई। प्रभारी मंत्री डाॅ. कल्ला ने कोविड द्वारा पीड़ित महिलाओं व बच्चों के लिये चलाई जा रही योजना की जानकारी ली। इसमें 84 विधवाओं व 49 बच्चों को लाभ दिया गया है। 


डाॅ. कल्ला ने जन आधार योजना में कार्ड वितरण, एमएसएमई एक्ट में दिये जाने वाले लोन, पीएमकेयर फंड, मुख्यमंत्री लघु प्रोत्साहन योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, जल जीवन मिशन, स्वयं सहायता समूह, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा से संबंधित अधिकारियों से चर्चा कर आवश्यक निर्देश दिये। उन्होंने लीड बैंक्स को निर्देशित किया कि वे लोन देने के लिये सहयोग करें व केन्द्र तथा राज्य की योजनाओं का लाभ सभी लोगों को मिले, इस पर पूरा ध्यान दिया जाये। 


मदरसों का हो आधुनीकीकरण


राज्य सरकार की मंशानुसार मदरसों को आधुनीकीकरण रूप देने का कार्य किया जा रहा है। डाॅ. बी.डी. कल्ला ने कहा कि श्रीगंगानगर जिले में 6 मदरसें है, जिनका आधुनीकीकरण जल्द किया जायेगा। उन्होंने कहा कि सभी को अच्छी शिक्षा देना व योजनाओं का लाभ देना सरकार का मुख्य उद्देश्य है। प्रभारी मंत्री ने कहा कि सीमेट्रिज, कब्रिस्तान व शमशान में चारदीवारी बनाकर उसे सुरक्षित रखें ताकि लाॅ एण्ड आॅर्डर की स्थिति बनी रहे व लोग इन पर अवैध कब्जा न कर पाये। 


* जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन ने कहा कि जिले में पानी की समस्या का समाधान करने के लिये सभी प्रयत्न किये गये हैं। गंगकैनाल से पर्याप्त पानी लोगों को मिल रहा है। पंजाब से पानी की चोरी रोकने के लिये  फाजिल्का के एसपी व कलक्टर से बातचीत कर इस समस्या का समाधान निकाला गया, तब से पानी की चोरी में काफी कमी देखने का मिली है। उन्होंने कहा कि दूषित पेयजल की समस्या आमजन को नहीं होगी तथा फिल्टरेशन कर ही पानी उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की सभी योजनाओं को पूर्ण संवेदनशीलता से लागू किया जा रहा है। 

बैठक में एडीएम प्रशासन श्री भवानी सिंह पंवार, एसडीएम श्री उम्मेद सिंह रतनू, मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री अशोक कुमार मीणा, यूआईटी सचिव डाॅ. हरितिमा, नगरपरिषद आयुक्त श्री सचिन यादव सहित विभिन्नि विभागों के अधिकारी उपस्थित थे। ०0०

--------






मंगलवार, 27 जुलाई 2021

कलाकारों जागो..डाटाबेस वास्ते जल्द आवेदन करें- जिला कलेक्टर जाकिर हुसैन की अपील.

 



* करणीदानसिंह राजपूत *

श्रीगंगानगर, 27 जुलाई 2021.

केन्द्र ने राजस्थान के कलाकारों को कला प्रदर्शन हेतु अवसर उपलब्ध करवाने के उद्देश्य एवं केन्द्र को सहज रूप से कलाकारों से प्रत्यक्ष रूप से जोड़ने के उद्देश्य को दृष्टिगत रखते हुए आर्टिस्ट डाटाबेस तैयार करने हेतु आॅनलाईन आवेदन, प्रविष्टियां आमंत्रित की गई है। 




जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन ने बताया कि केन्द्र स्तर पर कलाकारों लोकसंगीत नृत्य, आदिवासी संगीत नृत्य, शास्त्रीय, उप शास्त्रीय संगीत, गायन, वादन, नृत्य के हुनर का राज्य स्तर पर मंचीय प्रदर्शन के अवसर प्रदान करना, अधिक से अधिक कलाकारों को प्रदर्शन का मौका देना, प्रदेश के कलाकारों को राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कलाकारों के प्रदर्शन हेतु प्रोत्साहन, प्रदर्शन के पश्चात मानदेय देकर आर्थिक सम्बल प्रदान करना, प्रदेश की पुश्तैनी एवं पारम्परिक कलाओं को संरक्षण प्रदान करना, लुप्त प्रायः कलारूपों, विधाओं को जीवित रखने की दिशा में कार्य योजना एवं संरक्षण प्रदान करना, कलाकारों को मान्यता, पहचान दिलाना, कला समूहों के साथ मिलकर कलाकारों को राज्य, राष्ट्र, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कार्यक्रम प्रदर्शन का अवसर प्रदान करना है।
उन्होंने बताया कि जिले के ऐसे कलाकार जिनका डाटाबेस तैयार किया जाना है, वे अतिशीघ्र जवाहर कला केन्द्र के ई-मेल jkk@rajasthan.gov.in पर प्रेषित किया जाना है। कलाकारों द्वारा भरे हुए निर्धारित प्रपत्र मय दस्तावेजों के जिला कलक्टर के माध्यम से अधिकृत अधिकारी की अभिशंषा के साथ जवाहर कला केन्द्र को भिजवाना होगा। आवेदक कलाकार को पहचान हेतु भामाशाह अथवा आधार कार्ड की छायाप्रति प्रस्तुत करना आवश्यक है। आवेदक कलाकार को विगत तीन वर्ष के दौरान दिये गये सरकारी, गैरसरकारी कार्यक्रमों से संबंधित प्रमाण पत्र, समाचार पत्रों में प्रकाशित समाचारों की छायाप्रति तथा कार्यक्रम प्रस्तुतीकरण की कम से कम दो फोटोग्राफ संलग्न करना आवश्यक है। जिले के इच्छुक कलाकार जल्द से जल्द निर्धारित प्रपत्र में आवेदन करे और सूचना एवं जनसम्पर्क कार्यालय में जमा करवाएं। ०0०

००००००००००







होटल से भरा पनीर व हल्दी का सैम्पल - स्टाफ का स्वास्थ्य जांच हर 6 माह जरूरी.

 


* करणीदानसिंह राजपूत *


हनुमानगढ़। जिले के नागरिकों को स्वच्छ एवं सुरक्षित खाद्य सामग्री उपलब्ध कराने के उद्देश्य से चिकित्सा विभाग द्वारा जिले में खाद्य सामग्री का विक्रय कर रहे संस्थानों से चार सैम्पल एकत्र किए। इनमें पनीर, हल्दी, मिक्स दूध तथा गाय के दूध का सैम्पल भरा गया। इसके अलावा चिकित्सा विभाग की टीम ने साफ-सफाई व अन्य व्यवस्थाओं की भी जांच की। टीम ने होटल की सफाई व्यवस्था, भोजन तैयार करने का स्थान, इस्तेमाल में लाई जा रही सब्जियां, खाद्य सामग्री, तेल एवं व्यवस्थाओं की जांच की। जांच दल में जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी जीतसिंह यादव, हीरावल्लभ एवं सुरेन्द्र कुमार शामिल रहे। आज भरे गए सैम्पल को जांच के लिए बीकानेर लैब भिजवाया गया। 

सीएमएचओ डॉ. नवनीत शर्मा ने बताया कि चिकित्सा विभाग की ओर से मिलावटी खाद्य पदार्थों पर अंकुश लगाने के लिए अब होटल एवं रेस्टोरेंट पर निरीक्षण अभियान जारी है। इसके तहत आज जंक्शन स्थित होटल नारंग सहित दो दुग्ध उत्पादक डेयरी से सैम्पल भरे गए। उन्होंने बताया कि जांच दल ने आज होटल नारंग में निरीक्षण किया, जहां पर रसोई एवं भोजन तैयार करने वाले स्थान की जांच की गई। जांच दल ने खाद्य सामग्री में पनीर एवं हल्दी का नमूना संग्रहित किया। निरीक्षण के दौरान साफ-सफाई सुधारने के निर्देश दिए। होटल प्रबंधक के पास होटल में कार्यरत स्टॉफ के चिकित्सा प्रमाण पत्र नहीं मिलने पर जांच दल ने होटल के सभी कार्यरत स्टॉफ का चिकित्सा प्रमाण पत्र (प्रत्येक छ: माह बाद) बनवाने के निर्देश दिए। होटल प्रबंधन को इस रिपोर्ट को अपने पास सम्भालकर रखने के निर्देश दिए। होटल प्रबंधन को निर्देश दिए कि प्रत्येक माह होटल में पेस्ट कण्ट्रोल निर्धारित रजिस्टर्ड फर्म से करवाया जाए तथा उसकी रिपोर्ट सम्भालकर रखी जाए और विभाग द्वारा मंगवाए जाने पर उपलब्ध करवाएं। होटल प्रशासन को निर्देश दिए कि प्रत्येक छ: माह में एक बार उपभोक्ताओं के लिए काम में लाए जा रहे पोर्टेबल वाटर (पीने के पानी) की जांच निर्धारित लैब द्वारा करवाई जाए तथा इसकी रिपोर्ट सम्भाल कर रखें। इसके बाद जांच दल ने माणकसर में मैसाना डिस्ट्रिक्ट को-ऑपरेटिव डेयरी, अमूल्य के मिल्क चिलिंग सेंटर से मिक्स दूध का सैम्पल लिया। इसके बाद लीलांवाली से हनुमानगढ़ दुग्ध उत्पादक सहकारी समिति से गाय का दूध का सैम्पल भरा गया, जिन्हें आज ही जांच के लिए बीकानेर स्थित लैब में भिजवाया गया। 




Hu

डॉ. नवनीत शर्मा ने बताया कि आज जिला प्रभारी मंत्री द्वारा जिला कलक्ट्रेट में आयोजित बैठक में शुद्ध के लिए युद्ध अभियान को जारी रखने निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि जिले में अन्य स्थानों पर भी होटल एवं रेस्टोरेंट वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने आमजन से अपील की कि जिले में अगर कहीं पर भी मिलावटी खाद्य सामग्री का बेचान किया जाता है, तो उसकी सूचना चिकित्सा विभाग को आवश्यक रूप से दें।०0०

( हनुमानगढ़ 27 जुलाई 2021)

*******







मुख्य सचिव की जिला कलेक्टरों व संभागीय आयुक्तों से वीसी- गंगानगर कलक्टर ने यह रिपोर्ट दी.

 




* करणीदानसिंह राजपूत *


श्रीगंगानगर, 27 जुलाई 2021.

 राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव श्री निरंजन आर्य ने मंगलवार को सभी संभागीय आयुक्त एवं जिला कलक्टर्स के साथ वीसी के माध्यम से विभिन्न योजनाओं, कार्यक्रमों की समीक्षा की।  

मुख्य सचिव श्री निरंजन आर्य ने राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान की प्रगति की समीक्षा की। पंद्रहवें वित्त आयोग की प्रगति व अन्य बिन्दुओं पर जिला कलक्टर्स के साथ समीक्षा बैठक ली। जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन ने बताया कि ग्राम पंचायत के लिये भूमि आवंटन से शेष रही ग्राम पंचायत 3ई छोटी श्रीगंगानगर के लिये 15 जुलाई को भूमि आंवटित कर दी गई है। उन्होंने कहा कि इन्फ्रास्ट्रक्चर व ट्रैनिंग के लिये जिलों के पास बजट दिया गया है, उसे उपयोग में लें व जिला परिषद इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रशिक्षण के लिये बनाये गये भवन में ही हाॅल व कमरा बनाकर अतिरिक्त स्ट्रक्चर बनाये। मुख्य सचिव ने नये पंचायत भवन निर्माण की पग्रति, पंचायत भवनों के रिपेयर की प्रगति, कोमन सर्विस सेन्टर की प्रगति पर विस्तार से चर्चा की। 

मुख्य सचिव ने कोरोना की तीसरी लहर के मध्यनजर रखते हुए मुख्य सचिव ने आॅक्सीजन कंसंट्रेटर की उपलब्धता सभी जिला कलक्टर्स से जानकारी ली व निर्देशित किया कि कंसंट्रेटर पंचायतों के बजाय सीएचसी व पीएचसी पर रखे जाये। स्वच्छ भारत मिशन के तहत सामुदायिक स्वच्छता परिसर के लिये स्थान का चयन, अस्थाई/ प्रवासी आबादी और ऐसे परिवार जिनके पास जगह की कमी के कारण व्यक्तिगत शौचालय नहीं है, सार्वजनिक स्थल बस स्टैण्ड, बाजार, पर्यटन स्थल आदि अनुसूचित जाति-जनजाति, बहुल बस्तियां व गांवों के सबसे गरीब आबादी वाले स्थानों को प्राथमिकता से चयनित करते हुए शौचालय निर्माण के लिये मुख्य सचिव ने सभी जिला कलक्टर्स को निर्देश प्रदान किये। उन्होंने कहा कि सभी जिला कलक्टर्स आमजन की सुविधा को देखते हुए गांव को चिन्हित कर स्वयं निरीक्षण कर शौचालय बनवाये। शौचालयों में दिव्यांगजन के लिये रैम्प बने हो व पानी तथा सफाई की पूर्ण व्यवस्था हो तथा बिजली, हाथ धोने की व्यवस्था, ब्रश, साबुन, कीटाणुनाशक, कचरा पात्रा की उपलब्धता पर विशेष ध्यान दिया जाये। प्रतिदिन रखरखाव के लिये सफाई कर्मी, स्वयं सहायता समूह संस्थाओं का नियोजन, सुरक्षा के लिये पुख्ता इंतजाम किये जाये, परिसर के रखरखाव, मरम्मत की व्यवस्था, परिसर से जुड़ी नालियों व टैंक की नियमित सफाई के लिये मुख्य सचिव ने सभी जिला कलक्टर्स को निर्देश दिये व कहा कि सिर्फ शौचालय बनाना ही हमारा मकसद नहीं है, बल्कि उसे अच्छी कंडीशन में रखा जाये ताकि लम्बे समय तक उसका उपयोग किया जा सके। राजीव गांधी जल संचय योजना की समीक्षा करते हुए मुख्य सचिव ने सभी जिला कलक्टर्स की प्रगति रिपोर्ट ली। 

श्रीगंगानगर जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन ने बताया कि 6 करोड़ में से 3 करोड़ की स्वीकृति जारी कर दी गई है तथा अन्य कार्य प्रगति पर है। मुख्य सचिव ने बजट घोषणाओं में घोषित राजकीय आईटीआई के लिये भूमि के आवंटन के संबंध में 13 जिलों जिनमें बीकानेर संभाग के चुरू, हनुमानगढ़, गंगानगर शामिल है, की प्रगति की समीक्षा की। आशान्वित जिलों में कौशल विकास की गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिये कार्य योजना तैयार करने तथा आरएसएलडीसी द्वारा हस्तांतरित राशि का उपयोग करने के लिये पांच जिले जैसलमेर, धौलपुर, करोली, बारां व सिरोही की प्रगति की समीक्षा की गई। 

स्किल डवलवमेंट के सचिव श्री नीरज के पवन ने समस्त जिला कलक्टर्स को निर्देशित किया है कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत के पूर्व में दिये गये निर्देशों के अनुसार सम्पूर्ण राजस्थान को भिक्षावृति मुक्त बनाया जायेगा। मुख्य सचिव श्री निरंजन आर्य ने कहा कि भिक्षा मुक्त राज्य का अर्थ पूरे राज्य से भिखारियों को हटाना नहीं बल्कि उन्हें रोजगार के लिये प्रेरित करना व किसी न किसी स्किल में प्रशिक्षित कर उन्हें पुर्नवास करवाने से है। श्री नीरज के पवन ने कहा कि मुख्यमंत्री युवा सम्बल योजना को भविष्य में ओर बेहतर बनाने के लिये बेरोजगारी भत्ता उठाने वाले युवाओं को किसी न किसी स्किल डवलेपमेंट सेन्टर से जोड़ा जाये ताकि उन्हें रोजगार उपलब्ध हो तथा वे भविष्य में अपने पैरों पर खडे़ हो सकें।  मुख्य सचिव ने 15वें वित्त आयोग के कार्यों में सभी जिला कलक्टर्स को प्राप्त राशि का सदुपयोग करने के निर्देश दिये। 



वीसी में जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन, एडीएम प्रशासन श्री भवानी सिंह पंवार, सीईओ जिला परिषद श्री अशोक कुमार मीणा, अधीक्षण अभियंता पेयजल श्री वीरेन्द्र कुमार बलाना, कृषि उपनिदेशक श्री जी.आर.मटोरिया सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। o0o

************



प्रयागराज - जयपुर एक्सप्रेस का विस्तार 4 दिन श्रीगंगानगर 3 दिन बीकानेर करने

 



* करणीदानसिंह राजपूत *

* 12403-04  प्रयागराज-जयपुर एक्सप्रेस का बीकानेर विस्तार निरस्त करने  अथवा 4 दिन सीकर ,चुरू होकर श्रीगंगानगर और 3 दिन बीकानेर  संचालन करने के लिए  आरटीआई कार्यकर्ता कपिल मेहरा ने उत्तर मध्य रेलवे के सीपीटीएम (मुख्य यात्री परिवहन प्रबन्धक ) डीके वर्मा उत्तर पश्चिम रेलवे के सीपीटीएम आरके वशिष्ठ को पत्र भेजा है।
इस  ट्रेन का बीकानेर विस्तार निरस्त किया जाए अथवा 4 दिन श्रीगंगानगर, 3 दिन बीकानेर चलाया जाए क्यूंकि मथुरा-अलवर रूट पर एक मात्र यही एक्सप्रेस अथवा सुपरफास्ट है वहाँ के लोगों का कहना है  की  बीकानेर विस्तार की बजाय हनुमानगढ़,, श्रीगंगानगर विस्तार की अधिक आवश्यकता है।
* कपिल मेहरा ने यह पत्र डीआरएम आगरा और जयपुर को भी भेजा है और जल्द 4 दिन श्रीगंगानगर विस्तार का आग्रह किया है। ०0०
(24-7-2021)

*********






सोमवार, 26 जुलाई 2021

साक्षरता शिक्षण कक्षाएं शीघ्र शुरू होंगी- जिला कलक्टर जाकिर हुसैन ने ली बैठक

 




* करणीदानसिंह राजपूत *


श्रीगंगानगर, 26 जुलाई 2021.


जिला साक्षरता मिशन प्राधिकरण समिति श्रीगंगानगर के लिये गठित क्रय समिति के सदस्यों की बैठक सोमवार को प्रातः 11 बजे जिला कलेक्ट्रेट में जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन की अध्यक्षता में आयोजित हुई।


 इस समिति के अध्यक्ष जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन, सदस्य जिला कोषाधिकारी कोष कार्यालय एवं महाप्रबंधक जिला उधोग केन्द्र तथा सदस्य सचिव जिला साक्षरता एवं सतत् शिक्षा अधिकारी हैं। 



जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन ने बताया कि राज्य के समस्त जिलों में पढ़ना-लिखना अभियान के प्रभावी एवं गुणवत्तापूर्वक संचालन के लिये साक्षरता शिक्षण कक्षाओं को शीघ्र ही प्रारम्भ किया जायेगा। 

उन्होंने कहा कि निर्धारित समय में लक्ष्य को प्राप्त करने के लिये राज्य स्तर पर निर्णय लिया गया है कि ‘अ‘ साक्षरों के लिये शिक्षण सामग्री (टी.एल.एम किट) जिला स्तर पर ही क्रय की जायेगी। 

पढ़ना-लिखना अभियान के तहत शिक्षण सामग्री के लिये प्रति शिक्षार्थी 55 रूपये की राशि निर्धारित की गई है, जिसमें स्लेट, पैंसिल मय नोटबुक, रबर, शाॅर्पनर, प्रगति कार्ड, उपस्थिति रजिस्टर क्रय किया जायेगा। इसमें निर्धारित प्रावधान से अधिक राशि व्यय नहीं की जायेगी।

जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन ने कहा कि समिति के सभी सदस्य गुणवत्तापूर्ण स्पेसिफिकेशन सहित टीएलएम किट क्रय करेंगे। 

राज्य सरकार ने गंगानगर के लिये लक्ष्य 7200 का दिया है तथा इसके लिये बजट 3 लाख 96 हजार निर्धारित किया गया है।




बैठक में सूचना एवं जनसम्पर्क अधिकारी श्रीमती ऋतु सोढ़ी, जिला उद्योग अधिकारी संतोष कुमारी, जिला साक्षरता एवं सतत् शिक्षा अधिकारी श्री हंसराज यादव तथा कोषाधिकारी श्री नरेश कुमार अग्रवाल उपस्थित थे।०0०

---------

शुक्रवार, 23 जुलाई 2021

रेल विकास संघर्ष समिति द्वारा रेलों के श्रीगंगानगर,सूरतगढ़,अनूपगढ़ तक विस्तार की मांग: सूरतगढ़ प्लेटफार्मों बाबत महाप्रबंधक को ज्ञापन:विशेष रिपोर्ट

 



* करणीदानसिंह राजपूत *


सूरतगढ़ 23 जुलाई 2021.


रेल विकास संघर्ष समिति ने रेलों के श्री गंगानगर,सूरतगढ़,अनूपगढ़ तक विस्तार व सूरतगढ़ प्लेटफार्मों पर स्वचालित सीढियों बाबत महाप्रबंधक के नाम एक ज्ञापन यहां स्टेशन अधीक्षक राजसिंह शेखावत को सौंपा।


* ज्ञापन के माध्यम से प्लेटफार्म नंबर  2 - 3  पर स्वचालित सीढ़ियां व लिफ्ट लगाई जाने की मांग है जिसके बारे में महाप्रबंधक उत्तर पश्चिम रेलवे व मंडल रेल प्रबंधक के 26 फरवरी को सूरतगढ़ आगमन पर मांग की गई थी,जिस पर दोनों अधिकारियों ने इस मांग को शीघ्र पूरा करने का आश्वासन दिया था। इस पर आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई।

*सूर्योदयनगरी की तरफ रेलवे स्टेशन सेकंड एंट्री मैं प्रतीक्षालय बना कर शुरू करने जिसके बारे में रेल के दोनों उच्च अधिकारियों द्वारा 26 फरवरी को मौके का निरीक्षण किया गया था।


* सूरतगढ़ रेलवे स्टेशन पर स्थित 11 डिब्बों की वाशिंग लाइन को बढ़ाकर 24 डिब्बों की करने की मांग की गई।

* गाड़ी संख्या 14707 - 14708 रणकपुर एक्सप्रेस बीकानेर बांद्रा का विस्तार सूरतगढ़ गंगानगर तक करने।

* गाड़ी संख्या 9747 - 48 अनूपगढ़ वाया सूरतगढ़ बठिंडा पैसेंजर शीघ्र शुरू करने।

* गाड़ी संख्या 14041 - 14042 मंसूरी एक्सप्रेस देहरादून से दिल्ली तक का विस्तार सूरतगढ़  होते अनूपगढ़ तक करने की मांग की गई।

इन गाड़ियों के शुरू होने से अनूपगढ़ से हरिद्वार व अनूपगढ़ से वाया सूरतगढ़ दिल्ली आने जाने के लिए,अनूपगढ़ श्री बिजयनगर सूरतगढ़ सहित अन्य मंडियों के लोगों को इसका लाभ मिलेगा। इससे रेलवे का राजस्व भी बढ़ेगा।


 ज्ञापन देने में संघर्ष समिति अध्यक्ष अमित कड़वासरा,संगठन सचिव मास्टर रामप्रताप खोरवाल,प्रवक्ता हेमंत चांडक,एडवोकेट ललित किशोर शर्मा,संजय शर्मा,पार्षद सुरेंद्र  टॉक, जसराम टाक,भंवर बारिया,हरनेक सिंह मान भवानी शंकर भोजक, रामस्वरूप खोरवाल समाजसेवी शिव चंद्र शर्मा सहित शहर के गणमान्य लोग उपस्थित थे।

** रेल विकास संघर्ष समिति का एक प्रतिनिधिमंडल जल्दी ही मंडल रेल प्रबंधक व  महाप्रबंधक उत्तर पश्चिम रेलवे जयपुर से मिलेगा। इन मांगों का उनके सम्मुख पुरजोर उठाकर हल करवाने का प्रयास करेगा जिससे क्षेत्रवासियों को इसका लाभ मिले व रेलवे का राजस्व बढे।०0०











बुधवार, 21 जुलाई 2021

टीबी मुक्त हनुमानगढ़- ग्राम पंचायतों पर आयोजित जागरुकता अभियान

 

* करणीदानसिंह राजपूत *

हनुमानगढ़ 20 जुलाई 2021.


टीबी मुक्त हनुमानगढ़ के तहत जिला टीबी सेल द्वारा आज मंगलवार को ग्राम पंचायतों पर आयोजित ग्राम सभा में उपस्थित आमजन को टीबी (क्षय रोग) के लक्षण, बचाव एवं उपचार के बारे में जानकारी दी गई। 













इसी के तहत आज 'टीबी मुक्त गांवÓ थीम के अनुसार ग्राम पंचायतों में आयोजित ग्राम सभाओं में जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. रविशंकर शर्मा, पीएमडीटी कॉर्डिनेटर, एसटीएएस, पीपीएम कोऑर्डिनेटर व एसटीएलएस द्वारा प्रत्येक ब्लॉक की अलग अलग ग्राम सभाओं में उपस्थित आमजन को टीबी के बारे में जानकारी दी एवं उनकी समस्याओं का निदान किया। 


डॉ. रविशंकर शर्मा ने बताया कि आज 20 जुलाई को 'टीबी मुक्त गांवÓ की परिसंकल्पना को ध्यान में रखते हुए जिले की ग्राम पंचायतों में टीबी जागरुकता का प्रसार किया गया। उन्होंने उपस्थित लोगों को टीबी के लक्षण, बचाव व उपचार के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा किसी भी नागरिक को अगर दो हफ्ते से ज्यादा खांसी, लगातार बुखार रहना, वजन कम होना, भूख न लगना, रात में पसीना आना एवं बलगम में खून आता है, तो उसे टीबी के लक्षण हो सकते है। यदि किसी को ऐसे लक्षण हैं, तो उसे तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर जाए टीबी की जांच करवानी चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकारी चिकित्सा संस्थानों पर टीबी की नि:शुल्क जांच की जाती है। साथ ही टीबी का मरीज की पुष्टि होने पर जल्द से जल्द उसका इलाज शुरू करें। प्रत्येक टीबी के मरीज की सीबीनाट/ट्रू नाट, एचआईवी व ब्लड शुगर अवश्य करवाएं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक टीबी के मरीज का बैंक का खाता नम्बर जरूर लें ताकि 'निक्षय पोषण योजनाÓ के तहत उसे प्रति माह 500 रुपये की सहायता राशि मिल सकें। साथ ही आमजन को 'टीबी आरोग्य साथीÓ मोबाइल ऐप्प प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिये कहा गया। ०0०

००००००००००००००००






यह ब्लॉग खोजें